Tuesday, July 23, 2024
Homeराजनीति'उस सिंह के लिए जयकारा जिसने सूरी को ठोका' : हिंदूवादी नेता की हत्या...

‘उस सिंह के लिए जयकारा जिसने सूरी को ठोका’ : हिंदूवादी नेता की हत्या पर SAD नेता खुश, मंच से कहा- पापी को सजा मिली

शिरोमणि अकाली दल अमृतसर से 2022 में तरनतारन सीट पर चुनाव लड़ने वाले अमृत सिंह मेहरोन ने खुले मंच से सुधीर सूरी की हत्या पर विवादित बयान दिया। मेहरोन ने घटना की निंदा तो दूर, बल्कि इस मामले में भीड़ से जो बोले सो निहाल का नारा लगवाया।

हिंदूवादी नेता सुधीर सूरी की हत्या के बाद लगातार ऐसे बयान आ रहे हैं जिसमें उन्हें गाली देते हुए हत्यारों की तारीफ हो रही है। इसी क्रम में शिरोमणि अकाली दल अमृतसर (सिमरन जीत सिंह मान) से 2022 में चुनाव लड़ने वाले अमृत सिंह मेहरोन ने भी खुले मंच से विवादित बयान दिया। मेहरोन ने घटना की निंदा तो दूर, बल्कि इस मामले में भीड़ से जो बोले सो निहाल का नारा लगवाया है।

टीएफ न्यूज द्वारा सोशल मीडिया पर पोस्ट की गई वीडियो में अमृतपाल सिंह मेहरोन को कहते सुना जा सकता है, “गुरुदास किसी का घर उजड़ता देख खुश तो नहीं होते, चाहे वो दुश्मन का ही क्यों न हो। लेकिन फिर भी कहना चाहूँगा कि उनका जयकार हो जिन्होंने पापी को सजा दी। मुझे नहीं पता वो सिंह कौन है, कहाँ से आया। लेकिन उसके लिए जयकारा जिसने सूरी को मारा। जो बोले सो निहाल सत श्री अकाल।”

मेहरोन की यह वीडियो टीएफ न्यूज पर 4 नवंबर को अपलोड की गई थी। लेकिन उसके इस बयान के कारण ये वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने लगी है। वीडियो में इस्तेमाल भाषा से साफ पता चल रहा है कि वो सुधीर सूरी की हत्या से कितना खुश है।

उल्लेखनीय है कि सुधीर सूरी को कल पंजाब के अमृतसर में गोपाल मंदिर के पास धरना देते वक्त गोली मारी गई थी। उनकी हत्या की जिम्मेदारी कनाडा में बैठे खालिस्तानी लखबीर सिंह ने ली थी। वहीं पाकिस्तान में बैठा गोपाल चावला इस हत्या पर खुश होता दिखाई दिया था।

वीडियो जारी कर गोपाल ने कहा था,

“पूरी सिख कौम को, पूरी मुसलमान कौम, हर कौम को, जो आजादी चाहता है, सुकून चाहता है- उन सबको बहुत बहुत बधाई। मैं उसे सूरी नहीं कहूँगा, सूअर कहूँगा। जिन नौजवानों ने उसे गोली मारी है, मैं सद के जाऊँ अपने उस भाई पर। मैं सबको मुबारकबाद दूँगा। एक सूअर चला गया अब अगले सूअर को देखो। इन सुअरों को जाना ही जाना है। निशांत शर्मा को भी जाना है। अमित अरोड़ा को भी जाना है। बाकी लोगों को भी इस तरह कुत्ते की मौत मरना है जैसे सूरी मरा। जिन शेरों ने उसे मारा मेरी जान उनके लिए हाजिर है।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एंजेल टैक्स’ खत्म होने का श्रेय लूट रहे P चिदंबरम, भूल गए कौन लेकर आया था: जानिए क्या है ये, कैसे 1.27 लाख StartUps...

P चिदंबरम ने इसके खत्म होने का श्रेय तो ले लिया, लेकिन वो इस दौरान ये बताना भूल गए कि आखिर ये 'एंजेल टैक्स' लेकर कौन आया था। चलिए 12 साल पीछे।

पत्रकार प्रदीप भंडारी बने BJP के राष्ट्रीय प्रवक्ता: ‘जन की बात’ के जरिए दिखा चुके हैं राजनीतिक समझ, रिपोर्टिंग से हिला दी थी उद्धव...

उन्होंने कर्नाटक स्थित 'मणिपाल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी' (MIT) से इलेक्ट्रॉनिक एवं कम्युनिकेशंस में इंजीनियरिंग कर रखा है। स्कूल में पढ़ाया भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -