Thursday, October 28, 2021
Homeराजनीतिहमारे बुजुर्गों ने गलतियॉं की भुगत हम रहे, JNU का नाम बदल कर MNU...

हमारे बुजुर्गों ने गलतियॉं की भुगत हम रहे, JNU का नाम बदल कर MNU कर दो: हंसराज हंस

"कश्मीर अब वाकई जन्नत बनने जा रहा है। मेरी यही दुआ है कि बम न चलें। सब अमन से रहें। बंदा इधर का मरे या उधर का मरे जाता एक मॉं का बेटा ही है।"

संगीत की दुनिया से राजनीति में आए बीजेपी सांसद हंसराज हंस ने जेएनयू का नाम प्रधानमंत्री मोदी के नाम पर एमएनयू रखने का सुझाव दिया है। वे शनिवार को जेएनयू में छात्रों से मुखातिब थे।

जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 के प्रावधानों को निष्प्रभावी करने के फैसले पर हंसराज हंस ने कहा, “कश्मीर अब वाकई जन्नत बनने जा रहा है। मेरी यही दुआ है कि बम न चलें। सब अमन से रहें। बंदा इधर का मरे या उधर का मरे जाता एक मॉं का बेटा ही है।”

जवाहर लाल नेहरू का जिक्र करते हुए कहा, “हमारे बुजुर्गों ने गलतियॉं की, हम भुगत रहे हैं। मैं कहता हूं इसका नाम बदलकर एमएनयू कर दो, मोदी जी के नाम पर भी तो कुछ होना चाहिए।”

उत्तर पश्चिम दिल्ली से सांसद हंस ने कहा कि मोदी ने मुश्किल काम कर दिखाए हैं। इसलिए कहते हैं कि मोदी है तो मुमकिन है। इससे पहले लोकसभा में भी वे पीएम मोदी की तारीफ कर चुके हैं।

वैसे, जेएनयू का नाम बदलने का सुझाव पहली बार नहीं आया है। इससे पहले 2016 में भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा था कि जेएनयू ऐसे लोगों का अड्डा बनती जा रही है जो देश के खिलाफ साजिश में शामिल है। उन्होंने इसका नाम बदल कर सुभाष चन्द्र बोस यूनिवर्सिटी रखने की मॉंग की थी। जब जेएनयू में राष्ट्रविरोधी नारे लगने की खबरें सामने आई थी तो सोशल मीडिया में भी जेएनयू का नाम बदलने को लेकर बहस चली थी।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बॉम्बे हाईकोर्ट से आर्यन खान, मुनमुन और अरबाज को मिली बेल, जानिए कब तक आएँगे जेल से बाहर

बॉम्बे हाई कोर्ट ने लगातार तीन दिन की सुनवाई के बाद आर्यन खान को जमानत दी है। अरबाज मर्चेंट और मुनमुन धमेचा को भी जमानत दी गई है।

‘वर्ल्ड कप में ये ड्रामे होते हैं, दिखावे की जरूरत नहीं’: क्विंटन डिकॉक ने डिटेल में बताया क्यों नहीं टेका घुटना

डिकॉक ने बयान में कहा कि जब भी सब वर्ल्ड कप में जाते हैं तो ऐसा कोई न कोई ड्रामा होता ही है। ये चीजें अच्छी बात नहीं है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
132,529FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe