Tuesday, October 27, 2020
Home विचार सामाजिक मुद्दे उत्तराखंड की यूनिवर्सिटी में धरना: छात्र अभी भी पढ़ रहे शीत युद्ध, रूस उनके...

उत्तराखंड की यूनिवर्सिटी में धरना: छात्र अभी भी पढ़ रहे शीत युद्ध, रूस उनके लिए है महाशक्ति

इस बार उत्तराखंड के ही रमेश पोखरियाल निशंक केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय का पदभार संभाल रहे हैं, क्या वो इस किताब क्रांति को आधार बनाकर सारे उत्तराखंड के लिए कोई ऐसा ठोस कदम उठा सकते हैं कि आने वाली पीढ़ियों के शब्दकोश में 'पहाड़ यानी अभाव' जैसे जुमले गायब हो सकें?

"और हम लड़ेंगे साथी
हम लड़ेंगे
कि लड़े बग़ैर कुछ नहीं मिलता
हम लड़ेंगे
कि अब तक लड़े क्यों नहीं
हम लड़ेंगे
अपनी सज़ा कबूलने के लिए
लड़ते हुए जो मर गए
उनकी याद ज़िन्दा रखने के लिए
हम लड़ेंगे"

ये पंक्तियाँ क्रांति के कवि कहे जाने वाले मशहूर कवि अवतार सिंह संधू “पाश” की लिखी हुई हैं। उत्तराखंड के एक विश्वविद्यालय में धरने पर बैठे छात्रों की माँगों को देखकर पाश को याद करना जरूरी है। हमने आज तक पानी, जमीन, रोजगार आदि-आदि के लिए लोगों को संघर्ष करते सुना और देखा है। लेकिन, आन्दोलनों और शहादतों से बने इस उत्तराखंड राज्य के ये छात्र जिसकी माँग कर रहे हैं, वह ‘किताब क्रांति‘ है।

उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले में स्थित एक यूनिवर्सिटी के छात्र पिछले 22 दिनों से लगातार धरना प्रदर्शन कर रहे हैं। सरकार शिक्षा के नाम पर बजट में बात कर रही है। ऐसे में यह भी स्पष्ट होता है कि भारत देश में घोषणाओं और हक़ीक़त के बीच कितना बड़ा फासला है। ख़ास बात यह है कि यह आंदोलन ऐसे समय में जन्म ले रहा है, जब उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की प्राथमिकता उत्तराखंड को ‘वेडिंग डेस्टिनेशन’ बनाने की है।

यह भी सच्चाई है कि संसाधन विहीनता उत्तराखंड का पर्याय है। लेकिन कहीं ऐसा तो नहीं है कि यह संसाधन विहीनता उत्तराखंड के नेताओं और प्रशासन के लिए एक ढाल और आसान विकल्प तैयार करने लगी हो!

शिवम पांडे पीएचडी की तैयारी कर रहे हैं। रिपोर्ट्स के अनुसार, शिवम पांडे बताते हैं –

“उत्तराखंड के पिथौरागढ़ स्थित लक्ष्मण सिंह महर राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय में पिछले 22 दिनों से कॉलेज के छात्र धरने पर बैठे हुए हैं। 17 जून से धरने पर बैठे प्रदर्शनकारी छात्र गाँधीवादी तरीके से पढ़ने के लिए पुस्तकें और पढ़ाने के लिए पर्याप्त टीचरों की माँग कर रहे हैं। कुमायूँ विश्वविद्यालय के इस दूसरे सबसे बड़े कॉलेज की लाइब्रेरी में नई पुस्तकों के साथ पर्याप्त शिक्षको की कमी है। वर्तमान में यहाँ पर छात्र 90 के दशक की पुस्तकों को पढ़ने के लिए मजबूर हैं, तो वहीं शिक्षको की कमी से भी जूझ रहे हैं।”

वहीं, धरने पर बैठे राजनीति विज्ञान के छात्र मोहित का कहना है –

“हमारे पास पर्याप्त किताबें नही हैं। हमें एक या दो ही पुस्तकें मिल पाती हैं। इस बार हमें जो अंतरराष्ट्रीय राजनीति की पुस्तक मिली है, उसमें शीत युद्ध अपने चरम पर है। सोवियत संघ का विघटन हुआ ही नहीं है और बर्लिन की दीवार अभी गिरी नही है। मैं पिछले 3-4 साल से इसी स्थिति में पढ़ता आ रहा हूँ। मैं इस आंदोलन में इसलिए बैठा हूँ कि मेरा आने वाला भविष्य खराब न हो।”

पिछले 22 दिनों से पिथौरागढ़ महाविद्यालय के छात्र पुस्तकों और शिक्षकों के लिए सड़क पर हैं। पोस्टर और बैनरों की मदद से आम लोगों तक अपनी बातें पहुँचाने की कोशिश कर रहे हैं। आम लोगों के जेहन में ये बात पहुँचाने की कोशिश की जा रही है कि एक आवाज बनकर ही बदलाव लाया जा सकता है।

कुछ दिन पहले इन छात्रों ने एक मौन आन्दोलन शुरू किया, एक बैनर पर एक नारा था, “उम्मीद है, इसलिए चुप हैं।” इस उम्मीद का ये बाईसवाँ दिन है। विश्वविद्यालय के से लेकर सरकारी तंत्र भी इस विषय पर मौन है। छात्रों के साथ-साथ अब अभिभावक भी इस आंदोलन का हिस्सा बन चुके हैं।

इसी विश्वविद्यालय की एक छात्रा का कहना है कि यह कॉलेज कुमायूँ यूनिवर्सिटी का दूसरे नम्बर का सबसे बड़ा कॉलेज है। यहाँ पुस्तकों के अलावा शिक्षको की भी भारी कमी है। 40 से भी कम शिक्षक हैं जिससे न तो सही ढंग से क्लास लग पा रही हैं और न ही कोर्स कम्प्लीट हो पा रहे हैं। कई-कई विभाग तो ऐसे हैं, जिसमें एक या दो टीचर पूरे डिपार्टमेंट को संभाले हुए हैं। पुस्तकालय की हालत ऐसी है कि वहाँ पर 3 साल हो गए सेमेस्टर सिस्टम को लगे हुए लेकिन अभी तक सेमेस्टर सिस्टम की किताबें नहीं आई हैं।

छात्रों का कहना है कि वो अभी 90 के दशक की पुस्तकें पढ़ रहे हैं जो अधूरी हैं। कॉलेज में प्रयोगशाला की हालत इतनी खराब है कि विज्ञान जैसे विषय भी किताबी ज्ञान पर चल रहे हैं और अधिकतर छात्र-छात्राओं को किताबें भी उपलब्ध नहीं हो पातीं।

उत्तराखंड की शिक्षा व्यवस्था यूँ तो हमेशा से ही बदहाल रही है और इसके लिए जिम्मेदार यहाँ की भौगौलिक स्थिति को ठहराया जाता है, लेकिन सच्चाई यह है कि यह लगातार बनी हुई बदहाली सिर्फ और सिर्फ नकारा शासन और प्रशासन की कमजोर इच्छाशक्ति का नतीजा है। उत्तराखंड में यह एकमात्र ऐसी यूनिवर्सिटी नहीं है जो संसाधन विहीन है और जिसमें सुधार की आवश्यकता है, बल्कि लगभग हर दूसरे शिक्षा के केंद्र का यही हाल है।

बात चाहे प्राथमिक विद्यालय की हो, या फिर विश्वविद्यालय की हो, कमजोर इच्छाशक्ति के लोग और शासन की प्राथमिकताओं के कारण उत्तराखंड के छात्रों की कई पीढ़ियाँ इसका परिणाम भुगत चुकी हैं और पिथौरागढ़ में चल रहा यह आंदोलन इस बात का सबूत है कि आगामी भविष्य भी अन्धकार में ही कटने वाला है। इस सबके बीच यह सबसे ज्यादा हैरान करने वाली बात है कि उत्तराखंड राज्य लगातार 2 लोकसभा चुनाव में 5 की 5 लोकसभा सीटें भाजपा के नाम करता आया है।

“ना किताब हैं, ना मास्साब हैं, तो फिर क्या हैं?” स्थानीय कुमाउँनी बोली में लिखा गया एक पोस्टर
“हम लड़ते आए हैं जवानों, हम लड़ते रहेंगे”

इस बार उत्तराखंड के ही रमेश पोखरियाल निशंक केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय का पदभार संभाल रहे हैं, क्या वो इस किताब क्रांति को आधार बनाकर सारे उत्तराखंड के लिए कोई ऐसा ठोस कदम उठा सकते हैं कि आने वाली पीढ़ियों के शब्दकोश में ‘पहाड़ यानी अभाव’ जैसे जुमले गायब हो सकें?

फिलहाल, यह आंदोलन जारी है और छात्र अपने शिक्षक-पुस्तक की माँग पर डटकर खड़े हैं। देखना यह है कि शासन-प्रशासन मिलकर उत्तराखंड राज्य के इस विश्वविद्यालय के साथ-साथ पूरे राज्य की शिक्षा व्यवस्था के लिए क्या प्रयास कर सकते हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

आशीष नौटियाल
पहाड़ी By Birth, PUN-डित By choice

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

एकतरफा प्यार में मेवात के तौफीक ने निकिता तोमर को गोलियों से भूना, लेफ्टिनेंट बन करना चाहती थी देश सेवा

तौफीक ने छात्रा पर कई बार दोस्ती के लिए दबाव भी बनाया था। दोस्ती से इनकार किए जाने के कारण उसने 2018 में एक बार निकिता का अपहरण भी कर लिया था।

दाढ़ी कटाना इस्लाम विरोधी.. नौकरी छोड़ देते, शरीयत में ये गुनाह है: SI इंतसार अली को देवबंदी उलेमा ने दिया ज्ञान

दारुल उलूम देवबंद के उलेमा का कहना है कि दरोगा को दाढ़ी नहीं कटवानी चाहिए थी चाहे तो वह नौकरी छोड़ देते। शरीयत के हिसाब से उन्होंने बहुत बड़ा जुर्म किया है।

मुस्लिमों को BJP का डर भी दिखाया, ‘जात’ देख कर आरोपित को भी बचाया: लालू यादव का MY समीकरण

उन्हें जम कर भाजपा का डर दिखाया। इससे वो मुस्लिमों के मसीहा भी बने रहे और यादवों का वोट भी उन्हें मिलता रहा। इस तरह उन्होंने MY समीकरण बना कर राज किया।

15000 स्क्वायर किलोमीटर जंगल भी बढ़े और आदिवासी तरक्की के रास्ते में विकास के पार्टनर भी: प्रकाश जावड़ेकर

"बदलाव हम हर साल एफलिएशन में करते हैं। वो 1100 शिक्षक के सुझाव पर आधारित हैं। वो इतने सार्थक हैं कि 900 पेज का बदलाव हुआ, लेकिन..."

‘बिहार में LJP वोटकटुआ का काम करेगी, इससे परिणाम पर कोई असर नहीं पड़ेगा’- प्रकाश जावड़ेकर

"बिहार में भाजपा समर्थक सवाल उठा रहे कि वहाँ पर भाजपा अकेले चुनाव क्यों नहीं लड़ती? क्या इस मुद्दे पर केंद्रीय नेतृत्व में बातचीत होती है?"

‘OTT प्लेटफॉर्म सेल्फ-रेग्युलेशन की अच्छी व्यवस्था करे, फेक न्यूज पर PIB अच्छा कर रही है’ – प्रकाश जावड़ेकर

“इसके अच्छे और बुरे दोनों तरह के नतीजे आ रहे हैं। इसलिए हमने OTT प्लेटफॉर्म को कहा है कि वो सेल्फ-रेग्युलेशन की अच्छी व्यवस्था करें।"

प्रचलित ख़बरें

IAS अधिकारी ने जबरन हवन करवाकर पंडितों को पढ़ाया ‘समानता का पाठ’, लोगों ने पूछा- मस्जिद में मौलवियों को भी ज्ञान देंगी?

क्या पंडितों को 'समानता का पाठ' पढ़ाने वाले IAS अधिकारी मौलवियों को ये पाठ पढ़ाएँगे? चर्चों में जाकर पादिरयों द्वारा यौन शोषण की आई कई खबरों का जिक्र करते हुए ज्ञान देंगे?

मदद की अपील अक्टूबर में, नाम लिख लिया था सितम्बर में: लोगों ने पूछा- सोनू सूद अंतर्यामी हैं क्या?

"मदद की गुहार लगाए जाने से 1 महीने पहले ही सोनू सूद ने मरीज के नाम की एक्सेल शीट तैयार कर ली थी, क्या वो अंतर्यामी हैं?" - जानिए क्या है माजरा।

जब रावण ने पत्थर पर लिटा कर अपनी बहू का ही बलात्कार किया… वो श्राप जो हमेशा उसके साथ रहा

जानिए वाल्मीकि रामायण की उस कहानी के बारे में, जो 'रावण ने सीता को छुआ तक नहीं' वाले नैरेटिव को ध्वस्त करती है। रावण विद्वान था, संगीत का ज्ञानी था और शिवभक्त था। लेकिन, उसने स्त्रियों को कभी सम्मान नहीं दिया और उन्हें उपभोग की वस्तु समझा।

नवरात्र में ‘हिंदू देवी’ की गोद में शराब और हाथ में गाँजा, फोटोग्राफर डिया जॉन ने कहा – ‘महिला आजादी दिखाना था मकसद’

“महिलाओं को देवी माना जाता है लेकिन उनके साथ किस तरह का व्यवहार किया जाता है? उनके व्यक्तित्व को निर्वस्त्र किया जाता है।"

एक ही रात में 3 अलग-अलग जगह लड़कियों के साथ छेड़छाड़ करने वाला लालू का 2 बेटा: अब मिलेगी बिहार की गद्दी?

आज से लगभग 13 साल पहले ऐसा समय भी आया था, जब राजद सुप्रीमो लालू यादव के दोनों बेटों तेज प्रताप और तेजस्वी यादव पर छेड़खानी के आरोप लगे थे।

हमसे सवाल करने वालों के मुँह गोमूत्र-गोबर से भरे हैं: हिन्दू घृणा से भरे तंज के सहारे उद्धव ठाकरे ने साधा भाजपा पर निशाना

"जो लोग हमारी सरकार पर सवाल उठाते हैं, उनके मुँह गोमूत्र-गोबर से भरे हुए हैं। ये वो लोग हैं जिनके खुद के कपड़े गोमूत्र व गोबर से लिपटे हैं।"
- विज्ञापन -

एकतरफा प्यार में मेवात के तौफीक ने निकिता तोमर को गोलियों से भूना, लेफ्टिनेंट बन करना चाहती थी देश सेवा

तौफीक ने छात्रा पर कई बार दोस्ती के लिए दबाव भी बनाया था। दोस्ती से इनकार किए जाने के कारण उसने 2018 में एक बार निकिता का अपहरण भी कर लिया था।

दाढ़ी कटाना इस्लाम विरोधी.. नौकरी छोड़ देते, शरीयत में ये गुनाह है: SI इंतसार अली को देवबंदी उलेमा ने दिया ज्ञान

दारुल उलूम देवबंद के उलेमा का कहना है कि दरोगा को दाढ़ी नहीं कटवानी चाहिए थी चाहे तो वह नौकरी छोड़ देते। शरीयत के हिसाब से उन्होंने बहुत बड़ा जुर्म किया है।

मुस्लिमों को BJP का डर भी दिखाया, ‘जात’ देख कर आरोपित को भी बचाया: लालू यादव का MY समीकरण

उन्हें जम कर भाजपा का डर दिखाया। इससे वो मुस्लिमों के मसीहा भी बने रहे और यादवों का वोट भी उन्हें मिलता रहा। इस तरह उन्होंने MY समीकरण बना कर राज किया।

15000 स्क्वायर किलोमीटर जंगल भी बढ़े और आदिवासी तरक्की के रास्ते में विकास के पार्टनर भी: प्रकाश जावड़ेकर

"बदलाव हम हर साल एफलिएशन में करते हैं। वो 1100 शिक्षक के सुझाव पर आधारित हैं। वो इतने सार्थक हैं कि 900 पेज का बदलाव हुआ, लेकिन..."

पैगंबर मुहम्मद के कार्टूनों का सार्वजानिक प्रदर्शन, फ्रांस के एम्बेसेडर को पाकिस्तान ने भेजा समन

पाकिस्तानी विदेश मंत्री ने इस मुद्दे पर कहा कि फ्रांस के राष्ट्रपति का बयान बेहद गैर ज़िम्मेदाराना था और ऐसे बयान से सिर्फ आग को हवा मिलेगी।

राहुल बन नाबालिग लड़की से की दोस्ती, रेप के बाद बताया – ‘मैं साजिद हूँ, शादी करनी है तो धर्म बदलो’

आरोपित ने खुद ही पीड़िता को बताया कि उसका नाम राहुल नहीं बल्कि साजिद है। साजिद ने पीड़िता से यह भी कहा कि अगर शादी करनी है तो...

‘बिहार में LJP वोटकटुआ का काम करेगी, इससे परिणाम पर कोई असर नहीं पड़ेगा’- प्रकाश जावड़ेकर

"बिहार में भाजपा समर्थक सवाल उठा रहे कि वहाँ पर भाजपा अकेले चुनाव क्यों नहीं लड़ती? क्या इस मुद्दे पर केंद्रीय नेतृत्व में बातचीत होती है?"

ताजमहल में फहराया भगवा झंडा, गंगा जल छिड़क कर किया शिव चालीसा का पाठ

ताजमहल परिसर में दाखिल होते ही उन्होंने वहाँ पर गंगा जल का छिड़काव किया और भगवा झंडा फहराया। शिव चालीसा का पाठ भी किया गया।

24 घंटे में रिपब्लिक TV के दिल्ली-नोएडा के पत्रकारों को मुंबई के पुलिस थाने में हाजिर होने का आदेश

अर्नब गोस्वामी ने मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह और महाराष्ट्र की उद्धव सरकार की आलोचना करते हुए कहा कि नाइंसाफी की इस लड़ाई में...

‘OTT प्लेटफॉर्म सेल्फ-रेग्युलेशन की अच्छी व्यवस्था करे, फेक न्यूज पर PIB अच्छा कर रही है’ – प्रकाश जावड़ेकर

“इसके अच्छे और बुरे दोनों तरह के नतीजे आ रहे हैं। इसलिए हमने OTT प्लेटफॉर्म को कहा है कि वो सेल्फ-रेग्युलेशन की अच्छी व्यवस्था करें।"

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
79,308FollowersFollow
338,000SubscribersSubscribe