Friday, July 19, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयपाकिस्तान ने Wikipedia को किया बैन, 'ईशनिंदा' वाले कंटेंट हटाने को राजी नहीं हुई...

पाकिस्तान ने Wikipedia को किया बैन, ‘ईशनिंदा’ वाले कंटेंट हटाने को राजी नहीं हुई कंपनी

ईशनिंदा कानून में इस्लाम, उसके पैगंबर मुहम्मद और कुरान का अपमान करने के दोषी को मौत की सजा का प्रावधान है। अब इस कानून में बदलाव करके उन लोगों को भी दंडित करने का प्रावधान किया जा सकता है, जो उनसे जुड़े लोगों का अपमान करने के दोषी पाए जाते हैं।

इस्लामिक रिपब्लिक ऑफ पाकिस्तान कथित ईशनिंदा से संबंधित कंटेंट हटाने से इनकार करने पर विकिपीडिया (Wikipedia) को ब्लॉक करने का फैसला किया है। पाकिस्तान का कहना है कि विकिपीडिया को तभी बहाल किया जाएगा, जब वह ईशनिंदा (Blasphemy) से संबंधित कंटेंट को हटाएगा।

इससे पहले, पाकिस्तान टेलीकम्युनिकेशन अथॉरिटी (PTA) ने कंटेंट को हटाने के लिए 48 घंटे का समय देते हुए इस ऑनलाइन इनसाइक्लोपीडिया की पहुँच को सीमित कर दिया था। पाकिस्तान ने विकिपीडिया को 1 फरवरी 2023 को चेतावनी दी थी। हालाँकि, उसने यह नहीं बताया कि पाकिस्तान किस कंटेंट को ईशनिंदा मानता है।

पाकिस्तानी ऑनलाइन मीडिया वेबसाइट द न्यूज (The News) के मुताबिक, एक कानून और अदालती आदेश के तहत विकिपीडिया को नोटिस जारी किया गया था और उससे ईशनिंदा से संबंधित सामग्री को ब्लॉक करने/हटाने के लिए कहा गया था। हालाँकि, विकिपीडिया ने इस आदेश का पालन नहीं किया।

PTA के प्रवक्ता ने कहा कि पाकिस्तान ने विकिपीडिया को सुनवाई के लिए उपस्थित होने या ‘ईशनिंदा’ सामग्री को हटाने का अवसर दिया था, लेकिन उसने दोनों में से किसी पर भी ध्यान नहीं दिया। इसलिए PTA ने उसे ब्लॉक करने का फैसला लिया।

साल 2012 में पाकिस्तान सरकार ने इस्लाम विरोधी एक फिल्म के 700 से अधिक YouTube लिंक को ब्लॉक कर दिया था। इस फिल्म को लेकर कई देशों में बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया था। वहाँ की सुप्रीम कोर्ट ने इन्हें ब्लॉक करने का आदेश दिया था।

बता दें कि पाकिस्तान गंभीर आर्थिक संकट से गुजर रहा है और महँगाई के कारण वहाँ खाद्यान्नों की कीमतें आसमान छू रही हैं। आटा-चावल खरीदना एक आम पाकिस्तानी के लिए मुश्किल हो गया है। इसके कारण पूरे देश में अराजकता फैल गई है। जगह-जगह दंगे और लूट-मार मची है।

इस बीच लोगों का ध्यान हटाने के लिए वहाँ की संसद ने जनवरी 2023 में वहाँ की क्रूर ईशनिंदा कानून को और कड़ा कर दिया। इस कानून का इस्तेमाल वहाँ अल्पसंख्यकों को सताने और धर्मांतरण के लिए किया जाता है। इतना ही नहीं, आम मुस्लिम भी व्यक्तिगत झगड़ों से निपटने के लिए इस कानून का खूब इस्तेमाल करता है।

ईशनिंदा कानून में इस्लाम, उसके पैगंबर मुहम्मद और कुरान का अपमान करने के दोषी को मौत की सजा का प्रावधान है। अब इस कानून में बदलाव करके उन लोगों को भी दंडित करने का प्रावधान किया जा सकता है, जो उनसे जुड़े लोगों का अपमान करने के दोषी पाए जाते हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फ्लाइट में साथ बैठे थे, पूछा मूवी देखती हो, दिखाने लगे पोर्न… जिंदल स्टील के CEO पर महिला यात्री ने लगाया इल्जाम, कहा- मुझे...

अनन्या छौछरिया नाम की महिला ने जिंदल स्टील के सीईओ दिनेश सारोगी के ऊपर यौन उत्पीड़न का इल्जाम लगाया है।

वाहन फूँके, पुलिस पर हमला… दंगों में जला ब्रिटेन का लीड्स: यहीं से सांसद चुना गया है गाजा समर्थक मोतिन अली, जीत के बाद...

ब्रिटेन के शहर लीड्स में दंगे भड़क गए हैं। प्रवासी दंगाइयों ने एक इलाके में जम का उत्पात मचाया और पुलिस की गाड़ियों को तोड़ आग लगा दी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -