Saturday, July 20, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजन'पूनम पांडेय ने अपनी हरकत से कैंसर पीड़ितों का बनाया मजाक': MLA ने की...

‘पूनम पांडेय ने अपनी हरकत से कैंसर पीड़ितों का बनाया मजाक’: MLA ने की कार्रवाई की माँग, दोस्त बोली – कुछ हुआ तो अब कुत्ता भी नहीं भौंकेगा

महाराष्ट्र के नेता सत्यजीत तांबे ने अफवाह उड़ाने के लिए पूनम पांडेय के खिलाफ पुलिस कार्रवाई की माँग की है। उन्होंने कहा कि पांडेय ने कैंसर से बचे लोगों के साथ मजाक किया है। वहीं, भोजपुरी फिल्मों की अभिनेत्री संभावना सेठ ने पूछा है कि क्या रेप पर भी ऐसे ही अलर्ट करेंगी पूनम पांडेय।

खबरों में बने रहने के लिए कुछ भी करने वाली पूनम पांडेय सर्वाइकल कैंसर से अपनी मौत की अफवाह उड़ाकर बुरी फँसी हैं। हर तरफ उनकी आलोचना हो रही है। महाराष्ट्र के नेता सत्यजीत तांबे ने अफवाह उड़ाने के लिए पूनम पांडेय के खिलाफ पुलिस कार्रवाई की माँग की है। उन्होंने कहा कि पांडेय ने कैंसर से बचे लोगों के साथ मजाक किया है। वहीं, भोजपुरी फिल्मों की अभिनेत्री संभावना सेठ ने पूछा है कि क्या रेप पर भी ऐसे ही अलर्ट करेंगी पूनम पांडेय।

महाराष्ट्र के निर्दलीय विधायक सत्यजीत तांबे ने शनिवार (3 फरवरी 2024) को कहा कि मुंबई पुलिस को पूनम पांडे के खिलाफ मामला दर्ज करना चाहिए, ताकि उन लोगों के लिए एक उदाहरण स्थापित किया जा सके जो खुद के प्रचार के लिए ऐसी हरकतें करते हैं। बता दें कि बाद में पूनम पांडे ने कहा था कि उनकी मौत का नाटक सर्वाइकल कैंसर जागरूकता अभियान का हिस्सा था।

तांबे ने कहा, “सर्वाइकल कैंसर से एक प्रभावशाली व्यक्ति/मॉडल की मृत्यु की खबर बीमारी के बारे में जागरूकता फैलाने का साधन नहीं हो सकती है। यह पूरा प्रकरण सर्वाइकल कैंसर की गंभीर प्रकृति को दूर कर देता है और ध्यान पूरी तरह से प्रभावित करने वाले की ओर आकर्षित कर देता है। अभिनेता ने जागरूकता बढ़ाने के बजाय कैंसर से बचे लोगों के साथ मजाक किया है।”

उन्होंने पूनम पांडेय की मौत की खबर छापने वाले समाचार संस्थानों पर भी सवाल उठाया। सत्यजीत तांबे ने आगे कहा, “एक और समस्या यह है कि तथ्यों की पुष्टि किए बिना समाचार एजेंसियों द्वारा नाटक की रिपोर्ट कैसे की गई। मीडिया का इस्तेमाल अनुचित तरीकों से अपने एजेंडे को आगे बढ़ाने के लिए किया जा रहा था।”

इतना ही नहीं, भोजपुरी फिल्मों की ऐक्ट्रेस संभावना सेठ ने भी पूनम पांडेय की इस हरकत पर सवाल उठाया है। उन्होंने कहा, मुझे मालूम हुआ कि जो व्यक्ति कल मर चुका था, वह आज फिर से जिंदा हो गया। ये किस किस्म की पीआर ऐक्टिविटी है?” उन्होंने पूनम पांडेय से सवाल किया, आपके पीआर ने समझाया नहीं कि ये नहीं करना चाहिए। पूरी मीडिया कल डिस्टर्ब थी।”

संभावना सेठ ने आगे कहा, “आप कह रहे हो आपने अवेयरनेस के लिए ये सब किया, लेकिन आप करोड़ों लोगों की मेंटल हेल्थ से खेले हो आप। मैं पूरा दिन यही सोचती रही कि 32 साल की लड़की थी यार, वो चली गई। सुबह से शाम तक ये मेरे साथ होता रहा। मैं सपने देख रही थी। बाद में पता चला कि ये अवेयरनेस प्रोग्राम था। तो आप अवेयरनेस के लिए और क्या-क्या करने वाली हो?”

उन्होंने पूनम पांडेय पर सवाल उठाते हुए कहा, “कल को अगर असल में कुछ हो गया तो एक कुत्ता भी नहीं भौंकने वाला। अगर कल को रेप अवेयरनेस आ गई तब क्या करोगी। शर्म आनी चाहिए। ये बहुत ही शर्मनाक ऐक्टिविटी है।” संभावना सेठ ने कहा कि उनके एक मीडिया फ्रेंड ने कहा था कि अवेयरनेस जैसा कुछ आ रहा है, लेकिन उन्होंने कह दिया था कि कोई मौत से नहीं खेल सकता।

इसके पहले ‘लॉकअप’ शो में कंटेस्टेंट रहीं डिजाइनर सायशा शिंदे भी उन्हें लताड़ चुकी हैं। सायशा शिंदे ने कहा कि मौत न कोई मजाक है और न ही कोई पब्लिसिटी स्टंट है। उन्होंने पूनम पांडेय को लताड़ते हुए कहा था कि वह उन्हें कभी माफ़ नहीं करेंगी।

सायशा शिंदे ने कहा था, “पूनम पांडेय को शर्म आनी चाहिए। तुम दोस्त बनाने लायक नहीं हो। तुम इसे जागरूकता कहती हो? बकवास बंद करो। मेरी माँ की ब्रेस्ट कैंसर सर्जरी हुई है। किडनी फेल होने से मेरी बहन का निधन हो गया। मानसिक बीमारी से मेरी चाची चल बसीं। तुम्हारी तरह वो सब कभी वापस नहीं आ सकतीं।”

वहीं अभिनेत्री पूजा भट्ट ने भी पूनम पांडेय की मौत पर शोक जताया था। हालाँकि, बाद में ट्वीट को डिलीट करते हुए उन्होंने कहा था कि ये बीमारी से जूझ रहे लोगों का अपमान है। वहीं एक्टर अली गोनी ने इसे पब्लिसिटी स्टंट बताते कहा था कि पूनम पांडेय और उनकी PR टीम का बॉयकॉट होना चाहिए, शर्म आती है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दिल्ली हाईकोर्ट ने शिव मंदिर के ध्वस्तीकरण को ठहराया जायज, बॉम्बे HC ने विशालगढ़ में बुलडोजर पर लगाया ब्रेक: मंदिर की याचिका रद्द, मुस्लिमों...

बॉम्बे हाईकोर्ट ने मकबूल अहमद मुजवर व अन्य की याचिका पर इंस्पेक्टर तक को तलब कर लिया। कहा - एक भी संरचना नहीं गिराई जाए। याचिका में 'शिवभक्तों' पर आरोप।

आरक्षण पर बांग्लादेश में हो रही हत्याएँ, सीख भारत के लिए: परिवार और जाति-विशेष से बाहर निकले रिजर्वेशन का जिन्न

बांग्लादेश में आरक्षण के खिलाफ छात्र सड़कों पर उतर आए हैं। वहाँ सेना को तैनात किया गया है। इससे भारत को सीख लेने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -