Wednesday, July 28, 2021
HomeराजनीतिNPR का पहला डाटा किसका: जिसके लिए कॉन्ग्रेसी मंत्री ने कहा था- इंदिरा गाँधी...

NPR का पहला डाटा किसका: जिसके लिए कॉन्ग्रेसी मंत्री ने कहा था- इंदिरा गाँधी की रसोई सँभालती थी

क्या आप जानते हैं कि एनपीआर के तहत सबसे पहले किसका डाटा अपडेट हुआ था? जवाब सुन शायद आप चौंक जाएँ। एनपीआर का पहला डाटा देश की इकलौती महिला राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल का था।

मोदी कैबिनेट ने मंगलवार (24 दिसंबर 2019) को 2021 में होने वाली जनगणना की प्रक्रिया शुरू करने का फैसला किया। इस बाबत राष्‍ट्रीय जनसंख्‍या रजिस्‍टर (NPR) अपडेट करने की प्रक्रिया शुरू करने को भी मंजूरी दी गई। पहले चरण में अगले साल अप्रैल-सितंबर तक प्रत्‍येक घर और उसमें रहने वाले व्‍यक्तियों की सूची बनाई जाएगी। असम को छोड़ देश के अन्‍य हिस्‍सों में यह काम होगा। दूसरे चरण में 9 फरवरी से 28 फरवरी 2021 तक जनसंख्‍या की गणना का काम होगा। जनगणना प्रक्रिया पर 8754.23 करोड़ रुपए और एनपीआर को अपडेट करने पर 3941.35 करोड़ रुपए का खर्च आएगा।

एनपीआर को कैबिनेट की मंजूरी मिलने के बाद से विपक्ष उसी तरह अफवाह फैलाने में जुट गया है जैसा उसने नागरिकता संशोधन कानून (CAA) को लेकर किया। जिस तरीके से CAA को NRC से जोड़ा गया, उसी तरह अब NPR को भी NRC से जोड़कर दिखाने की कोशिश हो रही है। जबकि तथ्य यह है नागरिकता कानून 1955 और नागरिकता नियम 2003 के तहत NPR पहली बार 2010 में तैयार किया गया था। आधार से जोड़े जाने के बाद 2015 में इसे अपडेट किया गया था। 2010 में जब इसकी शुरुआत हुई तब केंद्र में मनमोहन सिंह के नेतृत्व में यूपीए की सरकार हुआ करती थी।

क्या आप जानते हैं कि एनपीआर के तहत सबसे पहले किसका डाटा अपडेट हुआ था? जवाब सुन शायद आप चौंक जाएँ। एनपीआर का पहला डाटा देश की इकलौती महिला राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल का था। 25 जुलाई 2007 से 25 जुलाई 2012 तक वह राष्ट्रपति रही थीं।

NPR में रजिस्ट्रेशन कराने के बाद प्रतिभा पाटिल

6 जुलाई 2012 में राष्ट्रपति भवन में एनपीआर में उनका नाम दर्ज किया गया था। इसके बाद उन्होंने देश के सभी लोगों से सरकार की इस प्रमुख योजना में अपना रजिस्ट्रेशन सुनिश्चित कराने को कहा था। इस दौरान उनके साथ तब के केंद्रीय गृह मंत्री पी चिदंबरम भी थे। देखे वीडियो;

यदि आपको लगे कि यह वीडियो तो भाजपा के प्रवक्ता ने पोस्ट किया है तो यह प्रेस रिलीज पढ़ लीजिए। भारत सरकार के पत्र सूचना कार्यालय (पीआईबी) की साइट पर यह आज भी उपलब्ध है।

इसमें स्पष्ट तौर पर कहा गया है, “एनपीआर तैयार करने के लिए जनसांख्यिकीय आँकड़े अप्रैल से सितंबर 2010 के दौरान पूरे देश में घर-घर जाकर गणना कर एकत्रित किए गए थे। आँकड़ों का तब से अंकीकरण किया जा रहा था और वर्तमान में बॉयो-मीट्रिक नामांकन का कार्य चल रहा है। एकत्र किए गए एनपीआर आँकड़ों को बॉयोमीट्रिक्‍स के साथ UIDAI के पास यूआईडी संख्‍याओं (आधार) के डि-डुप्‍लिकेशन और अपक्रमण के लिए भेजा जाएगा। सरकार का एनपीआर के अधीन निवासी पहचान (स्‍मार्ट) कार्ड जारी करने का भी प्रस्‍ताव है।” साथ ही कहा गया है कि NPR में पंजीकरण कराना देश के सभी नागरिकों के लिए नागरिकता अधिनियम 1955 और नागरिकता नियम 2003 के अंतर्गत आवश्‍यक है।

6 जुलाई 2012 को राष्ट्रपति सचिवालय की ओर से जारी बयान का अंश

अब जिनको लगता है कि गॉंधी परिवार का बयान ही शासन है। तो उनके लिए एक और जानकारी। प्रतिभा पाटिल गॉंधी परिवार की बेहद करीबी बताई जाती हैं। कितनी करीबी? कॉन्ग्रेस के ही एक नेता के अनुसार-
राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल किसी जमाने में पूर्व प्रधानमंत्री स्व. इंदिरा गाँधी के घर में रसोई सँभालती थीं। इसी वफादारी के नतीजे में सोनिया गाँधी ने उन्हें राष्ट्रपति बना दिया। यह बात फरवरी 2011 में अमीन खान ने राजस्थान के पाली में कॉन्ग्रेस कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कही थी। उस समय राजस्थान में कॉन्ग्रेस की सरकार हुआ करती थी और अशोक गहलोत ही उस समय भी मुख्यमंत्री थे। खान उनकी कैबिनेट में पंचायत और वक्फ राज्यमंत्री हुआ करते थे। अमीन खान ने निष्ठा और समर्पण के उदाहरण के रूप में प्रतिभा पाटिल का हवाला देते हुआ कहा था, ‘जब इंदिरा गाँधी 1977 में चुनाव हारने के बाद प्रधानमंत्री नहीं थी, तब वह (प्रतिभा पाटिल) उनके घर पर रसोई में भोजन बनाती थीं और बर्तन धोती थीं। वह अनुशासित कार्यकर्ता रहीं, इसलिए आज राष्ट्रपति हैं।”

अमित शाह ने बताया किन लोगों के लिए है डिटेंशन सेंटर, कहा- NPR का NRC से कोई संबंध नहीं

1 अप्रैल से NPR: घर-घर जाकर जुटाया जाएगा डाटा, मोदी सरकार ने ₹8500 करोड़ की दी मंजूरी

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

उत्तर-पूर्वी राज्यों में संघर्ष पुराना, आंतरिक सीमा विवाद सुलझाने में यहाँ अड़ी हैं पेंच: हिंसा रोकने के हों ठोस उपाय  

असम के मुख्यमंत्री नॉर्थ ईस्ट डेमोक्रेटिक अलायंस के सबसे महत्वपूर्ण नेता हैं। उनके और साथ ही अन्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों के लिए यह अवसर है कि दशकों से चल रहे आंतरिक सीमा विवाद का हल निकालने की दिशा में तेज़ी से कदम उठाएँ।

बकरीद की ढील का दिखने लगा असर? केरल में 1 दिन में कोरोना संक्रमण के 22129 केस, 156 मौतें भी

पूरे देश भर में रिपोर्ट हुए कोविड केसों में 53 % मामले अकेले केरल से आए हैं। भारत में कुल मामले जहाँ 42, 917 रिपोर्ट हुए। वहीं राज्य में 1 दिन में 22129 केस आए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,634FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe