Saturday, June 19, 2021
Home विचार सामाजिक मुद्दे 'दोनों तरफ के लोग हैं': 'दंगा साहित्य' के दोगले कवियों से पूछिए कि हिन्दू...

‘दोनों तरफ के लोग हैं’: ‘दंगा साहित्य’ के दोगले कवियों से पूछिए कि हिन्दू ने कहाँ दंगा किया, कितने दिन किया?

ये जो चंद लोग हैं, 'चाहे हिन्दू हो या मुस्लिम' वाला राग कर्णप्रिय और मानवीय जरूर है, लेकिन ये ढोंग है। 'ये जो चंद लोग हैं' या फिर पूरी विचारधारा, पूरा समुदाय फर्जी कारण की डफली बजाता सड़क पर उतर जाता है क्योंकि संविधान में विरोध की आजादी है! और वो विरोध दसियों लोगों की हत्या और सैकड़ों के घायल होने के रूप में प्रतिफलित होती है।

‘दोनों तरफ के लोग हैं’, ‘मरने वाले दोनों तरफ से हैं’, ‘पत्थरबाजी में इधर के भी थे, उधर के भी थे’, हमें यह भी सोचना चाहिए कि ये जो चंद लोग हैं, चाहे हिन्दू हों, या मुस्लिम’, ‘आपको देखना होगा कि सड़क पर दो गुट हैं’ आदि कविताएँ और साहित्य पूरा लिखा जा रहा है। लिखना भी चाहिए, क्योंकि इस देश में इतिहास तभी से शुरू होता है, जब एक खास समुदाय पर खरोंच आती है।

हमारी सामूहिक याददाश्त इतनी कमजोर है कि हम इस ‘दंगा साहित्य’ के कवियों से ये सवाल नहीं पूछ पाते कि ‘दोनों तरफ के लोगों के आने से पहले जो तीन महीने से ‘एकतरफा हमला’ चला है, वो कहाँ गया? हम यह भूल जाते हैं कि पिछले कुछ सालों से विशुद्ध मजहबी कारणों से मरने वाले हमेशा एक ही तरफ के रहे हैं, चाहे वो कासगंज का चंदन गुप्ता हो, कमलेश तिवारी हो, भारत यादव हो, अंकित सक्सेना हो, प्रशांत पुजारी हो, ध्रुव त्यागी हो, या फिर लोहरदगा के नीरज प्रजापति

पत्थरबाज़ी दोनों तरफ से हुई? कश्मीर में ‘दूसरा तरफ’ कौन सा तरफ था? शाहीन बाग में दूसरा तरफ कौन सा तरफ था? जामिया नगर में, लखनऊ के परिवर्तन चौक पर, बशीरघाट में, अलीगढ़ में, बिजनौर में, मेरठ में, अहमदाबाद में… ये दूसरी तरफ से पत्थरबाज़ी कौन कर रहा था, कहाँ से आ रहे थे पत्थर?

ये जो चंद लोग हैं, ‘चाहे हिन्दू हो या मुस्लिम’ वाला राग कर्णप्रिय और मानवीय जरूर है, लेकिन ये ढोंग है। ‘ये जो चंद लोग हैं’ या फिर पूरी विचारधारा, पूरा समुदाय फर्जी कारण की डफली बजाता सड़क पर उतर जाता है, क्योंकि संविधान में विरोध की आजादी है! और वो विरोध दसियों लोगों की हत्या और सैकड़ों के घायल होने के रूप में प्रतिफलित होती है।

‘चाहे हिन्दू’ ही पहले लिखा जाता है, जबकि पहले तो एक ही उन्मादी भीड़ उतरी है हर बार। पहले गोधरा में 59 हिन्दुओं को जिंदा जलाया गया, जो कि चर्चा से गायब है। उसका हिसाब कौन करेगा? ट्रेन की बॉगी में बैठे कारसेवकों ने किस पर पत्थर फेंका था? उन 59 हिन्दुओं की बात कोई क्यों नहीं करता?

‘या मुस्लिम’? जी नहीं, अंतिम दिन कुछ हिन्दू पत्थर फेंकने लगे, तो इसका मतलब यह नहीं है कि पहले दिन से हिन्दू पत्थर फेंक रहा था। पहले दिन से अंतिम दिन तक एक ही भीड़ पत्थर फेंकती दिखी, आग लगाती दिखी, जान लेती दिखी, कट्टे चलाती दिखी…

तीन महीने बाद अगर किसी के घर में मजहबी भीड़ घुस जाएगी तो प्रतिकार न सिर्फ स्वभाविक है, बल्कि अत्यावश्यक भी। प्रतिकार को हमला बताया जा रहा है। ‘हिन्दू’ और ‘मुस्लिम’ को एक ही पंक्ति में लिख कर बराबर किया जा रहा है। एक के अपराध के लदे पलड़े के बराबर में उसे रखने की कोशिश दिख रही है जो नगण्य है।

इस नैरेटिव से बचिए और पूछिए कि जिसकी गली में हिन्दू की लाश जला कर पहुँचा दी गई, उसने तीन महीने से किसका क्या बिगाड़ा था। ‘दंगा साहित्य’ के कवियों से पूछिए कि आज जो ‘दोनों तरफ के थे’, ‘इधर के भी, उधर के भी’ की ज्ञानवृष्टि हो रही है, वो तीन महीने के 89 दिनों तक कहाँ थी, जो आज 90वें दिन को निकली है?

यही ट्रैप है, जिसमें आप हमेशा फँसा दिए जाते हैं। अंतिम दिन की बात को पिछले हर दिन की तरह बताया जाता है। कश्मीरी हिन्दुओं के पलायन की बात होती है, नरसंहार गायब कर दिया गया है चर्चा से। गोधरा दंगों की बात होती है, 59 कारसेवकों की नृशंस हत्या पर कहीं बात नहीं होती।

ऐसे नहीं चलेगा। आज किसी कपिल मिश्रा को आतंकवादी कहा जा रहा है, विकिपीडिया पर सबसे ऊपर लिखा जा रहा है कि ‘भड़काऊ भाषण’ दिया था। अमानतुल्लाह की बातें नहीं होती जिसके भड़काऊ भाषणों का घाव नासूर बन कर शाहीन बाग में रिस रहा है। आप पुरानी बात मत भूलिए, वरना रामजन्मभूमि का इतिहास 1528 से ही बताया जाता रहेगा।

और मैं कौन हूँ? मैं दंगा फैलाने वाला कह दिया जाऊँगा क्योंकि मैंने भगवा रंग का कुर्ता पहना हुआ है, मेरे स्कार्फ पर ‘राधे-राधे’ लिखा हुआ है और मेरे हाथ में रुद्राक्ष है।

बस इतना ही काफी है। लेकिन हाँ, दिल्ली ही नहीं, पूरे देशभर में एक ख़ास भीड़ के लोगों द्वारा की गई हर हिंसा को आप झुठला नहीं सकते। क्योंकि रामचंद्र गुहा और रोमिला थापर जैसे फिक्शन राइटर्स उपन्यासकारों की काल्पनिक कहानियों को हर गली में मौजूद कैमरा रिकॉर्ड कर रहा है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Searched termsदिल्ली दंगा, दिल्ली दंगा लिबरल गैंग, दिल्ली दंगा लिबरल मीडिया, दिल्ली दंगा हिंदूफोबिया, दिल्ली दंगा प्राइम टाइम, रवीश कुमार प्राइम टाइम, दिल्ली दंगा एनडीटीवी, दिल्ली दंगा सेकुलर मीडिया, दिल्ली दंगा की खबरें, दिल्ली दंगों में कौन शामिल, दंगा, दिल्ली में दंगा, पीएम मोदी, नरेंद्र मोदी, दिल्ली दंगा मोदी, दिल्ली हिंसा मोदी, उत्तर पूर्वी दिल्ली हिंसा मोदी, आईबी कॉन्स्टेबल की हत्या, अंकित शर्मा की हत्या, चांदबाग अंकित शर्मा की हत्या, दिल्ली हिंसा विवेक, विवेक ड्रिल मशीन से छेद, विवेक जीटीबी अस्पताल, विवेक एक्सरे, दिल्ली हिंदू युवक की हत्या, दिल्ली विनोद की हत्या, दिल्ली ब्रहम्पुरी विनोद की हत्या, दिल्ली हिंसा अमित शाह, दिल्ली हिंसा केजरीवाल, दिल्ली हिंसा उपराज्यपाल, अमित शाह हाई लेवल मीटिंग, दिल्ली पुलिस, दिल्ली पुलिस रतनलाल, हेड कांस्टेबल रतनलाल, रतनलाल का परिवार, ट्रंप का भारत दौरा, ट्रंप मोदी, बिल क्लिंटन का भारत दौरा, छत्तीसिंह पुरा नरसंहार, दिल्ली हिंसा, नॉर्थ ईस्ट दिल्ली, दिल्ली पुलिस, करावल नगर, जाफराबाद, मौजपुर, गोकलपुरी, शाहरुख, कांस्टेबल रतनलाल की मौत, दिल्ली में पथराव, दिल्ली में आगजनी, दिल्ली में फायरिंग, भजनपुरा, दिल्ली सीएए हिंसा
अजीत भारती
पूर्व सम्पादक (फ़रवरी 2021 तक), ऑपइंडिया हिन्दी

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शशि थरूर की अध्यक्षता वाली संसदीय स्थायी समिति के सामने पेश हुआ Twitter, खुद अपने ही जाल में फँसा: जानें क्या हुआ

संसदीय समिति ने ट्विटर के अधिकारियों से पूछताछ करते हुए साफ कहा कि देश का कानून सर्वोपरि है ना कि आपकी नीतियाँ।

हिन्दू देवी की मॉर्फ्ड तस्वीर शेयर कर आस्था से खिलवाड़, माफी माँगकर किनारे हुआ पाकिस्तानी ब्रांड: भड़के लोग

एक प्रमुख पाकिस्तानी महिला ब्रांड, जेनरेशन ने अपने कार्यालय में हिंदू देवता की एक विकृत छवि डालकर हिंदू धर्म का मजाक उड़ाया।

केजरीवाल सरकार को 30 जून तक राशन दुकानों पर ePoS मशीन लगाने का केंद्र ने दिया अल्टीमेटम, विफल रहने पर होगी कार्रवाई

ऐसा करने में विफल रहने पर क्या कार्रवाई की जाएगी यह नहीं बताया गया है। दिल्ली को एनएफएसए के तहत लाभार्थियों को बाँटने के लिए हर महीने 36,000 टन चावल और गेहूँ मिलता है।

सपा नेता उम्मेद पहलवान दिल्ली में गिरफ्तार, UP पुलिस ले जाएगी गाजियाबाद: अब्दुल की पिटाई के बाद डाला था भड़काऊ वीडियो

गिरफ्तारी दिल्ली के लोक नारायण अस्पताल के पास हुई है। गिरफ्तारी के बाद उसे गाजियाबाद लाया जाएगा और फिर आगे की पूछताछ होगी।

‘खाना बनाकर रखना’ कह कर घर से निकला था मुकेश, जिंदा जलाने की खबर आई: ‘किसानों’ के टेंट या गुंडई का अड्डा?

किसानों के नाम पर सड़क पर कब्जा जमाने वाले कौन हैं? इनके टेंट नशे और गुंडई के अड्डे हैं? मुकेश की विधवा के सवालों का मिलेगा जवाब?

3 मिनट में 2 विधायकों के बेटे बने अफसर: पंजाब कॉन्ग्रेस में नाराजगी को दूर करना का ‘कैप्‍टन फॉर्मुला’ – बदली अनुकंपा पॉलिसी

सांसद प्रताप सिंह बाजवा के भतीजे और विधायक फतेहजंग बाजवा के बेटे अर्जुन प्रताप सिंह बाजवा को पंजाब पुलिस में इंस्पेक्टर (ग्रेड-2) और...

प्रचलित ख़बरें

70 साल का मौलाना, नाम: मुफ्ती अजीजुर रहमान; मदरसे के बच्चे से सेक्स: Video वायरल होने पर केस

पीड़ित छात्र का कहना है कि परीक्षा में पास करने के नाम पर तीन साल से हर जुम्मे को मुफ्ती उसके साथ सेक्स कर रहा था।

‘…इस्तमाल नहीं करो तो जंग लग जाता है’ – रात बिताने, साथ सोने से मना करने पर फिल्ममेकर ने नीना गुप्ता को कहा था

ऑटोबायोग्राफी में नीना गुप्ता ने उस घटना का जिक्र भी किया है, जब उन्हें होटल के कमरे में बुलाया और रात बिताने के लिए पूछा।

BJP विरोध पर ₹100 करोड़, सरकार बनी तो आप होंगे CM: कॉन्ग्रेस-AAP का ऑफर महंत परमहंस दास ने खोला

राम मंदिर में अड़ंगा डालने की कोशिशों के बीच तपस्वी छावनी के महंत परमहंस दास ने एक बड़ा खुलासा किया है।

‘रेप और हत्या करती है भारतीय सेना, भारत ने जबरन कब्जाया कश्मीर’: TISS की थीसिस में आतंकियों को बताया ‘स्वतंत्रता सेनानी’

राजा हरि सिंह को निरंकुश बताते हुए अनन्या कुंडू ने पाकिस्तान की मदद से जम्मू कश्मीर को भारत से अलग करने की कोशिश करने वालों को 'स्वतंत्रता सेनानी' बताया है। इस थीसिस की नजर में भारत की सेना 'Patriarchal' है।

वामपंथी नेता, अभिनेता, पुलिस… कुल 14: साउथ की हिरोइन ने खोल दिए यौन शोषण करने वालों के नाम

मलयालम फिल्मों की एक्ट्रेस रेवती संपत ने एक फेसबुक पोस्ट में 14 लोगों के नाम उजागर कर कहा है कि इन सबने उनका यौन शोषण किया है।

कम उम्र में शादी करो, एक से ज्यादा करो: अभिनेता फिरोज खान ने पैगंबर मोहम्मद का दिया उदाहरण

फिरोज खान ने कहा कि शादी सीखने का एक अनुभव है। इस्लामिक रूप से यह प्रोत्साहित भी करता है, इसलिए बहुविवाह आम प्रथा होनी चाहिए।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
104,926FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe