Monday, August 2, 2021
Homeराजनीतिमोतिहारी से ​हिरासत में लिए गए कन्हैया कुमार

मोतिहारी से ​हिरासत में लिए गए कन्हैया कुमार

एसडीओ ने कन्हैया कुमार को भाषण देने की इजाजत नहीं दी तो उसके समर्थकों ने हंगामा किया। इसके बाद कन्हैया अपने वाहन पर ही खड़े होकर लोगों को संबोधित करने लगा। फिर पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया।

जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार को ​हिरासत में ​लिया गया है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार उसे बिहार के बेतिया जिले के भितिहरवा आश्रम से हिरासत में लिया गया। वह यहॉं
‘जन-गण-मन यात्रा’ यात्रा की शुरुआत करने वाला था। यह यात्रा पश्चिमी चंपारण के बापूधाम से शुरू होकर 29 फरवरी को पटना के गॉंधी मैदान में खत्म होनी थी।

यात्रा की शुरुआत में सीपीआई नेता कन्हैया कुमार एक सभा को संबोधित करने वाला था। अमर उजाला की रिपोर्ट के अनुसार उसे इसकी इजाजत नहीं दी गई थी। प्रभात खबर के अनुसार एसडीओ ने कन्हैया कुमार को भाषण देने की इजाजत नहीं दी तो उसके समर्थकों ने हंगामा किया। इसके बाद कन्हैया अपने वाहन पर ही खड़े होकर लोगों को संबोधित करने लगा। फिर पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया। कन्हैया ने ट्वीट कर हिरासत में लिए जाने की पुष्टि की है।

इससे पहले कन्हैया ने शरजील इमाम की गिरफ्तारी को लेकर केंद्र की मोदी सरकार की आलोचना की थी। उसने भारत के टुकड़े करने की बात कहने वाले इमाम पर देशद्रोह का मुकदमा दर्ज किए जाने को लेकर सवाल उठाए थे।

जेएनयू में 2016 में हुई देश विरोधी नारेबाजी में कन्हैया के खिलाफ दिल्ली की आम आदमी पार्टी सरकार देशद्रोह का मुकदमा जलाने की इजाजत नहीं दे रही है। दिल्ली पुलिस ने बीते दिसंबर में अदालत को यह जानकारी दी थी। इस मामले की अब 19 फरवरी को सुनवाई होनी है।

गौरतलब है कि 14 जनवरी 2019 को दिल्ली पुलिस ने करीब 1200 पन्ने का आरोपपत्र अदालत में दाखिल किया था। इसमें जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार और डेमोक्रेटिक स्टूडेंट यूनियन के सदस्य उमर खालिद को मुख्य आरोपित बनाया था। वहीं, सात अन्य आरोपितों में आकिब हुसैन, मुजीब हुसैन, मुनीब हुसैन, उतर गुल, रईस रसूल, बसरत अली व खालिद बशीर भट का नाम शामिल है। इसके अलावा रामा नागा, आशुतोष, शहला राशीद, डी राजा की बेटी अपराजिता राजा, रुबैना सैफी, समर खान समेत 36 छात्रों को भी आरोपित बताया गया है।

लिंगलहरी कन्हैया को फ़ोर्ब्स ने 20 प्रभावशाली व्यक्तियों में किया शामिल, गिराई अपनी साख

कन्हैया पर देशद्रोह वाली फाइल केजरीवाल सरकार के पास, सरकारी वकील ने कोर्ट को सब बताया

AAP सरकार का दावा: ‘भारत तेरे टुकड़े होंगे’ तो एक दूसरे को चिढ़ाने के लिए बोला गया था, कन्हैया का क्या दोष

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘दविंदर सिंह के विरुद्ध जाँच की जरूरत नहीं…मोदी सरकार क्या छिपा रही’: सोशल मीडिया में किए जा रहे दावों में कितनी सच्चाई

केंद्र सरकार के ख़िलाफ़ कई कॉन्ग्रेसियों, पत्रकारों, बुद्धिजीवियों ने सोशल मीडिया पर दावा किया। लेकिन इनमें से किसी ने एक बार भी नहीं सोचा कि अनुच्छेद 311 क्या है।

ममता से मिले राजदीप तो आया मौसम रसगुल्ला का, राजनीति में अब लड्डू का हाल भी राहुल गाँधी जैसा

राजदीप सरदेसाई ने रसगुल्ले को राजनीति और पत्रकारिता के मध्य में रख दिया है। राजनीति इसे खिलाकर कठिन सवालों को रोकेगी और पत्रकारिता इसे खाकर।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,620FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe