Sunday, July 14, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयभारत सरकार ने जस्टिन ट्रुडो को ऑफर किया था अपना विमान, कनाडा के PM...

भारत सरकार ने जस्टिन ट्रुडो को ऑफर किया था अपना विमान, कनाडा के PM ने नकार दिया: मीडिया रिपोर्ट्स में दावा – 6 घंटे तक नहीं दिया कोई जवाब

हालाँकि, कनाडा ने इस पेशकश को नकार दिया। ऊपर से ये बात भी सामने आई है कि भारत सरकार द्वारा ये ऑफर दिए जाने के 6 घंटे बाद कनाडा की तरफ से प्रतिक्रिया आई।

भारत में भव्य G20 शिखर सम्मेलन के सफल समापन के बाद कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रुडो भारत में ही अटक गए। असल में उनका विमान खराब हो गया था, जिस कारण उन्हें नई दिल्ली में ही होटल में रुकना पड़ा। इसके बाद कनाडा से एक दूसरा विमान उन्हें लेने के लिए चला, लेकिन उसे बीच में से ही वापस जाना पड़ा। अब सामने आया है कि भारत सरकार ने भी कनाडा के प्रधानमंत्री को अपना विमान ऑफर किया था, लेकिन उन्होंने इसका इस्तेमाल करने से नकार दिया।

हालाँकि, अब भारत में 36 घंटे फँसे रहने के बाद कनाडा के पीएम जस्टिन ट्रुडो और उनके साथ आया प्रतिनिधिमंडल वापस अपने देश के लिए निकल गया है। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो भारत सरकार ने सोमवार (11 सितंबर, 2023) को ही ‘एयर इंडिया वन’ से उन्हें वापस कनाडा छोड़ने की पेशकश की थी। ‘एयर इंडिया वन’ बोईंग 777s का 2 विमानों का एक समूह है, जिसका इस्तेमाल भारत के राष्ट्रपति, उप-राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री अपनी विदेश यात्राओं के दौरान करते हैं।

हालाँकि, कनाडा ने इस पेशकश को नकार दिया। ऊपर से ये बात भी सामने आई है कि भारत सरकार द्वारा ये ऑफर दिए जाने के 6 घंटे बाद कनाडा की तरफ से प्रतिक्रिया आई। भारत के केंद्रीय इलेक्ट्रॉनिक्स एवं IT मंत्री राजीव चंद्रशेखर एयरपोर्ट पर जस्टिन ट्रुडो को छोड़ने के लिए मौजूद थे। उन्होंने G20 समिट में भाग लेने के लिए कनाडा के पीएम को धन्यवाद भी दिया। मंगलवार (12 सितंबर, 2023) को दोपहर लगभग 1:10 बजे जस्टिन ट्रुडो के विमान ने कनाडा के लिए उड़ान भरी।

राजीव चंद्रशेखर ने भारत सरकार की तरफ से उनकी सुरक्षित यात्रा के लिए कामना की। भारत सरकार की तरफ से जस्टिन ट्रुडो को उनके उड़ान भरने से 24 घंटे पहले ही ऑफर दिया गया था। हालाँकि, उन्हें लेने के लिए कनाडा से चला वहाँ के एयरफोर्स का CC-150 पोलरिस विमान वापस क्यों गया, इसका कोई कारण नहीं दिया गया है। उधर कनाडा के गुरुद्वारा में भारतीय राजनयिकों की हत्या के लिए उकसाने वाले पोस्टर्स लगाए जाने को लेकर भी वहाँ की सरकार की आलोचना हो रही है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NITI आयोग की रिपोर्ट में टॉप पर उत्तराखंड, यूपी ने भी लगाई बड़ी छलाँग: 9 साल में 24 करोड़ भारतीय गरीबी से बाहर निकले

NITI आयोग ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDG) इंडेक्स 2023-24 जारी की है। देश में विकास का स्तर बताने वाली इस रिपोर्ट में उत्तराखंड टॉप पर है।

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -