Friday, February 26, 2021
Home राजनीति जिस नेता ने सबसे ज़्यादा जहरीली बयानबाजी की उसे ही बीजेपी के विरोध में...

जिस नेता ने सबसे ज़्यादा जहरीली बयानबाजी की उसे ही बीजेपी के विरोध में ‘अल्पसंख्यकों का मसीहा’ बनाने में जुटे ‘वामपंथी’ मीडिया संस्थान

सीमांचल में हासिल हुई ओवैसी की इस सफलता के बाद आगामी चुनावों को लेकर चर्चाओं अटकलों और समीकरणों का बाज़ार गर्म है। चुनावी पंडित, राजनीतिक पंडित और थिंक टैंक के अतिरिक्त देश के तमाम 'स्वघोषित प्रबुद्ध' वामपंथी मीडिया संस्थान आगामी चुनावों में ओवैसी की पार्टी के लिए राजनीतिक आयाम तलाशना शुरू कर चुके हैं।

असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम को बिहार विधानसभा चुनावों में 5 सीटें हासिल हुई हैं। एक क्षेत्रीय राजनीतिक दल (ध्रुवीकरण में कुशल) के लिए इतनी सीटें सियासत की ज़मीन पर आह्लादित होने के लिए पर्याप्त हैं। सीमांचल में हासिल हुई इस सफलता के बाद आगामी चुनावों को लेकर चर्चाओं अटकलों और समीकरणों का बाज़ार गर्म है। चुनावी पंडित, राजनीतिक पंडित और थिंक टैंक के अतिरिक्त देश के तमाम ‘स्वघोषित प्रबुद्ध’ वामपंथी मीडिया संस्थान आगामी चुनावों में ओवैसी की पार्टी के लिए राजनीतिक आयाम तलाशना शुरू कर चुके हैं। 

इस सूची में तमाम ऐसे मीडिया संस्थान हैं जिनके अनुसार ओवैसी अल्पसंख्यक समुदाय की आवाज़ बन सकते हैं। कहाँ और कैसे बन सकते हैं? इसका जवाब है, पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनाव में अच्छा प्रदर्शन करके बन सकते हैं, पूरा जवाब जानना हो तो क्विंट की यह रिपोर्ट पढ़िए जिसमें ओवैसी के हिस्से में बनने वाली हर संभावना की ढपली पीटी गई है। वो भी संभवतः सिर्फ इसलिए कि बीजेपी के विरोध का झंडा बुलंद रखना है।

भले चुनाव के बाद नतीजा ढाक के तीन पात रहे। लेकिन वामपंथी न्यूज़ प्रोपेगेंडा पोर्टल ‘द क्विंट’ ही नहीं बल्कि इन भिन्न-भिन्न मीडिया संस्थानों (द वीक, इंडियन एक्सप्रेस, स्क्रॉल, द प्रिंट) की रिपोर्ट पढ़िए। एक राज्य के चुनाव में 5 विधानसभा सीटें जीतने पर शायद ही किसी राजनीतिक दल को इतनी अहमियत मिली है।

लेकिन उल्लेखनीय बातें यह भी नहीं हैं। उल्लेखनीय यह है कि जिस तथाकथित अल्पसंख्यक हितैषी नेता को अल्पसंख्यक समुदाय का मुखमंडल बनाया जाने की कवायद पूरे सामाजिक राजनीतिक सामर्थ्य से की जा रही है, उसकी मानसिकता और मानसिकता से उपजी बयानबाजी का स्वरूप कैसा है। पिछले कुछ महीनों में असदुद्दीन ओवैसी के कुछ बयानों को देखते और समझते हैं कि जिस नेता के लिए इस कदर माहौल बनाया जा रहा है उसकी विचारधारा असल मायनों में है क्या?   

हाल ही में इंडिया टुडे को बीते चुनावों को लेकर हो रही चर्चा के दौरान असदुद्दीन ओवैसी ने एक बयान दिया था। ओवैसी ने कहा था कि आज भाजपा सत्ता में है, तो इसका कारण कॉन्ग्रेस ही है। उन्होंने कॉन्ग्रेस के नेतृत्व को ‘नपुंसक’ करार दिया। उन्होंने कॉन्ग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा को संबोधित करते हुए कहा था कि आपकी पार्टी का नेतृत्व नरेंद्र मोदी से लड़ने में अक्षम है, इसीलिए भाजपा आज सत्ता में है। उन्होंने कहा कि जब तक वो ज़िंदा हैं, चुनाव लड़ते रहेंगे और सेक्युलरिज्म को ज़िंदा रखेंगे। 

यह तो भाषा की बात हुई, असदुद्दीन ओवैसी के बयानों में सांप्रदायिकता की सूरत भी बेहद मज़बूत रहती है। बिहार विधानसभा चुनाव के अंतिम चरण के प्रचार के दौरान उन्होंने बयान दिया था, “असदुद्दीन ओवैसी बिहार का तो नहीं है, मगर ये पूरा भारत असदुद्ददीन ओवैसी के बाप की मिल्कियत है। कैसे है? हमारे अब्बा, आपके अब्बा, उनके अब्बा, उनके अब्बा के अब्बा जब दुनिया में कदम रखे, तो भारत में रखे थे कदम। तो ये हमारे अब्बा की जमीन हुई और किसी माई के लाल में ताकत नहीं है कि हमको हमारी अब्बा की जमीन पर घुसपैठी करार दे। ये अब्बा की जमीन है और अब्बा की जायदाद में बेटी और बेटे का हिस्सा मिलेगा।”

हाल ही में राम मंदिर निर्माण के लिए प्रधानमंत्री ने अयोध्या में भूमि पूजन किया था। इस मुद्दे पर भी असदुद्दीन ओवैसी की सांप्रदायिकता संगत बयानबाजी जारी थी। ट्वीट करते हुए ओवैसी ने लिखा था, “बाबरी मस्जिद थी, है और रहेगी। इशांअल्लाह।” इस ट्वीट के साथ ओवैसी ने दो तस्वीरें भी शेयर की थी। एक तस्वीर में मस्जिद खड़ा नजर आ रहा है और दूसरे में उसके विध्वंस की घटना है।

इसी तरह सीएए और एनआरसी विरोध प्रदर्शन के दौरान हैदराबाद सांसद ने इतनी टिप्पणियाँ की थीं जिनकी गिनती नहीं लेकिन मजाल है किसी टिप्पणी में जहर की मात्रा से समझौता किया हो। ऐसी ही एक टिप्पणी थी, “जो मोदी-शाह के ख़िलाफ़ आवाज़ उठाएगा वो सही मायने में मर्द-ए-मुजाहिद कह लाएगा। मैं वतन में रहूँगा, पर कागज नहीं दिखाऊँगा। कागज अग़र दिखाने की बात होगी, तो सीना दिखाएँगे कि मार गोली। मार दिल पे गोली मार, क्योंकि दिल में भारत की मोहब्बत है।”

अब पूछिए प्रश्न, अल्पसंख्यक समाज की अगुवाई का मुकुट करना चाहिए इनके नाम? या पहले अल्पसंख्यक हित के मुखौटे के पीछे छुपे असल राजनीतिक चेहरे को परखा जाए। देश का हर नेता राजनीति के रास्ते पर चलते हुए आम नागरिकों को बहुत कुछ देता है, जब कभी ‘असदुद्दीन ओवैसी ने क्या दिया’ इस पर चर्चा होगी, तब इनके बारे में क्या कहा जाएगा। भले एक नेता हर विमर्श में अल्पसंख्यकों के विमर्श को आगे रख देता है लेकिन उसकी कीमत क्या है? अगले साल पश्चिम बंगाल में भी विधानसभा चुनाव हैं, उस पर भी नज़र बनाए रखियेगा। ऐसे बयान शायद ही थमेंगे।            

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘अंकित शर्मा ने किया हिंसक भीड़ का नेतृत्व, ताहिर हुसैन कर रहा था खुद का बचाव’: ‘द लल्लनटॉप’ ने जमकर परोसा प्रोपेगेंडा

हमारे पास अंकित के परिवार के कुछ शब्द हैं, जिन्हें पढ़कर आज लगता है कि उन्हें पहले से पता था कि आखिर में न्याय तो मिलेगा नहीं लेकिन उसके बदले अंकित को दंगाई घोषित जरूर कर दिया जाएगा।

आमिर खान की बेटी इरा अपने संघी हिन्दू नौकर के साथ फरार.. अब होगा न्याय: Fact Check से जानिए क्या है हकीकत

सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि आमिर खान की बेटी इरा अपने हिन्दू नौकर के साथ भाग गई हैं। तस्वीर में इरा एक तिलक लगाए हुए युवक के साथ देखी जा सकती हैं।

‘ज्यादा गर्मी ना दिखाएँ, जो जिस भाषा को समझेगा, उसे उस भाषा में जवाब मिलेगा’: CM योगी ने सपाइयों को लताड़ा

"आप लोग सदन की गरिमा को सीखिए, मैं जानता हूँ कि आप किस प्रकार की भाषा और किस प्रकार की बात सुनते हैं, और उसी प्रकार का डोज भी समय-समय पर देता हूँ।"

‘लियाकत और रियासत के रिश्तेदार अब भी देते हैं जान से मारने की धमकी’: दिल्ली दंगा में भारी तबाही झेलने वाले ने सुनाया अपना...

प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि चाँदबाग में स्थित दंगा का प्रमुख केंद्र ताहिर हुसैन के घर को सील कर दिया गया था, लेकिन 5-6 महीने पहले ही उसका सील खोला जा चुका है।

3 महीनों के भीतर लागू होगी सोशल, डिजिटल मीडिया और OTT की नियमावली: मोदी सरकार ने जारी की गाइडलाइन्स

आपत्तिजनक विषयवस्तु की शिकायत मिलने पर न्यायालय या सरकार जानकारी माँगती है तो वह भी अनिवार्य रूप से प्रदान करनी होगी। मिलने वाली शिकायत को 24 घंटे के भीतर दर्ज करना होगा और 15 दिन के अंदर निराकरण करना होगा।

भगोड़े नीरव मोदी भारत लाया जाएगा: लंदन कोर्ट ने दी प्रत्यर्पण को मंजूरी, जताया भारतीय न्यायपालिका पर विश्वास

सुनवाई के दौरान कोर्ट ने नीरव की मानसिक सेहत को लेकर लगाई गई याचिका को ठुकरा दिया। साथ ही ये मानने से इंकार किया कि नीरव मोदी की मानसिक स्थिति और स्वास्थ्य प्रत्यर्पण के लिए फिट नहीं है।

प्रचलित ख़बरें

आमिर खान की बेटी इरा अपने संघी हिन्दू नौकर के साथ फरार.. अब होगा न्याय: Fact Check से जानिए क्या है हकीकत

सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि आमिर खान की बेटी इरा अपने हिन्दू नौकर के साथ भाग गई हैं। तस्वीर में इरा एक तिलक लगाए हुए युवक के साथ देखी जा सकती हैं।

UP पुलिस की गाड़ी में बैठने से साफ मुकर गया हाथरस में दंगे भड़काने की साजिश रचने वाला PFI सदस्य रऊफ शरीफ

PFI मेंबर रऊफ शरीफ ने मेडिकल जाँच कराने के लिए ले जा रही UP STF टीम से उनकी गाड़ी में बैठने से साफ मना कर दिया।

कला में दक्ष, युद्ध में महान, वीर और वीरांगनाएँ भी: कौन थे सिनौली के वो लोग, वेदों पर आधारित था जिनका साम्राज्य

वो कौन से योद्धा थे तो आज से 5000 वर्ष पूर्व भी उन्नत किस्म के रथों से चलते थे। कला में दक्ष, युद्ध में महान। वीरांगनाएँ पुरुषों से कम नहीं। रीति-रिवाज वैदिक। आइए, रहस्य में गोते लगाएँ।

शैतान की आजादी के लिए पड़ोसी के दिल को आलू के साथ पकाया, खिलाने के बाद अंकल-ऑन्टी को भी बेरहमी से मारा

मृत पड़ोसी के दिल को लेकर एंडरसन अपने अंकल के घर गया जहाँ उसने इस दिल को पकाया। फिर अपने अंकल और उनकी पत्नी को इसे सर्व किया।

केरल में RSS कार्यकर्ता की हत्या: योगी आदित्यनाथ की रैली को लेकर SDPI द्वारा लगाए गए भड़काऊ नारों का किया था विरोध

SDPI की रैली में कुछ आपत्तिजनक टिप्पणी की गई थी, जिसके खिलाफ हिन्दू कार्यकर्ता प्रदर्शन कर रहे थे। मृतक नंदू के एक साथी पर भी चाकू से वार किया गया, जिनका इलाज चल रहा है।

28 दिनों तक हिंदू युवती को बंधक बना कर रखने वाला सलमान कुरैशी गिरफ्तार: जीजा मुईन, दोस्त इमरान ने की थी मदद

सलमान कुरैशी की धर पकड़ में जुटी पुलिस को मुखबिर से बुधवार को तीसरे पहर सलमान और युवती के आइएसबीटी पर पहुँचने का पता चला था। जिसके बाद दबिश देते हुए पुलिस ने बस से आरोपित को युवती के साथ उतरते ही पकड़ लिया।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,062FansLike
81,844FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe