Saturday, July 13, 2024
Homeराजनीतिमणिपुर पर संसद में चर्चा को मोदी सरकार तैयार, पर विपक्ष पूछ रहा -...

मणिपुर पर संसद में चर्चा को मोदी सरकार तैयार, पर विपक्ष पूछ रहा – PM ने सदन के बाहर क्यों दिया जवाब: मॉनसून सत्र का पहला दिन हंगामे की भेंट चढ़ा

केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने भी कहा कि सरकार चर्चा के लिए तैयार है। प्रह्लाद जोशी ने इसे मानवीय संवेदनाओं का मामला बताते हुए कहा कि इस बाबत स्पीकर तिथि का निर्णय लें।

संसद का मॉनसून सत्र गुरुवार (23 जून, 2023) से शुरू हो गया। इससे एक दिन पहले ही मणिपुर से एक वीडियो सामने आया था, जिसमें 2 महिलाओं को नग्न कर उनका परेड कराते हुए देखा गया था। इन महिलाओं के साथ गैंगरेप की वारदात भी हुई है। संसद में विपक्ष ने इस मुद्दे पर राजनीति करते हुए हंगामा किया। केंद्र सरकार ने साफ़ कर दिया है कि वो मणिपुर पर दोनों सदनों में चर्चा के लिए तैयार है, लेकिन विपक्षी दल हंगामे से बाज नहीं आए।

संसदीय मामलों के केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद जोशी ने जानकारी दी कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह इस चर्चा पर संसद में उत्तर देंगे। चर्चा के लिए तारीख़ का निर्णय अब स्पीकर लेंगे। हंगामे के कारन संसद का सत्र आज दिन भर के लिए स्थगित कर दिया गया है। केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने भी कहा कि सरकार चर्चा के लिए तैयार है। प्रह्लाद जोशी ने इसे मानवीय संवेदनाओं का मामला बताते हुए कहा कि इस बाबत स्पीकर तिथि का निर्णय लें।

उधर कॉन्ग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि मणिपुर जल रहा है, महिलाओं को नंगा कर के उनका परेड कराया जा रहा है, गैंगरेप हो रहा है और प्रधानमंत्री चुप हैं। राज्यसभा में खड़गे ने कहा कि प्रधानमंत्री सदन के बाहर बयान दे रहे हैं। विपक्षी दल इस मामले पर प्रधानमंत्री द्वारा जवाब की माँग कर रहे हैं। कॉन्ग्रेस नेता जयराम रमेश ने कहा कि ‘INDIA’ के 26 दल चाहते हैं कि संसद के सारे काम छोड़ कर सबसे पहले मणिपुर पर चर्चा हो।

लोकसभा में कॉन्ग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि सत्र शुरू होने से पहले एक औपचारिक मुलाकात में सोनिया गाँधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मणिपुर पर चर्चा की माँग की। संसद सत्र शुरू होने से पहले पीएम नेताओं से मिलते हैं। अधीर रंजन ने दावा किया कि पीएम मोदी इस सवाल से हक्के-बक्के रह गए और कहा कि वो इस पर विचार करेंगे। राज्यसभा में केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि विपक्ष चाहता ही नहीं है कि संसद में कोई कामकाज हो, इसीलिए सरकार के चर्चा के लिए तैयार होने के बावजूद हंगामा किया गया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

‘आपातकाल तो उत्तर भारत का मुद्दा है, दक्षिण में तो इंदिरा गाँधी जीत गई थीं’: राजदीप सरदेसाई ने ‘संविधान की हत्या’ को ठहराया जायज

सरदेसाई ने कहा कि आपातकाल के काले दौर में पूरे देश पर अत्याचार करने के बाद भी कॉन्ग्रेस चुनावों में विजयी हुई, जिसका मतलब है कि लोग आगे बढ़ चुके हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -