Monday, July 15, 2024
Homeराजनीतिवैदिक मंत्रोच्चार के बीच 21 अधीनम ने PM मोदी को सौंपा 'सेंगोल', प्रधानमंत्री आवास...

वैदिक मंत्रोच्चार के बीच 21 अधीनम ने PM मोदी को सौंपा ‘सेंगोल’, प्रधानमंत्री आवास में गूँजा भारत माता का जयकारा: तमिलनाडु से पहुँचे हैं संत

पीएम मोदी ने सभी अधीनम का सम्मान किया और उन्हें अंगवस्त्र पहनाया। कार्यक्रम के दौरान वैदिक मंत्रों के साथ 'भारत माता की जय' के नारे भी लगाए जाते रहे।

नए संसद भवन के उद्घाटन समारोह से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने आवास पर अधीनम लोगों से मुलाकात की। पीएम मोदी ने तमिलनाडु से खास तौर पर दिल्ली पहुँचे अधीनम लोगों का आशीर्वाद भी प्राप्त किया। इस दौरान मदुरै अधीनम के महंत ने सेंगोल पीएम मोदी को सौंपा। चांदी के सेंगोल की लंबाई 5 फीट है जिसपर सोने की परत चढ़ाई गई है। इसके ऊपरी हिस्से पर नंदी स्थापित हैं।

पीएम आवास पर वैदिक मंत्रोच्चार के बीच अधीनम ने सत्ता हस्तांतरण के सांस्कृतिक धरोहर सेंगोल (राजदंड) को प्रधानमंत्री मोदी के हाथों में सौंपा। इस समारोह के दौरान 21 अधीनम मौजूद रहे। सेंगोल धारण करने के बाद पीएम मोदी को सुनहरा अंग वस्त्र भी धारण कराया गया। पीएम ने एक एक कर सभी अधीनम से मुलाकात की और उनका आशीर्वाद प्राप्त किया। अधीनम की तरफ से पीएम मोदी को कई तरह के उपहार भी दिए गए। जिन अधीनम ने पीएम मोदी से मुलाकात की उनमें धर्मपुरम अधीनम, पलानी अधीनम, विरुधचलम अधीनम, थिरुकोयिलुर अधीनम आदि शामिल हैं।

पीएम मोदी ने सभी अधीनम का सम्मान किया और उन्हें अंगवस्त्र पहनाया। कार्यक्रम के दौरान वैदिक मंत्रों के साथ ‘भारत माता की जय’ के नारे भी लगाए जाते रहे। इस अवसर पर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण भी मौजूद रहीं। बता दें कि यह सेंगोल सत्ता हस्तातंरण का प्रतीक है। भारत की आजादी के समय में देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू को यह सेंगोल सौंपा गया था।

रिपोर्टों के मुताबिक, नई संसद में सेंगोल को लोकसभा अध्यक्ष की कुर्सी के बगल में स्थापित किया जाएगा। 28 मई, 2023 को वैदिक मंत्रो और शंख ध्वनि के बीच वैदिक नियमों के अनुसार सेंगोल स्थापित किया जाएगा। पीएम मोदी वैदिक विधि विधान के साथ नए संसद भवन का उद्घाटन करेंगे। नए संसद भवन के उद्घाटन पर राजनीति भी खूब हो रही है। 19 विपक्षी दलों ने समारोह के बॉयकॉट का ऐलान किया हुआ है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री DK शिवकुमार को सुप्रीम कोर्ट से झटका, चलती रहेगी आय से अधिक संपत्ति मामले CBI की जाँच: दौलत के 5 साल...

सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री डीके शिवकुमार को आय से अधिक संपत्ति मामले में CBI जाँच से राहत देने से मना कर दिया है।

मंगलौर के बहाने समझिए मुस्लिमों का वोटिंग पैटर्न: उत्तराखंड की जिस विधानसभा से आज तक नहीं जीता कोई हिन्दू, वहाँ के चुनाव परिणामों से...

मंगलौर में हाल के विधानसभा उपचुनावों में कॉन्ग्रेस ने भाजपा को हराया। इस चुनाव में मुस्लिम वोटिंग का पैटर्न भी एक बार फिर साफ़ हो गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -