हमारे बुजुर्गों ने गलतियॉं की भुगत हम रहे, JNU का नाम बदल कर MNU कर दो: हंसराज हंस

"कश्मीर अब वाकई जन्नत बनने जा रहा है। मेरी यही दुआ है कि बम न चलें। सब अमन से रहें। बंदा इधर का मरे या उधर का मरे जाता एक मॉं का बेटा ही है।"

संगीत की दुनिया से राजनीति में आए बीजेपी सांसद हंसराज हंस ने जेएनयू का नाम प्रधानमंत्री मोदी के नाम पर एमएनयू रखने का सुझाव दिया है। वे शनिवार को जेएनयू में छात्रों से मुखातिब थे।

जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 के प्रावधानों को निष्प्रभावी करने के फैसले पर हंसराज हंस ने कहा, “कश्मीर अब वाकई जन्नत बनने जा रहा है। मेरी यही दुआ है कि बम न चलें। सब अमन से रहें। बंदा इधर का मरे या उधर का मरे जाता एक मॉं का बेटा ही है।”

जवाहर लाल नेहरू का जिक्र करते हुए कहा, “हमारे बुजुर्गों ने गलतियॉं की, हम भुगत रहे हैं। मैं कहता हूं इसका नाम बदलकर एमएनयू कर दो, मोदी जी के नाम पर भी तो कुछ होना चाहिए।”

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

उत्तर पश्चिम दिल्ली से सांसद हंस ने कहा कि मोदी ने मुश्किल काम कर दिखाए हैं। इसलिए कहते हैं कि मोदी है तो मुमकिन है। इससे पहले लोकसभा में भी वे पीएम मोदी की तारीफ कर चुके हैं।

वैसे, जेएनयू का नाम बदलने का सुझाव पहली बार नहीं आया है। इससे पहले 2016 में भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा था कि जेएनयू ऐसे लोगों का अड्डा बनती जा रही है जो देश के खिलाफ साजिश में शामिल है। उन्होंने इसका नाम बदल कर सुभाष चन्द्र बोस यूनिवर्सिटी रखने की मॉंग की थी। जब जेएनयू में राष्ट्रविरोधी नारे लगने की खबरें सामने आई थी तो सोशल मीडिया में भी जेएनयू का नाम बदलने को लेकर बहस चली थी।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

नीरज प्रजापति, हेमंत सोरेन
"दंगाइयों ने मेरे पति को दौड़ा कर उनके सिर पर रॉड से वार किया। इसके बाद वो किसी तरह भागते हुए घर पहुँचे। वहाँ पहुँच कर उन्होंने मुझे सारी बातें बताईं। इसके बाद वो अचानक से बेहोश हो गए।" - क्या मुख्यमंत्री सोरेन सुन रहे हैं मृतक की पत्नी की दर्द भरी आवाज़?

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

145,306फैंसलाइक करें
36,933फॉलोवर्सफॉलो करें
166,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: