Friday, March 5, 2021
Home विचार सामाजिक मुद्दे 'दोनों तरफ के लोग हैं': 'दंगा साहित्य' के दोगले कवियों से पूछिए कि हिन्दू...

‘दोनों तरफ के लोग हैं’: ‘दंगा साहित्य’ के दोगले कवियों से पूछिए कि हिन्दू ने कहाँ दंगा किया, कितने दिन किया?

ये जो चंद लोग हैं, 'चाहे हिन्दू हो या मुस्लिम' वाला राग कर्णप्रिय और मानवीय जरूर है, लेकिन ये ढोंग है। 'ये जो चंद लोग हैं' या फिर पूरी विचारधारा, पूरा समुदाय फर्जी कारण की डफली बजाता सड़क पर उतर जाता है क्योंकि संविधान में विरोध की आजादी है! और वो विरोध दसियों लोगों की हत्या और सैकड़ों के घायल होने के रूप में प्रतिफलित होती है।

‘दोनों तरफ के लोग हैं’, ‘मरने वाले दोनों तरफ से हैं’, ‘पत्थरबाजी में इधर के भी थे, उधर के भी थे’, हमें यह भी सोचना चाहिए कि ये जो चंद लोग हैं, चाहे हिन्दू हों, या मुस्लिम’, ‘आपको देखना होगा कि सड़क पर दो गुट हैं’ आदि कविताएँ और साहित्य पूरा लिखा जा रहा है। लिखना भी चाहिए, क्योंकि इस देश में इतिहास तभी से शुरू होता है, जब एक खास समुदाय पर खरोंच आती है।

हमारी सामूहिक याददाश्त इतनी कमजोर है कि हम इस ‘दंगा साहित्य’ के कवियों से ये सवाल नहीं पूछ पाते कि ‘दोनों तरफ के लोगों के आने से पहले जो तीन महीने से ‘एकतरफा हमला’ चला है, वो कहाँ गया? हम यह भूल जाते हैं कि पिछले कुछ सालों से विशुद्ध मजहबी कारणों से मरने वाले हमेशा एक ही तरफ के रहे हैं, चाहे वो कासगंज का चंदन गुप्ता हो, कमलेश तिवारी हो, भारत यादव हो, अंकित सक्सेना हो, प्रशांत पुजारी हो, ध्रुव त्यागी हो, या फिर लोहरदगा के नीरज प्रजापति

पत्थरबाज़ी दोनों तरफ से हुई? कश्मीर में ‘दूसरा तरफ’ कौन सा तरफ था? शाहीन बाग में दूसरा तरफ कौन सा तरफ था? जामिया नगर में, लखनऊ के परिवर्तन चौक पर, बशीरघाट में, अलीगढ़ में, बिजनौर में, मेरठ में, अहमदाबाद में… ये दूसरी तरफ से पत्थरबाज़ी कौन कर रहा था, कहाँ से आ रहे थे पत्थर?

ये जो चंद लोग हैं, ‘चाहे हिन्दू हो या मुस्लिम’ वाला राग कर्णप्रिय और मानवीय जरूर है, लेकिन ये ढोंग है। ‘ये जो चंद लोग हैं’ या फिर पूरी विचारधारा, पूरा समुदाय फर्जी कारण की डफली बजाता सड़क पर उतर जाता है, क्योंकि संविधान में विरोध की आजादी है! और वो विरोध दसियों लोगों की हत्या और सैकड़ों के घायल होने के रूप में प्रतिफलित होती है।

‘चाहे हिन्दू’ ही पहले लिखा जाता है, जबकि पहले तो एक ही उन्मादी भीड़ उतरी है हर बार। पहले गोधरा में 59 हिन्दुओं को जिंदा जलाया गया, जो कि चर्चा से गायब है। उसका हिसाब कौन करेगा? ट्रेन की बॉगी में बैठे कारसेवकों ने किस पर पत्थर फेंका था? उन 59 हिन्दुओं की बात कोई क्यों नहीं करता?

‘या मुस्लिम’? जी नहीं, अंतिम दिन कुछ हिन्दू पत्थर फेंकने लगे, तो इसका मतलब यह नहीं है कि पहले दिन से हिन्दू पत्थर फेंक रहा था। पहले दिन से अंतिम दिन तक एक ही भीड़ पत्थर फेंकती दिखी, आग लगाती दिखी, जान लेती दिखी, कट्टे चलाती दिखी…

तीन महीने बाद अगर किसी के घर में मजहबी भीड़ घुस जाएगी तो प्रतिकार न सिर्फ स्वभाविक है, बल्कि अत्यावश्यक भी। प्रतिकार को हमला बताया जा रहा है। ‘हिन्दू’ और ‘मुस्लिम’ को एक ही पंक्ति में लिख कर बराबर किया जा रहा है। एक के अपराध के लदे पलड़े के बराबर में उसे रखने की कोशिश दिख रही है जो नगण्य है।

इस नैरेटिव से बचिए और पूछिए कि जिसकी गली में हिन्दू की लाश जला कर पहुँचा दी गई, उसने तीन महीने से किसका क्या बिगाड़ा था। ‘दंगा साहित्य’ के कवियों से पूछिए कि आज जो ‘दोनों तरफ के थे’, ‘इधर के भी, उधर के भी’ की ज्ञानवृष्टि हो रही है, वो तीन महीने के 89 दिनों तक कहाँ थी, जो आज 90वें दिन को निकली है?

यही ट्रैप है, जिसमें आप हमेशा फँसा दिए जाते हैं। अंतिम दिन की बात को पिछले हर दिन की तरह बताया जाता है। कश्मीरी हिन्दुओं के पलायन की बात होती है, नरसंहार गायब कर दिया गया है चर्चा से। गोधरा दंगों की बात होती है, 59 कारसेवकों की नृशंस हत्या पर कहीं बात नहीं होती।

ऐसे नहीं चलेगा। आज किसी कपिल मिश्रा को आतंकवादी कहा जा रहा है, विकिपीडिया पर सबसे ऊपर लिखा जा रहा है कि ‘भड़काऊ भाषण’ दिया था। अमानतुल्लाह की बातें नहीं होती जिसके भड़काऊ भाषणों का घाव नासूर बन कर शाहीन बाग में रिस रहा है। आप पुरानी बात मत भूलिए, वरना रामजन्मभूमि का इतिहास 1528 से ही बताया जाता रहेगा।

और मैं कौन हूँ? मैं दंगा फैलाने वाला कह दिया जाऊँगा क्योंकि मैंने भगवा रंग का कुर्ता पहना हुआ है, मेरे स्कार्फ पर ‘राधे-राधे’ लिखा हुआ है और मेरे हाथ में रुद्राक्ष है।

बस इतना ही काफी है। लेकिन हाँ, दिल्ली ही नहीं, पूरे देशभर में एक ख़ास भीड़ के लोगों द्वारा की गई हर हिंसा को आप झुठला नहीं सकते। क्योंकि रामचंद्र गुहा और रोमिला थापर जैसे फिक्शन राइटर्स उपन्यासकारों की काल्पनिक कहानियों को हर गली में मौजूद कैमरा रिकॉर्ड कर रहा है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Searched termsदिल्ली दंगा, दिल्ली दंगा लिबरल गैंग, दिल्ली दंगा लिबरल मीडिया, दिल्ली दंगा हिंदूफोबिया, दिल्ली दंगा प्राइम टाइम, रवीश कुमार प्राइम टाइम, दिल्ली दंगा एनडीटीवी, दिल्ली दंगा सेकुलर मीडिया, दिल्ली दंगा की खबरें, दिल्ली दंगों में कौन शामिल, दंगा, दिल्ली में दंगा, पीएम मोदी, नरेंद्र मोदी, दिल्ली दंगा मोदी, दिल्ली हिंसा मोदी, उत्तर पूर्वी दिल्ली हिंसा मोदी, आईबी कॉन्स्टेबल की हत्या, अंकित शर्मा की हत्या, चांदबाग अंकित शर्मा की हत्या, दिल्ली हिंसा विवेक, विवेक ड्रिल मशीन से छेद, विवेक जीटीबी अस्पताल, विवेक एक्सरे, दिल्ली हिंदू युवक की हत्या, दिल्ली विनोद की हत्या, दिल्ली ब्रहम्पुरी विनोद की हत्या, दिल्ली हिंसा अमित शाह, दिल्ली हिंसा केजरीवाल, दिल्ली हिंसा उपराज्यपाल, अमित शाह हाई लेवल मीटिंग, दिल्ली पुलिस, दिल्ली पुलिस रतनलाल, हेड कांस्टेबल रतनलाल, रतनलाल का परिवार, ट्रंप का भारत दौरा, ट्रंप मोदी, बिल क्लिंटन का भारत दौरा, छत्तीसिंह पुरा नरसंहार, दिल्ली हिंसा, नॉर्थ ईस्ट दिल्ली, दिल्ली पुलिस, करावल नगर, जाफराबाद, मौजपुर, गोकलपुरी, शाहरुख, कांस्टेबल रतनलाल की मौत, दिल्ली में पथराव, दिल्ली में आगजनी, दिल्ली में फायरिंग, भजनपुरा, दिल्ली सीएए हिंसा
अजीत भारतीhttp://www.ajeetbharti.com
सम्पादक (ऑपइंडिया) | लेखक (बकर पुराण, घर वापसी, There Will Be No Love)

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अमेज़न पर आउट ऑफ स्टॉक हुई राहुल रौशन की किताब- ‘संघी हू नेवर वेंट टू अ शाखा’

राहुल रौशन ने हिंदुत्व को एक विचारधारा के रूप में क्यों विश्लेषित किया है? यह विश्लेषण करते हुए 'संघी' बनने की अपनी पेचीदा यात्रा को उन्होंने साझा किया है- अपनी किताब 'संघी हू नेवर वेंट टू अ शाखा' में…"

मुंबई पुलिस अफसर के संपर्क में था ‘एंटीलिया’ के बाहर मिले विस्फोटक लदे कार का मालिक: फडणवीस का दावा

मनसुख हिरेन ने लापता कार के बारे में पुलिस में शिकायत भी दर्ज कराई थी। आज उसी हिरेन को मुंबई में एक नाले में मृत पाया गया। जिससे यह पूरा मामला और भी संदिग्ध नजर आ रहा है।

कल्याणकारी योजनाओं में आबादी के हिसाब से मुस्लिमों की हिस्सेदारी ज्यादा: CM योगी आदित्यनाथ

उत्तर प्रदेश में आबादी के अनुपात में मुसलमानों की कल्याणकारी योजनाओं में अधिक हिस्सेदारी है। यह बात सीएम योगी आदित्यनाथ ने कही है।

‘शिवलिंग पर कंडोम’ से विवादों में आई सायानी घोष TMC कैंडिडेट, ममता बनर्जी ने आसनसोल से उतारा

बंगाल विधानसभा चुनाव के लिए टीएमसी ने उम्मीदवारों का ऐलान कर दिया है। इसमें हिंदूफोबिक ट्वीट के कारण विवादों में रही सायानी घोष का भी नाम है।

‘हिंदू भगाओ, रोहिंग्या-बांग्लादेशी बसाओ पैटर्न का हिस्सा है मालवणी’: 5 साल पहले थे 108 हिंदू परिवार, आज बचे हैं 7

मुंबई बीजेपी के अध्यक्ष मंगल प्रभात लोढ़ा ने महाराष्ट्र विधानसभा में मालवणी में हिंदुओं पर हो रहे अत्याचार का मसला उठाया है।

तापसी की चिंता में डूबे बॉयफ्रेंड भी आए IT जाँच के दायरे में, असली वजह फेर सकती है ‘गैंग’ के सपनों पर पानी

तापसी पन्नू के बॉयफ्रेंड बो के अनुराग कश्यप सहित कई बॉलीवुड हस्तियों के खिलाफ चल रही आयकर विभाग की कार्रवाई से बहुत गहरा संबंध है। एक और मामले से बो का जुड़ाव पता चला है जो उसके परेशानी का वास्तविक कारण है।

प्रचलित ख़बरें

तिरंगे पर थूका, कहा- पेशाब पीओ; PM मोदी के लिए भी आपत्तिजनक बात: भारतीयों पर हमले के Video आए सामने

तिरंगे के अपमान और भारतीयों को प्रताड़ित करने की इस घटना का मास्टरमाइंड खालिस्तानी MP जगमीत सिंह का साढू जोधवीर धालीवाल है।

16 महीने तक मौलवी ‘रोशन’ ने चेलों के साथ किया गैंगरेप: बेटे की कुर्बानी और 3 करोड़ के सोने से महिला का टूटा भ्रम

मौलवी पर आरोप है कि 16 माह तक इसने और इसके चेले ने एक महिला के साथ दुष्कर्म किया। उससे 45 लाख रुपए लूटे और उसके 10 साल के बेटे को...

‘मैं 25 की हूँ पर कभी सेक्स नहीं किया’: योग शिक्षिका से रेप की आरोपित LGBT एक्टिविस्ट ने खुद को बताया था असमर्थ

LGBT एक्टिविस्ट दिव्या दुरेजा पर हाल ही में एक योग शिक्षिका ने बलात्कार का आरोप लगाया है। दिव्या ने एक टेड टॉक के पेनिट्रेटिव सेक्स में असमर्थ बताया था।

अंदर शाहिद-बाहर असलम, दिल्ली दंगों के आरोपित हिंदुओं को तिहाड़ में ही मारने की थी साजिश

हिंदू आरोपितों को मर्करी (पारा) देकर मारने की साजिश रची गई थी। दिल्ली पुलिस ने साजिश का पर्दाफाश करते हुए दो को गिरफ्तार किया है।

‘जाकर मर, मौत की वीडियो भेज दियो’ – 70 मिनट की रिकॉर्डिंग, आत्महत्या से ठीक पहले आरिफ ने आयशा को ऐसे किया था मजबूर

अहमदाबाद पुलिस ने आयशा और आरिफ के बीच हुई बातचीत की कॉल रिकॉर्ड्स को एक्सेस किया। नदी में कूदने से पहले आरिफ से...

‘शिवलिंग पर कंडोम’ से विवादों में आई सायानी घोष TMC कैंडिडेट, ममता बनर्जी ने आसनसोल से उतारा

बंगाल विधानसभा चुनाव के लिए टीएमसी ने उम्मीदवारों का ऐलान कर दिया है। इसमें हिंदूफोबिक ट्वीट के कारण विवादों में रही सायानी घोष का भी नाम है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,301FansLike
81,955FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe