Sunday, July 21, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयजो बनने वाले हैं ब्रिटेन के राजा, उन्होंने आतंकी लादेन के परिवार से लिया...

जो बनने वाले हैं ब्रिटेन के राजा, उन्होंने आतंकी लादेन के परिवार से लिया था ₹9.64 करोड़ का डोनेशन, खुलासे से सकते में UK का राजपरिवार

हाल ही में एक और बड़ा खुलासा हुआ था कि प्रिंस चार्ल्स ने क़तर के एक कारोबारी से 2011-15 के बीच 3.10 मिलियन डॉलर (24.55 करोड़ रुपए) लिए थे।

ब्रिटेन की गद्दी के उत्तराधिकारी प्रिंस चार्ल्स की चैरिटी ने आतंकी ओसामा बिन लादेन के परिवार से 10 लाख पाउंड्स (9.64 करोड़ रुपए) का दान लिया था। इस खुलासे के बाद यूनाइटेड किंगडम के राजपरिवार की मुश्किलें बढ़ गई हैं। ‘प्रिंस ऑफ वेल्स’ के संगठन ने 2013 में ये दान ओसामा बिन लादेन के भाइयों बकर और शफीक बिन लादेन से लिए थे। आतंकी संगठन अलकायदा का संस्थापक लादेन ने अमेरिका में 9/11 के हमले को अंजाम दिया था।

ये खुलासा इसीलिए भी ब्रिटेन के राजपरिवार को मुश्किलों में डालने वाला है, क्योंकि हाल ही में एक और बड़ा खुलासा हुआ था कि प्रिंस चार्ल्स ने क़तर के एक कारोबारी से 2011-15 के बीच 3.10 मिलियन डॉलर (24.55 करोड़ रुपए) लिए थे। कई बार तो रुपए व्यक्तिगत रूप से सूटकेस और शॉपिंग बैग्स तक में लिए गए। बता दें कि ओसामा बिन लादेन का परिवार सऊदी अरब के सबसे अमीर परिवारों में से एक है और वहाँ के राजपरिवार के साथ उनके अच्छे सम्बन्ध हैं।

हालाँकि, मीडिया रिपोर्ट्स में कहा जा रहा है कि ओसामा बिन लादेन के दोनों सौतेले भाइयों बकर और शफीक का आतंकवाद से कोई सम्बन्ध साबित नहीं हुआ है। 1994 में सऊदी अरब ने ओसामा बिन लादेन की नागरिकता रद्द कर दी थी, जिसके बाद उसके परिवार ने खुद को उससे कर लेने का दावा किया था। बकिंघम पैलेस के अधिकारियों का कहना है कि दान लिया गया था, लेकिन प्रिंस चार्ल्स ने इसमें कोई भूमिका नहीं निभाई थी।

बताया जा रहा है कि चैरिटी के ट्रस्टियों ने ये फैसला लिया था। जबकि ‘द संडे टाइम्स’ का खुलासा कहता है कि 30 अक्टूबर, 2013 को प्रिंस चार्ल्स ने क्लारन्स हाउस में बकर बिन लादेन के साथ एक बैठक की थी, जिसके बाद ये डील हुई। ओसामा बिन लादेन को मारे गए तब तक 2 साल हो चुके थे। सलाहकारों की आपत्ति के बावजूद ब्रिटेन की गद्दी के उत्तराधिकारी ने ये रुपए स्वीकार किए। इस चैरिटी संगठन की स्थापना 1979 में हुई थी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

भारत के ओलंपिक खिलाड़ियों को मिला BCCI का साथ, जय शाह ने किया ₹8.50 करोड़ मदद का ऐलान: पेरिस में पदकों का रिकॉर्ड तोड़ने...

बीसीसीआई के सचिव जय शाह ने बताया कि ओलंपिक अभियान के लिए इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन (IOA) को बीसीसीआई 8.5 करोड़ रुपए दे रही है।

वामपंथी सरकार ने चलवाई गोली, मारे गए 13 कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता: जानें क्यों ममता बनर्जी मना रहीं ‘शहीद दिवस’, TMC ने हाईजैक किया कॉन्ग्रेस का...

कभी शहीद दिवस कार्यक्रम कॉन्ग्रेस मनाती थी, लेकिन ममता बनर्जी ने कॉन्ग्रेस पार्टी से अलग होने के बाद युवा कॉन्ग्रेस के 13 कार्यकर्ताओं की हत्या को अपने नाम के साथ जोड़ लिया और उसका इस्तेमाल कम्युनिष्टों की जड़ काटने में किया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -