Saturday, July 20, 2024
Homeराजनीति'मेरे दिए ₹6.85 करोड़ से AAP ने न्यूयॉर्क टाइम्स में खबर छपवाई': जेल में...

‘मेरे दिए ₹6.85 करोड़ से AAP ने न्यूयॉर्क टाइम्स में खबर छपवाई’: जेल में बंद ठग सुकेश ने CM केजरीवाल पर फिर लगाया आरोप, कहा- पॉलीग्राफ टेस्ट करवा लो

अपनी पहली चिट्ठी में सुकेश ने आरोप लगाया था कि सत्येंद्र जैन ने उसे पैसे लगातार देते रहने का दबाव बनाया था। इसके कारण उसे 2-3 महीने 10 करोड़ रुपए देने पड़े थे। इतना ही नहीं, उसने अपनी दूसरी चिट्ठी में आरोप लगाया था कि AAP और अरविंद केजरीवाल के खिलाफ बोलने के कारण उसे धमकियाँ मिल रही हैं।

दिल्ली के तिहाड़ जेल में बंद ठग सुकेश चंद्रशेखर (Sukesh Chandrashekhar) ने चिट्ठी लिखकर एक बार फिर आम आदमी पार्टी (AAP) के प्रमुख और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) पर गंभीर आरोप लगाए हैं। सुकेश का दावा है कि केजरीवाल ने पैसे देकर दिल्ली के ‘शिक्षा मॉडल’ वाली स्टोरी न्यूयॉर्क टाइम्स में छपवाई थी।

सुकेश ने कहा कि उसने जो भी आरोप AAP और अरविंद केजरीवाल पर लगाए हैं, वो सब सही हैं और इसके लिए वे पॉलीग्राफी टेस्ट कराने के लिए भी वो तैयार है। इसके साथ ही उसने सत्येंद्र जैन और अरविंद केजरीवाल का भी पॉलीग्राफी टेस्ट कराने की माँग की।

अपने चार पेज के लेटर में सुकेश ने कहा कि अमेरिकी मीडिया में दिल्ली के ‘स्कूल मॉडल’ की कहानी को छपवाने के लिए PR एजेंसी को 8.5 लाख अमरीकी डॉलर (6.85 करोड़ रुपए) और 15 प्रतिशत कमीशन दिया गया था। सुकेश ने कहा कि ये सब उसके द्वारा दिए गए पैसे से किया गया था।

बता दें कि अगस्त में ‘द न्यूयॉर्क टाइम्स’ ने AAP के नेतृत्व वाली दिल्ली सरकार के ‘शिक्षा मॉडल’ की सराहना करते हुए फ्रंट पेज पर रिपोर्ट प्रकाशित की थी। इसकी खूब आलोचना हुई थी और भाजपा ने इस लेख को ‘पेड प्रमोशन’ बताया था। हालाँकि, न्यूयॉर्क टाइम्स ने इस आरोप से इनकार किया था।

11 नवंबर 2022 को लिखे अपने पत्र में सुकेश ने अरविंद केजरीवाल और सत्येंद्र जैन के लिए करोड़ों रुपए की जैकब एंड कंपनी एस्ट्रेनोमिया की घड़ी खरीदने का भी आरोप लगाया है। सुकेश ने अपनी चिट्ठी में लिखा, “आपने उसका स्ट्रैप नीले रंग से काले रंग में बदलने के लिए मुझे कहा था। आपके ज्योतिषी ने आपको बताया था इस घड़ी के डायल में सभी प्लेनेट्स थे और सुबह उठकर आपको घड़ी पहनने को कहा था, लेकिन काले स्ट्रैप की। इसके लिए मैंने चार्टड प्लेन से दुबई से वो घड़ी का स्ट्रैप बदलवाया और उसी दिन आप तक पहुँचाया था।”

सत्येंद्र जैन को लेकर सुकेश ने लिखा, “सतेंद्र जैन जी आपको जानकारी थी कि मैंने केजरीवाल जी के लिए घड़ी का स्ट्रैप बदलने के लिए किसी को दुबई चार्टड प्लेन से भेजा है। इसके बाद आपने वॉट्सऐप पर मुझे पटेक फ्लिप और कार्टियर पेंथर वुमेन्स एडिशन की घड़ियाँ लाने को कहा था। आप दोनों को करोड़ों रुपए की घड़ियाँ गिफ्ट करने के बावजूद आप मुझे महाठग कहते हैं।”

सुकेश चंद्रशेखर ने पत्र में लिखा, “केजरीवाल ने ट्वीट करके मुझे महाठग बोला था। अगर मैं महाठग हूँ तो अपने मुझसे 50 करोड़ रुपए लेकर राज्यसभा की सीट क्यों ऑफर की? केजरीवाल जी, आपने 30 अन्य लोगों को लाने के लिए भी कहा, जो 500 करोड़ रुपए जुटाकर कर्नाटक और तमिलनाडु में AAP को मजबूत कर सकें। आपने सत्येंद्र जैन के साथ मिलकर मेरी डिनर पार्टी क्यों अटेंड की? वहीं पर आपके निर्देश पर 50 करोड़ रुपए की डील हुई और असोला के एक फार्म हाउस पर सत्येंद्र जैन और कैलाश गहलोत को दिए।”

गौरतलब है कि अपनी पहली चिट्ठी में सुकेश ने आरोप लगाया था कि सत्येंद्र जैन ने उसे पैसे लगातार देते रहने का दबाव बनाया था। इसके कारण उसे 2-3 महीने 10 करोड़ रुपए देने पड़े थे। इतना ही नहीं, उसने अपनी दूसरी चिट्ठी में आरोप लगाया था कि AAP और अरविंद केजरीवाल के खिलाफ बोलने के कारण उसे धमकियाँ मिल रही हैं। इसलिए उसकी जान को खतरा हो गया है। उसने दूसरी जेल में शिफ्ट करने की माँग की थी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -