Monday, July 26, 2021
Homeराजनीतिपासपोर्ट रद्द हुआ तो बोलीं महबूबा मुफ़्ती- CID रिपोर्ट पर मुझे राष्ट्रीय सुरक्षा के...

पासपोर्ट रद्द हुआ तो बोलीं महबूबा मुफ़्ती- CID रिपोर्ट पर मुझे राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा बताकर पासपोर्ट किया कैंसिल

महबूबा मुफ्ती पर मनी लाँन्ड्रिंग का केस चल रहा है। इसी केस में बीते गुरुवार को ईडी की टीम ने उनसे 5 घंटे तक पूछताछ भी की थी। प्रवर्तन निदेशालय की टीम ने मुफ्ती के श्रीनगर स्थित घर से 23 दिसंबर 2020 को एक डायरी बरामद की थी, जिसमें कई प्रकार के वित्तीय लेनदेन का जिक्र था।

जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने केंद्र सरकार पर उन्हें राष्ट्र की सुरक्षा के लिए खतरा बताते हुए पासपोर्ट जारी नहीं करने का आरोप लगाया है। उन्होंने बताया कि जम्मू-कश्मीर पुलिस के सीआईडी की रिपोर्ट के आधार पर उन्हें राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा बताया गया है।

महबूबा ने श्रीनगर के क्षेत्रीय पासपोर्ट अधिकारी का लेटर ट्विटर पर पोस्ट करते हुए लिखा, “पासपोर्ट कार्यालय ने सीआईडी की रिपोर्ट के आधार पर मुझे पासपोर्ट जारी करने से मना कर दिया है। इसमें मुझे भारत की सुरक्षा के लिए खतरा बताया गया है। यह अगस्त 2019 के बाद से कश्मीर में पाई गई सामान्य स्थिति का स्तर है कि पूर्व मुख्यमंत्री को पासपोर्ट जारी करना देश की संप्रभुता के लिए खतरा है।”

पासपोर्ट ऑफिस द्वारा जारी पत्र

गौरतलब है कि महबूबा मुफ्ती पर मनी लाँन्ड्रिंग का केस चल रहा है। इसी केस में बीते गुरुवार को ईडी की टीम ने उनसे 5 घंटे तक पूछताछ भी की थी। प्रवर्तन निदेशालय की टीम ने मुफ्ती के श्रीनगर स्थित घर से 23 दिसंबर 2020 को एक डायरी बरामद की थी, जिसमें कई प्रकार के वित्तीय लेनदेन का जिक्र था। जाँच एजेंसी इसी की पड़ताल में लगी हुई है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,226FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe