Wednesday, June 19, 2024
Homeराजनीतिहिंदू यहाँ आएँ तो उन्हें काट दो: VHP ने मेवात के नेता मामन खाँ...

हिंदू यहाँ आएँ तो उन्हें काट दो: VHP ने मेवात के नेता मामन खाँ और आफताब को नूहं हिंसा के लिए ठहराया जिम्मेदार, कहा- दोगुने जोश से दोबारा होगी यात्रा

कॉन्ग्रेस एवं अन्य सेक्युलर नेताओं पर निशाना साधते हुए जैन ने कहा, "इन घटनाओं के लिए उन्होंने सेक्युलर नेताओं को दोषी ठहराया और कहा कि वो वोटों की खातिर इन्हें भड़काते हैं। राहुल गाँधी एवं ऐसे अन्य नेता जो टुकड़े-टुकड़े गैंग के साथ जुड़े हुए हैं वो इनको भड़काने की कोशिश करते हैं।"

हरियाणा के नूहं जिले में हिंदुओं की ब्रजमंडल जलाभिषेक यात्रा पर कट्टरपंथी मुस्लिमों द्वारा 31 जुलाई 2023 को हमला किया गया था। इस हमले में 6 लोगों की मौत हो गई है। वहीं, अब तक 116 लोगों को हिरासत में लिया गया है। इस हमले का विश्व हिंदू परिषद देश भर में विरोध कर रही है।

विश्व हिंदू परिषद ने इस हिंसा के लिए कॉन्ग्रेस को दोषी ठहराया और कहा कि यह हिंसा एक दिन की शुरुआत नहीं थी। वीएचपी के महासचिव सुरेंद्र जैन ने कहा कि यह कई महीने पहले से की गई थी। इसकी तैयारी काफी दिन से चल रही थी।

सुरेंद्र जैन ने कहा कि मेवात का एक मुस्लिम नेता है मामन खाँ। यह कॉन्ग्रेस का विधायक है। मामन खाँ ने चार महीने पहले विधानसभा में कहा था कि किसी की हिम्मत है तो मेवात में घुसकर दिखा दे।

वीएचपी महासचिव ने कहा, “आज उन्होंने (मामन खाँ ने) ट्वीट किया है- मेवात में तरह-तरह की अफवाह चल रही है, आपको कोई चिंता करने की जरूरत नहीं है। वो हत्यारों को कह रहे हैं- मैंने आपके लिए पहले भी लड़ाई लड़ी थी, अब लड़ूँगा। विधानसभा में भी और बाहर भी।”

वीएचपी महासचिव सुरेंद्र जैन ने कहा कि एक और कॉन्ग्रेसी नेता हैं आफताब साहब। उन्होंने कहा कि अगर गाँव में पुलिस वाले आएँ तो उनके हाथ-पैर तोड़ दो। उनकी चिंदी-चिंदी कर दो। उन्होंने कहा कि आफताब मेवात में ही रहते हैं।

एक और कॉन्ग्रेसी नेता का हवाला देते हुए सुरेंद्र जैन ने कहा कि वो नेता कहते हैं कि जितने भी हिंदू आए हैं, वे वापस नहीं जाना चाहिए। इनको मार दो, काट दो। इनका खाना बना लो। इनके मांस को खा लो, लेकिन इनको जाने ना दो। जैन ने कहा कि ये सारे कुछ ऐसे फैक्ट्स हैं, जो सामने आए हैं।

सुरेंद्र जैन ने हिंदुओं पर हमलों के लिए इन नेताओं को दोषी ठहराया। उन्होंने कहा, “कल के नरसंहार के लिए जिम्मेदार हैं ये लोग। कल के नरसंहार के लिए जिम्मेदार हैं ओवैसी जैसे नेता, जो इनके पापों पर पर्दा डालने के लिए कहते हैं कि ये तो प्रतिक्रिया थी… भड़काया गया था।”

उन्होंने सवाल उठाया, “अगर किसी ने भड़काया तो क्या तो तुम बच्चों को मार दोगे? गोलियों से भून दोगे? मोर्टार चला दोगे? उनको जिंदा जला दोगे? पहाड़ों पर चढ़कर उनको गोलियों से मारोगे? पुलिस को मारोगे, उनकी चौकियाँ जला दोगे… ये किसी भी सभ्य समाज का लक्षण नहीं हो सकता।”

कॉन्ग्रेस एवं अन्य सेक्युलर नेताओं पर निशाना साधते हुए जैन ने कहा, “इन घटनाओं के लिए उन्होंने सेक्युलर नेताओं को दोषी ठहराया और कहा कि वो वोटों की खातिर इन्हें भड़काते हैं। राहुल गाँधी एवं ऐसे अन्य नेता जो टुकड़े-टुकड़े गैंग के साथ जुड़े हुए हैं वो इनको भड़काने की कोशिश करते हैं।”

सुरेंद्र जैन ने कहा कि हिंसा के कारण जलाभिषेक यात्रा अधूरी रह गई। उन्होंने कहा, “हम सभी मंदिरों में जा पाए। जल्दी ही आसपास के गाँवों में महापंचायत की जाएगी। यह यात्रा दोबारा कब शुरू होगी, इसका निर्णय समाज लेगा। यह यात्रा दोबारा होगी और पहले से ज्यादा जोर-शोर से होगी।”

सुरेंद्र जैन ने कहा कि इस घटना को लेकर हिंदू समाज में रोष है। उन्होंने कहा कि हरियाणा के मुख्यमंत्री से घटना में बलिदान हुए हिंदुओं के परिवारों को एक-एक करोड़ रुपए देने की माँग की जाएगी। उन्होंने पूरे मेवात को चारों तरफ से सील करने की भी माँग की।

गौरतलब है कि इस घटना के विरोध में आज बुधवार को विश्व हिंदू परिषद एवं बजरंग दल के कार्यकर्ता देश भर में शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे हैं। इस घटना में शामिल आरोपितों पर कड़ी कार्रवाई करने की माँग की जा रही है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फिर सामने आई कनाडा की दोगलई: जी-7 में शांति पाठ, संसद में आतंकी निज्जर को श्रद्धांजलि; खालिस्तानियों ने कंगारू कोर्ट में PM मोदी को...

खालिस्तानी आतंकी हरदीप सिंह निज्जर को कनाडा की संसद में न सिर्फ श्रद्धांजलि दी गई, बल्कि उसके सम्मान में 2 मिनट का मौन रखकर उसे इज्जत भी दी।

‘हमारे बारह’ पर जो बॉम्बे हाई कोर्ट ने कहा, वही हम भी कह रहे- मुस्लिम नहीं हैं अल्पसंख्यक… अब तो बंद हो देश के...

हाई कोर्ट ने कहा कि उन्हें फिल्म देखखर नहीं लगा कि कोई ऐसी चीज है इसमें जो हिंसा भड़काने वाली है। अगर लगता, तो पहले ही इस पर आपत्ति जता देते।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -