Monday, October 26, 2020
Home विचार सामाजिक मुद्दे किनके बच्चे आतंकी की ऊँगली थामते हैं, हाथों में पत्थर और जुबान जिहाद से...

किनके बच्चे आतंकी की ऊँगली थामते हैं, हाथों में पत्थर और जुबान जिहाद से रंगा होता है

आखिर, 10 से 11 साल के बच्चे बिना किसी ट्रेनिंग के 'जो हिटलर की चाल चलेगा, वो हिटलर की मौत मरेगा' और 'जामिया तेरे ख़ून से, इंकलाब आएगा' जैसे नारे कैसे लगा सकते हैं? कोई बच्चा अपनों का इशारा पाए अनजान जलीस की ऊँगली भला क्यों थामेगा?

कानपुर की एक मस्जिद के बाहर सादे कपड़ों में खड़े एसटीएफ अधिकारी ने जब आवाज दी- अंसारी चच्चा कैसे हो… तो एक बच्चा आतंकी जलीस अंसारी की ऊँगली थामे चल रहा था। ये बच्चा कौन था? किसका बच्चा था? इस बच्चे की पहचान जानने से ज्यादा जरूरी यह समझना है कि दूर-दूर तक इस बच्चे से जलीस अंसारी का कोई रिश्ता नहीं था।

फिर वो कौन सी बात होगी जिसने किसी को 50 से अधिक बम धमाकों में शामिल रहे, 1993 मुंबई सीरियल ब्लास्ट मामले में उम्रकैद की सजा काट रहे, सिमी और हिजबुल मुजाहिद्दीन के आतंकियों को बम बनाना सिखाने वाले जलीस अंसारी उर्फ डॉ. बम के हवाले अपना बच्चा कर देने को प्रेरित किया होगा। मीडिया रिपोर्टों से जाहिर है पुलिस की आँखों में धूल झोंकने के लिए ही जलीस मस्जिद से बच्चे को साथ लेकर निकला था।

परोल पर जेल से निकला जलीस मुंबई से गायब हुआ था। उसने बताया है कि वह कानपुर अपने दो दोस्तों की तलाश में आया था। उसने इनकी मदद से देश के बाहर निकलने के मंसूबे पाल रखे थे। लेकिन जब जलीस कानपुर पहुँचा तो उसे पता चला कि जिनकी तलाश में वह आया है उसमें से एक का इंतकाल हो चुका है। दूसरा कहीं और जा चुका है। फिर भी उसने मुंबई लौटने की नहीं सोची। उसे यकीन था कि अब भी वह अपने मंसूबे में कामयाब रहेगा। यह यकीन पैदा होता है एक अनजान शहर में ​अपनी पहचान छिपाने के लिए किसी का बच्चा हाथ लगने से।

आतंकियों और कट्टरपंथियों द्वारा इसी तरह बच्चों का इस्तेमाल किए जाने को लेकर पिछले दिनों चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) जनरल बिपिन रावत ने चिंता जताई थी। जनरल रावत ने रायसीना डायलॉग को संबोधित करते हुए कहा था, “हम देख रहे हैं कि छोटे बच्चों को कट्टरपंथी बनाया जा रहा है। उन्हें पहचानने की जरूरत है। उन्हें ऐसे सेंटर में डालने की जरूरत है जहॉं वो इस रास्ते से वापस आ सकें।” रावत ने यह बात कश्मीर के संदर्भ में कही थी।

लेकिन, खतरा कहीं ज्यादा पसरा है। यही कारण है कि एक अनजान शहर में ढाल बनाने के लिए जलीस को बच्चा मिल जाता है। मुजफ्फरनगर में पुलिस पर बच्चे पत्थरबाजी करते हैं। शाहीन बाग के प्रदर्शन में उनका इस्तेमाल होता है। इसी खतरे को भॉंप मुजफ्फरनगर पुलिस ने 33 लोगों पर बच्चों को उकसाने का मामला दर्ज किया है। भड़काऊ नारे लगाते बच्चों को देख गैर सरकारी संगठन सेव चाइल्ड इंडिया ने नेशनल कमीशन फॉर प्रोटेक्शन ऑफ़ चाइल्ड राइट्स (NCPCR) का दरवाजा खटखटाया है। क्योंकि, ये बच्चे केवल किसी मदरसे में कट्टरपंथी नहीं बनाए जा रहे। न ही जहर भरने के लिए से सीमा पार भेजे जा रहे। उन्हें अपने घर में, आस-पड़ोस से कट्टरपंथ की ये ट्रेनिंग मिल रही है।

बच्चों को जिहादी रंग में रंगने वाला खतरा जब गली-गली पसर रहा है जनरल रावत की चिंता को मजहबी और सियासी रंग देने की कोशिशें भी शुरू हो गई है। इसी को ध्यान में रख हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि रणनीति बनाना प्रशासन का काम है। कोई जनरल कट्टरपंथ को लेकर रणनीति तय नहीं कर सकता। वे इतने पर ही नहीं रुके। उन्होंने कहा आप किस-किस को डी-रैडिकलाइज़ करेंगे? जुनैद, तबरेज, पहलू के हत्यारे को कौन डी-रैडिकलाइज़ करेगा? ओवैसी का ऐसा कहना न केवल मजहबी कट्टरपंथ पर पर्दा डालने की कोशिश है, बल्कि मॉब लिंचिंग से जोड़कर इसे सामान्य घटना की तरह पेश करना भी है। ताकि आप पैर पसार रहे इस खतरे को लेकर निश्चिंत हो जाएँ।

यकीनन, हत्या अपराध है, चाहे वह चोरी करते हुए पकड़े गए तबरेज की ही क्यों न हो। सभ्य समाज में किसी को भी कानून हाथ में लेने की इजाजत नहीं दी जा सकती। लेकिन, तबरेज की हत्या की आड़ लेकर उन सैकड़ों-हजारों घटनाओं को दबाया नहीं जा सकता जब अल्लाहु अकबर का नाम लेते हुए कोई जुनैद दर्जनों लोगों के साथ खुद को उड़ा लेता है। जिसके नाम पर कोई कमलेश तिवारी का गला रेत जाता है। जिसके नाम पर संसद से लेकर स्कूली बच्चों के बसों तक को निशाना बनाया जाता है।

ये मजहबी कट्टरपंथ के सिलसिलेवार ट्रेनिंग से पैदा होता है। जनरल रावत ने भी कहा था, “यह स्कूलों, यूनिवर्सिटी, धार्मिक स्थलों हर जगह हो रहा है। ऐसे कुछ लोगों का समूह है, जो ये फैला रहे हैं। इस तरह के लोगों की पहचान कर दूसरे लोगों को धीरे-धीरे इनसे अलग करने की जरूरत है।” आखिर, 10 से 11 साल के बच्चे बिना किसी ट्रेनिंग के ‘जो हिटलर की चाल चलेगा, वो हिटलर की मौत मरेगा’ और ‘जामिया तेरे ख़ून से, इंकलाब आएगा’ जैसे नारे कैसे लगा सकते हैं? कोई बच्चा अपनों का इशारा पाए अनजान जलीस की ऊँगली भला क्यों थामेगा?

पुलिस और सेना आतंकवाद का सफाया कर सकती है। आतंकियों को उनके अंजाम तक पहुॅंचा सकती है। लेकिन, ये मजहबी कट्टरवाद तभी दफन होगा जब हम एक समाज के तौर पर इससे लड़ेंगे। तभी एक एमबीबीएस डॉक्टर जलीस अंसारी की पहचान डॉ बम से होनी रुकेगी। उनसे बच्चों को दूर करना होगा जो बचपन में कट्टरपंथ का बीज बोते हैं। यही बीज जब एएमयू पहुॅंचता है तो नारे हिंदुत्व से लेकर देश के प्रधानमंत्री की कब्र खोदने तक के में बदल जाता है। एक इंजीनियर जिहादी जॉन बन जाता है। इस खतरे से नहीं चेते तो आज का कोई अशफाक, मोइनुद्दीन आपके कमलेश का गला रेत जाएगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत झा
देसिल बयना सब जन मिट्ठा

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हमसे सवाल करने वालों के मुँह गोमूत्र-गोबर से भरे हैं: हिन्दू घृणा से भरे तंज के सहारे उद्धव ठाकरे ने साधा भाजपा पर निशाना

"जो लोग हमारी सरकार पर सवाल उठाते हैं, उनके मुँह गोमूत्र-गोबर से भरे हुए हैं। ये वो लोग हैं जिनके खुद के कपड़े गोमूत्र व गोबर से लिपटे हैं।"

मुस्लिम देशों में उठी फ्रांस के बहिष्कार की माँग, NDTV ने कट्टरपन्थ की जगह पैगंबर के कार्टून को ही बताया वजह

फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रों ने शिक्षक की हत्या के बाद बयान जारी करते हुए कहा था कि इस्लाम एक ऐसा धर्म है जिससे आज पूरी दुनिया संकट में है।

मदद की अपील अक्टूबर में, नाम लिख लिया था सितम्बर में: लोगों ने पूछा- सोनू सूद अंतर्यामी हैं क्या?

"मदद की गुहार लगाए जाने से 1 महीने पहले ही सोनू सूद ने मरीज के नाम की एक्सेल शीट तैयार कर ली थी, क्या वो अंतर्यामी हैं?" - जानिए क्या है माजरा।

‘फ्रांस ने मुस्लिमों को भड़काया’: इमरान खान ने फेसबुक को पत्र लिखकर की बढ़ते इस्लामोफ़ोबिया को रोकने की माँग

"यह दुखद है कि राष्ट्रपति मैक्रों ने विवादित कार्टून को बढ़ावा देते हुए जानबूझकर मुसलमानों को भड़काने की कोशिश की है।"

NSA डोभाल की चेतावनी- अपनी मिट्टी ही नहीं, विदेशी जमीन में घुसकर भी खतरे के मूल को मिटा देगा नया भारत

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) अजीत डोभाल ने कहा कि अगर कोई विदेशी जमीन हमारे लिए सुरक्षा सम्बन्धी खतरे पैदा करता है तो भारत वहाँ भी लड़ेगा।

कश्मीरी हिन्दुओं के लिए भारत ही नहीं शेख के यार नेहरू की नाराजगी को भी चुना था महाराजा हरि सिंह ने, आज ही के...

महाराजा हरि सिंह को नेहरू का शेख अब्दुल्ला के साथ मैत्रीपूर्ण बर्ताव बिलकुल नहीं पसंद था। जबकि जिन्ना को लग रहा था कि J&K की बहुसंख्यक आबादी के कारण महाराजा उनके साथ ही शामिल होंगे।

प्रचलित ख़बरें

जब रावण ने पत्थर पर लिटा कर अपनी बहू का ही बलात्कार किया… वो श्राप जो हमेशा उसके साथ रहा

जानिए वाल्मीकि रामायण की उस कहानी के बारे में, जो 'रावण ने सीता को छुआ तक नहीं' वाले नैरेटिव को ध्वस्त करती है। रावण विद्वान था, संगीत का ज्ञानी था और शिवभक्त था। लेकिन, उसने स्त्रियों को कभी सम्मान नहीं दिया और उन्हें उपभोग की वस्तु समझा।

ससुर-नौकर से Sex करती है ब्राह्मण परिवार की बहू: ‘Mirzapur 2’ में श्रीकृष्ण की कथाएँ हैं ‘फ़िल्मी बातें’

यूपी-बिहार के युवाओं से लेकर महिलाओं तक का चित्रण ऐसा किया गया है, जैसे वो दोयम दर्जे के नागरिक हों। वेश्याएँ 'विधवाओं के गेटअप' में आती हैं और कपड़े उतार कर नाचती हैं।

एक ही रात में 3 अलग-अलग जगह लड़कियों के साथ छेड़छाड़ करने वाला लालू का 2 बेटा: अब मिलेगी बिहार की गद्दी?

आज से लगभग 13 साल पहले ऐसा समय भी आया था, जब राजद सुप्रीमो लालू यादव के दोनों बेटों तेज प्रताप और तेजस्वी यादव पर छेड़खानी के आरोप लगे थे।

मंदिर तोड़ कर मूर्ति तोड़ी… नवरात्र की पूजा नहीं होने दी: मेवात की घटना, पुलिस ने कहा – ‘सिर्फ मूर्ति चोरी हुई है’

2016 में भी ऐसी ही घटना घटी थी। तब लोगों ने समझौता कर लिया था और मुस्लिम समुदाय ने हिंदुओं के सामने घटना का खेद प्रकट किया था

नवरात्र में ‘हिंदू देवी’ की गोद में शराब और हाथ में गाँजा, फोटोग्राफर डिया जॉन ने कहा – ‘महिला आजादी दिखाना था मकसद’

“महिलाओं को देवी माना जाता है लेकिन उनके साथ किस तरह का व्यवहार किया जाता है? उनके व्यक्तित्व को निर्वस्त्र किया जाता है।"

निजाम व अंग्रेजों से लड़ने वाले योद्धा कोमाराम भीम को फिल्म में पहनाई मुस्लिम ‘स्कल कैप’, आदिवासियों ने किया विरोध

आदिवासी योद्धा कोमाराम भीम की बेटी का ही निजाम के तालुकदार अब्दुल सत्तार ने अपहरण कर लिया था और जबरन इस्लामी धर्मान्तरण करा दिया था।
- विज्ञापन -

नसीब बदलने का दावा करने वाले काले खान, हारून ने जलाया युवक का हाथ: मीडिया ने बताया ‘तांत्रिक’

काले खान और हारून नामक इन फकीरों ने अपने एक चेले को मृतक के परिजनों के घर भेजा। उसने घर में भूत-प्रेत का साया होने की बात कही, जिससे वो लोग घबरा गए।

हमसे सवाल करने वालों के मुँह गोमूत्र-गोबर से भरे हैं: हिन्दू घृणा से भरे तंज के सहारे उद्धव ठाकरे ने साधा भाजपा पर निशाना

"जो लोग हमारी सरकार पर सवाल उठाते हैं, उनके मुँह गोमूत्र-गोबर से भरे हुए हैं। ये वो लोग हैं जिनके खुद के कपड़े गोमूत्र व गोबर से लिपटे हैं।"

‘अपनी मर्जी से बिलाल के साथ गई, मेडिकल टेस्ट नहीं कराऊँगी’: फर्जी हिन्दू प्रेमी के बचाव में उतरी ₹8 लाख लेकर घर से भागी...

लड़की के पिता ने बताया था कि बिलाल अक्सर हिंदू लड़कों की तरह रहा करता था और उसके कुछ और दोस्त भी तिलक लगाया करते थे। वो और उसके दोस्त हाथ में रक्षासूत्र भी बाँधते थे, जिसे देखकर लगता था कि वे हिंदू हैं।

मुस्लिम देशों में उठी फ्रांस के बहिष्कार की माँग, NDTV ने कट्टरपन्थ की जगह पैगंबर के कार्टून को ही बताया वजह

फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रों ने शिक्षक की हत्या के बाद बयान जारी करते हुए कहा था कि इस्लाम एक ऐसा धर्म है जिससे आज पूरी दुनिया संकट में है।

मदद की अपील अक्टूबर में, नाम लिख लिया था सितम्बर में: लोगों ने पूछा- सोनू सूद अंतर्यामी हैं क्या?

"मदद की गुहार लगाए जाने से 1 महीने पहले ही सोनू सूद ने मरीज के नाम की एक्सेल शीट तैयार कर ली थी, क्या वो अंतर्यामी हैं?" - जानिए क्या है माजरा।

‘फ्रांस ने मुस्लिमों को भड़काया’: इमरान खान ने फेसबुक को पत्र लिखकर की बढ़ते इस्लामोफ़ोबिया को रोकने की माँग

"यह दुखद है कि राष्ट्रपति मैक्रों ने विवादित कार्टून को बढ़ावा देते हुए जानबूझकर मुसलमानों को भड़काने की कोशिश की है।"

NSA डोभाल की चेतावनी- अपनी मिट्टी ही नहीं, विदेशी जमीन में घुसकर भी खतरे के मूल को मिटा देगा नया भारत

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) अजीत डोभाल ने कहा कि अगर कोई विदेशी जमीन हमारे लिए सुरक्षा सम्बन्धी खतरे पैदा करता है तो भारत वहाँ भी लड़ेगा।

कश्मीरी हिन्दुओं के लिए भारत ही नहीं शेख के यार नेहरू की नाराजगी को भी चुना था महाराजा हरि सिंह ने, आज ही के...

महाराजा हरि सिंह को नेहरू का शेख अब्दुल्ला के साथ मैत्रीपूर्ण बर्ताव बिलकुल नहीं पसंद था। जबकि जिन्ना को लग रहा था कि J&K की बहुसंख्यक आबादी के कारण महाराजा उनके साथ ही शामिल होंगे।

बुलंदशहर की चुनावी रैली में भिड़े भीम-AIMIM: दिलशाद पर हाजी यामीन समर्थकों का जानलेवा हमला

बुलंदशहर में भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर के काफिले पर फायरिंग की खबर के साथ ही AIMIM प्रत्याशी दिलशाद अहमद पर भी जानलेवा हमले की खबर सामने आई हैं।

नवरात्र में ‘हिंदू देवी’ की गोद में शराब और हाथ में गाँजा, फोटोग्राफर डिया जॉन ने कहा – ‘महिला आजादी दिखाना था मकसद’

“महिलाओं को देवी माना जाता है लेकिन उनके साथ किस तरह का व्यवहार किया जाता है? उनके व्यक्तित्व को निर्वस्त्र किया जाता है।"

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
79,185FollowersFollow
337,000SubscribersSubscribe