Advertisements
Saturday, May 30, 2020
होम रिपोर्ट मीडिया चोट हलाला, पॉलीगेमी, तलाक पर की जाती है, दर्द इन्हें होता है: मिलिए 'The...

चोट हलाला, पॉलीगेमी, तलाक पर की जाती है, दर्द इन्हें होता है: मिलिए ‘The Wire’ की आरफा खानम जी से

आरफा जैसों को पहचानने का एक और तरीका ये है कि वो इस्लामी मजहबी नारों का महिमामंडन करते रहते हैं और हिंदुत्व के प्रतीकों का जी भर अपमान करते हैं। जैसे, आरफा ने 'ला इलाहा इल्लल्लाह' को ऊर्जा देने वाला स्लोगन बताया था और इसी आरफा ने हनुमान जी के पोस्टर को 'डर फैलाने वाला' करार दिया था।

ये भी पढ़ें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

प्रोपेगंडा पोर्टल ‘द वायर’ की आरफा खानम शेरवानी के ताज़ा आर्टिकल्स और न्यूज़ आइटम्स को आप देखेंगे तो पाएँगे कि पिछले दो महीने से ख़ुद को पत्रकार बताने वाली इस महिला का एक ही उद्देश्य है और वो है शाहीन बाग़ के उपद्रवियों का महिमामंडन करना। वीडियो और आर्टिकल्स के जरिए आरफा ने शाहीन बाग़ के एक-एक दंगाई को देवता तुल्य साबित करने के लिए जो परिश्रम किया है, उससे साफ़ दिखता है कि सीएए विरोध के नाम पर कुछ और हो रहा है। अभी ख़बर आई है कि 120 करोड़ रुपए इस्लामिक कट्टरवादियों ने इस विरोध प्रदर्शन में लगाए। मोदी के विरोध के लिए अमेरिकी उद्योगपति जॉर्ज सोरोस भी 100 करोड़ डॉलर दे रहे हैं।

वित्तीय संसाधन को भाजपा विरोधियों तक पहुँचा कर उन्हें देश विरोध के लिए उकसाना अब एक नई रणनीति दिख रही है, जिसकी पल-पल पोल भी खुल रही है। जिस शाहीन बाग़ का महिमामंडन करके आरफा ने पिछले 2 महीने गुजारे हैं, उसी शाहीन बाग़ का मुख्य साज़िशकर्ता शरजील इमाम भारत के टुकड़े-टुकड़े कर के पूरे उत्तर-भारत को अलग-थलग करने की मंशा रखता है। ये तो एक बानगी भर है। आरफा और शरजील जैसे हज़ारों लोग जुड़े हैं इस दंगे से, जिनकी मंशा इसी तरह खतरनाक है।

आरफा खानम शेरवानी उन लोगों में से एक है, जो आज के दौर की तुलना जर्मनी की नाज़ी सरकार से करते हैं। और हाँ, मोदी और हिटलर के बीच समानताएँ ढूँढ़ते-ढूँढ़ते तो ये उस मामले में पीएचडी कर चुके हैं। आरफा जैसों की नज़रों में 2014 का चुनाव विश्व युद्ध-1 था और 2019 के चुनाव विश्व युद्ध-2। नाजी से तुलना करने वाले ये भी ख़ूब समझते हैं कि वो रोज 5 बार मोदी को गाली देकर भी चैन से घर में बैठ सकते हैं क्योंकि लोकतंत्र पहले से ज्यादा मजबूत हुआ है, कमजोर नहीं। अनुराग कश्यप सरीखे तो गालियाँ बक कर भी आराम कर रहे होते हैं।फिर भी, आरफा ने मोदी और हिटलर की तुलना करने में कोई कसर नहीं छोड़ी है।

आरफा खानम शेरवानी हाल ही में इसीलिए चर्चा में आई हैं, क्योंकि उन्होंने दंगाइयों को सलाह दी है कि वो लक्ष्य सफल होने तक अपनी मुस्लिम पहचान को सामने न लाएँ। यानी, अभी आम आदमी बन कर प्रदर्शन करें और समय आते ही अपना असली कट्टरपंथी चेहरा ले कर हाजिर हो जाएँ। मुस्लिमों को उनकी सलाह है कि घर पर खूब मजहबी व कट्टरवादी नारे पढ़ कर आएँ क्योंकि उनसे इन्हें ऊर्जा मिलती है। लेकिन, बाहर में मुस्लिम ऐसा दिखाएँ जैसे कि वो आम आदमी हैं ताकि अन्य लोग भी उनके प्रदर्शन में जुड़ सकें। जाहिर है, समय आते ही हर दंगाई को शरजील इमाम बन कर अपना असली चेहरा सामने लाने को कहा जाएगा।

जब मुस्लिमों की कुरीतियों के बारे में बात की जाती है तो आरफा खानम शेरवानी को मिर्ची लग जाती है और वो एक पल भी नहीं लगाती अपने मजहब और समाज की कुरीतियों को जायज ठहराने में। जब जायरा वसीम ने अल्लाह और इस्लाम का रोना रोते हुए एक्टिंग को अलविदा कहा था, तब कॉन्ग्रेस नेता व वरिष्ठ वकील मनु सिंघवी ने पूछा था कि हलाला जायज और एक्टिंग हराम, क्या ऐसे तरक्की करेगा हिंदुस्तान? जायरा वसीम को क्या जबरदस्ती अभिनय में लाया गया था? वो आई तब उन्हें ‘अल्लाह और इस्लाम’ का ख्याल नहीं रहा। सिंघवी के इस जायज सवाल पर भड़की आरफा ने पूछा कि क्या राहुल गाँधी अपनी पार्टी के एक वरिष्ठ नेता के इस बयान का समर्थन करते हैं?

इनकी हिटलरवादी सोच देखिए। दूसरों को हिटलर कहने वाली आरफा का मानना है कि किसी नेता को एक शब्द भी बोलने के लिए अपनी पार्टी के मुखिया से अनुमति लेना आवश्यक है वरना उसे मुँह खोलने का अधिकार नहीं। क्या किसी पार्टी का नेता तभी बोलेगा जब उसकी पार्टी का अध्यक्ष उसे अनुमति देगा? असली तानाशाही तो यही है, जिसे आरफा जैसे लोग बढ़ावा देते हैं। सिंघवी के जवाब से आरफा को और मिर्ची लगी। वरिष्ठ कॉन्ग्रेस नेता ने लताड़ते हुए कहा कि जब तक आरफा जैसे लोग मुस्लिम समाज में प्रभावी रहेंगे, तब तक मुसलमान पिछड़े के पिछड़े ही रहेंगे। बात सही है। आरफा और शरजील जैसों की बातों पर ‘इंशाअल्लाह’ कहने वाला समाज आगे नहीं बढ़ सकता।

और हाँ, लिबरल गैंग का सबसे पहला कर्त्तव्य यही होता है कि किसी मंदिर, संत, देवता और हिंदुत्व को बदनाम करना। आरफा खानम शेरवानी ने इस काम के लिए गोरखनाथ मंदिर को चुना। क्योंकि इस क़दम से देश के सबसे ज्यादा जनसंख्या वाले राज्य के मुख्यमंत्री को बदनाम किया जा सकता है और साथ ही भाजपा, हिंदुत्व और मंदिर को भी बदनाम किया जा सकता है। आरफा ने झूठ फैलाते हुए लिखा कि फलाँ नवाब ने गोरखनाथ मंदिर के लिए ज़मीन दी थी। आरफा भूल गईं कि गोरखनाथ मंदिर का 800 वर्षों का इतिहास रहा है, जब उनके फलाँ नवाब के दादा भी पैदा नहीं हुए थे।

आरफा जैसों को पहचानने का एक और तरीका ये है कि वो इस्लामी मजहबी नारों का महिमामंडन करते रहते हैं और हिंदुत्व के प्रतीकों का जी भर अपमान करते हैं। जैसे, आरफा ने ‘ला इलाहा इल्लल्लाह’ को ऊर्जा देने वाला स्लोगन बताया था और इसी आरफा ने हनुमान जी के पोस्टर को ‘डर फैलाने वाला’ करार दिया था। सीएए विरोधी प्रदर्शन में ‘ला इलाहा इल्ललाह’ का इस्तेमाल क्यों हुआ, ये छिपा नहीं है। ख़ुद जामिया की हिजाबी छात्राएँ आयशा और लदीदा ने कहा था कि अब समय आ गया है जब सेक्युलर नारों से तौबा किया जाए और इस्लामी नारे लगाए जाएँ। उनकी नज़र में जिन्हें ये नारे पसंद नहीं, वो मुस्लिमों के साथ नहीं हैं।

यही तो उस शरजील इमाम की भी सोच है, जिसके पीछे असम की पुलिस, ईटानगर का क्राइम ब्रांच और केंद्रीय जाँच एजेंसियाँ लगी हुई हैं। वो भी तो कहता है कि अब मुस्लिमों के साथ कौन है और कौन नहीं, ये मुसलमान अपने शर्तों पर तय करेंगे। अर्थात, मुस्लिम बोलेंगे कि तुम फलाँ नारे लगाओ और फलाँ काम करो, तभी हमारे साथ माने जाओगे। वहीं सदियों से चले आ रहे ‘जय श्री राम’ से उन्हें दिक्कत है। आरफा और शरजील जैसों के बयानों में आयशा और लदीदा जैसों के जहर का छौंक लग जाता है तो स्पष्ट दिख जाता है कि न तो ये ‘आंदोलन’ है और न ही सीएए या एनआरसी से इनका कोई लेना-देना है। इन्हें बस इस्लामी मजहबी कट्टरता स्थापित करनी है, अराजकता फैलानी है।

जब कोई मुस्लिम नेता कुछ गलतबयानी करता है, तब उनका बचाव करने के लिए सबसे पहले आरफा जैसी कथित ‘Muslim Influencer’ ही आगे आती है। एक महिला होकर आरफा ने आज़म ख़ान की महिलाविरोधी टिप्पणी का बचाव किया, जो ये दिखाता है कि ये वामपंथी अथवा इस्लामिक कट्टरवादी महिलाधिकार का सिर्फ़ ढोंग रचाते हैं। इन्हें महिलाओं की कोई चिंता नहीं। आज़म ने जया प्रदा के लिए ‘खाकी चड्डी’ जैसी घृणित टिप्पणी की और आरफा ने इसका बचाव किया। बचाव में आरफा ने कहा कि आज़म ने अमर सिंह को भी तो बोला। यही लोग जब कैंडल लेकर महिलाओं के हित की बात करते हुए सड़क पर उतरते हैं, तो उनके इस कृत्य को ढोंग नहीं तो और क्या कहा जाए?

जेएनयू और जामिया में छात्रों के हितों की बात करने का दावा करने वाली इसी आरफा ने बीएचयू के छात्रों को बदनाम करने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी थी। फरहान अख्तर जैसों का साथ देते हुए उन छात्रों को बदनाम किया गया था। इससे पता चलता है कि ये वामपंथी और कट्टरवादी इस्लामी एक्टिविस्ट्स छात्रों और युवाओं के भी पक्षधर नहीं हैं, अपने सहूलियत के हिसाब से सिर्फ़ उनका इस्तेमाल करते हैं। अब जब उनका दिखावटी चोला पूरी तरह उतर चुका है, वो तिरंगा झंडा और संविधान का सहारा लेकर ख़ुद को पाक-साफ़ साबित करने को जुटे हैं। वही संविधान, जिसके बारे में शरजील कहता है कि उससे मुस्लिमों को कोई उम्मीद नहीं है।

Advertisements

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ख़ास ख़बरें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

दिसम्बर तक देश की आधी आबादी होगी कोरोना के चपेट में, 3 करोड़ को होगी सघन चिकित्सा की आवश्यकता: NIMHANS

विशेषज्ञों का कहना है कि, इनमें से 90 प्रतिशत लोगों को ये पता भी नहीं चलगा कि उन्हें कोरोना वायरस का संक्रमण हो चुका है। क्योंकि अधिकांश लोगों में इस वायरस के लक्षण दिखाई ही नहीं देंगे और केवल 5 प्रतिशत लोग ही इस महामारी से गंभीर रूप से प्रभावित होंगे।

हलाल पर सवाल उठाने पर ऑपइंडिया के खिलाफ दुष्प्रचार: रेवेन्यू का गम नहीं, पाठकों का समर्थन जरूरी

हलाल पर लेख के कारण 'स्टॉप फंडिंग हेट' नामक ट्विटर हैंडल ने हमारे खिलाफ़ दुष्प्रचार का ठेका ले लिया है। ऑपइंडिया के आर्थिक बहिष्कार करने का अभियान चला रखा है, लेकिन हम अपने लेख पर शत-प्रतिशत कायम हैं।

चीन के खिलाफ जंग में उतरे ‘3 इडियट्स’ के असली हीरो सोनम वांगचुक, कहा- स्वदेशी अपनाकर दें करारा जवाब

"सारी दुनिया साथ आए और इतने बड़े स्तर पर चीनी व्यापार का बायकॉट हो, कि चीन को जिसका सबसे बड़ा डर था वही हो, यानी कि उसकी अर्थव्यवस्था डगमगाए और उसकी जनता रोष में आए, विरोध और तख्तापलट और...."

POK में ऐतिहासिक बौद्ध धरोहरों पर उकेर दिए पाकिस्तानी झंडे, तालिबान पहले ही कर चुका है बौद्ध प्रतिमाओं को नष्ट

POK में बौद्ध शिलाओं और कलाकृतियों को नुकसान पहुँचाते हुए उन पर पाकिस्तान के झंडे उकेर दिए गए हैं।

पिंजड़ा तोड़ की नताशा नरवाल पर UAPA के तहत मामला दर्ज: देवांगना के साथ मिल मुसलमानों को दंगों के लिए उकसाया था

नताशा नरवाल जेएनयू की छात्रा है। दंगों में उसकी भूमिका को देखते हुए UAPA के तहत मामला दर्ज किया गया है।

J&K: कुलगाम में सुरक्षाबलों ने दो आतंकियों को मार गिराया, भारी मात्रा में हथियार और गोला-बारूद बरामद

कुलगाम जिले के वानपोरा में सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ में दो आतंकवादियों को मार गिराया। आतंकियों के छुपे होने की खुफ़िया जानकारी मिली थी।

प्रचलित ख़बरें

असलम ने किया रेप, अखबार ने उसे ‘तांत्रिक’ लिखा, भगवा कपड़ों वाला चित्र लगाया

बिलासपुर में जादू-टोना के नाम पर असलम ने एक महिला से रेप किया। लेकिन, मीडिया ने उसे इस तरह परोसा जैसे आरोपित हिंदू हो।

ISKCON ने किया ‘शेमारू’ की माफ़ी को अस्वीकार, कहा- सुरलीन, स्याल पर कार्रवाई कर उदाहारण पेश करेंगे

इस्कॉन के प्रवक्ता राधारमण दास ने शेमारू के इस माफ़ीनामे से संतुष्ट नहीं लगते और उन्होने घोषणा की कि वे बलराज स्याल और सुरलीन कौर के इस वीडियो को प्रसारित करने वाले शेमारू के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेंगे।

टिड्डियों के हमले को जायरा वसीम ने बताया अल्लाह का कहर, सोशल मीडिया पर यूजर्स ने ली क्लास

इस्लाम का हवाला देकर एक्टिंग को अलविदा कहने वाली जायरा वसीम ने देश में टिड्डियों के हमले को घमंडी लोगों पर अल्लाह का कहर बताया है।

जैकलीन कैनेडी की फोटो पास में रख कर सोते थे नेहरू: CIA के पूर्व अधिकारी ने बताए किस्से

सीआईए के पूर्व अधिकारी ब्रूस रिडेल का एक क्लिप वायरल हो रहा है। इसमें उन्होंने नेहरू और जैकलीन कैनेडी के संबंधों के बारे में बात की है।

दिल्ली में अस्पताल और श्मशान में शव रखने की जगह नहीं, हाइकोर्ट ने भेजा केजरीवाल सरकार, तीनों निगमों को नोटिस

पाँच दिन पहले जिनकी मौत हुई थी उनका अंतिम संस्कार नहीं हो पाया है। जिसकी वजह से मॉर्चरी में हर दिन संख्या बढ़ती चली जा रही है। पिछले हफ्ते जमीन पर 28 की जगह 34 शव रखें हुए थे।

हमसे जुड़ें

209,526FansLike
60,766FollowersFollow
244,000SubscribersSubscribe
Advertisements