Sunday, July 21, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयपाव, चटनी, पान, चाय, मिठाई... G20 के शाकाहारी डिनर में दिखी भारत की विविधता,...

पाव, चटनी, पान, चाय, मिठाई… G20 के शाकाहारी डिनर में दिखी भारत की विविधता, ‘नालंदा यूनिवर्सिटी’ के सामने मेहमानों का स्वागत

मिष्ठान यानी मीठे में, मधुरिमा 'स्वर्ण कलश' इलायची की खुशबू वाला साँवा का हलवा, अंजीर-आडू मुरब्बा और अंबेमोहर राइस क्रिस्प्स (दूध और श्रीअन्न, गेहूँ और मेवा युक्त) है।

G20 समिट में शामिल होने आए मेहमानों के सम्मान में राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू डिनर होस्ट कर रही हैं। इसके मेन्यू में सभी शाकाहारी व्यंजन शामिल किए गए हैं। मेन्यू भारतीय परंपरा, रीति-रिवाज और देश की विविधता को ध्यान में रखते हुए तैयार किया गया है।

भारत मंडपम के लेवल-3 में आयोजित इस डिनर में शामिल होने आए मेहमानों का स्वागत नालंदा यूनिवर्सिटी के बैकग्राउंड के सामने हुआ। डिनर में दुनियाभर के राष्ट्राध्यक्षों, डेलीगेट्स, भारत के प्रधानमंत्री, उपराष्ट्रपति, सभी राज्यों के मुख्यमंत्री, केंद्रीय और राज्य मंत्री समेत करीब 170 लोगों को आमंत्रित किया गया है। साथ ही उप-राष्ट्रपति जगदीप धनखड़, पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, व पूर्व उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को भी बुलावा भेजा गया है।

इस डिनर के मेन्यू में शुरुआती भोजन यानी स्टारर के तौर पर, पात्रम ‘ताजी हवा का झोंका’ में दही के गोले और भारतीय मसालेदार चटनी से सजे कंगनी श्रीअन्न (मिलेट) लीफ क्रिस्प (दूध, गेहूँ और मेवा युक्त) रखा गया है। वहीं, मुख्य भोजन यानि मेन कोर्स में वनवर्णम ‘मिट्टी के गुण’, ग्लेजड कॉरेस्ट मशरूम, कुटकी श्रीअन्न (मिलेट) क्रिस्प और करी पत्ते के साथ तैयार केरल काल चावल के साथ परोसे गए कटहल गैलेट (दूध और गेहूँ युक्त)।

वहीं रोटी में मुंबई का पाव कलौंजी के स्वाद वाले मुलायम बन (दूध और गेहूँ युक्त)। इसके अलावा, दूसरी रोटी में बाकरखानी इलायची के स्वाद वाली मीठी रोटी रखी गई है। मिष्ठान यानी मीठे में, मधुरिमा ‘स्वर्ण कलश’ इलायची की खुशबू वाला साँवा का हलवा, अंजीर-आडू मुरब्बा और अंबेमोहर राइस क्रिस्प्स (दूध और श्रीअन्न, गेहूँ और मेवा युक्त) है। पेय पदार्थ यानि कि पीने के लिए कश्मीरी कहवा, फिल्टर कॉफी और दार्जलिंग चाय रखी गई है। खाने-पीने यानि डिनर के बाद मेहमानों के लिए पान के स्वाद वाली चॉकलेट की पत्तियाँ रखी गईं हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शुक्र है मीलॉर्ड ने भी माना कि वो इंसान हैं! चाइल्ड पोर्नोग्राफी देखने को मद्रास हाई कोर्ट ने नहीं माना था अपराध, अब बदला...

चाइल्ड पोर्नोग्राफी को अपराध नहीं बताने वाले फैसले को मद्रास हाई कोर्ट के जज एम. नागप्रसन्ना ने वापस लिया और कहा कि जज भी मानव होते हैं।

आरक्षण के खिलाफ बांग्लादेश में धधकी आग में 115 की मौत, प्रदर्शनकारियों को देखते ही गोली मारने के आदेश: वहाँ फँसे भारतीयों को वापस...

बांग्लादेश में उपद्रवियों को देखते ही गोली मारने के भी आदेश दिए गए हैं। वहाँ हिंसा में अब तक 115 लोगों की जान जा चुकी है और 1500+ घायल हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -