Sunday, January 24, 2021
Home बड़ी ख़बर हर तीसरे दिन उठते जातीय बवंडरों का हासिल क्या है?

हर तीसरे दिन उठते जातीय बवंडरों का हासिल क्या है?

डर का माहौल बनाया जाता रहा, ये कहकर कि डर का माहौल है। ये इतनी बार कहा गया, कि जो अपने बग़ल के गाँव में ईदगाह तक जाता था, वो अपने गाँव में मुस्लिमों को दुर्गा पूजा के मेले में शक की निगाह से देखने लगा।

गिनना शुरु करेंगे तो गिनते रह जाएँगे। आस पास देखेंगे तो पता चलेगा कि स्थिति उतनी भयावह न तो है, न थी, न होती है जब तक कि उसे भयावह बना न दिया जाय। 2014 में एक सरकार आती है, जिसका अजेंडा क्लियर है कि क्या करना है, और क्या नहीं करना है। इस अजेंडे से आपको या मुझे असहमति हो सकती है, जिस पर कहीं और चर्चा की जाएगी।

उसके बाद हर विधानसभा चुनाव के पहले, हर चुनावी कैम्पेन की शुरुआत के साथ ही देश के किसी न किसी हिस्से में या तो किसी अकस्मात् दुर्घटना को किसी रंग से रंग दिया जाता है, या व्यवस्थित तरीक़े से दुर्घटनाएँ करा दी जाती हैं। निचोड़ हर बार यही आता है कि देश में समाज का कोई न कोई तबक़ा असुरक्षित महसूस कर रहा है।

इन सारी आशंकाओं, असुरक्षाओं, असहिष्णुताओं का जन्म एक लोकसभा चुनाव के शुरुआत से लेकर आज तक होता आ रहा है जहाँ एक ऐसी पार्टी को सत्ता मिल जाती है जिसके अजेंडे को हमेशा नीच, हीन, बाँटने वाला और रूढ़िवादी बताया जाता रहा। ये इतनी बार कहा गया, और वोटबैंक के लिए इतने तुष्टीकरण किए जाते रहे कि समाज पहले ही बँटकर बिखर रहा था। जिन्हें नहीं दिख रहा हो, वो चुनावों के परिणामों में वो बिखराव देख सकते हैं।

देश को जाति और धर्म के नाम पर बाँटने की ज़रूरत नहीं है, वो पहले से ही बँटा हुआ है। संविधान में ऐसी व्यवस्थाएँ हैं कि माइनॉरिटी और मेजोरिटी स्टेट या ज़िले के स्तर पर तय नहीं होता, बल्कि देश के स्तर पर तय होता है। संविधान में वो व्यवस्थाएँ भी हैं जो कि एक तरफ समानता की बातें करती हैं, और दूसरी तरफ अपने ही लक्ष्य को वोटबैंक से ढकेलकर अनंतकाल तक की राजनीतिक विजय सुनिश्चित करने की होड़ में सभी को लगा देती है।

दंगों का इतिहास एक पार्टी के दामन पर इतना ज़्यादा ख़ून फेंक चुका है कि जहाँ भी वो सरकार रही है, दंगे हुए हैं। लेकिन दंगा देश में एक ही दिखता है, उससे पहले या बाद के दंगे ग़ायब हो जाते हैं। नैरेटिव पर शिकंजा कसने वालों के शिकंजों में ढील आती दिखती है; जो दीवारें इन्होंने दशकों से भ्रष्टाचार और तुष्टीकरण के सीमेंट से तैयार किया था, उसमें दरार बनाने जब लोग पहुँचते हैं तो लाज़िम है कि दर्द तो होगा ही।

‘कोलीशन धर्मा’ और ‘अलाएंस’ की राजनीति के दौर में लोकसभा चुनावों में केन्द्र में किसी को मेजोरिटी मिल जाय ये जब सोच के परे हो रहा था तो एक पार्टी सत्ता में पूर्ण बहुमत के आँकड़ें को पार कर जाती है, तो दर्द होना समझ में आता है। फिर एक के बाद एक राज्य या तो प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से इसके हिस्से आने लगते हैं, और बाप का राज मानकर चलती पार्टियों के लोग सत्ता से बाहर फेंक दिए जाते हैं, तो दर्द होना समझ में आता है।

भ्रष्टाचार, ख़रीद-फ़रोख़्त, तोड़-जोड़ और तुष्टीकरण की राजनीति हर पार्टी ने की है, करती रहेगी। ये एक सच है, इसको मान लीजिए, उसके बाद ही चर्चा कीजिए। स्थिति आदर्श नहीं है। अम्बेडकर और गाँधी को कोट करने वाले आधे समय मतलब की बातें कोट करते हैं लेकिन गाय और मजहब विशेष को लेकर उनके विचार कोट करते वक़्त मनु स्मृति के वो हिस्से निकाल लेते हैं जो दो श्लोक के बीच से निकाल लिया गया हो।

2014 और उसके बाद के दस साल भारतीय समाज के लिए निर्णायक होंगे। इसका इतिहास प्री और पोस्ट-मोदी युग के नाम से जाना जाएगा। क्योंकि इस व्यक्ति ने, खुद को और अपने पार्टी को उस मुक़ाम पर पहुँचाया जहाँ ‘राम मंदिर’ और ‘गोधरा’ के हार्ड मेटल संगीत बजाने के बावजूद लोगों ने पूर्ण बहुमत से तीन चौथाई बहुमत तक की सरकारें इसके नाम कर दीं।

लोग लगे रहे रोहित वेमुला में, और वो ये कहते हुए मरा कि मेरी लाश पर राजनीति मत करना। ऊना के दलितों का पिटना, जुनैद की मौत, नजीब का गायब होना, असहिष्णुता की फ़सल, बीफ़ ईटिंग फेस्टिवल, भारत तेरे टुकड़े होंगे, केरल चाहे आज़ादी, वर्धमान-धूलागढ़ के दंगे, गौरक्षकों का खेल, दभोलकर-पनसरे-गौरी लंकेश की हत्या, जातिवाद की बहती नई पछुआ बयार…

ये सारी बातें हुई नहीं, व्यवस्थित तरीक़े से हुईं। इसमें दुर्घटना को मुद्दा बनाया गया। चर्चों में किसी की चोरी को अल्पसंख्यकों को डराने की बात से जोड़ा गया। जॉन दयाल जैसे चिरकुट चिल्लाते रहे हर रोज़, रवीश कुमार उमर खालिदों और कन्हैया जैसे टुचपुँजिया नेताओं को प्राइमटाइम और फ़ेसबुक वॉल पर जगह देते रहे। डर का माहौल बनाया जाता रहा, ये कहकर कि डर का माहौल है। ये इतनी बार कहा गया, कि जो अपने बग़ल के गाँव में ईदगाह तक जाता था, वो अपने गाँव में मजहब विशेष वालों को दुर्गा पूजा के मेले में शक की निगाह से देखने लगा।

ये कौन सा तंत्र है? ये आपको नहीं दिख रहा क्या? ये कौन लोग हैं, जो केरल की डेंटल हॉस्पिटल की दलित छात्राओं की ख़ुदकुशी पर एक शब्द नहीं बोलते क्योंकि चुनाव हो चुके थे, लेकिन वेमुला की मूर्ति लगाकर ‘जय भीम’ करते नज़र आते हैं? ये कौन लोग हैं जो उमर ख़ालिद का चेहरा पहने हर वैसी जगह पर होते हैं जहाँ या तो इनके आने से पहले हिंसा होती है, या इनके जाने के बाद? क्या आप इन चेहरों को हर गौरी लंकेश की शोक सभा में नहीं पाते, या हर उस हिंसा में नहीं जहाँ मरने वाले को समुदाय विशेष और दलित के विशेषणों की चादर ओढ़ा दी जाती है?

क्या ये सब 2014 के बाद अकस्मात् घटित हो रहे हैं कि जाट, चारण, राजपूत, चमार, यादव, मुस्लिम, म्हार, पटेल, पटीदार, गुर्जर और पता नहीं कौन-कौन लगातार दंगाई होते जा रहे हैं? क्या ये अकस्मात् है कि हर फ़िल्म को किसी जाति की अस्मिता से जोड़कर हिंसा और आगज़नी की जा रही है? क्या ये कहीं उबल रहा था, या ये उफ़ान तात्कालिक है क्योंकि किसी के बाकी के सारे हथकंडे नाकाम हो रहे हैं?

नैरेटिव बनाने की कला इनके हाथों से बाहर जा चुकी है। दो-चार आवाज़ें हैं क्योंकि उनके मालिकों की जेब की तह मोटी है, और उन्हें आशा है कि पार्टी सत्ता में आएगी, या उनके कुछ साक्ष्य कहीं किसी दराज़ में क़ैद हैं। बाक़ियों में से आधे ने तो चुनावी जीत के बाद ही अपनी प्रवक्ता-वादी सोच चैनलों के कार्यक्रमों के ज़रिये दिखा दी थी, और बचे हुए आधे ने शुरु में गाली-घृणा और अजेंडाबाज़ी करके अपने दुकान का नुकसान करके अब अपनी आवाज़ सत्ता की तरफ कर ली है।

नैरेटिव तय करने वालों के पास हमेशा से माध्यमों पर क़ब्ज़ा रहा है। वो हमेशा से एकतरफ़ा प्रवचन देकर देश का अजेंडा तय करते थे। टीवी, अख़बार, इंटरनेट संस्करणों के कॉलम जैसे प्लेटफ़ॉर्म को इन्होंने निचोड़ा है, और प्रवचन की तरह ‘एक बार कह दिया तो कह दिया’ टाइप भुनाया है। इनको कभी भी दूसरे तरफ़ से सीधी प्रतिक्रिया मिली ही नहीं। कभी भी इनके टीवी डिबेट पर आम आदमी ने हमला नहीं किया था, कभी भी इनके अख़बार के कॉलम पर पब्लिकली पब्लिश होने वाले पत्रों में वो पत्र नहीं आते थे जिसमें घोर असहमति थी।

जो सचिन और लता के स्नैपचैट विडियो, रोस्ट के नाम पर घटिया दर्जे की गाली-गलौज का कार्यक्रम से लेकर ‘भारत तेरे टुकड़े होंगे’ और ‘वंदे मातरम्’ क्यों गाएँ पर फ़ंडामेंटल राइट और ‘डिस्सेंट’ की बात कहते रहते थे, वो आज गाली सुनने पर बिलबिला रहे हैं कि माहौल खराब हो रहा है।

माहौल अगर ‘भारत तेरे टुकड़े होंगे’ और प्रशांत पुजारी जैसे अनगिनत हिन्दू/संघ प्रचारकों के साथ बाईस रिपोर्टरों की हत्या पर ख़राब और असुरक्षित नहीं हो रहा, तो माहौल इस गाली-गलौज से भी ख़राब नहीं होगा। एक वृहद् समाज में जहाँ हर तरह के लोग हैं, छिटपुट घटनाएँ हमेशा हुई हैं, दोनों तरफ से हुई हैं। लेकिन कभी भी वहाँ उमर ख़ालिद और मेवानी जैसे दोमुँहे लोगों की भीड़ नहीं उतरती थी। वहाँ कभी भी नेताओं की लाश वाली पिकनिक और सेलेक्टिव आउटरेज़ या साइलेंस नहीं दिखती थी। ये ख़बरें या तो हर किसी को आहत करती थीं, या किसी को पता नहीं चलता था।

आज आलम ये है कि हर मौत में एक आइडेंटिटी तलाश ली जाती है। मरने वाला आईटी कर्मचारी ‘युवक’ नहीं ‘मुस्लिम टेकी’ हो जाता है। बतकही से हुआ विवाद मीडिया में गोमांस बनकर डिबेट का हिस्सा हो जाता है। जातिगत आरक्षण से हो रहे प्रतिभा पलायन और भीतर तक उबाल लिए बैठे लोगों को फिर से ऐसे आंदोलनों के कारण बोलने का अवसर दिया जाता है जिनकी आवाज़ में विद्वेष के सिवा और कुछ नहीं। किसी की मौत पर शोकसभा के लिए तमाम लॉबी प्रेसक्लब पहुँचती है और ट्वीट-स्टॉर्म उठाती है, और वैसी ही बाईस और मौतों पर एक अदद ट्वीट भी नहीं।

फिर भी आपको लगता है कि ये सब खुद ही हो रहा है और इसके पीछे कभी व्यवस्था काम नहीं कर रही तो आप निरे भोले हैं। आपको लगता है कि अचानक से देश में भय का माहौल आ गया है, जहाँ हर तीसरे दिन कोई जाति किसी और से भिड़ जाती है, तो आपको कई बातें सोचनी चाहिए। आपको दिखता है कि आपका मुस्लिम या दलित मित्र 2014 के बाद हर कही-अनकही सरकारी पॉलिसी के माध्यम से सताया जा रहा है, तो आपको दिमाग का इलाज करा लेना चाहिए।

तेरह दिन से तेरह महीने, फिर पाँच साल और शून्य से सात, सात से सत्रह, और उन्नीस तक पहुँचने वाली सरकार की बातों में कुछ तो है जिससे लगातार उसे सफलता मिल रही है। या तो आपका पक्ष इतना कमज़ोर है कि आपकी बात जनता को समझ में नहीं आती, या आपका सच जनता को पता चल गया है, या फिर उन्हें मोदी और भाजपा में ही संभावना दिख रही है। ईवीएम वाला राग तो अलापना बंद ही कर दीजिए क्योंकि जब बुलाया गया तो आपको मशीन घर ले जाना था।

आँखें खोलिए और देखिए कि इन जगहों पर कौन लोग हैं जो हर इंटरसेक्शन में पाए जाते हैं। उन्हें तलाशिए जो हत्या के बाद ही तय कर देते हैं कि गुनहगार कौन है, और फ़ैसला आने या उसके बीच की प्रक्रिया में उलटा परिणाम आने पर शायरी लिखने लगते हैं। आप खोजिए तो सही कि क्या ये लोग सच में दलितों और मुस्लिमों के हिमायती हैं या फिर दंगे भड़काकर विधानसभा और लोकसभा में या तो पहुँचना चाहते हैं, या किसी की मदद कर रहे हैं। बहुत कुछ साफ़ हो जाएगा। क्लीन चिट तो किसी पार्टी या व्यक्ति को नहीं दिया जा सकता, लेकिन इनके हिस्से का काग़ज़ उतना भी सफ़ेद नहीं है, जितना चिल्लाकर बताया जाता रहा है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारतीhttp://www.ajeetbharti.com
सम्पादक (ऑपइंडिया) | लेखक (बकर पुराण, घर वापसी, There Will Be No Love)

 

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जय श्री राम के उद्घोष से भड़कीं ममता बनर्जी, PM मोदी से कहा- बुलाकर बेइज्जती करना ठीक नहीं

जैसे ही ममता बनर्जी मंच पर भाषण देने पहुँचीं बीजेपी कार्यकर्ता तुरंत जय श्री राम और भारत माता की जय के नारे लगाने लगे, जिससे वो खफा हो गईं।

ये पल भावुक करने वाला, नेताजी के नाम से मिलती है नई ऊर्जा: जानिए PM मोदी ने ‘पराक्रम दिवस’ पर क्या कहा

“मैं नेता जी की 125वीं जयंती पर कृतज्ञ राष्ट्र की ओर से उन्हें नमन करता हूँ। मैं आज बालक सुभाष को नेताजी बनाने वाली, उनके जीवन को तप, त्याग और तितिक्षा से गढ़ने वाली बंगाल की इस पुण्यभूमि को भी नमन करता हूँ।”

पुलिस को बदनाम करने के लिए रची गई थी साजिश, किसान नेताओं ने दी थी हत्या की धमकी: योगेश सिंह का खुलासा

साथ ही उन्होंने उसे बुरी तरह धमकाया कि अगर उसने उनका कहा नहीं माना तो उसे गंभीर परिणाम भुगतने पड़ेंगे। उसकी पिटाई की गई। ट्रॉली से उलटा लटका कर उसे मारा गया।

मुनव्वर फारूकी ने कोई ‘जोक क्रैक’ नहीं किया तो जैनब सच-सच बतलाना कमलेश तिवारी क्यों रेता गया

कितनी विचित्र विडंबना है, धार्मिक भावनाएँ आहत होती हैं और उनका विरोध होता है तो साम्प्रदायिकता! लेकिन मज़हबी जज़्बात आहत होते हैं तो...।

‘किसान’ नेताओं के मर्डर की कहानी को दमदार बनाने के लिए ‘नकाबपोश’ योगेश के मोबाइल में डाली 4 तस्वीरें

जिस नकाबपोश को शूटर बता किसान नेताओं ने देर रात मीडिया के सामने पेश किया था उसने चौंकाने वाले खुलासे किए हैं।

सेना राष्ट्रवादी क्यों, सरकार से लड़ती क्यों नहीं: AAP वाले रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल ने ‘द प्रिंट’ में छोड़ा नया शिगूफा

लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) HS पनाग पनाग चाहते हैं कि सेना को लेकर जम कर राजनीति हो, उसे बदनाम किया जाए, दुष्प्रचार हो, लेकिन सेना को इसका जवाब देने का हक़ नहीं हो क्योंकि ये राजनीतिक हो जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

नकाब हटा तो ‘शूटर’ ने खोले राज, बताया- किसान नेताओं ने टॉर्चर किया, फिर हत्या वाली बात कहवाई: देखें Video

"मेरी पिटाई की गई। मेरी पैंट उतार कर मुझे पीटा गया। उलटा लटका कर मारा गया। उन्होंने दबाव बनाया कि मुझे उनका कहा बोलना पड़ेगा। मैंने हामी भर दी।"

मटन-चिकेन-मछली वाली थाली 1 घंटे में खाइए, FREE में ₹1.65 लाख की बुलेट ले जाइए: पुणे के होटल का शानदार ऑफर

पुणे के शिवराज होटल ने 'विन अ बुलेट बाइक' नामक प्रतियोगिता के जरिए निकाला ऑफर। 4 Kg की थाली को ख़त्म कीजिए और बुलेट बाइक घर लेकर जाइए।

‘नकाब के पीछे योगेंद्र यादव’: किसान नेताओं को ‘शूट करने’ आए नकाबपोश की कहानी में लोचा कई

किसान नेताओं ने एक नकाबपोश को मीडिया के सामने पेश किया, जिसने दावा किया कि उसे किसान नेताओं को गोली मारने के लिए रुपए मिले थे।

मदरसा सील करने पहुँची महिला तहसीलदार, काजी ने कहा- शहर का माहौल बिगड़ने में देर नहीं लगेगी, देखें वीडियो

महिला तहसीलदार बार-बार वहाँ मौजूद मुस्लिम लोगों को मामले में कलेक्टर से बात करने के लिए कह रही है। इसके बावजूद लोग उसकी बात को दरकिनार करते हुए उसे धमकाते हुए नजर आ रहे हैं।

‘कोहली के बिना इनका क्या होगा… ऑस्ट्रेलिया 4-0 से जीतेगा’: 5 बड़बोले, जिनकी आश्विन ने लगाई क्लास

अब जब भारत ने ऑस्ट्रेलिया में जाकर ही ऑस्ट्रेलिया को धूल चटा दिया है, आइए हम 5 बड़बोलों की बात करते हैं। आश्विन ने इन सबकी क्लास ली है।

शाहजहाँ: जिसने अपनी हवस के लिए बेटी का नहीं होने दिया निकाह, वामपंथियों ने बना दिया ‘महान’

असलियत में मुगल इस देश में धर्मान्तरण, लूट-खसोट और अय्याशी ही करते रहे परन्तु नेहरू के आदेश पर हमारे इतिहासकारों नें इन्हें जबरदस्ती महान बनाया और ये सब हुआ झूठी धर्मनिरपेक्षता के नाम पर।
- विज्ञापन -

 

अमित शाह ने किया ‘आयुष्मान CAPF’ का शुभारंभ: 28 लाख से अधिक जवान देश में कहीं भी करा पाएँगे इलाज

आयुष्मान CAPF योजना के तहत CAPF के लगभग 10 लाख जवान और अधिकारी और 50 लाख के आसपास उनके परिवार और परिजन देश के अंदर 24 हज़ार अस्पतालों में सिर्फ कार्ड लेकर उसे स्वैप करके इलाज करा सकते हैं।

बहन को फुफेरे भाई कासिम से था इश्क, निक़ाह के एक दिन पहले बड़े भाई फिरोज ने की हत्या: अश्लील फोटो बनी वजह

इस्लामुद्दीन की 19 वर्षीय बेटी फिरदौस के निक़ाह की तैयारियों में पूरा परिवार जुटा हुआ था। तभी शनिवार की सुबह घर में टूथपेस्ट कर रही फिरदौस को अचानक उसके बड़े भाई फिरोज ने तमंचे से गोली मार दी।

योगेंद्र यादव का दावा- गणतंत्र दिवस के दिन ट्रैक्टर रैली की मिली अनुमति, दिल्ली पुलिस ने किया इनकार

“बैरिकेड्स हटाए जाएँगे और हम दिल्ली में प्रवेश करेंगे। किसानों के ट्रैक्टर परेड से गणतंत्र दिवस के परेड या सुरक्षा इंतजाम पर किसी तरह का कोई असर नहीं पड़ेगा। किसानों का ट्रैक्टर परेड ऐतिहासिक होगा।”

कॉन्ग्रेस ने योगी सरकार को घेरने के लिए शेयर किया महिला का वीडियो, यूपी पुलिस पर लगाए झूठे आरोप: जानें क्या है सच

जिस भ्रामक दावे के साथ कॉन्ग्रेस पार्टी ने उत्तरप्रदेश सरकार को बदनाम करने के लिए चित्रित करने का प्रयास किया वह असल में उनकी सोच के बिल्कुल विपरीत निकला।

मदरसा सील करने पहुँची महिला तहसीलदार, काजी ने कहा- शहर का माहौल बिगड़ने में देर नहीं लगेगी, देखें वीडियो

महिला तहसीलदार बार-बार वहाँ मौजूद मुस्लिम लोगों को मामले में कलेक्टर से बात करने के लिए कह रही है। इसके बावजूद लोग उसकी बात को दरकिनार करते हुए उसे धमकाते हुए नजर आ रहे हैं।

गणतंत्र दिवस के पहले नोएडा, गाजियाबाद सहित इन 6 जगहों पर बम रखे जाने की अफवाह: यूपी पुलिस अलर्ट

गणतंत्र दिवस से पहले उत्तर प्रदेश में भय और आतंक का माहौल है। उत्तर प्रदेश के नोएडा, गाजियाबाद, कानपुर और इलाहाबाद में इस सप्ताह 6 फर्जी बम रखे जाने की अफवाह के बाद पुलिस सतर्क हो गई है।

किसानों के समर्थन में कॉन्ग्रेस का राजभवन मार्च: दिग्विजय समेत 20 नेता गिरफ्तार, उत्तराखंड में भी हाथापाई पर उतरे कॉन्ग्रेसी

देहरादून में भी कृषि विरोधी प्रदर्शनकारियों ने राजभवन पहुँचने के लिए पुलिस बैरिकेट्स तोड़ने की कोशिश की। जब पुलिस ने उन्हें रोकने की कोशिश की तो प्रदर्शनकारी पुलिस अधिकारियों के साथ हाथापाई पर उतर गए।

जय श्री राम के उद्घोष से भड़कीं ममता बनर्जी, PM मोदी से कहा- बुलाकर बेइज्जती करना ठीक नहीं

जैसे ही ममता बनर्जी मंच पर भाषण देने पहुँचीं बीजेपी कार्यकर्ता तुरंत जय श्री राम और भारत माता की जय के नारे लगाने लगे, जिससे वो खफा हो गईं।

ये पल भावुक करने वाला, नेताजी के नाम से मिलती है नई ऊर्जा: जानिए PM मोदी ने ‘पराक्रम दिवस’ पर क्या कहा

“मैं नेता जी की 125वीं जयंती पर कृतज्ञ राष्ट्र की ओर से उन्हें नमन करता हूँ। मैं आज बालक सुभाष को नेताजी बनाने वाली, उनके जीवन को तप, त्याग और तितिक्षा से गढ़ने वाली बंगाल की इस पुण्यभूमि को भी नमन करता हूँ।”

पुलिस को बदनाम करने के लिए रची गई थी साजिश, किसान नेताओं ने दी थी हत्या की धमकी: योगेश सिंह का खुलासा

साथ ही उन्होंने उसे बुरी तरह धमकाया कि अगर उसने उनका कहा नहीं माना तो उसे गंभीर परिणाम भुगतने पड़ेंगे। उसकी पिटाई की गई। ट्रॉली से उलटा लटका कर उसे मारा गया।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
385,000SubscribersSubscribe