Tuesday, July 23, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयशांति से तिरंगा यात्रा निकाल रहे थे हिंदू, खालिस्तानियों ने तलवार लेकर किया हमला:...

शांति से तिरंगा यात्रा निकाल रहे थे हिंदू, खालिस्तानियों ने तलवार लेकर किया हमला: ऑस्ट्रेलिया में बढ़ रहीं हिंदू विरोधी गतिविधियाँ, मंदिरों पर हुए थे हमले

बीते 20 दिनों के भीतर ही खालिस्तानियों ने 3 हिंदू मंदिरों में तोड़फोड़ करते हुए देश विरोधी और खलिस्तान के समर्थन में नारे लिख दिए थे।

ऑस्ट्रेलिया में खालिस्तानी गतिविधियाँ बढ़ती जा रहीं हैं। रविवार (29 जनवरी 2023) को मेलबर्न शहर के फेडरेशन चौक में खलिस्तान के समर्थन में जनमत संग्रह का आयोजन किया गया। इस जनमत संग्रह का विरोध करने के लिए भारतीयों ने तिरंगा लहराते हुए यात्रा निकाली। इस यात्रा में, खालिस्तान समर्थक हिंदुओं की ओर तलवार लेकर दौड़ते दिखाई दिए।

ऑस्ट्रेलियाई हिंदू मीडिया द्वारा शेयर किए गए वीडियो में देखा जा सकता है कि हिंदू शांतिपूर्ण ढंग से तिरंगा यात्रा निकाल रहे हैं। इस दौरान खलिस्तान समर्थक पहले तो खालिस्तानी झंडा लहराते हैं। लेकिन बाद में तलवार लेकर उनके पीछे दौड़ते दिखाई दिए।

ऑस्ट्रेलियाई हिंदू मीडिया ने एक अन्य ट्वीट में दावा किया है कि खालिस्तान समर्थकों ने भारतीयों पर हमला किया है। ट्वीट में कहा गया है, “विशेष तौर पर डिजाइन किए गए हथियार लेकर 30-40 खलोस्तानियों ने तिरंगे लेकर शांति पूर्ण रूप से चल रहे निहत्थे हिंदुओं पर हमला किया। हमला फेडरेशन चौक पर हुआ। विक्टोरिया पुलिस, आतंक से जुड़े इस पंथ को हिंसा के अपने ब्रांड का प्रदर्शन रोकने में असफल रही।”

बता दें कि ऑस्ट्रेलिया में हिंदू लगातार खालिस्तानियों के निशाने पर रहा है। बीते 20 दिनों के भीतर ही खालिस्तानियों ने 3 हिंदू मंदिरों में तोड़फोड़ करते हुए देश विरोधी और खलिस्तान के समर्थन में नारे लिख दिए थे।

खालिस्तानियों ने हिंदू मंदिर में पहला हमला 12 जनवरी को किया था। यह हमला मेलबर्न के BAPS स्वामीनारायण मंदिर में हुआ था। मंदिर में तोड़फोड़ करने के बाद खालिस्तानियों ने मंदिर की दीवार पर ‘हिंदुस्तान मुर्दाबाद’, ‘मोदी हिटलर है’ और ‘भिंडरावाले जिंदाबाद’ जैसे नारे लिखे थे।

इसके बाद खालिस्तानियों ने 16 जनवरी 2023 को मेलबर्न के ही कैरम डाउन्स में स्थित ऐतिहासिक श्री शिव विष्णु मंदिर (Shri Shiva Vishnu Temple) पर हमला किया था। तोड़फोड़ के बाद, मंदिर की दीवारों पर ‘टारगेट मोदी (मोदी को बनाओ निशाना)’, ‘मोदी हिटलर’ और ‘हिंदुस्तान मुर्दाबाद’ के नारे लिखे गए थे।

वहीं, तीसरा हमला मेलबर्न के ही अल्बर्ट पार्क इलाके में स्थित श्रीश्री राधा बल्लभ मंदिर में 22 जनवरी 2023 को हमला हुआ। इस मंदिर को इस्कॉन मंदिर भी कहा जाता है। हमले के बाद, मंदिर की दीवारों में ‘खालिस्तान जिंदाबाद’, ‘हिन्दुस्तान मुर्दाबाद’ के नारे लिखे गए। इसके अलावा, खालिस्तानी आतंकी भिंडरवाले को शहीद बताते हुए भी नारा लिखा गया।

बता दें कि जरनैल सिंह भिंडरांवाले एक खूँखार खालिस्तानी आतंकी था। वह 20,000 से अधिक हिंदू और सिखों की हत्या के लिए जिम्मेदार था। हालाँकि, अलगाववादी खालिस्तानी भिंडरांवाले को संत बताकर उसका महिमामंडन करते रहते हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

20000 महिलाओं को रेप-मौत से बचाने के लिए जब कॉन्ग्रेसी मंत्री ने RSS से माँगी थी मदद: एक पत्र में दर्ज इतिहास, जिसे छिपा...

पत्र में कहा गया था कि आरएसएस 'फील्ड वर्क' के लिए लोगों को अत्यधिक प्रशिक्षित करेगा और संघ प्रमुख श्री गोलवरकर से परामर्श लिया जा सकता है।

कागज तो दिखाना ही पड़ेगा: अमर, अकबर या एंथनी… भोले के भक्तों को बेचना है खाना, तो जरूरी है कागज दिखाना – FSSAI अब...

सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि कांवड़ रूट में नाम दिखने पर रोक लगाई जा रही है, लेकिन कागज दिखाने पर कोई रोक नहीं है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -