Wednesday, April 8, 2020
होम विचार सामाजिक मुद्दे किनके बच्चे आतंकी की ऊँगली थामते हैं, हाथों में पत्थर और जुबान जिहाद से...

किनके बच्चे आतंकी की ऊँगली थामते हैं, हाथों में पत्थर और जुबान जिहाद से रंगा होता है

आखिर, 10 से 11 साल के बच्चे बिना किसी ट्रेनिंग के 'जो हिटलर की चाल चलेगा, वो हिटलर की मौत मरेगा' और 'जामिया तेरे ख़ून से, इंकलाब आएगा' जैसे नारे कैसे लगा सकते हैं? कोई बच्चा अपनों का इशारा पाए अनजान जलीस की ऊँगली भला क्यों थामेगा?

ये भी पढ़ें

अजीत झा
देसिल बयना सब जन मिट्ठा

कानपुर की एक मस्जिद के बाहर सादे कपड़ों में खड़े एसटीएफ अधिकारी ने जब आवाज दी- अंसारी चच्चा कैसे हो… तो एक बच्चा आतंकी जलीस अंसारी की ऊँगली थामे चल रहा था। ये बच्चा कौन था? किसका बच्चा था? इस बच्चे की पहचान जानने से ज्यादा जरूरी यह समझना है कि दूर-दूर तक इस बच्चे से जलीस अंसारी का कोई रिश्ता नहीं था।

फिर वो कौन सी बात होगी जिसने किसी को 50 से अधिक बम धमाकों में शामिल रहे, 1993 मुंबई सीरियल ब्लास्ट मामले में उम्रकैद की सजा काट रहे, सिमी और हिजबुल मुजाहिद्दीन के आतंकियों को बम बनाना सिखाने वाले जलीस अंसारी उर्फ डॉ. बम के हवाले अपना बच्चा कर देने को प्रेरित किया होगा। मीडिया रिपोर्टों से जाहिर है पुलिस की आँखों में धूल झोंकने के लिए ही जलीस मस्जिद से बच्चे को साथ लेकर निकला था।

परोल पर जेल से निकला जलीस मुंबई से गायब हुआ था। उसने बताया है कि वह कानपुर अपने दो दोस्तों की तलाश में आया था। उसने इनकी मदद से देश के बाहर निकलने के मंसूबे पाल रखे थे। लेकिन जब जलीस कानपुर पहुँचा तो उसे पता चला कि जिनकी तलाश में वह आया है उसमें से एक का इंतकाल हो चुका है। दूसरा कहीं और जा चुका है। फिर भी उसने मुंबई लौटने की नहीं सोची। उसे यकीन था कि अब भी वह अपने मंसूबे में कामयाब रहेगा। यह यकीन पैदा होता है एक अनजान शहर में ​अपनी पहचान छिपाने के लिए किसी का बच्चा हाथ लगने से।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

आतंकियों और कट्टरपंथियों द्वारा इसी तरह बच्चों का इस्तेमाल किए जाने को लेकर पिछले दिनों चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) जनरल बिपिन रावत ने चिंता जताई थी। जनरल रावत ने रायसीना डायलॉग को संबोधित करते हुए कहा था, “हम देख रहे हैं कि छोटे बच्चों को कट्टरपंथी बनाया जा रहा है। उन्हें पहचानने की जरूरत है। उन्हें ऐसे सेंटर में डालने की जरूरत है जहॉं वो इस रास्ते से वापस आ सकें।” रावत ने यह बात कश्मीर के संदर्भ में कही थी।

लेकिन, खतरा कहीं ज्यादा पसरा है। यही कारण है कि एक अनजान शहर में ढाल बनाने के लिए जलीस को बच्चा मिल जाता है। मुजफ्फरनगर में पुलिस पर बच्चे पत्थरबाजी करते हैं। शाहीन बाग के प्रदर्शन में उनका इस्तेमाल होता है। इसी खतरे को भॉंप मुजफ्फरनगर पुलिस ने 33 लोगों पर बच्चों को उकसाने का मामला दर्ज किया है। भड़काऊ नारे लगाते बच्चों को देख गैर सरकारी संगठन सेव चाइल्ड इंडिया ने नेशनल कमीशन फॉर प्रोटेक्शन ऑफ़ चाइल्ड राइट्स (NCPCR) का दरवाजा खटखटाया है। क्योंकि, ये बच्चे केवल किसी मदरसे में कट्टरपंथी नहीं बनाए जा रहे। न ही जहर भरने के लिए से सीमा पार भेजे जा रहे। उन्हें अपने घर में, आस-पड़ोस से कट्टरपंथ की ये ट्रेनिंग मिल रही है।

बच्चों को जिहादी रंग में रंगने वाला खतरा जब गली-गली पसर रहा है जनरल रावत की चिंता को मजहबी और सियासी रंग देने की कोशिशें भी शुरू हो गई है। इसी को ध्यान में रख हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि रणनीति बनाना प्रशासन का काम है। कोई जनरल कट्टरपंथ को लेकर रणनीति तय नहीं कर सकता। वे इतने पर ही नहीं रुके। उन्होंने कहा आप किस-किस को डी-रैडिकलाइज़ करेंगे? जुनैद, तबरेज, पहलू के हत्यारे को कौन डी-रैडिकलाइज़ करेगा? ओवैसी का ऐसा कहना न केवल मजहबी कट्टरपंथ पर पर्दा डालने की कोशिश है, बल्कि मॉब लिंचिंग से जोड़कर इसे सामान्य घटना की तरह पेश करना भी है। ताकि आप पैर पसार रहे इस खतरे को लेकर निश्चिंत हो जाएँ।

यकीनन, हत्या अपराध है, चाहे वह चोरी करते हुए पकड़े गए तबरेज की ही क्यों न हो। सभ्य समाज में किसी को भी कानून हाथ में लेने की इजाजत नहीं दी जा सकती। लेकिन, तबरेज की हत्या की आड़ लेकर उन सैकड़ों-हजारों घटनाओं को दबाया नहीं जा सकता जब अल्लाहु अकबर का नाम लेते हुए कोई जुनैद दर्जनों लोगों के साथ खुद को उड़ा लेता है। जिसके नाम पर कोई कमलेश तिवारी का गला रेत जाता है। जिसके नाम पर संसद से लेकर स्कूली बच्चों के बसों तक को निशाना बनाया जाता है।

ये मजहबी कट्टरपंथ के सिलसिलेवार ट्रेनिंग से पैदा होता है। जनरल रावत ने भी कहा था, “यह स्कूलों, यूनिवर्सिटी, धार्मिक स्थलों हर जगह हो रहा है। ऐसे कुछ लोगों का समूह है, जो ये फैला रहे हैं। इस तरह के लोगों की पहचान कर दूसरे लोगों को धीरे-धीरे इनसे अलग करने की जरूरत है।” आखिर, 10 से 11 साल के बच्चे बिना किसी ट्रेनिंग के ‘जो हिटलर की चाल चलेगा, वो हिटलर की मौत मरेगा’ और ‘जामिया तेरे ख़ून से, इंकलाब आएगा’ जैसे नारे कैसे लगा सकते हैं? कोई बच्चा अपनों का इशारा पाए अनजान जलीस की ऊँगली भला क्यों थामेगा?

पुलिस और सेना आतंकवाद का सफाया कर सकती है। आतंकियों को उनके अंजाम तक पहुॅंचा सकती है। लेकिन, ये मजहबी कट्टरवाद तभी दफन होगा जब हम एक समाज के तौर पर इससे लड़ेंगे। तभी एक एमबीबीएस डॉक्टर जलीस अंसारी की पहचान डॉ बम से होनी रुकेगी। उनसे बच्चों को दूर करना होगा जो बचपन में कट्टरपंथ का बीज बोते हैं। यही बीज जब एएमयू पहुॅंचता है तो नारे हिंदुत्व से लेकर देश के प्रधानमंत्री की कब्र खोदने तक के में बदल जाता है। एक इंजीनियर जिहादी जॉन बन जाता है। इस खतरे से नहीं चेते तो आज का कोई अशफाक, मोइनुद्दीन आपके कमलेश का गला रेत जाएगा।

- ऑपइंडिया की मदद करें -
Support OpIndia by making a monetary contribution

ख़ास ख़बरें

अजीत झा
देसिल बयना सब जन मिट्ठा

ताज़ा ख़बरें

लॉकडाउन के बीच शिवलिंग किया गया क्षतिग्रस्त, राधा-कृष्ण मंदिर में फेंके माँस के टुकड़े, माहौल बिगड़ता देख गाँव में पुलिस फोर्स तैनात

कुछ लोगों ने गाँव में कोरोना की रोकथाम के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लगे पोस्टरों को फाड़ दिया। इसके बाद देर रात गाँव में स्थित एक शिव मंदिर में शिवलिंग को तोड़कर उसे पास के ही कुएँ में फेंक दिया। इतना ही नहीं आरोपितों ने गाँव के दूसरे राधा-कृष्ण मंदिर में भी माँस का टुकड़ा फेंक दिया।

हमारी इंडस्ट्री तबाह हो जाएगी, सोनिया अपनी सलाह वापस लें: NBA ने की कॉन्ग्रेस अध्यक्ष की सलाह की कड़ी निंदा

सरकारी और सार्वजनिक कंपनियों और संस्थाओं द्वारा किसी प्रिंट, टीवी या ऑनलाइन किसी भी प्रकार के एडवर्टाइजमेंट को प्रतिबंधित करने की सलाह की एनबीए ने निंदा की है। उसने कहा कि मीडिया के लोग इस परिस्थिति में भी जीवन संकट में डाल कर जनता के लिए काम कर रहे हैं और अपनी जिम्मेदारी निभा रहे हैं।

कोरोना से संक्रमित एक आदमी 30 दिन में 406 लोगों को कर सकता है इन्फेक्ट, अब तक 1,07,006 टेस्‍ट किए गए: स्वास्थ्य मंत्रालय

ICMR के रमन गंगाखेडकर ने जानकारी देते हुए बताया कि पूरे देश में अब तक कोरोना वायरस के 1,07,006 टेस्‍ट किए गए हैं। वर्तमान में 136 सरकारी प्रयोगशालाएँ काम कर रही हैं। इनके साथ में 59 और निजी प्रयोगशालाओं को टेस्ट करने की अनुमति दी गई है, जिससे टेस्ट मरीज के लिए कोई समस्या न बन सके। वहीं 354 केस बीते सोमवार से आज तक सामने आ चुके हैं।

शाहीनबाग मीडिया संयोजक शोएब ने तबलीगी जमात पर कवरेज के लिए मीडिया को दी धमकी, कहा- बहुत हुआ, अब 25 करोड़ मुस्लिम…

अपने पहले ट्वीट के क़रीब 13 घंटा बाद उसने ट्वीट करते हुए बताया कि वो न्यूज़ चैनलों की उन बातों को हलके में नहीं ले सकता और ऐसा करने वालों को क़ानून का सामना करना पड़ेगा। उसने कहा कि अब बहुत हो गया है। शोएब ने साथ ही 25 करोड़ मुस्लिमों वाली बात की भी 'व्याख्या' की।

जमातियों के बचाव के लिए इस्कॉन का राग अलाप रहे हैं इस्लामी प्रोपेगंडाबाज: जानिए इस प्रोपेगंडा के पीछे का सच

भारत में तबलीगी जमात और यूनाइटेड किंगडम में इस्कॉन के आचरण की अगर बात करें तो तबलीगी जमात के विपरीत, इस्कॉन भक्त जानबूझकर संदिग्ध मामलों का पता लगाने से बचने के लिए कहीं भी छिप नहीं रहे, बल्कि सामने आकर सरकार का सहयोग और अपनी जाँच भी करा रहे हैं। उन्होंने तबलीगी जमात की तरह अपने कार्यक्रम में यह भी दावा नहीं किया कि उनके भगवान उन्हें इस महामारी से बचा लेंगे ।

वो 5 मौके, जब चीन से निकली आपदा ने पूरी दुनिया में मचाया तहलका: सिर्फ़ कोरोना का ही कारण नहीं है ड्रैगन

चीन तो हमेशा से दुनिया को ऐसी आपदा देने में अभ्यस्त रहा है। इससे पहले भी कई ऐसे रोग और वायरस रहे हैं, जो चीन से निकला और जिन्होंने पूरी दुनिया में कहर बरपाया। आइए, आज हम उन 5 चीनी आपदाओं के बारे में बात करते हैं, जिसने दुनिया भर में तहलका मचाया।

प्रचलित ख़बरें

फिनलैंड से रवीश कुमार को खुला पत्र: कभी थूकने वाले लोगों पर भी प्राइम टाइम कीजिए

प्राइम टाइम देखना फिर भी जारी रखूँगा, क्योंकि मुझे गर्व है आप पर कि आप लोगों की भलाई सोचते हैं। बीच में किसी दिन थूकने वालों और वार्ड में अभद्र व्यवहार करने वालों पर भी प्राइम टाइम कीजिएगा। और हाँ! इस काम के लिए निधि कुलपति जी या नग़मा जी को मत भेज दीजिएगा। आप आएँगे तो आपका देशप्रेम सामने आएगा, और उसे दिखाने में झिझक क्यूँ?

मधुबनी में दीप जलाने को लेकर विवाद: मुस्लिम परिवार ने 70 वर्षीय हिंदू महिला की गला दबाकर हत्या की

"सतलखा गाँव में जहाँ पर यह घटना हुई है, वहाँ पर कुछ घर इस्लाम धर्म को मानने वाले हैं। जब हिंदू परिवारों ने उनसे लाइट बंद कर दीप जलाने के लिए कहा, तो वो गाली-गलौज करने लगे। इसी बीच कैली देवी उनको मना करने गईं कि गाली-गलौज क्यों करते हो, ये सब मत करो। तभी उन लोगों उनका गला पकड़कर..."

हिन्दू बच कर जाएँगे कहाँ: ‘यूट्यूबर’ शाहरुख़ अदनान ने मुसलमानों द्वारा दलित की हत्या का मनाया जश्न

ये शाहरुख़ अदनान है। यूट्यब पर वो 'हैदराबाद डायरीज' सहित कई पेज चलाता है। उसने केरल, बंगाल, असम और हैदराबाद में हिन्दुओं को मार डालने की धमकी दी है। इसके बाद उसने अपने फेसबुक और ट्विटर हैंडल को हटा लिया। शाहरुख़ अदनान ने प्रयागराज में एक दलित की हत्या का भी जश्न मनाया। पूरी तहकीकात।

दलित महिला के हत्यारों को बचा रहे MLA फैयाज अहमद! काला देवी के बेटे ने बताई उस रात की पूरी कहानी

“यहाँ पर दो मुस्लिम परिवार रहकर इतनी बड़ी वारदात को अंजाम दे दिया। अगर यहाँ पर हिन्दुओं का सिर्फ दो परिवार होता तो ये लोग कब का उजाड़ कर मार दिए होते, घर में आग लगा दिए होते। आज हमारे साथ हुआ है। कल को किसी और के साथ हो सकता है।”

‘हिम्मत कैसे हुई तवायफ के बच्चे की’ – शोएब ने पैनेलिस्ट को कहा, गोस्वामी ने दिखाया बाहर का रास्ता

"तवायफ के बच्चे की हिम्मत कैसे हुई औरतों और बच्चों के बारे में बोलने की।" - जब शोएब जमई ने यह कहा तो वीडियो में देखा जा सकता है कि इन शब्दों को सुनने के बाद अर्नब गोस्वामी काफी नाराज हो गए। उन्होंने तुरंत जमई को डिबेट से हटाने की माँग की और...

ऑपइंडिया के सारे लेख, आपके ई-मेल पे पाएं

दिन भर के सारे आर्टिकल्स की लिस्ट अब ई-मेल पे! सब्सक्राइब करने के बाद रोज़ सुबह आपको एक ई-मेल भेजा जाएगा

हमसे जुड़ें

174,238FansLike
53,799FollowersFollow
214,000SubscribersSubscribe
Advertisements