Friday, July 19, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयपरंपरा जो बन गई 'मौत की पार्टी'... ईसाई सेंट्स की वेश-भूषा से शुरू हुआ,...

परंपरा जो बन गई ‘मौत की पार्टी’… ईसाई सेंट्स की वेश-भूषा से शुरू हुआ, भूत-प्रेतों वाले डरवाने गेटअप तक पहुँच गया: ऐसा रहा है हैलोवीन का सफर

फसल के मौसम में किसानों की मान्यता थी कि बुरी आत्माएँ धरती पर आकर उनकी फसल को नुकसान पहुँचा सकती हैं। यही कारण था कि लोग डरावने कपड़े पहनने लगे।

दक्षिण कोरिया की राजधानी सियोल में शनिवार (29 अक्टूबर, 2022) को आयोजित हैलोवीन फेस्टिवल में मची भगदड़ में करीब 150 लोगों की दर्दनाक मौत हो गई है। इस हादसे के बाद से पूरी दुनिया में हैवोलीन चर्चा का विषय बना हुआ है। आइए जानते हैं, हैवोलीन फेस्टिवल क्या है और कब मनाया जाता है।

हैलोवीन शब्द अंग्रेजी के हॉलो शब्द से लिया गया है, जिसका अर्थ ‘पवित्र’ होता है। यही नहीं, हॉलो शब्द का उपयोग संतों के लिए भी किया जाता है। यही कारण है कि जब स्कॉटलैंड और आयरलैंड में इस फेस्टिवल की जब शुरुआत हुई, तब लोग संतों की वेशभूषा में तैयार होकर अन्य लोगों के घर जाते थे। हैलोवीन के इतिहास को लेकर अलग-अलग मान्यता है। कुछ लोग इसे सैकड़ों वर्ष पुराना तो कुछ 2000 साल पुराना मानते हैं।

पहले इसे, ‘आल सेंट्स डे’, ‘ऑल हैलोज़ डे’ और ‘ऑल हैलोज़ ईव’ कहा जाता था और 1 नवंबर को मनाया जाता था। चूँकि, यह तीन शब्दों का नाम था इसलिए धीरे-धीरे बदलते हुए इसे हैलोवीन कहा जाने लगा। ईसाई, सेल्टिक कैंलेंडर के आखिरी दिन यानी 31 अक्टूबर को पूर्वजों की याद में हैलोवीन फेस्टिवल मनाते हैं। इस साल भी यह फेस्टिवल सोमवार (31 अक्टूबर, 2022) को मनाया जाएगा।

जैसा कि बताया गया है, पहले इस फेस्टिवल को ईसाई संतों की वेशभूषा में तैयार होकर मनाया जाता था। हालाँकि, अब इस फेस्टिवल में हैलोवीन कॉस्ट्यूम (Halloween Costume) यानी डरावने कपड़े और डरावना मास्क-मेकअप किया जाता है। हैवोलीन को लेकर ईसाई समुदाय में मान्यता है कि भूतों का गेटअप करने से पूर्वजों की आत्‍माओं को शांति मिलती है। वहीं, फसल के मौसम में किसानों की मान्यता थी कि बुरी आत्माएँ धरती पर आकर उनकी फसल को नुकसान पहुँचा सकती हैं। यही कारण था कि लोग डरावने कपड़े पहनने लगे। हालाँकि, इसे लेकर आज भी अलग-अलग कहानियाँ और मान्यताएँ हैं।

इस फेस्टिवल में लोग कद्दू को खोखला करके उसमें डरावने चेहरे और नाक बनाते हैं। इसके बाद, उसके अंदर जलती हुई मोमबत्ती (कैंडल/लालटेन) डाल कर अंधेरे में रख दिया जाता है। इन्हें ही डरावना हैलोवीन कहा जाता है। कई देशों में कद्दू, यानी हैलोवीन ही को घर के बाहर अंधेरे में पेड़ों पर लटकाया जाता है, जो पूर्वजों का प्रतीक होता है। इस फेस्टिवल के खत्‍म होने के बाद कद्दू को दफना दिया जाता है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

पुरी के जगन्नाथ मंदिर का 46 साल बाद खुला रत्न भंडार: 7 अलमारी-संदूकों में भरे मिले सोने-चाँदी, जानिए कहाँ से आए इतने रत्न एवं...

ओडिशा के पुरी स्थित महाप्रभु जगन्नाथ मंदिर के भीतरी रत्न भंडार में रखा खजाना गुरुवार (18 जुलाई) को महाराजा गजपति की निगरानी में निकाल गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -