Saturday, July 13, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयपाकिस्तान में 3 लड़ाकू विमान फूँक डाले गए: जिस 'जिहाद' का करता है पोषण...

पाकिस्तान में 3 लड़ाकू विमान फूँक डाले गए: जिस ‘जिहाद’ का करता है पोषण उसने ही एयरबेस कर दिया तबाह, फ्यूल टैंकर भी आग के हवाले

इस हमले की जिम्मेदारी तहरीक-ए-जिहाद नामक संगठन ने ली है। तहरीक-ए-जिहाद पाकिस्तान (टीजेपी), एक नया उभरा समूह जो तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी) से संबद्ध है।

पाकिस्तान के मियाँवाली एयरबेस पर शनिवार (4 नवंबर, 2023)  तड़के एक बड़ा आत्मघाती हमला हुआ। इस हमले में पाकिस्तान के तीन फाइटर एयरक्राफ्ट सहित एयरबेस को भारी नुकसान पहुँचा है। इस हमले की जिम्मेदारी तहरीक-ए-जिहाद पाकिस्तान ने ली है। 

कैसे हुआ हमला?

हमलावरों ने मियाँवाली एयरबेस में घुसने के लिए सीढ़ियों का इस्तेमाल किया था। सीढ़ी के सहारे वे एयरबेस परिसर में दाखिल हुए और एक के बाद एक कई धमाके किए। जिसमें पाकिस्तानी वायु सेना को भारी नुकसान पहुँचा है। 3 लड़ाकू विमान को भी आत्मघाती हमलावरों ने भारी नुकसान पहुँचाया है, वहीं फ्यूल टैंकर को आग के हवाले कर दिया गया।

एक्स (पूर्व में ट्विटर) पर शेयर होती वीडियो में ज्यादातर अंधेरा नजर आ रहा है। लेकिन अगर ध्यान से सुनें तो साफ पता चल रहा है कि किस तरह से बेस कैंप पर गोलियाँ चलीं और धमाकों का धुआँ दूर तक उठता दिखाई दिया।

डॉन की रिपोर्ट के अनुसार, पाकिस्तानी सेना ने कहा कि पाकिस्तान वायु सेना के मियाँवाली वाली ट्रेनिंग एयर बेस पर हमले को नाकाम कर दिया। इस हमले को उन घटनाओं की श्रृंखला के रूप देखा जा रहा है जिनमें बलूचिस्तान और खैबर पख्तूनख्वा में कम से कम 17 सैनिक शहीद हो गए थे।

इनमें ग्वादर में एक हमला, डेरा इस्माइल खान में एक रिमोट-नियंत्रित बम विस्फोट और केपी के लक्की मारवत में एक सुरक्षा अभियान भी शामिल है। इसके अलावा चौथी घटना, डीएल खान में एक और रिमोट-नियंत्रित विस्फोट, जिसमें पाँच लोग मारे गए और पुलिस अधिकारियों सहित कम से कम 24 घायल हुए थे।

वहीं शनिवार 4 नवंबर को हुए हमले को नाकाम बताते हुए पाकिस्तानी सेना का कहना कि उसने सभी 9 हमलावरों को मार गिराया है। हमलावरों के खिलाफ ऑपरेशन खत्म हो गया है। साथ ही इस बात की पुष्टि भी की कि फिदायीन हमले की वजह से एयरफोर्स के तीन एयरकाफ्ट को नुकसान पहुँचा है।

तहरीक-ए-जिहाद ने ली जिम्मेदारी 

इस हमले की जिम्मेदारी तहरीक-ए-जिहाद नामक संगठन ने ली है। दरअसल, तहरीक-ए-जिहाद पाकिस्तान (टीजेपी), एक नया उभरा समूह जो तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी) से संबद्ध है। हमले की जिम्मेदारी लेते हुए तहरीक-ए-जिहाद के प्रवक्ता मुल्ला मोहम्मद कासिम ने दावा किया कि पाकिस्तानी एयरफोर्स पर हुए फिदायीन हमले में कई हमलावर शामिल थे। 

कहाँ है मियाँवाली एयरबेस

एमएम आलम एयरबेस मियाँवाली, पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में है। यह पाकिस्तानी एयरफोर्स के नॉर्दर्न एयर कमांड के अंतर्गत आता है। 1971 के भारत-पाकिस्तान युद्ध में इस एयरबेस को पूरी तरह से ऑपरेशनल किया गया था। 

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

‘आपातकाल तो उत्तर भारत का मुद्दा है, दक्षिण में तो इंदिरा गाँधी जीत गई थीं’: राजदीप सरदेसाई ने ‘संविधान की हत्या’ को ठहराया जायज

सरदेसाई ने कहा कि आपातकाल के काले दौर में पूरे देश पर अत्याचार करने के बाद भी कॉन्ग्रेस चुनावों में विजयी हुई, जिसका मतलब है कि लोग आगे बढ़ चुके हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -