Thursday, July 25, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयबिन हिजाब क्लाइंबिंग करने वाली एलनाज रेकाबी का घर ईरान में ध्वस्त: Video में...

बिन हिजाब क्लाइंबिंग करने वाली एलनाज रेकाबी का घर ईरान में ध्वस्त: Video में दिखा मलवा, जमीन पर मेडल्स बिखरे मिले

रेकाबी बिन हिजाब के प्रतियोगिता में उतरने के लिए चर्चा में आई थीं। हालाँकि उनके ईरान लौटने के बाद उन्होंने दावा किया था कि उनका हिजाब गलती से गिर गया था और वो इसके लिए माफी माँगती हैं। उनकी इस माफी के बाद सूत्रों के हवाले से कयास लगे थे कि शायद उनसे ये जबरदस्ती कहलवाया गया हो।

साउथ कोरिया के सियोल में बिन हिजाब के स्पोर्ट क्लाइंबिंग (खेल चढ़ाई) करने वाली ईरान की एलनाज रेकाबी अक्टूबर से चर्चा में थीं। लोग हिजाब विरोधी प्रदर्शन में उनका योगदान देख उनकी सराहना कर रहे थे। हालाँकि अब खबर है कि ईरानी प्रशासन द्वारा उनका घर ध्वस्त कर दिया गया है।

घटना की वीडियो सीएनएन ने साझा की। इस फुटेज में देखा गया कि कैसे उनके घर का मलवा जमीन पर पड़ा है और साथ में ढेरों मेडल हैं जो जमीन पर पड़े, बाल्टी में रखे नजर आ रहे हैं। एक व्यक्ति इस वीडियो को बनाते हुए समझा रहा है कि आखिर मामला क्या है। वीडियो में एलनाज के भाई व चिह्नित क्लाइंबर दाऊद हैं जिन्होंने इस खेल में कई मेडल जीते हैं।

तसनीम न्यूज एजेंसी का इस मामले पर कहना है कि ये ध्वस्तीकरण उससे पहले ही हुआ था जब रेकाबी ने साउथ कोरिया में बिन हिजाब भाग लिया था। न्यूज एजेंसी के अनुसार, ये बात सच है कि रेकाबी का घर तोड़ा गया मगर उसका कारण साउथ कोरिया में हुई प्रतियोगिता नहीं बल्कि घर बनवाने के लिए न ली गई वैध अनुमति है। परिवार को 4,700 डॉलर के करीब फाइन भी देना पड़ा था।

याद दिला दें कि अक्टूबर महीने में रेकाबी भले ही बिन हिजाब के प्रतियोगिता में उतरने के लिए चर्चा में आई थीं, लेकिन उनके ईरान लौटने के बाद उन्होंने दावा किया कि उनका हिजाब गलती से गिर गया था और वो इसके लिए माफी माँगती हैं। उनकी इस माफी के बाद सूत्रों के हवाले से कयास लगे थे कि शायद उनसे ये जबरदस्ती कहलवाया गया हो। उनके ऊपर ईरानी सरकार का दबाव हो।

ईरान में हिजाब विरोधी प्रदर्शन

बता दें कि ईरान में सितंबर के बाद से हिजाब विरोधी प्रदर्शन चल रहा है। 16 सितंबर को वहाँ महसा अमिनी की हत्या हुई थी। इसके बाद से गुस्साई जनता सड़कों पर आ गई और ईरानी प्रशासन के विरुद्ध सड़कों पर आवाज बुलंद करने लगी। कई ऐसी वीडियोज देखी गई थी जिसमें लड़कियाँ अपने बाल काट रही थीं, अपने हिजाब को जला रही थी।

ईरान के इस प्रदर्शन का असर विश्व भर में देखने को मिला था। दुनिया भर के सेलीब्रिटी इन औरतों के समर्थन में आए थे और केवल हिजाब ढंग से न पहनने पर हुई महसा की हत्या को खुलकर गलत बताया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘दरबार हॉल’ अब कहलाएगा ‘गणतंत्र मंडप’, ‘अशोक हॉल’ बना ‘अशोक मंडप’: महामहिम द्रौपदी मुर्मू का निर्णय, राष्ट्रपति भवन ने बताया क्यों बदला गया नाम

राष्ट्रपति भवन ने बताया है कि 'दरबार' का अर्थ हुआ कोर्ट, जैसे भारतीय शासकों या अंग्रेजों के दरबार। बताया गया है कि अब जब भारत गणतंत्र बन गया है तो ये शब्द अपनी प्रासंगिकता खो चुका है।

जिसका इंजीनियर भाई एयरपोर्ट उड़ाने में मरा, वो ‘मोटू डॉक्टर’ मारना चाह रहा था हिन्दू नेताओं को: हाई कोर्ट से माँग रहा था रहम,...

कर्नाटक हाई कोर्ट ने आतंकी मोटू डॉक्टर को राहत देने से इनकार कर दिया है। उस पर हिन्दू नेताओं की हत्या की साजिश में शामिल होने का आरोप है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -