Thursday, July 18, 2024
Homeराजनीतिशराब नीति घोटाले में CM केजरीवाल पर लटकी तलवार! अभी पंजाब में कर रहे...

शराब नीति घोटाले में CM केजरीवाल पर लटकी तलवार! अभी पंजाब में कर रहे हैं विपश्यना: ED ने तीसरी बार किया तलब, 3 जनवरी को पूछताछ के लिए बुलाया

दिल्ली शराब नीति मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को तीसरी बार समन जारी किया है। उन्हें 3 जनवरी 2024 को पेश होने के लिए कहा गया है। उन्होंने पहले दो समन को छोड़ दिया था, जिसमें शहर से बाहर होने और नोटिस को राजनीतिक रूप से प्रेरित बताया गया था।

दिल्ली शराब नीति मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को तीसरी बार समन जारी किया है। उन्हें 3 जनवरी 2024 को ईडी के सामने पेश होने के लिए कहा गया है। इससे पहले सीएम केजरीवाल को दो समन जारी किया जा चुका है, लेकिन वे हाजिर नहीं हुए। उन्होंने खुद के शहर से बाहर होने और नोटिस को राजनीतिक रूप से प्रेरित बताया गया था।

बता दें कि ईडी दिल्ली एक्साइज नीति में कथित घोटाले के धनशोधन के पहलू की जाँच कर रही है। हालाँकि, यह स्पष्ट नहीं है कि केजरीवाल इस तीसरे समन का पालन करेंगे या नहीं। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल इस समय विपश्यना के लिए पंजाब के होशियारपुर गए हुए हैं और 30 दिसंबर 2023 तक लौटने की उम्मीद है।

इससे पहले, ईडी ने 18 दिसंबर 2023 को अरविंद केजरीवाल के खिलाफ दूसरा समन जारी किया था और 21 दिसंबर 2023 को पेश होने के लिए कहा था। इस समन को आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक केजरीवाल ने राजनीति से प्रेरित करार दिया था। उन्होंने कहा था कि ईडी ने ये समन ऐसे समय में जारी किया, जब वो 20 दिसंबर 2023 को विपश्यना के लिए रवाना होने वाले हैं।

वहीं, ईडी ने इस मामले में 2 नवंबर 2023 को पहला समन भेजकर अरविंद केजरीवाल को पूछताछ में शामिल होने के लिए बुलाया था। तब अरविंद केजरीवाल खुद को चुनाव में व्यस्त बताकर ईडी के सामने पेश होने से इनकार कर दिया था। वो मध्य प्रदेश के सिंगरौली में चुनाव प्रचार करने चले गए थे।

इस मामले में जेल में बंद अरविंद केजरीवाल के करीबी साथियों और आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेताओं- संजय सिंह और मनीष सिसोदिया दोनों ने जमानत के लिए याचिका दाखिल की थी। हालाँकि, कोर्ट ने शुक्रवार (22 दिसंबर 2023) को उनकी याचिका खारिज कर दी। संजय सिंह को 10 जनवरी 2024 तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है, जबकि मनीष सिसोदिया की सुनवाई 19 जनवरी 2024 को होगी।

दिल्ली की आबकारी नीति में घोटाले में दिल्ली सरकार ने शराब की बिक्री और लाइसेंसिंग का काम निजी कंपनियों को दे दिया था। इस नीति पर कई सवाल उठे थे, जिसमें यह भी सवाल था कि क्या इस नीति से दिल्ली सरकार को राजस्व में नुकसान हुआ है। ईडी ने इस घोटाले की जाँच शुरू की और उसने कई लोगों से पूछताछ की।

अरविंद केजरीवाल के अलावा, इस घोटाले में कई अन्य लोगों के नाम भी सामने आए, जिनमें दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया भी शामिल हैं। मनीष सिसोदिया, संजय सिंह जैसे महत्वपूर्ण लोग इस मामले में गिरफ्तार हो चुके हैं। इसी मामले में उन्होंने जमानत की याचिका दाखिल की थी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

साथियों ने हाथ-पाँव पकड़ा, काज़िम अंसारी ने ताबतोड़ घोंपा चाकू… धराया VIP अध्यक्ष मुकेश सहनी के पिता का हत्यारा, रात के डेढ़ बजे घर...

घटना की रात काज़िम अंसारी ने 10-11 बजे के बीच रेकी भी की थी जो CCTV में कैद है। रात के करीब डेढ़ बजे ये लोग पीछे के दरवाजे से घर में घुसे।

प्राइवेट नौकरियों में 75% आरक्षण वाले बिल पर कॉन्ग्रेस सरकार का U-टर्न, वापस लिया फैसला: IT कंपनियों ने दी थी कर्नाटक छोड़ने की धमकी

सिद्धारमैया के फैसले का भारी विरोध भी हो रहा था, जिसकी वजह से कॉन्ग्रेसी सरकार बुरी तरह से घिर गई थी। यही नहीं, इस फैसले की जानकारी देने वाले ट्वीट को भी मुख्यमंत्री को डिलीट करना पड़ा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -