Monday, January 25, 2021
Home राजनीति एक थे नेहरू, एक हैं मोदी: वे राम को अयोध्या से बेदखल करना चाहते...

एक थे नेहरू, एक हैं मोदी: वे राम को अयोध्या से बेदखल करना चाहते थे, ये भव्य मंदिर की शिला रखेंगे

नेहरू मूर्तियॉं हटाकर धर्मनिरपेक्ष दिखना चाहते थे। लेकिन, नायर के अड़ने और पंत तथा पटेल के नरम रुख अपनाने के कारण वे अपने इस मंसूबे में कामयाब नहीं हो पाए।

जिस दिन का हिंदुओं को दशकों से इंतजार था वह करीब आ गया है। 5 अगस्त को अयोध्या में भव्य श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भूमि पूजन में शिरकत करेंगे। पीएम बनने के बाद यह उनकी पहली अयोध्या यात्रा होगी।

रिपोर्टों के मुताबिक भूमि पूजन के दौरान श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास लगभग 40 किलो चॉंदी की श्रीराम शिला समर्पित करेंगे। पीएम मोदी इस शिला का पूजन कर स्थापित करेंगे।

सुप्रीम कोर्ट के फैसले ने भले इस दिन की राह खोली हो, लेकिन यह एक झटके में मुमकिन नहीं हुआ। इस दिन के लिए कई बलिदान हुए। कइयों ने अपनी पूरी जिंदगी झोंक दी। ये सब उस वक्त हुआ जब आजाद भारत में भी सत्ताधारी दल अयोध्या आंदोलन को कुचल देना चाहते थे।

यहॉं तक कि पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू भी रामलला को गर्भगृह से बेदखल करने पर अमादा थे। वरिष्ठ पत्रकार हेमंत शर्मा ने अपनी किताब ‘युद्ध में अयोध्या’ में ​विस्तार से इस घटना का ब्यौरा दिया है। नेहरू के मॅंसूबों को केरल के रहने वाले आईसीएस अधिकारी केकेके नायर, जो उस समय फैजाबाद के जिलाधिकारी थे ने विफल कर दिया था।

हेमंत शर्मा लिखते हैं, “उत्तर प्रदेश के कुछ मुस्लिम नेताओं और देवबंद के उलेमाओं ने नेहरू को तार भेजकर उनका ध्यान अयोध्या की ओर दिलाया। नेहरू ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री गोविंद वल्लभ पंत और राज्य के गृह मंत्री लाल बहादुर शास्त्री को तत्काल मस्जिद से मूर्तियों को हटाने के निर्देश दिए। लगातर केंद्र से संदेश लखनऊ आते और वैसे ही तार लखनऊ से फैजाबाद भेजे जाते कि मूर्तियॉं तुरंत हटाई जाएँ। 24 और 25 दिसंबर 1949 को लखनऊ में इस मुद्दे पर दिन भर उच्च स्तरीय बैठक होती रही। तय किया गया कि मूर्तियों को गर्भगृह से बाहर ले जाकर राम चबूतरे पर रखा जाएगा। पर फैजाबाद के सिटी मजिस्ट्रेट केकेके नायर इस बात पर अड़े रहे कि मूर्ति हटाने की घोषणा से मात्र से खून-खराबा होगा।”

उत्तर प्रदेश के तत्कालीन मुख्य सचिव भगवान सहाय ने इस संबंध में फैजाबाद के तत्कालीन जिलाधिकारी केकेके नायर को 23 दिसंबर को निर्देश दिए। जवाब में 26 दिसंबर को नायर ने लिखा, “मैं आज भी इसकी कल्पना नहीं कर पा रहा कि मूर्ति को वहॉं से कैसे हटाया जाए। यदि इस कार्य को धार्मिक रीति के अनुसार किया जाना है तो मुझे कोई ऐसा योग्य हिंदू पुजारी नहीं मिलेगा, जो इस काम के लिए अपने जीवन और मोक्ष को दॉंव पर लगाने का इच्छुक हो। यदि ऐसा किसी भी तरह या किसी के द्वारा भी किया जाना है तो इसके परिणामस्वरुप हिंदुओं के सभी वर्गों के विरोध का सामना सरकार को करना पड़ सकता है। मुझे स्पष्ट रूप से बताया जाना चाहिए कि क्या सरकार उस स्थिति का सामना करने के लिए तैयार है।”

इससे पहले की इस पर सरकार कोई प्रतिक्रिया देती अगले ही दिन नायर ने मुख्य सचिव को फिर एक चिट्ठी दाग दी। इस बार उन्होंने लिखा, “यदि सरकार किसी भी कीमत पर मूर्ति हटाने का फैसला लेती है तो मैं अनुरोध करूँगा कि मुझे कार्यमुक्त किया जाए और मेरा कार्यभार किसी ऐसे अधिकारी को दिया जाए, जिसे इस समाधान में वह अच्छाई दिखती हो जो मुझे दिखाई नहीं देती। जहॉं तक मेरा सवाल है मेरा विवेक मुझे ऐसा करने की इजाजत नहीं देता।”

नायर की चिट्ठियों से राज्य सरकार दबाव में आ गई। घबराए सहाय ने उन्हें फोन कर कहा कि वे मौके पर जैसा ठीक समझें करें। लेकिन, नेहरू लगातार अपनी चिंता जताते रहे। जब नायर सरकार की सुनने को तैयार नहीं थे तो नेहरू ने 26 नवंबर 1949 को पंत को एक तार भेजता। इसमें कहा, “अयोध्या में हुई घटनाओं से मैं परेशान हूँ। मैं गंभीरतापूवर्क उम्मीद करता हूँ कि आप इस विषय पर व्यक्तिगत रूप से ध्यान देंगे। वहॉं आपत्तिजनक उदाहरण रखे जा रहे हैं जिनके परिणाम घातक होंगे।”

मूर्तियॉं तो नहीं हटीं। पर नेहरू के प्रयास जारी रहे। 15 फरवरी 1950 को उन्होंने पंत को एक पत्र लिख अयोध्या के हालात पर जानकारी मॉंगी। साथ ही कश्मीर पर इसके कारण पड़ने वाले हालात को लेकर चिंता जताई। 5 मार्च 1950 को किशोरीलाल को लिखे पत्र में नेहरू ने कहा, “उत्तर प्रदेश सरकार ने हिम्मत से काम लिया, लेकिन जो हुआ वो कम था। फैजाबाद के अधिकारियों ने या तो बदमाशी की या फिर हालात को रोकने के लिए कोई कदम नहीं उठाया।”

यहॉं तक कि नेहरू अयोध्या भी जाना चाहते थे। पर पंत उन्हें टालते गए। यहॉं यह जानना जरूरी है कि पंत को नेहरू पसंद नहीं करते थे। पंत देश के पहले गृह मंत्री सरदार वल्लभाई पटेल के करीबी माने जाते थे। लिहाजा, नेहरू ने पटेल से भी पंत पर दबाव डलवाने की कोशिश की। 9 जनवरी 1950 को पटेल ने इस संबंध में पंत को पत्र भी लिखा। लेकिन, उन्होंने मूर्तियॉं हटाने के लिए कोई निर्देश देने की बजाए मुख्यमंत्री पंत की ओर से उठाए गए कदमों की तारीफ की। साथ ही इस समस्या के लिए अपनी पार्टी में बढ़ती गुटबंदी को भी जिम्मेदार ठहराया।

शर्मा ने ​अपनी किताब में जिन घटनाओं और चिट्ठियों का जिक्र किया है, उनसे जाहिर होता है कि नेहरू मूर्तियॉं हटाकर धर्मनिरपेक्ष दिखना चाहते थे। लेकिन, नायर के अड़ने और पंत तथा पटेल के नरम रुख अपनाने के कारण वे अपने इस मंसूबे में कामयाब नहीं हो पाए।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत झा
देसिल बयना सब जन मिट्ठा

 

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

इंडियन आर्मी ने कश्मीर ही नहीं बचाया, खुद भी बची: सेना को खत्म करना चाहते थे नेहरू

आज शायद यकीन नहीं हो, लेकिन मेजर जनरल डीके पालित ने अपनी किताब में बताया है कि नेहरू सेना को भंग करने के पक्ष में थे।

राम मंदिर के लिए ₹20 का दान (मृत बेटे के नाम से भी) – गरीब महिला की भावना अमीरों से ज्यादा – वायरल हुआ...

दान की मात्रा अहम नहीं बल्कि दान की भावना देखी जाती है। इस वीडियो से एक बात साफ है कि 80 वर्षीय वृद्ध महिला की भगवान राम के प्रति आस्था...

राम मंदिर के लिए दे रहे हैं दान तो इन 13 फ्रॉड UPI IDs को ध्यान से देख लीजिए, कहीं और न चला जाए...

राम मंदिर के आधिकारिक विवरण से मिलती-जुलती कई फ्रॉड UPI IDs बना ली गई हैं, जिसके माध्यम से श्रद्धालुओं को ठगने की कोशिश हो रही है।

ममता बनर्जी ने मुगल हरम पर रिसर्च कर पाई थी PhD ‘डिग्री’… बस वो यूनिवर्सिटी दुनिया में नहीं है

ममता बनर्जी 1982 में 'अमेरिका के 'ईस्ट जॉर्जिया यूनिवर्सिटी' से PhD होने का दावा करती थीं और अपने नाम में 'डॉक्टर' भी लगाती थीं।

FREE में UPSC/NDA/JEE/NEET की कोचिंग: UP सरकार का बड़ा फैसला, IAS-IPS लेंगे क्लास

मंडल स्तर पर अभ्युदय कोचिंग सेंटर खुलेंगे। योगी सरकार की 'अभ्युदय' योजना के तहत, UPSC, NEET व JEE के छात्रों को फ्री कोचिंग मिलेगी।

RSS को ‘निकरवाला’ बोला राहुल गाँधी ने, ‘लिकरवाला’ सुन जनता हुई ‘मस्त’: इस लेटेस्ट Video में है बहुत मजा

राहुल गाँधी जब बोलते हैं, बहुत मजा देते हैं। उनके मजे देने वाले वीडियो आप खोजेंगे 1 मिलेंगे 11... अब एक और वीडियो जुड़ गया है, एकदम लेटेस्ट।

प्रचलित ख़बरें

12 साल की लड़की का स्तन दबाया, महिला जज ने कहा – ‘नहीं है यौन शोषण’: बॉम्बे HC का मामला

बॉम्बे हाई कोर्ट की नागपुर बेंच ने शारीरिक संपर्क या ‘यौन शोषण के इरादे से किया गया शरीर से शरीर का स्पर्श’ (स्किन टू स्किन) के आधार पर...

राहुल गाँधी बोले- किसान मजबूत होते तो सेना की जरूरत नहीं होती… अनुवादक मोहम्मद इमरान बेहोश हो गए

इरोड में राहुल गाँधी के अंग्रेजी भाषण का तमिल में अनुवाद करने वाले प्रोफेसर मोहम्मद इमरान मंच पर ही बेहोश होकर गिर पड़े।

मदरसा सील करने पहुँची महिला तहसीलदार, काजी ने कहा- शहर का माहौल बिगड़ने में देर नहीं लगेगी, देखें वीडियो

महिला तहसीलदार बार-बार वहाँ मौजूद मुस्लिम लोगों को मामले में कलेक्टर से बात करने के लिए कह रही है। इसके बावजूद लोग उसकी बात को दरकिनार करते हुए उसे धमकाते हुए नजर आ रहे हैं।

निकिता तोमर को गोली मारते कैमरे में कैद हुआ था तौसीफ, HC से कहा- मैं निर्दोष, यह ऑनर किलिंग

निकिता तोमर हत्याकांड के मुख्य आरोपित तौसीफ ने हाई कोर्ट से घटना की दोबारा जाँच की माँग की है। उसने कहा कि यह मामला ऑनर किलिंग का है।

‘जिस लिफ्ट में ऑस्ट्रेलियन, उसमें हमें घुसने भी नहीं देते थे’ – IND Vs AUS सीरीज की सबसे ‘गंदी’ कहानी, वीडियो वायरल

भारतीय क्रिकेटरों को सिडनी में लिफ्ट में प्रवेश करने की अनुमति सिर्फ तब थी, अगर उसके अंदर पहले से कोई ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी न हो। एक भी...

इमरान की अवन्तिका से शादी और बेटी भी… अब दोस्त की बीवी लेखा से ‘रिश्ते’ के लिए किराए का घर: आमिर की राह पर...

इमरान और लेखा के रिश्ते की भनक मीडिया रिपोर्टों में छप गई है। अवन्तिका ने घर छोड़ दिया। ने लेखा का परिचय अपने जान-पहचान वालों से...
- विज्ञापन -

 

इंडियन आर्मी ने कश्मीर ही नहीं बचाया, खुद भी बची: सेना को खत्म करना चाहते थे नेहरू

आज शायद यकीन नहीं हो, लेकिन मेजर जनरल डीके पालित ने अपनी किताब में बताया है कि नेहरू सेना को भंग करने के पक्ष में थे।

Bigg Boss वाली हिरोइन जयश्री की संदिग्ध मौत, अपने ही फ्लैट में फंदे से लटका मिला शव

कन्नड़ अभिनेत्री जयश्री रमैया की मौत हो गई है। उनका शव उनके बेंगलुरु स्थित फ्लैट में फाँसी के फंदे से लटका हुआ संदिग्ध अवस्था में मिला है।

क्योंकि मेरी दुकान नहीं चली: कॉन्ट्रैक्ट किलर इम्तियाज ने बताया अपराध में वापसी का कारण

कॉन्ट्रैक्ट किलर रहे मोहम्मद इम्तियाज ने ऐसा कदम दुकान से होने वाली कम आमदनी और 'पीयर प्रेशर' यानी, अन्य गुर्गों द्वारा बनाए जा रहे दबाव के कारण उठाया।

राम मंदिर के लिए ₹20 का दान (मृत बेटे के नाम से भी) – गरीब महिला की भावना अमीरों से ज्यादा – वायरल हुआ...

दान की मात्रा अहम नहीं बल्कि दान की भावना देखी जाती है। इस वीडियो से एक बात साफ है कि 80 वर्षीय वृद्ध महिला की भगवान राम के प्रति आस्था...

मदरसे बंद करना सही, मुल्ले-मौलवी की कौन सुनता है: अजमल के ‘टोपी-बुर्का’ पर हिमांत बिस्वा सरमा का पलटवार

बदरुद्दीन अजमल ने भाजपा के खिलाफ मुस्लिमों में डर पैदा करने की कोशिश की थी। हिमांत बिस्वा सरमा ने इसका जवाब दिया है।

भारतीय सेना ने 20 चीनी फौजियों को जख्मी कर खदेड़ा, सीमा में घुसने का कर रहे थे प्रयास

सिक्किम के नाकु ला में यह झड़प हुई, जिसके कारण वहाँ हालात तनावपूर्ण हैं लेकिन स्थिति अब काबू में हैं। झड़प के दौरान हथियारों का इस्तेमाल नहीं हुआ।

‘खुद हाथ-पैर बाँध डैम में कूदी पूजा भारती’: झारखंड पुलिस के दावे को ठुकरा परिजनों ने माँगी CBI जाँच

हजारीबाग मेडिकल कॉलेज की छात्रा पूजा भारती पूर्वे के घरवालों ने पुलिस द्वारा कही गई आत्महत्या की बात मानने से साफ़ इनकार कर दिया है।

किसान रैली के लिए 308 पाकिस्तानी ट्विटर अकाउंट सक्रिय, ट्रैक्टर रैली की भी अनुमति… किसान नेता फिर भी नाखुश

दिल्ली पुलिस के साथ कई दौर की बातचीत के बाद किसानों को 26 जनवरी पर ट्रैक्टर रैली निकालने की अनुमति मिल गई है। पुलिस की शर्त है कि...

नवंबर 2020 में निकाह, जनवरी 2021 में शौहर के लिए ‘काफी मोटी’ हो गई सना खान: खुलासा कर कहा- वर्कआउट करूँगी

बकौल सना, अगर उनकी अम्मी ऐसा कह रही हैं तो सचमुच वो मोटी हो गई होंगी। उन्होंने कहा कि अब उन्हें पसीना बहाना पड़ेगा।

राम मंदिर के लिए दे रहे हैं दान तो इन 13 फ्रॉड UPI IDs को ध्यान से देख लीजिए, कहीं और न चला जाए...

राम मंदिर के आधिकारिक विवरण से मिलती-जुलती कई फ्रॉड UPI IDs बना ली गई हैं, जिसके माध्यम से श्रद्धालुओं को ठगने की कोशिश हो रही है।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
385,000SubscribersSubscribe