Friday, July 19, 2024
Homeराजनीतिराष्ट्रपति ने जताया दुःख, PM मोदी फोन कर बोले - 20 सालों से ये...

राष्ट्रपति ने जताया दुःख, PM मोदी फोन कर बोले – 20 सालों से ये सब झेल रहा: उप-राष्ट्रपति जगदीप धनखड़ के अपमान पर जाट समाज ने कहा – चुनाव में करेंगे हिसाब

धरने के दौरान तृणमूल कॉन्ग्रेस के सांसद कल्याण बनर्जी ने उप-राष्ट्रपति जगदीप धनखड़ की अपमानजनक तरीके से नक़ल उतारी और मजाक उड़ाया।

उप-राष्ट्रपति जगदीप धनखड़ को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने फोन करके उनके अपमान पर दुःख जताया है। उन्होंने कहा है कि वह इस प्रकार के अपमान पिछले 2 दशकों से झेल रहे हैं। प्रधानमंत्री ने इसे दुखद घटना करार दिया है। उप-राष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने इसे उनकी किसान पृष्ठभूमि और जाट समाज से होने को लेकर अपमान बताया था। मंगलवार (19 दिसम्बर, 2023) को विपक्ष के सांसदों ने संसद के बाहर उप-राष्ट्रपति की नक़ल उतारी थी और उनका मजाक उड़ाया था। राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने भी इस मामले पर दुःख जताया है।

बता दें कि उप-राष्ट्रपति राज्यसभा के सभापति भी होते हैं। उन्होंने सांसदों द्वारा अपमान किए जाने पर ‘X’ (पूर्व में ट्विटर) पर लिखा, “प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का फ़ोन कॉल आया। उन्होंने पवित्र संसद के भीतर कुछ माननीय सांसदों के ड्रामेबाजी पर व्यथा जताई। उन्होंने कहा कि वह इस प्रकार के अपमान पिछले 20 वर्षों से झेल रहे हैं लेकिन उप-राष्ट्रपति जैसी संवैधानिक संस्था के साथ ऐसा बर्ताव वह भी संसद के भीतर, दुर्भाग्यपूर्ण था।”

आगे उप-राष्ट्रपति ने लिखा, “मैंने प्रधानमंत्री को बताया कि कुछ लोगों की कलाकारियाँ मुझे मेरा कर्तव्य निभाने और हमारे संविधान में लिखे सिद्धांतों को बनाए रखने से रोक नहीं सकती। मैं उन मूल्यों के लिए ह्रदय से प्रतिबद्ध हूँ। कोई भी अपमान मेरा रास्ता नहीं रोक सकता।”

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने भी इस मामले पर दुःख जताया। उन्होंने लिखा, “जिस तरह उप-राष्ट्रपति का संसद भवन में अपमान किया गया, वह देखकर मैं चकित थी। जनप्रतिनिधियों को खुल कर उनकी बात रखनी चाहिए लेकिन यह सम्मानजनक तरीके से होना चाहिए। यह हमारी संसदीय परम्परा रही है और हमें इस पर गर्व है, भारत के लोग हमें इसे बनाए रखने की आशा करते हैं।”

उप-राष्ट्रपति का अपमान करने वाले सांसदों ने नई संसद के मकर द्वार पर धरना दिया था। इस धरने के दौरान तृणमूल कॉन्ग्रेस के सांसद कल्याण बनर्जी ने उप-राष्ट्रपति जगदीप धनखड़ की अपमानजनक तरीके से नक़ल उतारी और मजाक उड़ाया। इस दौरान कॉन्ग्रेस नेता और लोकसभा सांसद राहुल गाँधी कल्याण बनर्जी का वीडियो अपने फ़ोन से बनाते रहे और बाकी सांसद भी उप-राष्ट्रपति का मजाक उड़ाते रहे। इस घटना का वीडियो वायरल हुआ है।

उप-राष्ट्रपति ने संसद में इन घटनाओं पर अपना दुख और पीड़ा व्यक्त करते हुए कहा था कि उनकी किसान और जाट पृष्ठभूमि को निशाना बनाए जाने से वह व्यक्तिगत रूप से आहत महसूस कर रहे हैं। उन्होंने कॉन्ग्रेस नेता पी चिदंबरम से इस घटना पर दुख जताते हुए अपनी बात रखी थी। वहीं कई जाट संस्थाओं ने भी आंदोलन की चेतावनी देते हुए उनके अपमान पर दुःख जताया है। ‘द जाट एसोसिएशन’ ने कहा कि आने वाले लोकसभा चुनाव में जाट समाज कॉन्ग्रेसी तत्वों द्वारा जाट समाज के गौरव उप-राष्ट्रपति जगदीप धनखड़ की खिल्ली उड़ाए जाने का हिसाब देगा।

उन्होंने कल इस मामले में सदन में कहा, “मैंने सदन स्थगित कर दी है। लोगों के मन में इस संस्था के ख़िलाफ़ किस तरह की प्रतिक्रिया है, इसका अंदाज़ा आपको नहीं है और हमें इसका सबसे निचला स्तर देखने का मौक़ा मिला। श्री चिदम्बरम यहाँ हैं। श्री चिदम्बरम, आप बहुत वरिष्ठ सदस्य हैं। कल्पना कीजिए कि मेरे दिल पर क्या बीत रही होगी जब आपके वरिष्ठ नेता एक संसद सदस्य का चेयरमैन के संस्थान का मजाक उड़ाते हुए वीडियो बनाते हैं, और एक व्यक्ति के रूप में मुझे निशाना बनाते हैं।”

आगे उन्होंने कहा, “किसान के रूप में मेरी पृष्ठभूमि को निशाना न बनाएँ, समुदाय के सदस्य के रूप में मेरी पृष्ठभूमि को निशाना न बनाएँ। चेयरमैन की संस्था को तबाह कर दिया गया है और वह भी एक राजनीतिक दल द्वारा जो इतनी दूर चला गया कि एक संसद सदस्य, एक वरिष्ठ सदस्य, दूसरे सदस्य की वीडियोग्राफी करता है। किस लिए? मैं आपको बताता हूँ, मुझे कष्ट हुआ था। इंस्टाग्राम पर, श्रीमान चिदम्बरम, आपकी पार्टी ने एक वीडियो डाला था जिसे बाद में वापस ले लिया गया। यह मेरे लिए शर्म की बात थी।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पुरी के जगन्नाथ मंदिर का 46 साल बाद खुला रत्न भंडार: 7 अलमारी-संदूकों में भरे मिले सोने-चाँदी, जानिए कहाँ से आए इतने रत्न एवं...

ओडिशा के पुरी स्थित महाप्रभु जगन्नाथ मंदिर के भीतरी रत्न भंडार में रखा खजाना गुरुवार (18 जुलाई) को महाराजा गजपति की निगरानी में निकाल गया।

1 साल में बढ़े 80 हजार वोटर, जिनमें 70 हजार का मजहब ‘इस्लाम’, क्या याद है आपको मंगलदोई? डेमोग्राफी चेंज के खिलाफ असम के...

असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने तथ्यों को आधार बनाते हुए चिंता जाहिर की है कि राज्य 2044 नहीं तो 2051 तक मुस्लिम बहुल हो जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -