Saturday, July 24, 2021
Homeराजनीति50 साल पहले पिता को देने पड़े थे ₹101, ₹5 में ही हो जाएगा...

50 साल पहले पिता को देने पड़े थे ₹101, ₹5 में ही हो जाएगा बेटे का काम: तब अटल थे, आज मोदी हैं

इसे भी एक संयोग कह लीजिए कि बाद में जब सिंधिया कॉन्ग्रेस में चले गए तो 1984 में ग्वालियर की सीट पर उनका मुकाबला अटल बिहारी वाजपेयी से ही हुआ। सिंधिया उस चुनाव में वाजपेयी को हराने में कामयाब रहे थे।

ग्वालियर राजघराने का भाजपा और जनसंघ से पुराना नाता रहा है। राजमाता विजयराजे सिंधिया भाजपा के संस्थापकों में शामिल थीं। उनके बेटे माधवराव सिंधिया भी कॉन्ग्रेस से पहले जनसंघ में ही थे। उन्होंने अपनी माँ की उपस्थिति में पार्टी के तत्कालीन अध्यक्ष अटल बिहारी वाजपेयी से जनसंघ की सदस्यता ली थी। वो फ़रवरी 23, 1970 का दिन था, जब उन्होंने 101 रुपए सदस्यता शुल्क जमा कर जनसंघ की सदस्यता ग्रहण की थी। अगले ही साल 1971 में पार्टी के टिकट पर उन्होंने गुना लोकसभा क्षेत्र से जीत भी दर्ज की।

इसे भी एक संयोग कह लीजिए कि बाद में जब सिंधिया कॉन्ग्रेस में चले गए तो 1984 में ग्वालियर की सीट पर उनका मुकाबला अटल बिहारी वाजपेयी से ही हुआ। सिंधिया उस चुनाव में वाजपेयी को हराने में कामयाब रहे थे। उन्होंने लगातार 9 लोकसभा चुनावों में जीत दर्ज की। कॉन्ग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय विदेश मंत्री नटवर सिंह ने तो यहाँ तक कहा कि अगर माधवराव की असामयिक मौत नहीं होती तो उनका प्रधानमंत्री की कुर्सी तक पहुँचना तय था। आपातकाल के बाद जब 1977 में जनता पार्टी की लहर थी, तब भी सिंधिया निर्दलीय चुनाव लड़ कर अपना गढ़ बचाने में कामयाब रहे थे।

अब माधवराव सिंधिया के बेटे और विजयराजे सिंधिया के पोते ज्योतिरादित्य के भाजपा का दामन थामने की उम्मीद है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से उनकी मुलाक़ात और कॉन्ग्रेस से इस्तीफे के बाद अब सिर्फ़ औपचारिकता ही बाकी है। सिंधिया को भाजपा का सदस्य बनने के लिए 5 रुपए का सदस्यता शुल्क देना होगा। पार्टी की वेबसाइट पर उपलब्ध फॉर्म के अनुसार, सदस्य बनने के लिए 5 रुपए का शुल्क अनिवार्य है। वहीं स्वैच्छिक रूप से न्यूनतम 100 रुपए या उससे अधिक का अतिरिक्त योगदान दिया जा सकता है।

माधवराव सिंधिया की सदस्यता पर्ची, जिस पर वाजपेयी के भी हस्ताक्षर हैं

जब माधवराव सिंधिया जनसंघ के सदस्य बने थे, तब उनकी उम्र मात्र 25 साल थी। ज्योतिरादित्य सिंधिया की उम्र 49 वर्ष है। वे पिछले 18 वर्षों से कॉन्ग्रेस में थे। जैसे कमलनाथ सरकार में बेटे की उपेक्षा की गई, ऐसे ही दिग्विजय सरकार में पिता को दरकिनार किया गया था। तब माधवराव ने 1993 में ‘मध्य प्रदेश विकास कॉन्ग्रेस’ बनाई थी। बाद में वो फिर कॉन्ग्रेस में वापस लौट आए थे। इसी तरह 1967 में विजयराजे सिंधिया को नज़रअंदाज़ किया गया था, तब उन्होंने कॉन्ग्रेस छोड़ कर जनसंघ का दामन थमा था।

जब माधवराव जनसंघ के सदस्य बने थे, तब उन्होंने अपना पेशा खेती बताया था। माधवराव सिंधिया पीवी नरसिम्हा राव और राजीव गाँधी मंत्रिमंडल के अहम सदस्यों में से एक रहे। उनकी क्रिकेट प्रशासन में भी दिलचस्पी थी। वो 1990-93 तक बीसीसीसाई के अध्यक्ष भी रहे। उनके बेटे ज्योतिरादित्य सिंधिया भी मध्य प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष रहे हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘शिव भक्त’ मीराबाई चानू, कंठस्थ जिन्हें हनुमान चालीसा, कमरे में रखती हैं दोनों की प्रतिमाएँ: बैग में भारत की मिट्टी, खाने में गाँव का...

मीराबाई चानू ओलंपिक में वेटलिफ्टिंग (Weightlifting) में सिल्वर मेडल जीतने वाली पहली भारतीय महिला बन गईं। पिछले ओलंपिक में उन्हें विफलता हाथ लगी थी। जानिए कैसे उबरीं।

PM मोदी की फेक फोटो से फैलाया झूठ, इंटरव्यू भी काट कर चलवाया… पूर्व IAS जवाहर सरकार को राज्यसभा भेजेगी TMC

TMC ने राज्यसभा के लिए जवाहर सरकार को नामांकित किया है। हाल ही में वह पीएम मोदी की छवि को धूमिल करने के लिए नीता अंबानी के साथ उनकी फोटोशॉप्ड तस्वीर शेयर करके चर्चा में आए थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
110,987FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe