Wednesday, June 16, 2021
Home राजनीति सिद्धू की आवाज़ लौटने के साथ ही गायब हो रहा 'पटियाला पेग' का स्वाद?...

सिद्धू की आवाज़ लौटने के साथ ही गायब हो रहा ‘पटियाला पेग’ का स्वाद? पंजाब में फिर कॉन्ग्रेस का सिर-फुटव्वल, 2022 पर नजरें

सिद्धू भी 'किसान आंदोलन' का साथ पाने के लिए खूब किसानों की बातें कर रहे हैं और पंजाब सरकार को नसीहतें दे रहे हैं। पटियाला में किसानों से आंदोलन से कैप्टेन पहले ही दबाव में हैं।

पटियाला.. इसका नाम लेते ही देश के लोगों के जेहन में ‘पटियाला पेग’ आता है, जिसे यहाँ के महाराजाओं ने लोकप्रिय बनाया था। कैप्टेन अमरिंदर सिंह के दादा भूपिंदर सिंह ने इसे प्रचलित किया था। खुद कैप्टेन ने अपनी आत्मकथा में इसका जिक्र किया है। भूपिंदर सिंह ने अंग्रेजों को एक खास माप का पेग पिलाया, जिससे मदमस्त होकर वो महाराज की टीम से मैच हार गए। आज पटियाला के राजपरिवार के इस ‘पटियाला पेग’ के राजनीतिक स्वाद पर खतरा उत्पन्न हो गया है।

पंजाब में एक बार फिर से मुख्यमंत्री कैप्टेन अमरिंदर सिंह और कॉन्ग्रेस के एक और नेता नवजोत सिंह सिद्धू के बीच सिर-फुटव्वल चालू हो गया है। कभी अधिक बोलने के लिए जाने जाने वाले सिद्धू यूँ तो समय-समय पर राजनीतिक वनवास पर जाते रहते हैं, लेकिन जब भी लौटते हैं तो पंजाब कॉन्ग्रेस में घमासान मच जाता है। कभी कॉन्ग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी के पाँव छू कर उन्हें प्रणाम करने वाले सिद्धू के बारे में कहा जाता है कि उन्हें पार्टी आलाकमान का वरदहस्त प्राप्त है।

पंजाब में कॉन्ग्रेस के दो दर्जन विधायक असंतुष्ट बताए जा रहे हैं और उन सभी को बातचीत के लिए दिल्ली बुलाया गया है। कॉन्ग्रेस ने 3 बड़े नेताओं को इस विवाद को सुलझाने के लिए लगाया है – राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे, उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री व पार्टी के पंजाब प्रभारी हरीश रावत और दिल्ली कॉन्ग्रेस के अध्यक्ष जेपी अग्रवाल। सोमवार (मई 31, 2021) को सोनिया गाँधी ने जिन 25 विधायकों को दिल्ली समन किया है, उनमें कई मंत्री भी हैं।

ये सारा विवाद 2017 में ही शुरू हो गया था, जब मंत्री बनाए जाने के बाद भी सिद्धू खुश नहीं थे और कुछ ही महीनों बाद सिद्धू ने इस्तीफा दे दिया। मंत्री होने के बावजूद सिद्धू कपिल शर्मा के शो में हिस्सा ले रहे थे और मनोरंजन जगत से नाता नहीं तोड़ना चाहते थे। फिर कहा गया कि सिद्धू को वोकल कॉर्ड्स की समस्या के कारण डॉक्टरों ने कम बोलने की सलाह दी है, क्योंकि उनकी आवाज़ जा सकती है। वो काफी दिन वैष्णो देवी में थे। अब उनकी आवाज़ लौट आई है।

उधर प्रशांत किशोर पश्चिम बंगाल में अपना काम कर के पंजाब आए हैं, जहाँ अमरिंदर सिंह ने उन्हें कैबिनेट के रैंक का दर्जा दिया। उन्हें सरकार खजाने से वेतन देने का मामला सुप्रीम कोर्ट जा चुका है। पीके जहाँ भी जाते हैं, वहाँ बगावत का इतिहास रहा है। बंगाल में ही कई TMC नेताओं ने सिर्फ पीके को वजह बता कर इस्तीफा दिया। पंजाब में भी अब सरकारी योजनाओं से लेकर चुनावी रणनीति तक वही तैयार कर रहे हैं कैप्टेन अमरिंदर के लिए। ऐसे में और भी नाराज नेता उनके खिलाफ जा सकते हैं।

पंजाब में भाजपा और अकाली दल अलग हो चुके हैं, ऐसे में कॉन्ग्रेस अपने लिए फिर से मौका तलाश रही है। इसीलिए उसने ‘किसान आंदोलन’ का भरपूर समर्थन भी किया, जो अब पंजाब में उसकी ही सरकार की गले की फाँस बनता जा रहा है। जिस तरह से पार्टी पर दबाव डाल कर 2017 में बीच विधानसभा चुनाव में कैप्टेन अमरिंदर सिंह ने खुद को मुख्यमंत्री प्रत्याशी घोषित करवाया था, अब वो आसार नज़र नहीं आ रहे।

अमरिंदर सिंह की उम्र अब 80 साल होने को आई है। पिछले कुछ हफ़्तों से उनके प्रतिद्वंद्वी सिद्धू ने उन पर हमले तेज़ कर दिए हैं। सुखजिंदर सिंह रंधावा और चरणजीत सिंह चन्नी कह रहे हैं कि 2017 के विधानसभा चुनाव में किए गए वादों को पार्टी ने पूरा नहीं किया। दोनों ही अमरिंदर सरकार में कैबिनेट मंत्री हैं। राज्य में सिखों के धर्म के अपमान की कई घटनाएँ सामने आई है, जिन्हें आधार बना कर हमले किए जा रहे हैं।

बैठकों का दौर लगातार 3 दिन चलेगा। हरीश रावत का कहना है कि पैनल पंजाब कॉन्ग्रेस के सभी 80 विधायकों से एक-एक कर अलग-अलग मुलाकात करेगा। इनमें मुख्यमंत्री भी शामिल हैं। पंजाब के 8 लोकसभा और 3 राज्यसभा सांसदों की राय भी ली जाएगी। पंजाब में कॉन्ग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष सुनील जाखड़ पहले ही दिल्ली पहुँच चुके हैं। वरिष्ठता के आधार पर विधायकों से मुलाकात का क्रम तय किया गया है।

उरमार के विधायक और पार्टी के पछड़ा नेता संगत सिंह गिल्ज़ियान को पहले दिन बैठक के लिए बुलाया गया। उन्होंने 2017 में मंत्री न बनाए जाने के बाद पार्टी के सभी पदों से इस्तीफा दे दिया था। जालंधर कैंट के विधायक प्रगट सिंह तो सिद्धू के मित्र ही हैं और वो आरोप भी लगा चुके हैं कि CM अमरिंदर के राजनीतिक सचिव कैप्टेन संदीप संधू ने उन्हें आवाज़ उठाने पर झूठे मामलों में फँसाने की धमकी दी है।

राज्यसभा सांसद प्रताप सिंह बाजवा पहले से ही सीएम अमरिंदर पर हमलावर रहे हैं। उन्होंने अप्रत्यक्ष रूप से इशारा करते हुए लिखा है कि साहसी बन कर अपना अंतर्मन को जवाब दीजिए, पंजाब की जनता और ईश्वर देख रहा है। उनका इशारा किधर था, समझ जाइए। सिद्धू भी ‘किसान आंदोलन’ का साथ पाने के लिए खूब किसानों की बातें कर रहे हैं और पंजाब सरकार को नसीहतें दे रहे हैं। पटियाला में किसानों से आंदोलन से कैप्टेन पहले ही दबाव में हैं।

पंजाब में सत्ताधारी पार्टी के लिए स्थिति इतनी बुरी है कि प्रदेश अध्यक्ष सुनील जाखड़ अभी तक संगठन के पदाधिकारियों की नियुक्ति तक नहीं कर पाए हैं। कॉन्ग्रेस अब भी विवाद को छिपा कर यही कह रही है कि मुख्यमंत्री विचार-विमर्श का विषय नहीं हैं। पहली कोशिश तो यही होगी कि 2022 चुनाव से पहले संगठन का निर्माण हो जाए। ऊपर से कॉन्ग्रेस हिन्दुओं को सिखों, दोनों को ही खुश रखना चाहती है।

दरअसल, सुनील जाखड़ को हटा कर अगर नवजोत सिंह सिद्धू को प्रदेश में पार्टी की कमान दी जाती है तो इससे गलत सन्देश जाएगा कि पार्टी ने जट्ट नेताओं को ही संगठन और सरकार का मुखिया बना रखा है। इसीलिए, उन्हें हटाने की स्थिति में उसी कद का कोई हिन्दू नेता खोजना होगा। स्थानीय भाजपा यूनिट ने दलित सीएम बनाने की बात कह के दबाव डाला है। अकाली दल भी दलित उप-मुख्यमंत्री बनाने की बात कह रहा है।

अब कॉन्ग्रेस इस सोशल इंजीनियरिंग का जवाब दे भी तो कैसे। अगर किसी हिन्दू नेता को अध्यक्ष बनाया जाता है तो विजय इंद्र सिंगला और मनीष तिवारी के लिए दरवाजे खुल सकते हैं। दो कार्यकारी अध्यक्ष बना कर सोशल इंजीनियरिंग की जा सकती है। कृषि क्षेत्र में बड़ी पैठ रखने वाले लाल सिंह प्रदेश में पार्टी के सबसे वरिष्ठ नेताओ में से हैं, लेकिन उनकी उम्र को देखते हुए उन्हें शायद ही जिम्मेदारी दी जाए।

कॉन्ग्रेस को ये डर भी है कि चुनाव परिणाम सामने आने के बाद भाजपा और अकाली दल साथ मिल सकते हैं। जिस तरह से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अक्सर ‘मन की बात’ से लेकर अन्य कार्यक्रमों में सिख गुरुओं के बलिदान और सीखों की बातें करते हैं और कई अवसरों पर गुरूद्वारे जाकर मत्था टेकते हैं, उससे भी कॉन्ग्रेस परेशान हैं। अब देखना ये है कि पटियाला के ‘महाराजा’ के हक़ में फैसला होता है या बड़बोले सिद्धू के।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अविवाहित रहे, राम मंदिर के लिए जीवन खपा दिया, आपातकाल में 18 महीने की जेल झेली: जानिए कौन हैं VHP के चंपत राय

धामपुर के RSM डिग्री कॉलेज में रसायन विज्ञान के प्रोफेसर रहे चंपत राय सुप्रीम कोर्ट में चली राम मंदिर के मुकदमे की सुनवाई में मुख्य पैरोकार एवं पक्षकार रहे हैं।

यूपी में एक्शन ट्विटर का सुरक्षा कवच हटने का आधिकारिक प्रमाण: IT और कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने 9 ट्वीट में लताड़ा

यह एक्शन इस बात का प्रमाण भी है कि मध्यस्थता प्लेटफार्म के रूप में ट्विटर को जो कानूनी छूट प्रदान की गई थी, वह अब आधिकारिक रूप से समाप्त हो गई है।

हत्या, बच्चे को गोली मारी, छात्रों को सस्पेंड किया: 15 घटनाएँ, जब ‘जय श्री राम’ कहने पर हिन्दुओं के साथ हुई क्रूरता

अब ऐसी घटनाओं को देखिए, जहाँ 'जय श्री राम' कहने पर हिन्दुओं की हत्या तक कर दी गई। गौर करने वाली बात ये कि इस तरह की घटनाओं पर कोई आउटरेज नहीं हुआ।

3 कॉन्ग्रेसी, 2 प्रोपेगंडा पत्रकार: जुबैर के अलावा इन 5 पर भी यूपी में FIR, ‘जय श्रीराम’ पर फैलाया था झूठ

डॉक्टर शमा मोहम्मद कॉन्ग्रेस की राष्ट्रीय प्रवक्ता हैं। सबा नकवी खुद को राजनीतिक विश्लेषक बताती हैं। राना अयूब को 'वाशिंगटन पोस्ट' ने ग्लोबल एडिटर बना रखा है। कॉन्ग्रेसी मशकूर अहमद AMU छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष हैं। पीएम मोदी के माता-पिता पर टिप्पणी कर चुके सलमान निजामी जम्मू कश्मीर के कॉन्ग्रेस नेता हैं।

2038 तक मियाँ-मुस्लिम होंगे बहुसंख्यक, हिंदुओं के मुकाबले ट्रिपल रेट से बढ़ रही आबादी: असम CM के पॉलिटिकल सेक्रेटरी ने चेताया

असम बीजेपी के विधायक जयंत बरुआ ने कहा है कि जनसंख्या वृद्धि की यही रफ्तार बनी रही तो 2037-38 तक राज्य में हिंदू अल्पसंख्यक हो जाएँगे।

35 मौके, जब AltNews वाले मोहम्मद जुबैर ने फैलाई फेक न्यूज़: बच्चियों को करता है टारगेट, कट्टरपंथियों का है ढाल

यहाँ हम उन मौकों की बात कर रहे हैं, जब-जब उसने फेक खबरों के सहारे प्रोपेगंडा रचा। अधिकांश उसने भाजपा और हिन्दू धर्म को बदनाम करने के लिए ऐसा किया।

प्रचलित ख़बरें

‘राजदंड कैसा होना चाहिए, महाराज ने दिखा दिया’: लोनी घटना के ट्वीट पर नहीं लगा ‘मैनिपुलेटेड मीडिया’ टैग, ट्विटर सहित 8 पर FIR

"लोनी घटना के बाद आए ट्विट्स के मद्देनजर योगी सरकार ने ट्विटर के विरुद्ध मुकदमा दायर किया है और कहा है कि ट्विटर ऐसे ट्वीट पर मैनिपुलेटेड मीडिया का टैग नहीं लगा पाया। राजदंड कैसा होना चाहिए, महाराज ने दिखा दिया है।"

‘जो मस्जिद शहीद कर रहे, उसी के हाथों बिक गए, 20 दिलवा दूँगा- इज्जत बचा लो’: सपा सांसद ST हसन का ऑडियो वायरल

10 मिनट 34 सेकंड के इस ऑडियो में सांसद डॉ. एस.टी. हसन कह रहे हैं, "तुम मुझे बेवकूफ समझ रहे हो या तुम अधिक चालाक हो... अगर तुम बिक गए हो तो बताया क्यों नहीं कि मैं भी बिक गया।

‘मुस्लिम बुजुर्ग को पीटा-दाढ़ी काटी, बुलवाया जय श्री राम’: आरोपितों में आरिफ, आदिल और मुशाहिद भी, ज़ुबैर-ओवैसी ने छिपाया

ओवैसी ने लिखा कि मुस्लिमों की प्रतिष्ठा 'हिंदूवादी गुंडों' द्वारा छीनी जा रहीहै । इसी तरह ज़ुबैर ने भी इस खबर को शेयर कर झूठ फैलाया।

राम मंदिर की जमीन पर ‘खेल’ के दो सूत्र: अखिलेश यादव के करीबी हैं सुल्तान अंसारी और पवन पांडेय, 10 साल में बढ़े दाम

भ्रष्टाचार का आरोप लगाने वाले पूर्व मंत्री तेज नारायण पांडेय 'पवन' और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव से सुल्तान के काफी अच्छे रिश्ते हैं।

‘इस बार माफी पर न छोड़े’: राम मंदिर पर गुमराह करने वाली AAP के नेताओं ने जब ‘सॉरी’ कह बचाई जान

राम मंदिर में जमीन घोटाले के बेबुनियाद आरोपों के बाद आप नेताओं पर कड़ी कार्रवाई की माँग हो रही है।

फाइव स्टार होटल से पकड़ी गई हिरोइन नायरा शाह, आशिक हुसैन के साथ चरस फूँक रही थी

मुंबई पुलिस ने ड्रग्स का सेवन करने के आरोप में एक्ट्रेस नायरा नेहल शाह और उनके दोस्त आशिक साजिद हुसैन को गिरफ्तार किया।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
104,239FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe