Wednesday, October 20, 2021
Homeदेश-समाजपाकिस्तान ने हाफिज सईद के आतंकी संगठन जमात-उद-दावा और उसके सहयोगी संगठन पर लगाया...

पाकिस्तान ने हाफिज सईद के आतंकी संगठन जमात-उद-दावा और उसके सहयोगी संगठन पर लगाया बैन

भारत सरकार ने पाकिस्तान को दिया गया ‘मोस्ट फेवर्ड नेशन‘ का दर्जा भी वापस ले लिया है। अब गडकरी के ताज़ा ऐलान के बाद पहले से ही आर्थिक परेशानी से जूझ रहे पाकिस्तान पर संकट के नए बादल मँडराने लगे हैं।

पुलवामा हमले के बाद भारत और पाकिस्तान के रिश्तों में तनाव के बीच वृहस्पतिवार (फरवरी 21, 2019) को पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने राष्ट्रीय सुरक्षा समिति की बैठक ली जिसमें कुछ बड़े फैसले लिए गए हैं। पाकिस्तानी वेबसाइट ‘डॉन’ के अनुसार पाकिस्तान ने आतंकी संगठन जमात-उद-दावा पर बैन लगाया है। इसके साथ ही इसके सहयोगी फ़लाह-ए-इंसानियत पर भी बैन लगाया गया है। इन दोनों आतंकवादी संगठनों का संबंध मुंबई हमले के आरोपी हाफिज सईद से है। बैठक में इन दोनों ही संगठनों को गैरकानूनी करार दिया गया है।

माना जा रहा है कि पुलवामा आतंकी हमले के बाद भारत सरकार के द्वारा अपनाए जा रहे सख्त रवैये के कारण ही यह निर्णय लिया है। आज ही केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने एक बड़ा बयान देकर कहा कि अब पाकिस्तान को रावी, ब्यास और सतलुज का पानी न देकर उस से यमुना को सींचेंगे। भारत सरकार ने पाकिस्तान को दिया गया ‘मोस्ट फेवर्ड नेशन‘ का दर्जा भी वापस ले लिया है। अब गडकरी के ताज़ा ऐलान के बाद पहले से ही आर्थिक परेशानी से जूझ रहे पाकिस्तान पर संकट के नए बादल मँडराने लगे हैं।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की अगुआई में बुलाई गई इस बैठक का मुख्य मुद्दा आतंकवाद के ख़िलाफ़ पाकिस्तान के एक्शन प्लान को लेकर था।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

धंधा हो और चकाचक इसलिए नाम बदलने की तैयारी कर रहा है Facebook, इसी फॉर्मूले से Google ने भी बदली थी तकदीर

फेसबुक का नाम बदलने को लेकर मार्क जुकरबर्ग 28 अक्टूबर को कंपनी की सालाना कनेक्ट कॉन्फ्रेंस में बात कर सकते हैं।

अब टेरर फंडिंग में पकड़ा गया तारिक अहमद डार, 2005 के दिल्ली ब्लास्ट में भी हुआ था गिरफ्तार: 2017 में तिहाड़ से छूटा था

अब जब तारिक अहमद डार फिर से NIA की गिरफ्त में आया है तो उसकी नई-पुरानी कड़ियों को जोड़ते हुए एक बार फिर से न्याय की आस जगी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
130,228FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe