Saturday, July 20, 2024
Homeराजनीति'मस्जिद जैसा बना दिया बस स्टैंड, खड़े किए 3 गुंबद' : कर्नाटक में BJP...

‘मस्जिद जैसा बना दिया बस स्टैंड, खड़े किए 3 गुंबद’ : कर्नाटक में BJP नेता के विरोध के बाद रातोंरात 2 गुंबद हटे, कॉन्ग्रेस नेता ने कहा था- किसी कीमत पर नहीं टूटने दूँगा

भाजपा नेता सिम्हा ने बस स्टैंड की बनावट देखने के बाद कहा था कि इस तरह मुख्य गुंबद के अगल-बगल दो गुंबद लगाना ऐसा लग रहा है जैसे ये स्टैंड कोई मस्जिद हो। उन्होंने डेडलाइन देते हुए इस मामले में कार्रवाई की माँग की थी।

कर्नाटक के मैसूर में हाल में बस स्टैंड पर मस्जिद जैसे गुंबद नजर आने के बाद वहाँ भारतीय जनता पार्टी के विधायक प्रताप सिम्हा ने सवाल खड़े किए थे। उन्होंने चेतावनी दी थी कि अगर कार्रवाई नहीं होती तो वह खुद इन गुंबदों को हटा देंगे। अब खबर है कि बस स्टैंड पर लगे तीन गुंबदों में से दो गुंबद रातोंरात हटा लिए गए हैं।

सिम्हा ने बस स्टैंड की बनावट देखने के बाद कहा था कि इस तरह मुख्य गुंबद के अगल-बगल दो गुंबद लगाना ऐसा लग रहा है जैसे ये स्टैंड कोई मस्जिद हो। उन्होंने डेडलाइन देते हुए इस मामले में कार्रवाई की माँग की थी।

मामला संज्ञान में आने के बाद जहाँ द नेशनल हाईवेज ऑथरिटी ऑफ इंडिया ने अधिकारियों को इस संबंध में नोटिस भेज सफाई माँगी थी। वहीं विधायक रामदास ने कहा था, “बस स्टॉप को विवादों में नहीं डालना चाहिए। मैंने मैसूर में एक मॉडल पैलेस के रूप में 12 बस स्टॉप का निर्माण कराया। मगर इसे सांप्रदायिक रंग दिया गया। मुझे यह बुरा लगा। मैंने दिग्गजों से राय लेकर दो छोटे गुंबद तुड़वा दिए। केवल एक गुंबद रखा गया है। इस फैसले को अन्यथा न लें। विकास के हित में ऐसा किया गया है।”

बता दें कि कॉन्ग्रेस के विधायक तनवीर ने कहा था कि वह किसी कीमत पर इन गुंबदों को तोड़ने नहीं देंगे जबकि प्रताप सिम्हा ने गुंबदों पर आपत्ति जताते हुए कहा था कि अगर इन गुंबदों पर कार्रवाई नहीं हुई तो वह उन पर एक्शन लेंगे। उन्होंने कहा था कि अगर एक बड़े गुंबद के संग दो गुंबद होते हैं तो वो मस्जिद होता है। हालाँकि शनिवार को उन्होंने बस स्टैंड से दो गुंबद हटे देख जिलाधिकारी का आभार व्यक्त किया। सिम्हा ने कहा, “जिलाधिकारी का धन्यवाद जिन्होंने समय माँगा और जो कहा वो किया और रामदास जी को भी आभार जिन्होंने सच को समझा और जनमत संग्रह के आगे झुके।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

घुमंतू (खानाबदोश) पूजा खेडकर: जिसका बाप IAS, वो गुलगुलिया की तरह जगह-जगह भटक बिताई जिंदगी… इसी आधार पर बन गई MBBS डॉक्टर

पूजा खेडकर ने MBBS में नाम लिखवाने से लेकर IAS की नौकरी पास करने तक में नाम, उम्र, दिव्यांगता, अटेंप्ट और आय प्रमाण पत्र में फर्जीवाड़ा किया।

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -