Friday, July 19, 2024
Homeराजनीतिनिर्मला सीतारमण ने जो किया, वो आजम खान जैसों के मुँह पर 'तमाचा' है...

निर्मला सीतारमण ने जो किया, वो आजम खान जैसों के मुँह पर ‘तमाचा’ है – शशि थरूर ने भी किया सैल्यूट!

"केरल में अपने व्यस्त चुनावी कार्यक्रम के बीच आज सुबह अस्पताल पहुँचकर उन्होंने मेरा हाल जाना। भारतीय राजनीति में शिष्टाचार एक दुर्लभ गुण है। उनके द्वारा इसका बेहतरीन उदाहरण पेश करते देखकर बहुत अच्छा लगा।"

लोकसभा चुनावों के चलते एक ओर जहाँ नेताओं के बीच आरोप-प्रत्यारोपों का दौरा जारी है, हर ओर से सिर्फ़ आचार संहिता के उल्लंघन की खबरें आ रही हैं। वहीं दूसरी ओर राजनैतिक गलियारे से दिल को सुकून देने वाली तस्वीर सामने आई है। इसमें कॉन्ग्रेस नेता शशि थरूर और रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण एक दूसरे से हाथ मिलाते दिखाई दे रहे हैं।

इस तस्वीर में देश की रक्षा मंत्री कॉन्ग्रेस नेता शशि थरूर से तिरुवनंतपुरम के अस्पताल में मिलने पहुँची हैं। इसके बाद शशि थरूर ने खुद इस तस्वीर को साझा करते हुए रक्षा मंत्री की तारीफ़ की।

दोनों पार्टियों के मध्य अनेकों मतभेदों के बाद भी निर्मला सीतारमण का थरूर से मिलना उन्हें भावुक कर गया। उन्होंने ट्विटर पर अपनी तस्वीर को साझा करने के साथ कहा कि राजनीति में शिष्टाचार एक दुर्लभ गुण है।

थरूर ने अपने ट्वीट पर लिखा, “निर्मला सीतारमण का यहाँ आना दिल को छू गया। केरल में अपने व्यस्त चुनावी कार्यक्रम के बीच आज सुबह अस्पताल पहुँचकर उन्होंने मेरा हाल जाना। भारतीय राजनीति में शिष्टाचार एक दुर्लभ गुण है। उन्हें इसका बेहतरीन उदाहरण पेश करते देखकर बहुत अच्छा लगा।”

गौरतलब है कि कॉन्ग्रेस पार्टी के दिग्गज नेता और केरल के तिरुवनंतपुरम से मौजूदा सांसद शशि थरूर एक मंदिर में पूजा करने के दौरान बुरी तरह गिर पड़े थे। जिसके कारण उनके माथे पर गहरी चोट लगी। उन्हें वहाँ के जनरल अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहाँ डॉक्टरों ने बाद में उन्हें खतरे से बाहर बताया।

चोट गहरी होने के कारण उनके माथे पर 11 (पहले मीडिया में थरूर को 6 टाँके लगने की खबर थी) टाँके आए। खबरों के मुताबिक इस घटना के समय शशि थरूर मंदिर में तुलाभरम पूजा कर रहे थे। जो केरल के कुछ गिने-चुने मंदिरों में ही होती है। इस पूजा में देवी-देवताओं को अर्पित की जाने वाली वस्तुओं को व्यक्ति के बराबर तोला जाता है। इस कार्य के लिए वहाँ के मंदिरों में बड़ी-बड़ी मशीनें लगी हुई हैं। तराजू में बैठकर जिस समय शशि वस्तुओं के साथ खुद को तोल रहे थे तभी चेन टूट गई थी और वे गिर गए थे।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ सब हैं भोले के भक्त, बोल बम की सेवा जहाँ सबका धर्म… वहाँ अस्पृश्यता की राजनीति मत ठूँसिए नकवी साब!

मुख्तार अब्बास नकवी ने लिखा कि आस्था का सम्मान होना ही चाहिए,पर अस्पृश्यता का संरक्षण नहीं होना चाहिए।

अजमेर दरगाह के सामने ‘सर तन से जुदा’ मामले की जाँच में लापरवाही! कई खामियाँ आईं सामने: कॉन्ग्रेस सरकार ने कराई थी जाँच, खादिम...

सर तन से जुदा नारे लगाने के मामले में अजमेर दरगाह के खादिम गौहर चिश्ती की जाँच में लापरवाही को लेकर कोर्ट ने इंगित किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -