Wednesday, July 24, 2024
Homeराजनीतिराजस्थान में 5 साल पर सरकार बदलने की परंपरा, सर्वे भी बता रहे सत्ता...

राजस्थान में 5 साल पर सरकार बदलने की परंपरा, सर्वे भी बता रहे सत्ता में लौट रही BJP: कॉन्ग्रेस के लिए अबकी बहुमत दूर

ओपिनियन पोल के अनुसार बीजेपी को 114 से 124 सीटें मिल सकती है। पार्टी को 43.80 फीसदी वोट मिलने का अनुमान लगाया गया है। वहीं सत्ताधारी कॉन्ग्रेस 68-78 सीटों पर सिमट सकती है।

राजस्थान उन प्रदेशों में से एक है, जहाँ अूममन हर 5 साल पर सरकार बदल जाती है। इस बार भी प्रदेश की जनता का मूड उस परंपरा को बनाए रखने का दिख रहा है। टाइम्स नाउ नवभारत और ईटीजी के ताजा सर्वे के मुताबिक राज्य में बीजेपी की सरकार बनेगी। कॉन्ग्रेस बहुमत से काफी दूर रहेगी। राजस्थान की 200 सदस्यीय विधानसभा के लिए 25 नवंबर को वोट डाले जाएँगे। नतीजे 3 दिसंबर को आएँगे।

सर्वे के अनुसार बीजेपी को 114 से 124 सीटें मिल सकती है। पार्टी को 43.80 फीसदी वोट मिलने का अनुमान लगाया गया है। वहीं सत्ताधारी कॉन्ग्रेस 68-78 सीटों पर सिमट सकती है। उसका वोट प्रतिशत 41.90 फीसदी रहने की उम्मीद है। अन्य पार्टियों को 6 से 10 सीट मिलने का अनुमान लगाया गया है। इनका वोट 14.30 फीसदी रहने के आसार हैं।

यह सर्वे अक्टूबर महीने के अंत में किया गया है। इस दौरान 21,136 लोगों से रायशुमारी की गई। लगभग 105 लोगों की राय हर विधानसभा क्षेत्र में जानी गई। 30 फीसदी लोगों से संपर्क फोन के जरिए, जबकि 70 फीसदी लोगों से उनकी राय मौके पर जाकर पूछी गई।

सर्वे के अनुसार ढूंढाड क्षेत्र की 58 सीटों में से 36 से 40 बीजेपी तो कॉन्ग्रेस को 16 से 20 सीटें मिल सकती हैं। अन्य के खाते में भी 1 से 3 सीट जाने का अनुमान लगाया गया है। इसी तरह मेवाड़ की कुल 43 सीटों में बीजेपी को 21-27 तो कॉन्ग्रेस को 15 से 19 सीटें मिलती दिख रही हैं। अन्य को 1 से 3 सीट मिलने का अनुमान है।। मारवाड़ की कुल 61 सीटों में से 31 से 37 सीट बीजेपी को मिल रही हैं। कॉन्ग्रेस को 21 से 27 के बीच सीटें मिल सकती है। अन्य को एक से 5 सीटें मिलने का अनुमान लगाया गया है।

टाइम्स नाउ नवभारत और ईटीजी के ऑपिनियन पोल राजस्थान विधानसभा चुनाव 2023 फोटो साभार : timesnownews.com

हाड़ौती क्षेत्र में 17 सीटें हैं। बीजेपी को 11 से 13 तो कॉन्ग्रेस को 3 से 7 सीट मिलने का अनुमान है। शेखावटी की 21 सीटों में से बीजेपी को 10 से 12 तो कॉन्ग्रेस को 7 से 11 सीटें मिल सकती हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हलाल है या झटका… मीट की दुकान के बाहर लिखो: जयपुर नगर निगम ने जारी किया आदेश, शिव मंदिर के पास और काँवड़ियों के...

जयपुर नगर निगम ने कावंडियों के रास्ते में और शिव मंदिर के निकट खुले में मीट बिक्री पर रोक लगाने की बात कही है।

‘एंजेल टैक्स’ खत्म होने का श्रेय लूट रहे P चिदंबरम, भूल गए कौन लेकर आया था: जानिए क्या है ये, कैसे 1.27 लाख StartUps...

P चिदंबरम ने इसके खत्म होने का श्रेय तो ले लिया, लेकिन वो इस दौरान ये बताना भूल गए कि आखिर ये 'एंजेल टैक्स' लेकर कौन आया था। चलिए 12 साल पीछे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -