Wednesday, June 19, 2024
Homeराजनीति'7 दिन में शांतिपुर छोड़ो, नहीं तो हत्या के जिम्मेदार खुद होगे': बीजेपी में...

‘7 दिन में शांतिपुर छोड़ो, नहीं तो हत्या के जिम्मेदार खुद होगे’: बीजेपी में गए MLA को दीवारों पर लिखकर धमकी

यह मामला ऐसे समय में सामने आया है जब भाजपा अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा नदिया से शनिवार को राजव्यापी रथ यात्रा की शुरुआत करने वाले हैं।

पश्चिम बंगाल में अगले कुछ महीनों में विधानसभा चुनाव होने हैं। उससे पहले राज्य में राजनीतिक हिंसा और सत्ताधारी तृणमूल कॉन्ग्रेस (TMC) में भगदड़ जोरों पर है। हाल ही में टीएमसी छोड़ बीजेपी में शामिल हुए विधायक अरिंदम भट्टाचार्य को खुलेआम धमकी दी जा रही है।

दीवारों पर लिखा गया है, “7 दिन में शांतिपुर छोड़ो वरना अपनी हत्या के लिए तुम खुद जिम्मेदार होगे।” अरिंदम ने इस घटना की जानकारी होने पर चुनौती स्वीकार करते हुए कहा है, “मैं शांतिपुर छोड़कर नहीं जाऊँगा।”

नदिया के शांतिपुर में दीवारों पर लिखकर भट्टाचार्य को हत्या की धमकी दी गई है। यह मामला ऐसे समय में सामने आया है जब भाजपा अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा नदिया से शनिवार (6 फरवरी 2021) को राजव्यापी परिवर्तन रथ यात्रा की शुरुआत करने वाले हैं। पार्टी ने इस तरह की घटना की निंदा की है। राज्य की स्थिति देखते हुए चुनाव आयोग से सेंट्रल फोर्स की तैनाती की माँग की है।

जानकारी के अनुसार बीजेपी के प्रतिनिधिमंडल ने राज्यसभा सांसद स्वप्नदास गुप्ता के नेतृत्व में चुनाव आयोग को पत्र लिख कर सेंट्रल फोर्स को राज्य में तैनात करने की माँग की है। चुनावों के मद्देनजर पार्टी ने यह माँग इसलिए उठाई है ताकि इलेक्शन निष्पक्षता के साथ संपन्न हों। पार्टी ने कहा है कि ऐसे पुलिस कर्मी भी पूरी प्रक्रिया से दूर रहने चाहिए जिन पर बीते समय में किसी राजनीतिक पार्टी से जुड़े होने का आरोप हो।

अरिंदम भट्टाचार्य को दी जा रही धमकी को लेकर बीजेपी महासचिव व बंगाल के प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने ट्वीट कर कहा है, “ये कैसी कानून-व्यवस्था। बंगाल में किस तरह का लोकतंत्र चल रहा है, ये उसी का एक नमूना है। शांतिपुर नादिया की दीवारों पर विधायक श्री अरिंदम भट्टाचार्य को खुली धमकी लिखी है, ‘7 दिन में शांतिपुर छोड़ दो, नहीं तो तुम्हारे खून के जिम्मेदार तुम खुद होगे।’ तृणमूल का जनताविहीन लोकतंत्र।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लाइसेंस राज में कुछ घरानों का ही चलता था सिक्का, 2014 के बाद देश ने भरी उड़ान: गौतम अडानी ने PM मोदी को दिया...

गौतम अडानी ने कहा कि देश की अर्थव्यवस्था ने 10 वर्षों में टेकऑफ किया है और इसका सबसे बड़ा कारण सही तरीके से मोदी सरकार का चलना रहा है।

राबिया की अम्मी ने ज़हीर-सोनाक्षी की शादी के बहाने ‘लव जिहाद’ को किया व्हाइटवॉश: खुद देती रहती हैं दुनिया भर के ओपिनियन, दूसरों की...

स्वरा भास्कर इजरायल पर ओपिनियन दे सकती हैं, लेकिन वो कहती हैं कि भारत में लोगों को ओपिनियन देने की बीमारी है। ज़हीर-सोनाक्षी की शादी और शत्रुघ्न सिन्हा की नाराज़गी के बीच 'लव जिहाद' को फर्जी बताने का प्रयास।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -