Saturday, September 25, 2021
Homeराजनीति'बंगाल में हिंसा थमने के संकेत नहीं': बीजेपी सांसद अर्जुन सिंह के घर फोड़े...

‘बंगाल में हिंसा थमने के संकेत नहीं’: बीजेपी सांसद अर्जुन सिंह के घर फोड़े गए तीन देसी बम, हिरासत में लिए गए 2 लोग

"पश्चिम बंगाल में हिंसा थमने का कोई संकेत नहीं है। सांसद अर्जुन सिंह के आवास के बाहर आज सुबह बम विस्फोट कानून-व्यवस्था के लिए चिंताजनक है। पश्चिम बंगाल पुलिस से शीघ्र कार्रवाई की अपेक्षा है। जहाँ तक ​​उनकी सुरक्षा का सवाल है, इस मुद्दे को पहले भी उठाया जा चुका है।"

पश्चिम बंगाल के बैरकपुर से बीजेपी सांसद अर्जुन सिंह के घर पर अज्ञात लोगों द्वारा बम से हमला करने का मामला सामना आया है। उत्तर 24 परगना जिले में 7 सितंबर 2021 को अज्ञात बदमाशों ने अर्जुन सिंह के घर के बाहर तीन देसी बमों में धावा बोला। उल्लेखनीय है कि जिस दौरान तीन बमों को फोड़ा गया उस दौरान परिसर के बाहर सुरक्षाकर्मी मौजूद थे।

कोलकाता से करीब 100 किलोमीटर दूर जगदल में भाजपा सांसद के घर पर हमला करने वाले बाइक पर सवार होकर आए थे। घटना सुबह करीब 6.30 बजे की है। इस मामले में प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने आरोप लगाया है कि हमलावर संभवत: तृणमूल कॉन्ग्रेस के हैं।

जिस दौरान इस वारदात को अंजाम दिया गया उस वक्त बीजेपी सांसद अपने घर पर नहीं, बल्कि दिल्ली में थे। हालाँकि, घर में उनका परिवार मौजूद था। घटना के बाद पुलिस मौके पर पहुँच गई है और बदमाशों की पहचान के लिए सीसीटीवी फुटेज खंगाल रही है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, फिलहाल हमले के पीछे के मकसद का पता नहीं चल पाया है। बैरकपुर कमिश्नरी से अतिरिक्त पुलिस बल को उनके आवास के बाहर तैनात किया गया है।

घटना को लेकर बैरकपुर पुलिस के उपायुक्त श्रीहरि पांडे ने जानकारी दी, “पूछताछ करने पर हमने पाया कि 6-7 लोग मजदूर भवन से बाहर आए, एक लड़के की पिटाई की और फिर से इमारत में घुस गए। इसके बाद लड़का कुछ लोगों के साथ आया और भवन के गेट पर बम फेंके। 2 व्यक्तियों को हिरासत में लिया गया है और उनसे पूछताछ की जा रही है।”

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने हमले पर दुख जताया है। उन्होंने एक ट्वीट में कहा, “पश्चिम बंगाल में हिंसा थमने का कोई संकेत नहीं है। सांसद अर्जुन सिंह के आवास के बाहर आज सुबह बम विस्फोट कानून-व्यवस्था के लिए चिंताजनक है। पश्चिम बंगाल पुलिस से शीघ्र कार्रवाई की अपेक्षा है। जहाँ तक ​​उनकी सुरक्षा का सवाल है, इस मुद्दे को पहले भी उठाया जा चुका है।”

राज्य बीजेपी का भाजपा दावा है कि हमले के पीछे सत्ताधारी पार्टी तृणमूल कॉन्ग्रेस का हाथ है। दूसरी ओर, टीएमसी ने दावों का खंडन करते हुए इसे बीजेपी का आंतरिक झगड़ा करार दिया है।

इससे पहले अर्जुन सिंह पर इसी साल अप्रैल में उत्तरी कोलकाता के बेलगछिया में भीड़ ने हमला किया था। उन्होंने इसे सुनियोजित घटना बताया था। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि जब उनके सुरक्षाकर्मियों ने भीड़ को तितर-बितर करने की कोशिश की तो किसी ने गोलियाँ चला दीं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कहीं स्तनपान करते शिशु को छीन कर 2 टुकड़े किए, कहीं बार-बार रेप के बाद मरी माँ की लाश पर खेल रहा था बच्चा’:...

एक शिशु अपनी माता का स्तनपान कर रहा था। मोपला मुस्लिमों ने उस बच्चे को उसकी माता की छाती से छीन कर उसके दो टुकड़े कर दिए।

‘तुम चोटी-तिलक-जनेऊ रखते हो, मंदिर जाते हो, शरीयत में ये नहीं चलेगा’: कुएँ में उतर मोपला ने किया अधमरे हिन्दुओं का नरसंहार

केरल में जिन हिन्दुओं का नरसंहार हुआ, उनमें अधिकतर पिछड़े वर्ग के लोग थे। ये जमींदारों के खिलाफ था, तो कितने मुस्लिम जमींदारों की हत्या हुई?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,198FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe