Friday, August 6, 2021
Homeराजनीति14 साल बाद BJP में लौटे बाबूलाल मरांडी: झारखंड के पहले सीएम ने...

14 साल बाद BJP में लौटे बाबूलाल मरांडी: झारखंड के पहले सीएम ने 2006 में बना ली थी अपनी पार्टी

"आज पार्टी में मेरा जिस तरह से बाँहें फैला कर स्वागत किया गया, उसके लिए मैं सबका आभार प्रकट करता हूँ। मैं आज पार्टी में आया हूँ तो किसी पद के मोह में नहीं आया हूँ। मुझे पार्टी जो भी जिम्मेदारी देगी मैं उसे स्वीकार करूँगा।"

झारखंड के पहले मुख्यमंत्री और एक समय में प्रदेश की राजनीति का कद्दावर चेहरा रहे बाबूलाल मरांडी की सोमवार (फरवरी 17, 2020) को ‘घर वापसी’ हो गई। मरांडी ने अपनी पार्टी झारखंड विकास मोर्चा (JVM) का भारतीय जनता पार्टी में विलय कर दिया। मरांडी ने यह फैसला इसी महीने नई दिल्ली में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात के बाद लिया था। सोमवार को राँची में एक कार्यक्रम के दौरान मरांडी ने विलय की औपचारिक घोषणा की। इस अवसर पर गृहमंत्री अमित शाह भी मौजूद थे। उन्होंने मरांडी का पार्टी में स्वागत किया।

शाह ने कहा, “मुझे खुशी है कि बाबूलाल मरांडी बीजेपी में लौट आए हैं, मैं 2014 से उनकी वापसी के लिए काम कर रहा था।” उनकी घर वापसी को लेकर झारखंड की राजधानी राँची में विशाल कार्यक्रम आयोजित किया गया। बीजेपी ने इसे मिलन समारोह का नाम दिया। मरांडी ने बीजेपी में शामिल होने के बाद कहा कि उन्हें पद की लालसा नहीं है और वे पार्टी के लिए झाड़ू लगाने को भी तैयार हैं।

बाबूलाल मरांडी ने अमित शाह को धन्यवाद दिया और उपस्थित सभी लोगों का आभार जताते हुए कहा, “आज पार्टी में मेरा जिस तरह से बाँहें फैला कर स्वागत किया गया, उसके लिए मैं सबका आभार प्रकट करता हूँ। मैं आज पार्टी में आया हूँ तो किसी पद के मोह में नहीं आया हूँ। मुझे पार्टी जो भी जिम्मेदारी देगी मैं उसे स्वीकार करूँगा। मैं एक आम कार्यकर्ता की तरह काम करूँगा। पार्टी अगर मुझे झाड़ू लगाने का काम भी मुझे देगी तो मैं उसे करूँगा।”

इस दौरान शाह ने कहा कि लोग चर्चा करते हैं कि बीजेपी झारखंड में चुनाव हार गई। लेकिन बीजेपी का लक्ष्य सरकार बनाना नहीं है, बल्कि राष्ट्र और समाज का निर्माण करना होता है। इस लक्ष्य के लिए हमलोग सालों विपक्ष में रहे हैं। वहीं मरांडी ने अपने संबोधन में हेमंत सरकार पर जमकर हमला बोला और कहा कि प्रदेश में कानून व्यवस्था की स्थिति बहुत खराब है, लोगों की हत्याएँ हो रही है, लेकिन सरकार बेखबर है।

बता दें कि बाबूलाल मरांडी ने 2006 में बीजेपी से अलग होकर झारखंड विकास मोर्चा के नाम से नई पार्टी का गठन किया था। हालाँकि उनकी पार्टी का प्रदर्शन कुछ खास नहीं रहा। 2009, 2014 और 2019 के झारखंड विधानसभा चुनाव में पार्टी को क्रमशः 11, 8 और 3 सीटों पर जीत मिली।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पाकिस्तान में गणेश मंदिर तोड़ने पर भारत सख्त, सालभर में 7 मंदिर बन चुके हैं इस्लामी कट्टरपंथियों का निशाना

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में मंदिर तोड़े जाने के बाद भारत सरकार ने पाकिस्तान के शीर्ष राजनयिक को तलब किया है।

अफगानिस्तान: पहले कॉमेडियन और अब कवि, तालिबान ने अब्दुल्ला अतेफी को घर से घसीट कर निकाला और मार डाला

अफगानिस्तान के उपराष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह ने भी अब्दुल्ला अतेफी की हत्या की निंदा की और कहा कि अफगानिस्तान की बुद्धिमत्ता खतरे में है और तालिबान इसे ख़त्म करके अफगानिस्तान को बंजर बनाना चाहता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,173FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe