Friday, October 22, 2021
Homeराजनीति'मोदी स्ट्रेन': कैसे कॉन्ग्रेस टूलकिट ने की PM मोदी की छवि खराब करने की...

‘मोदी स्ट्रेन’: कैसे कॉन्ग्रेस टूलकिट ने की PM मोदी की छवि खराब करने की कोशिश? NDTV भी हैशटैग फैलाते आया नजर

"संकट और कुप्रबंधन" के बावजूद, पीएम मोदी की अप्रूवल रेटिंग कॉन्ग्रेस पार्टी की अपेक्षा से अधिक है। उन्होंने कॉन्ग्रेस पार्टी के सदस्यों और वालंटियर से इस स्थिति को ‘उनकी छवि को खराब करने और उनकी लोकप्रियता को कम करने के अवसर’ के रूप में लेने का आग्रह किया।

सोशल मीडिया पर 18 मई को एक टूलकिट कॉन्ग्रेस के नाम से वायरल हुआ, जिसमें भारत, केंद्र सरकार और पीएम मोदी की छवि को खराब करने का दुर्भावनापूर्ण प्रयास देखा गया। कॉन्ग्रेस का कहना है कि टूलकिट नकली है और उसने कानूनी कार्रवाई की धमकी दी है।

टूलकिट में एक वर्ग ऐसा था जो विशेष रूप से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की छवि खराब करने की बात कर रहा था। उस सेक्शन में, यह उल्लेख किया गया था कि “संकट और कुप्रबंधन” के बावजूद, पीएम मोदी की अप्रूवल रेटिंग कॉन्ग्रेस पार्टी की अपेक्षा से अधिक है। उन्होंने कॉन्ग्रेस पार्टी के सदस्यों और वालंटियर से इस स्थिति को ‘उनकी छवि को खराब करने और उनकी लोकप्रियता को कम करने के अवसर’ के रूप में लेने का आग्रह किया।

‘पीएम मोदी की छवि खराब करने के लिए हर संसाधन का इस्तेमाल करें’

पाँच सबसेक्शनों में विभाजित, सेक्शन में कहा गया कि वे समय के साथ विकसित संसाधनों का उपयोग करके पीएम मोदी की छवि को कैसे खराब कर सकते हैं। पहला बिंदु पीएम मोदी या भाजपा समर्थकों की तरह दिखने वाले अकाउंट को सक्षम करना और सरकार के खिलाफ एजेंडा को आगे बढ़ाना था।

दूसरे बिंदु पर चर्चा की गई कि कैसे भारत में विदेशी संवाददाताओं और विदेशी प्रकाशनों के लिए लिखने वाले इंडियन ओपेड लेखकों को ‘पीएम मोदी के अंतर्गत कुप्रबंधन’ पर विशेष रूप से ध्यान केंद्रित करने के लिए किया जा सकता है।

टूलकिट के क्रिएटरों ने सभी से अंतिम संस्कार और शवों के ‘नाटकीय चित्रों’ का उपयोग करने का आग्रह किया। सभी ने देखा है कि पिछले कुछ हफ्तों से इस तरह की तस्वीरें कैसे सामने आ रही हैं, जिससे जनता में परेशानी हो रही है। उन्होंने आगे सभी को उन पत्रकारों से संपर्क करने के लिए कहा जो अंतिम संस्कार को कवर कर रहे हैं और स्थानीय स्तर पर ‘सही छवि’ को बढ़ा-चढ़ाकर पेश करते हैं।

टूलकिट ने सभी से पीएम मोदी के खिलाफ अपमानजनक वाक्यांशों का उपयोग करने के लिए ‘अपने खेमे के बुद्धिजीवियों और राय बनाने वालों’ से संपर्क करने का आग्रह किया। यह बताया गया कि बुद्धिजीवियों और राय बनाने वालों को ‘राजनीतिक रूप से उपयोग किए जाने पर अधिक स्वीकार्यता’ होनी चाहिए।

सोशल मीडिया स्वयंसेवकों से #ModiStrain का इस्तेमाल करने का आग्रह किया

इस सेक्शन में मुझे सबसे ज्यादा झटका यह लगा कि कॉन्ग्रेस टूलकिट म्यूटेंट कोविड -19 स्ट्रेन इंडियन स्ट्रेन या मोदी स्ट्रेन कहकर भारत और पीएम मोदी की छवि खराब करना चाहता है। हमने मोदी स्ट्रेन शब्द की खोज की और इस वाक्यांश के इस्तेमाल के बाद से एक टाइमलाइन बनाने की कोशिश की। जिसमें हमने यही पाया।

हैशटैग #ModiStrain 22 अप्रैल, 2021 से चलाया जा रहा है। बहुत सारे सोशल मीडिया उपयोगकर्ता जो कॉन्ग्रेस के अनुयायी प्रतीत होते हैं, हैशटैग का उपयोग कर रहे हैं।

अप्रैल 2021 से ट्विटर यूजर्स द्वारा मोदी स्ट्रेन का बड़े पैमाने पर इस्तेमाल किया जा रहा है

हैशटैग और फ्रेज “#IndiaStrain” और “India Strain” सोशल मीडिया पर अधिक प्रमुखता से उपयोग किए जाते हैं। अप्रैल 2021 की दूसरी छमाही तक, ट्विटर पर इसका उपयोग तेजी से बढ़ा, और उनमें इंडियन स्ट्रेन के उल्लेख के साथ ट्वीट्स की एक लहर थी।

NDTV जैसे भारतीय मीडिया हाउसों को शब्द और हैशटैग फैलाते हुए देखा जा सकता है।

सत्यापित समाचार आउटलेट द्वारा वाक्यांश और हैशटैग “इंडिया स्ट्रेन” और “#इंडियास्ट्रेन” का उपयोग किया जा रहा है

यह देखना दिलचस्प है कि हर कोई इंडियन स्ट्रेन या इंडिया स्ट्रेन वाक्यांश का उपयोग करने के लिए इतना उतावला है, जबकि वे इसे चीनी वायरस या वुहान वायरस कहने के खिलाफ थे।

नोट- ऑपइंडिया स्वतंत्र रूप से टूलकिट की प्रामाणिकता की पुष्टि नहीं कर सका है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Anurag
B.Sc. Multimedia, a journalist by profession.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कैप्टन अमरिंदर की पाकिस्तानी दोस्त अरूसा आलम के ISI लिंक की होगी जाँच: बीजेपी से जुड़ने की खबरों के बीच चन्नी सरकार का ऐलान

"चूँकि कैप्टन का दावा है कि पंजाब को आईएसआई से खतरा है, इसलिए हम उनकी दोस्त अरूसा आलम के आईएसआई के साथ संबंधों की जाँच करेंगे।"

कैथोलिक कॉलेज में सेक्स कॉम्पिटिशनः लड़कियों से सेक्स करने की लगती होड़, सेक्सुअल एक्ट भी होते थे असाइन

कैथोलिक कॉलेज सेंट जॉन यूनिवर्सिटी के लड़के अपने कॉलेज के सिस्टर कॉलेज सेंट बेनेडिक्ट की लड़कियों को फँसाकर उनके साथ सेक्स करते थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
130,824FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe