Sunday, July 14, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयअफगानिस्तान में हुई बमबारी में 35 तालिबानियों की मौत, कई पहुँचे अस्पताल: IS ने...

अफगानिस्तान में हुई बमबारी में 35 तालिबानियों की मौत, कई पहुँचे अस्पताल: IS ने ली जिम्मेदारी

अफगानिस्तान के जलालाबाद में हुई बमबारी में निशाने पर तालिबानियों का वाहन था। चश्मदीद भी यही जानकारी दे रहे हैं कि बम धमाके के बाद कई तालिबानी अस्पताल पहुँचाए गए।

अफगानिस्तान के जलालाबाद में हुई बमबारी का जिम्मा इस्लामी स्टेट ने लिया है। रविवार (सितंबर 19, 2021) को टेलीग्राम चैनल पर अमाक न्यूज एजेंसी के ग्रुप में कहा गया कि शनिवार को जलालाबाद में तालिबान की गाड़ियों पर तीन अलग अलग हमले हुए और एक अन्य हमला रविवार को हुआ। सारे घटनाक्रम में 35 से ज्यादा तालिबानी मारे गए या फिर घायल हुए।

स्थानीय मीडिया बता रहा है कि जलालाबाद में हुई बमबारी में निशाने पर तालिबानियों का वाहन था। चश्मदीद भी यही जानकारी दे रहे हैं कि बम धमाके के बाद कई तालिबानी अस्पताल पहुँचाए गए। बताया जा रहा है कि 30 अगस्त को अमेरिकी सेना के लौटने के बाद शनिवार को हुआ धमाका सबसे घातक था।

तालिबान ने अभी तक हताहत हुए तालिबानियों पर कोई टिप्पणी नहीं की है। लेकिन टोलो न्यूज को तालिबानी प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद ने बम धमाके की जानकारी दी है। मालूम हो कि अफगानिस्तान में तालिबानियों के घुसने के बाद से नंगरहार, जो पाकिस्तान की सीमा में है, एकमात्र ऐसा प्रांत है जहाँ तालिबान को आईएस द्वारा निशाना बनाया जा रहा है। पिछली अफगान सरकार के दौरान नंगरहार और कुनार प्रांतों के कुछ जिले आईएस के गढ़ थे लेकिन बाद में फगान बलों, जन विद्रोह और तालिबान द्वारा खदेड़ दिया गया था।

ज्ञात हो कि IS और तालिबान सुन्नी इस्लामी समूह के कट्टर चेहरे हैं। लेकिन ये मजहब और रणनीति के मामले में अलग राय रखते हैं जिसके कारण इनके बीच खूनी संघर्ष चलता है। ये दोनों ही अफगानिस्तान में तैनात अमेरिकी फौज के विरोध में थे। जहाँ तालिबान चाहता था कि उनका अफगानिस्तान पर नियंत्रण हो, वहीं आईएस वैश्विक जिहाद के सपने देखता है। इससे पहले आईएस ने अफगानिस्तान में काबुल एयरपोर्ट पर हमला किया था जहाँ सैंकड़ों लोग तालिबान के कब्जे से भागने की कोशिश कर रहे थे।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मांस-मछली से मुक्त हुआ गुजरात का पातिलाना, इस्लाम और ईसाइयत से भी पुराना है इस शहर का इतिहास: जैन मंदिर शहर के नाम से...

शत्रुंजय पहाड़ियों की यह पवित्रता और शीर्ष पर स्थित धार्मिक मंदिर, साथ ही जैन धर्म का मूल सिद्धांत अहिंसा है जो पालिताना में मांस की बिक्री और खपत पर प्रतिबंध लगाने की मांग का आधार बनता है।

US में पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को लगी गोली, हमलावर सहित 2 की मौत: PM मोदी ने जताया दुख, कहा- ‘राजनीति में हिंसा की...

गोलीबारी के दौरान सुरक्षाबलों ने हमलावर को मार गिराया। इस हमले में डोनाल्ड ट्रंप घायल हो गए और उनके कान से निकला खून उनके चेहरे पर दिखा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -