Saturday, July 20, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयIMF से लोन पाकर बौराया पाकिस्तान... 40 करोड़ रुपए खर्च करके फहराएगा मुल्क में...

IMF से लोन पाकर बौराया पाकिस्तान… 40 करोड़ रुपए खर्च करके फहराएगा मुल्क में ‘सबसे बड़ा’ झंडा: कर्ज न चुकाने पर सऊदी अरब से मिली थी चेतावनी

इससे पहले 2017 में पाकिस्तान ने अपनी शान दिखाने के लिए अटारी वाघा सीमा पर 400 फीट का ऊँचा झंडा फहराया था। यह दक्षिण एशिया में सबसे ऊँचा झंडा है जिसका आकार 120x80 फीट है।

पाकिस्तान के कर्ज में डूबने के चर्चा विश्व भर में हैं। ऐसे में हाल में खबर आई कि आईएमएफ ने उन्हें राहत देते हुए 3 अरब डॉलर कर्ज देने की मंजूरी दी है। यह कर्ज वैसे तो पाकिस्तान की जनता के लिए है। मगर सरकार इसे अपनी वाह-वाही में लुटाने के लिए फिर तैयार हो गई है।

बताया जा रहा है कि पाकिस्तान की पंजाब सरकार इस बार अपने 76वें आजादी के कार्यक्रम में मुल्क में 500 फीट के स्तंभ पर झंडा फहराएगी जिसकी लागत 40 करोड़ पाकिस्तानी रुपए आने वाली है।

दिलचस्प बात ये है कि ऐसा निर्णय तब लिया जा रहा है जब अगले दो साल के भीतर पाकिस्तान को 2000 करोड़ रुपए ब्याज के साथ चुकाने हैं। वहीं इनकी एयरलाइन्स इतना कर्जे में डूब गई है कि सऊदी अरब इन्हें धमकियाँ दे रहा है, मलेशिया इनके विमान जब्त कर रही है, और चीन का दबाव लगातार इन पर बढ़ रहा है… इन सबके बावजूद पाकिस्तान ने निर्णय लिया है कि वो इस बार लाहौर से लिबर्टी चौक पर यह झंडा फहराएँगे।

इससे पहले 2017 में पाकिस्तान ने अपनी शान दिखाने के लिए अटारी वाघा सीमा पर 400 फीट का ऊँचा झंडा फहराया था। यह दक्षिण एशिया में सबसे ऊँचा झंडा है जिसका आकार 120×80 फीट है।

उल्लेखनीय है कि IMF पाकिस्तान को 3 अरब डॉलर का लोन 9 महीने मेंदेने वाला है। उनसे पूर्व पाकिस्तान ने विदेशी मुद्रा भंडार बढ़ाने के लिए यूएई से 1 अरब डॉलर का लोन लिया था। वहीं सऊदी अरब ने देश के केंद्रीय बैंक को 2 अरब डॉलर उधार दिए थे। इन्हीं कर्जों के चलते पाकिस्तान की स्थिति बीते कुछ समय में बद्तर होती दिखी। यहाँ फैक्ट्रियाँ बर्बाद होने लगीं। अब इन्हें IMF ने फिर से अरबों डॉलर देकर थोड़ी राहत दी है। लेकिन ऐसे में पाकिस्तान के सबसे बड़ा झंडा फहराने के पाकिस्तान के स्थानीय ही अपनी सरकार का विरोध कर रहे हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -