राहुल गाँधी की रैली में नहीं पहुँचे मिलिंद देवड़ा, संजय निरूपम ने पूछा- निकम्मा क्यों नहीं आया

“राहुल गाँधी की मुंबई में हुई रैली के दौरान मेरी गैर हाजिरी को लेकर जो अफवाहें फैलाई जा रही हैं और जो संदेह किया जा रहा है वह बेमतलब है।....."

महाराष्ट्र में एक तरफ जहाँ कॉन्ग्रेस सत्ता में वापसी के लिए जोर लगा रही है, वहीं पार्टी के भीतर मचा घमासान उसके लिए बड़ी चुनौती बनी हुई है। पूर्व मुंबई कॉन्ग्रेस अध्यक्ष संजय निरुपम बागी तेवर अपनाए हुए हैं। अब उन्होंने ट्वीट के जरिए एक बार फिर कॉन्ग्रेस के लिए फजीहत की स्थिति पैदा कर दी है। इस ट्वीट में निरुपम ने लिखा कि राहुल गाँधी की रैलियों में वह निकम्मा क्यों अनुपस्थित था? हालाँकि उन्होंने ट्वीट में किसी नेता के नाम का जिक्र नहीं किया है, लेकिन ऐसा माना जा रहा है कि संजय के इस ट्वीट का सीधा इशारा मिलिंद देवड़ा की तरफ था।

दरअसल संजय निरूपम ने राहुल गाँधी की रैली में न पहुँचने का कारण बताते हुए एक ट्वीट किया। इस दौरान देवड़ा को निशाना बनाना नहीं भूले। संजय निरुपम ने अपने ट्वीट में लिखा, “राहुल गाँधी की मुंबई में हुई रैली के दौरान मेरी गैर हाजिरी को लेकर जो अफवाहें फैलाई जा रही हैं और जो संदेह किया जा रहा है वह बेमतलब है। जरूरी पारिवारिक समारोह की वजह से मैं पूरे दिन व्यस्त था और इसकी जानकारी मैंने राहुल गाँधी को पहले ही दे दी थी। वो (राहुल गाँधी) मेरे नेता हैं और मेरे लिए हमेशा रहेंगे। लेकिन निकम्मा क्यों अनुपस्थित था?”

गौरतलब है कि संजय निरुपम और मिलंद देवड़ा दोनों नेताओं के बीच पिछले कुछ दिनों से ठीक नहीं बन रही है और दोनों की अनबन लगातार खुलकर सामने आ रही है। संजय निरूपम हाल ही में हुई मुंबई में राहुल गाँधी की रैली में उपस्थित नहीं हुए थे। संजय निरूपम ने पिछले दिनों प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए कॉन्ग्रेस पार्टी के कुछ नेताओं पर सवाल खड़े कर दिए थे। संजय निरूपम टिकट बँटवारे को लेकर काफी नाराज थे और आरोप लगा रहे थे कि उनकी मर्जी के किसी भी उम्मीदवार को टिकट नहीं सौंपा गया है। संजय निरूपम ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कॉन्ग्रेस नेताओं पर सवाल खड़े किए थे और साथ ही पार्टी छोड़ने तक की बात कह दी थी। उन्होंने विधानसभा चुनाव में प्रचार ना करने की बात कही थी।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

सोनिया गाँधी
शिवसेना हिन्दुत्व के एजेंडे से पीछे हटने को तैयार है फिर भी सोनिया दुविधा में हैं। शिवसेना को समर्थन पर कॉन्ग्रेस के भीतर भी मतभेद है। ऐसे में एनसीपी सुप्रीमो के साथ उनकी आज की बैठक निर्णायक साबित हो सकती है।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

114,489फैंसलाइक करें
23,092फॉलोवर्सफॉलो करें
121,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: