Tuesday, July 7, 2020
Home राजनीति लहूलुहान बंगाल: मारे जा रहे BJP कार्यकर्ता, आखिर कब टूटेगी लिबरलों की चुप्पी

लहूलुहान बंगाल: मारे जा रहे BJP कार्यकर्ता, आखिर कब टूटेगी लिबरलों की चुप्पी

ममता बनर्जी के नेतृत्व में तृणमूल कॉन्ग्रेस सत्ता में आई तो लोगों को लगा कि राजनीतिक हिंसा का दौर अब समाप्त हो जाएगा। लेकिन, कुछ ही साल के भीतर तृणमूल भी इस हथियार का संगठित तरीके से इस्तेमाल करने लगी। खासकर, राज्य में बीजेपी के उभार के साथ।

ये भी पढ़ें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

पश्चिम बंगाल में 1971 में कॉन्ग्रेस सत्ता में आई। मुख्यमंत्री बने सिद्धार्थ शंकर रे। इसके साथ ही बंगाल की राजनीति में एक ऐसा अध्याय शुरू हुआ जो किसी भी सभ्य और लोकतांत्रिक समाज का हिस्सा नहीं हो सकता।

राज्य में राजनीतिक हिंसा का दौर शुरू हुआ जो आज भी बदस्तूर जारी है। पहले कॉन्ग्रेस ने विपक्ष की आवाज दबाने के लिए इस हथियार का इस्तेमाल किया और कुछ सालों में खुद ही दफन हो गई। फिर आया वाम हिंसा का वो दौर जिसकी घटनाएँ आज भी रूह कॅंपा देती है। 1977 से 2011 के 34 साल के वामपंथी शासनकाल के राज्य में जितने नरसंहार हुए उतने शायद ही देश के किसी दूसरे राज्य में हुए हो।

इसके बाद ममता बनर्जी के नेतृत्व में तृणमूल कॉन्ग्रेस सत्ता में आई तो लोगों को लगा कि राजनीतिक हिंसा का यह दौर अब समाप्त हो जाएगा। लेकिन, कुछ ही साल के भीतर तृणमूल भी इस हथियार का संगठित तरीके से इस्तेमाल करने लगी। खासकर, राज्य में बीजेपी के उभार के साथ।

बंगाल में राजनीतिक हिंसा में कितने बीजेपी कार्यकर्ता मारे गए हैं, इसका कोई आधिकारिक आँकड़ा नहीं है। नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो के अनुसार 2016 में बंगाल में सियासी हिंसा की कुल 91 घटनाएँ हुईं। 205 लोग इसका शिकार बने। 2015 में कुल 131 घटनाएँ हुईं थी, जिनमें कुल 184 लोगों को नुकसान पहुँचा। उससे पहले 2013 में सियासी झड़पों में कुल 26 लोगों की जानें गई थीं। गौर करने वाली बात है कि 2014 के लोकसभा चुनाव के साथ ही बंगाल में बीजेपी उभरती नजर आई थी।

इस साल हुए आम चुनावों में बीजेपी को बंगाल की 40 लोकसभा सीटों में से 18 सीटों पर भाजपा को जीत मिली थी। नतीजों आने के चंद दिन के भीतर ही नॉर्थ परगना के काकीनाडा में भाजपा कार्यकर्ता चंदन शॉ की गोली मारकर हत्या कर दी। जून में 24 परगना में तीन बीजेपी कार्यकर्ताओं की गोली मार कर हत्या कर दी गई। आरोप टीएमसी कार्यकर्ताओं पर लगा। जून में ही कूचबिहार में भाजयुमो नेता आनंद पॉल की हत्या कर दी गई। जुलाई में भाजपा कार्यकर्ता काशीनाथ घोष की लाश नहर में मिली। ये तो चुनिंदा घटनाएँ हैं। असली हालात और भी भयावह है।

भाजपा महासचिव और पश्विम बंगाल के प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय के ट्विटर अकाउंट पर सरसरी नजर डालें तो ऐसी कई घटनाओं का ब्यौरा मिल जाता है। मसलन, विजयवर्गीय 12 अक्टूबर को ट्वीट कर बताते हैं कि हरलाल देबनाथ की टीएमसी के गुंडों ने गोली मार कर हत्या कर दी। 10 अक्टूबर को उन्होंने नादिया में पार्टी कार्यकर्ता सुप्रियो बनर्जी की हत्या को लेकर ट्वीट किया। इस ट्वीट के मुताबिक बीते 4 दिनों में बीजेपी के 8 कार्यकर्ताओं की टीएमसी के लोगों ने हत्या की थी। इससे एक दिन पहले 9 अक्टूबर को वीरभूम और नादिया में भाजपा कार्यकर्ता अनिमेष चक्रवर्ती और अहमद शेख की हत्या को लेकर उन्होंने ट्वीट किया था।

अगले साल राज्य में विधानसभा चुनाव होने हैं। अंदेशा जताई जा रही है कि हिंसा की यह आग और भड़क सकती है। फिर भी लिबरल मौन हैं। ममता बनर्जी सब कुछ ठीक होने का दावा कर रही। और भाजपा नेता ट्वीट कर आँकड़े गिना रहे हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

ख़ास ख़बरें

असम: मौलाना खैरुल इस्लाम के जनाजे में जुटे 10,000 लोग, सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ी धज्जियाँ, 3 गाँव सील

खैरुल इस्लाम के जनाजे में जुटे लोगों ने सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियॉं उड़ा दी। मजबूरन प्रशासन को तीन गॉंव सील करने पड़े।

AIIMS की चौथी फ्लोर से कूदे भास्कर पत्रकार की मौत, दोस्तों से ग्रुप में कह रहे थे – ‘मुझे बचा लो, आज कुछ कर...

AIIMS की चौथी मंजिल से कूदने वाले 'दैनिक भास्कर' पत्रकार तरुण सिसोदिया की मौत हो गई है। उन्हें कैंसर था और बाद में वो कोरोना से भी संक्रमित हो गए थे।

भारत के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा नीति में सावरकर-बोस सिद्धांत को अमल में लाने का वक्त आया

यह स्पष्ट है कि आज के भारतीय जहाज के तल में एक बड़ा छेद है जिसे हमें दुरुस्त करने की आवश्यकता है। अगर हम ऐसा नहीं करते हैं तो यह जहाज सागर में डूब सकता है।

गलवान में 2 KM पीछे हटा चीन, भारत की बड़ी कूटनीतिक जीत: कमाण्डर स्तर वार्ता में ठंडा पड़ा ड्रैगन

फिजिकल वेरिफिकेशन के बाद पाया गया कि गलवान संघर्ष स्थल से चीन की सेना 2 किलोमीटर पीछे चली गई है। ये एक तरह से भारत की कूटनीतिक जीत है।

शादी के बाद मायके आई वैष्णवी पर शेख अल्ताफ ने किए धारधार हथियार से 21 वार, 4-5 महीने से पड़ा था पीछे

वैष्णवी की गलती सिर्फ़ इतनी थी कि वह शादी के बाद सहेली और माँ के साथ बाजार गई। उसके पड़ोस में रहने वाले अल्ताफ की नजर उस पर पड़ी और...

104 साल की उम्र में आनंदी झा ने कोरोना को हराया, आज भी किलो भर खाते हैं माछ; दूध-मिठाई की पूछिए ही मत

आनंदी झा केवल एक नाम नहीं है। न महाराष्ट्र में कोरोना को मात देने वाले सबसे बुजुर्ग इंसान की पहचान। वे प्रतीक हैं जीवटता की, जिजीविषा की।

प्रचलित ख़बरें

‘…कभी नहीं मानेंगे कि हिन्दू खराब हैं’ – जब मानेकशॉ के कदमों में 5 Pak फौजियों के अब्बू ने रख दी थी अपनी पगड़ी

"साहब, आपने हम सबको बचा लिया। हम ये कभी नहीं मान सकते कि हिन्दू ख़राब होते हैं।" - सैम मानेकशॉ की पाकिस्तान यात्रा से जुड़ा एक किस्सा।

चीन से अब ‘काली मौत’ का खतरा, अलर्ट जारी: आनंद महिंद्रा बोले- अब बर्दाश्त नहीं कर सकता

पूरी दुनिया को कोरोना संक्रमण देने वाले चीन में अब ब्‍यूबोनिक प्‍लेग के मामले सामने आए हैं। इसे ब्लैक डेथ यानी काली मौत भी कहते हैं।

7 मुस्लिम परिवारों ने स्वेच्छा से अपनाया हिंदू धर्म: दिल्ली पुलिस के सब-इंस्पेक्टर (रिटायर्ड) भी शामिल

हरियाणा के सोनीपत जिले के भोगीपुर में 7 मुस्लिम परिवारों ने स्वेच्छा से हिन्दू धर्म अपना लिया। ये गाँव दिल्ली से 70 किमी दूरी पर स्थित है।

सब-कलेक्टर आसिफ के युसूफ को नहीं मिलेगा IAS अधिकारी का दर्जा, आरक्षण के लिए दिया था फर्जी दस्तावेज

थालास्सेरी के सब-कलेक्टर आसिफ़ के युसूफ़ को आईएएस अधिकारी का दर्जा नहीं दिया जा सकता है। मंत्रालय ने केरल के मुख्य सचिव को...

CARA को बनाया ईसाई मिशनरियों का अड्डा, विदेश भेजे बच्चे: दीपक कुमार को स्मृति ईरानी ने दिखाया बाहर का रास्ता

CARA सीईओ रहते दीपक कुमार ने बच्चों के एडॉप्शन प्रक्रिया में धाँधली की। ईसाई मिशनरियों से साँठगाँठ कर अपने लोगों की नियुक्तियाँ की।

AIIMS की चौथी फ्लोर से कूदे भास्कर पत्रकार की मौत, दोस्तों से ग्रुप में कह रहे थे – ‘मुझे बचा लो, आज कुछ कर...

AIIMS की चौथी मंजिल से कूदने वाले 'दैनिक भास्कर' पत्रकार तरुण सिसोदिया की मौत हो गई है। उन्हें कैंसर था और बाद में वो कोरोना से भी संक्रमित हो गए थे।

नींद में ही पिता-पुत्र और 2 बेटियों को धारदार हथियारों से रेता, अब तक नहीं सुलझी हत्या की गुत्थी

प्रयागराज में एक ही परिवार के चार लोगों की धारदार हथियार से हत्या कर दी गई, वहीं परिवार के एक सदस्य की हालत गंभीर है।

Covid-19: भारत में 24 घंटे में सामने आए 23932 मामले, दिल्ली में संक्रमण के मामले 1 लाख के पार

भारत में अब तक 6,97,413 मामले सामने आ चुके हैं। इनमें से 2,53,287 एक्टिव केस हैं। 19,693 लोगों की मौत हुई है।

जामिया हिंसा: सुप्रीम कोर्ट ने याचिकाकर्ताओं को गृह मंत्रालय के खिलाफ आपत्तिजनक सामग्री हटाने का दिया आदेश

जामिया मिलिया और उसके आसपास 15 दिसंबर को विरोध-प्रदर्शन के दौरान हुई हिंसा को लेकर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई।

असम: मौलाना खैरुल इस्लाम के जनाजे में जुटे 10,000 लोग, सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ी धज्जियाँ, 3 गाँव सील

खैरुल इस्लाम के जनाजे में जुटे लोगों ने सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियॉं उड़ा दी। मजबूरन प्रशासन को तीन गॉंव सील करने पड़े।

नहीं होगा CBDT और CBIC का विलय, PIB ने बिजनेस स्टैंडर्ड की रिपोर्ट को बताया निराधार

बिजनेस स्टैंडर्ड ने एक आर्टिकल में दावा किया था कि केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBDT) और केंद्रीय अप्रत्यक्ष एवं सीमा शुल्क बोर्ड (CBIC) का विलय होने जा रहा है।

जहाँ हुए बलिदान मुखर्जी…: आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी की पहली जयंती

आर्टिकल 370 हटने के बाद डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी की पहली जयंती है। इसी दिन के लिए उन्होंने कहा था, एक देश में दो विधान, दो प्रधान और दो निशान नहीं चलेंगे।

दिल्ली हिंदू विरोधी दंगे: मीरान हैदर के घर से मिला रजिस्टर, हैंडराइटिंग जाँच के लिए भेजा फॉरेंसिक लैब

मीरान हैदर के घर से एक रजिस्टर और ढाई लाख रुपए कैश बरामद किया गया है। रजिस्टर दिल्ली दंगों से ठीक पहले बनाया गया था।

AIIMS की चौथी फ्लोर से कूदे भास्कर पत्रकार की मौत, दोस्तों से ग्रुप में कह रहे थे – ‘मुझे बचा लो, आज कुछ कर...

AIIMS की चौथी मंजिल से कूदने वाले 'दैनिक भास्कर' पत्रकार तरुण सिसोदिया की मौत हो गई है। उन्हें कैंसर था और बाद में वो कोरोना से भी संक्रमित हो गए थे।

भारत के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा नीति में सावरकर-बोस सिद्धांत को अमल में लाने का वक्त आया

यह स्पष्ट है कि आज के भारतीय जहाज के तल में एक बड़ा छेद है जिसे हमें दुरुस्त करने की आवश्यकता है। अगर हम ऐसा नहीं करते हैं तो यह जहाज सागर में डूब सकता है।

पैर पीछे, जुबान नरम: NSA अजीत डोभाल के वीडियो कॉल के बाद चीन के तेवर ढीले

भारत सरकार के लगातार सख्त तेवरों के बाद राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल (NSA) के वीडियो कॉल ने चीन को पीछे हटने पर मजबूर किया।

हमसे जुड़ें

235,128FansLike
63,206FollowersFollow
270,000SubscribersSubscribe