Friday, July 19, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयअवैध रूप से यूरोप जा रहे प्रवासियों की नौका समुद्र में पलटी, 27 की...

अवैध रूप से यूरोप जा रहे प्रवासियों की नौका समुद्र में पलटी, 27 की डूबने से मौत: लीबिया के तट पर बिखरे मिले सड़े हुए शव

एक अधिकारी ने बताया कि शवों सड़ चुके हैं और इनकी हालत देखकर कहा जा सकता है कि दुर्घटना कई दिन पहले हुई है। इनके शवों को बैग में रखकर सामूहिक रूप से दफनाने का काम जारी है।

अवैध रूप से यूरोप (Europe) जा रहे 27 प्रवासियों के शव लीबिया (Libya) के समुद्री तटों पर बिखरे मिले हैं, जिनमें दो महिलाएँ और एक बच्चे का शव भी है। घटना की जानकारी देते हुए लीबिया के रेड क्रिसेंट (Red Crescent) नाम के मुस्लिम संगठन ने कहा कि शनिवार (25 दिसंबर) की देर रात तटीय शहर खोम्स (Khoms) के दो अलग-अलग स्थानों पर ये शव मिले हैं। वहीं, इस घटना में तीन प्रवासियों को बचा लिया गया है। वहीं, स्थानीय प्रशासन तलाशी अभियान चलाकर अन्य लोगों की खोजबीन कर रहा है।

ये मुस्लिम प्रवासी लीबिया के जरिए अफ्रीका और मध्य पूर्व देशों से नौका में भरकर यूरोप जा रहे थे, लेकिन जहाज के डूबने की वजह से इन लोगों की मौत हो गई। खोम्स शहर लीबिया की राजधानी त्रिपोली से लगभग 90 किलोमीटर दूर है और यह समुद्री रास्ता अवैध प्रवासियों के लिए पसंदीदा है।

रेड क्रॉस (Red Cross) की तर्ज पर मुस्लिम के संगठन रेड क्रिसेंट की लीबिया शाखा ने मृतकों की तस्वीरों को साझा किया है। संगठन के कर्मी मृतकों के शव को हटाने का काम कर रहे हैं और उन्हें काले बैग में भरते दिख रहे हैं।

एक अधिकारी ने अंतरराष्ट्रीय न्यूज एजेंसी AFP के बताया कि शवों सड़ चुके हैं और इनकी हालत देखकर कहा जा सकता है कि दुर्घटना कई दिन पहले हुई है। इनके शवों को बैग में रखकर सामूहिक रूप से दफनाने का काम जारी है।

संयुक्त राष्ट्र की शरणार्थी एजेंसी (U.N. migration agency) के अनुसार, इस साल भूमध्यसागर के रास्ते यूरोप जाने वाली नौकाओं के डूबने से इस साल लगभग 1,500 प्रवासियों की मौत हो गई है। इस महीने की शुरुआत में अफ्रीकी देशों से अवैध रूप से यूरोप जा रहे प्रवासियों से भरी से दो अलग-अलग नौकाओं के दुर्घटनाग्रस्त होने के कारण 160 से अधिक प्रवासी डूब कर मर गए थे। इनमें बच्चे भी शामिल थे।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

1 साल में बढ़े 80 हजार वोटर, जिनमें 70 हजार का मजहब ‘इस्लाम’, क्या याद है आपको मंगलदोई? डेमोग्राफी चेंज के खिलाफ असम के...

असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने तथ्यों को आधार बनाते हुए चिंता जाहिर की है कि राज्य 2044 नहीं तो 2051 तक मुस्लिम बहुल हो जाएगा।

5 साल में 123% तक बढ़ गए मुस्लिम वोटर, फैक्ट फाइडिंग रिपोर्ट से सामने आई झारखंड की 10 सीटों की जमीनी हकीकत: बाबूलाल का...

झारखंड की 10 विधानसभा सीटों के कई मुस्लिम बहुल बूथ पर 100% से अधिक वोटर बढ़ गए हैं। यह खुलासा भाजपा की एक रिपोर्ट में हुआ है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -