Saturday, February 27, 2021
Home रिपोर्ट मीडिया हिंदू कुरीति पर ज्ञान, मुस्लिमों का बहुविवाह 'रिश्ते की खूबसूरती': जानें, दैनिक भास्कर पाठकों...

हिंदू कुरीति पर ज्ञान, मुस्लिमों का बहुविवाह ‘रिश्ते की खूबसूरती’: जानें, दैनिक भास्कर पाठकों को कैसे बनाता है बीमार

दैनिक भास्कर जैसे अखबारों को समझना चाहिए कि एक मुद्दे पर खबरों को अलग-अलग तरीके से पेश करना आपके पाठक की सोच को निर्मित नहीं करता, बल्कि आपके प्रति उसके उस विश्वास को मारता है कि आप उसे खबर के नाम जागरुक बनाएँगे, उसकी सोच को पहले से बेहतर और समझदार बनाएँगे।

मीडिया का एक वर्ग लंबे समय से पाठकों और दर्शकों को शब्दों का खेल कर किस तरह से बरगला रहा है, वह छिपा नहीं है। दो समुदायों से संबंधित खबर को कवर करते हुए अधिकतर संस्थानों का यह दोहरा रवैया देखने को मिल जाता है। 

हालिया मामला खुद को देश का सबसे विश्वसनीय और नंबर 1 अखबार बताने वाले दैनिक भास्कर से जुड़ा है। दैनिक भास्कर में दो अलग-अलग दिनों पर प्रकाशित दो खबरों से आप समझ सकते हैं कि कैसे हिंदू धर्म की कुरीति पर बात करते हुए ज्ञानी हो जाने वाला अखबार, दूसरे मजहब की बात आते ही किसी कुरीति को भी ऐसे परोसते हैं, जैसे मामला हँसी-ठिठोली का हो।

19 नवंबर को दैनिक भास्कर में राजस्थान के कुछ हिस्सों में चलने वाली ‘कोना प्रथा’ की कुरीति पर छपती है। अखबार ने जायज सवाल उठाया है कि आखिर पति की मौत के 6 महीने बाद भी एक विधवा को क्यों कोने में सिमटकर रहना पड़ रहा है? क्यों प्रथा के नाम पर उसे उजाला होने से पहले घर के हर काम करवाए जाते हैं और बाद में उसे अंधेरे में ढकेल दिया जाता है।

दैनिक भास्कर की यह कवरेज सराहनीय है। उनका सवाल कि एक विधवा को कोने में डाले रखना प्रथा है या सजा, बिलकुल जायज है। उनका आरोप कि स्त्री के ऊपर इतना अत्याचार पुरूष प्रधान समाज के कारण हो रहा है, बिलकुल सटीक है।

साभार: दैनिक भास्कर

कोना प्रथा की कुरीति पर वार करने के अगले ही दिन 20 नवंबर को इसी अखबार में एक और खबर प्रकाशित होती है। इस खबर के अनुसार पाकिस्तान में 22 साल के शौहर के लिए 3 बीवियाँ मिलकर चौथी बेगम खोज रही हैं। गड़बड़ हेडलाइन में नहीं है। अखबार इस खबर को ‘रिश्ते की खूबसूरती’ मानता है। इस खबर को लिखने की शुरुआत से ही अखबार का दोहरा मापदंड झलकने लगता है और पता चलता है कि कैसे वे अपने पाठकों की सोच को बीमार करते हैं।

साभार: दैनिक भास्कर

इस खबर की शुरुआत में ही इस बात को लिख दिया गया है कि मुस्लिम समुदाय में एक से अधिक बार शादी को जायज माना जाता है। पुरुष एक साथ कई बीवियों को रख सकते हैं। यानी पाठक इस खबर को पढ़े तो वह युवक के चौथे निकाह को गलत नहीं समझे, बल्कि उसे अधिकार समझे और हो सकता है कि कभी हँसी-मजाक में दोस्तों के बीच इस युवक की किस्मत की तुलना अपनी किस्मत से कर दे या हो सकता है अपनी बीवियों से भी यही अपेक्षा रखना शुरू कर दे कि उसके लिए वह भी नई बीवी खोजें।

एक विशुद्ध पाठक आपकी खबर को कैसे ग्रहण करेगा, इसका दारोमदार आपके शब्दों पर ही होता है। जिस तरह कोना प्रथा एक कुरीति है, वैसे ही बहुविवाह भी। यह दूसरी बात है कि शरिया कानून इसे जायज मानता है। इसकी आड़ लेकर अख़बार हिंदुओं की कुरीति पर कवरेज करते हुए सवाल करता है कि आखिर क्यों पुरुष प्रधान समाज में महिला को अंधकार में धकेल दिया गया। यह बताता है कि अपनी औरतों पर अत्याचार करने वाले इन पुरुषों पर कोई पाबंदी नहीं होती ये जहाँ चाहे आ जा सकते हैं, जिससे चाहे शादी कर सकते हैं। लेकिन वही अख़बार मजहब का हवाला देकर 22 साल के शौहर की 3 शादियों को जायज ठहरा देता है।

पूरी खबर में एक बार भी इसका जिक्र नहीं किया गया है कि मुस्लिमों में बहुविवाह की रीत महिलाओं के लिए अभिशाप है, जो न केवल उनसे अधिकार छीन रही है बल्कि उनके सोचने समझने की क्षमता को भी शून्य कर रही है।  विचार करिए, तीन महिलाएँ अपने एक पति का ख्याल रखने के लिए यह बोल रही हैं कि वह तीनों बच्चों के कारण अपने पति का ध्यान नहीं रख पाती, इसलिए चौथी बेगम आएगी तो उनका ख्याल रखेगी।

क्या औचित्य होता है ऐसी खबरों का? समुदाय विशेष में बहुविवाह को प्रोत्साहन देना या मजहब विशेष के प्रति लोगों को आकर्षित करना? ऊपर से उसे ‘रिश्ते की खूबसूरती’ बताकर प्रचारित करना।

दैनिक भास्कर जैसे अखबारों को समझना चाहिए कि एक मुद्दे पर खबरों को अलग-अलग तरीके से पेश करना आपके पाठक की सोच को निर्मित नहीं करता, बल्कि आपके प्रति उसके उस विश्वास को मारता है कि आप उसे खबर के नाम जागरुक बनाएँगे, उसकी सोच को पहले से बेहतर और समझदार बनाएँगे। आपके ये हथकंडे उसे कुंद मानसिकता में जकड़ते जाते हैं, वह चाहते न चाहते हुए खुद को गर्त में पाता है और फिर आपके दिए तर्कों से वह कुरीतियों को भी जस्टिफाई करना सीख जाता है। 

अंत में हम ही हैरान होते हैं कि आखिर हिंदुओं के ख़िलाफ़ प्रोपेगेंडा फैलाने वाले इतनी बड़ी संख्या में हिंदू ही क्यों हैं? वास्तविकता में ऐसे लोग दैनिक भास्कर जैसे मीडिया संस्थानों के स्थायी पाठक हैं जो खुद में रिफॉर्म के लिए अखबार पर पूर्ण रूप से आश्रित हैं और अखबार उन्हें अपनी दोहरी मानसिकता में बीमार बनाता रहता है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

केंद्र के हिसाब से हुआ है चुनाव तारीखों का ऐलान: चुनाव आयोग पर भड़कीं ममता बनर्जी, लिबरल भी बिलबिलाए

"सरकार ने लोगों को धर्म के नाम पर तोड़ा और अब चुनावों के लिए तोड़ रही है, उन्होंने केवल 8 चरणों में चुनावों को नहीं तोड़ा बल्कि हर चरण को भी भागों में बाँटा है।"

2019 से अब तक किया बहुत काम, बंगाल में जीतेंगे 200 से ज्यादा सीटें: BJP नेता कैलाश विजयवर्गीय

कैलाश विजयवर्गीय ने कहा अपनी जीत के प्रति आश्वस्त होते हुए कहा कि लोकसभा चुनावों में भी लोगों को विश्वास नहीं था कि भाजपा इतनी ताकतवर है लेकिन अब शंका दूर हो गई है।

5 राज्यों के विधानसभा चुनावों की तारीखों का हुआ ऐलान, बंगाल में 8 चरणों में होगा मतदान: जानें डिटेल्स

देश के पाँच राज्य केरल, तमिलनाडु, असम, पश्चिम बंगाल और पुडुचेरी में कुल मिलाकर इस बार 18 करोड़ मतदाता वोट देंगें।

राजदीप सरदेसाई की ‘चापलूसी’ में लगा इंडिया टुडे, ‘दलाल’ लिखा तो कर दिए जाएँगे ब्लॉक: लोग ले रहे मजे

एक सोशल मीडिया अकॉउटं से जब राजदीप को 'दलाल' लिखा गया तो इंडिया टुडे का आधिकारिक हैंडल बचाव में आया और लोगों को ब्लॉक करने लगा।

10 साल पहले अग्रेसिव लेंडिंग के नाम पर किया गया बैंकिंग सेंक्टर को कमजोर: PM मोदी ने पारदर्शिता को बताया प्राथमिकता

सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास इसका मंत्र फाइनेंशल सेक्टर पर स्पष्ट दिख रहा है। आज गरीब हो, किसान हो, पशुपालक हो, मछुआरे हो, छोटे दुकानदार हो सबके लिए क्रेडिट एक्सेस हो पाया है।

हिन्दुओं के आराध्यों का अपमान बन गया है कमाई का जरिया: तांडव मामले में अपर्णा पुरोहित की अग्रिम जमानत याचिका खारिज

तांडव वेब सीरीज के विवाद के मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने अमजॉन प्राइम वीडियो की हेड अपर्णा पुरोहित की अग्रिम जमानत याचिका को खारिज कर दिया है।

प्रचलित ख़बरें

आमिर खान की बेटी इरा अपने संघी हिन्दू नौकर के साथ फरार.. अब होगा न्याय: Fact Check से जानिए क्या है हकीकत

सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि आमिर खान की बेटी इरा अपने हिन्दू नौकर के साथ भाग गई हैं। तस्वीर में इरा एक तिलक लगाए हुए युवक के साथ देखी जा सकती हैं।

‘अंकित शर्मा ने किया हिंसक भीड़ का नेतृत्व, ताहिर हुसैन कर रहा था खुद का बचाव’: ‘द लल्लनटॉप’ ने जमकर परोसा प्रोपेगेंडा

हमारे पास अंकित के परिवार के कुछ शब्द हैं, जिन्हें पढ़कर आज लगता है कि उन्हें पहले से पता था कि आखिर में न्याय तो मिलेगा नहीं लेकिन उसके बदले अंकित को दंगाई घोषित जरूर कर दिया जाएगा।

सतीश बनकर हिंदू युवती से शादी कर रहा था 2 बच्चों का बाप टीपू: मंडप पर नहीं बता सका गोत्र, ट्रू कॉलर ने पकड़ाया

ग्रामीणों ने जब सतीश राय बने हुए टीपू सुल्तान से उसके गोत्र के बारे में पूछा तो वह इसका जवाब नहीं दे पाया, चुप रह गया। ट्रू कॉलर ऐप में भी उसका नाम टीपू ही था।

UP पुलिस की गाड़ी में बैठने से साफ मुकर गया हाथरस में दंगे भड़काने की साजिश रचने वाला PFI सदस्य रऊफ शरीफ

PFI मेंबर रऊफ शरीफ ने मेडिकल जाँच कराने के लिए ले जा रही UP STF टीम से उनकी गाड़ी में बैठने से साफ मना कर दिया।

शैतान की आजादी के लिए पड़ोसी के दिल को आलू के साथ पकाया, खिलाने के बाद अंकल-ऑन्टी को भी बेरहमी से मारा

मृत पड़ोसी के दिल को लेकर एंडरसन अपने अंकल के घर गया जहाँ उसने इस दिल को पकाया। फिर अपने अंकल और उनकी पत्नी को इसे सर्व किया।

कला में दक्ष, युद्ध में महान, वीर और वीरांगनाएँ भी: कौन थे सिनौली के वो लोग, वेदों पर आधारित था जिनका साम्राज्य

वो कौन से योद्धा थे तो आज से 5000 वर्ष पूर्व भी उन्नत किस्म के रथों से चलते थे। कला में दक्ष, युद्ध में महान। वीरांगनाएँ पुरुषों से कम नहीं। रीति-रिवाज वैदिक। आइए, रहस्य में गोते लगाएँ।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,062FansLike
81,854FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe