Friday, April 23, 2021
Home रिपोर्ट मीडिया AAP की चाटुकारिता, मोदी-विरोध में रवीश की सस्ती कविता: दिल्ली-बिल्ली कर गिराई पत्रकारिता की...

AAP की चाटुकारिता, मोदी-विरोध में रवीश की सस्ती कविता: दिल्ली-बिल्ली कर गिराई पत्रकारिता की गिल्ली

रवीश कुमार ने तृणमूल कॉन्ग्रेस के चुनावी स्लोगन 'खेला होबे' का इस्तेमाल किया... क्योंकि वो एक 'न्यूट्रल' पत्रकार हैं। अपनी बातों को सही साबित करने के लिए उन्होंने उमर अब्दुल्ला के बयान का समर्थन किया... क्योंकि वो एक 'न्यूट्रल' पत्रकार हैं।

“दिल्ली के पीछे एक दिल्ली, दिल्ली के आगे एक दिल्ली। बोलो कितनी दिल्ली? आगे-आगे दिल्ली, पीछे-पीछे दिल्ली। पीछे-पीछे दिल्ली, आगे-आगे दिल्ली। भीगी दिल्ली, भीगी बिल्ली। भीगी बिल्ली, भीगी दिल्ली। दिल्ली के पीछे पड़ गई दिल्ली। इचक दिल्ली, बीचक दिल्ली, दिल्ली ऊपर दिल्ली, इचक दिल्ली। दिल्ली बन गई बिल्ली। बिल्ली बिचक गई दिल्ली। एक बिल्ली के पीछे दिल्ली, एक दिल्ली के आगे बिल्ली। बोलो कितनी दिल्ली? हम बड़की दिल्ली, तुम छोटकी दिल्ली। हम छोटकी दिल्ली, तुम बड़की दिल्ली। खूब घूमाओ जनता को, जनता बन जाए भीगी बिल्ली।”

ये कोई सस्ता कवि-सम्मलेन के मंच पर कविता पढ़ रहा कोई सस्ता कवि नहीं, बल्कि एक राष्ट्रीय चैनल पर प्राइम टाइम में खबर पढ़ रहा एक बहुत बड़ा पत्रकार है। NDTV पर रवीश कुमार ने कुछ इसी अंदाज़ में संसद में लाए गए उस विधेयक पर टिप्पणी की, जिसमें कहा गया है कि दिल्ली में सरकार से तात्पर्य होगा दिल्ली के उप-राज्यपाल से। वहीं सत्ताधारी आम आदमी पार्टी कह रही है कि ये चुनी हुई सरकार का अपमान है।

रवीश कुमार भला मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की तरफ से न बोलें, ऐसा कैसे हो सकता है। उन्होंने दिल्ली सीएम का महिमामंडन करते हुए सर्टिफिकेट दे डाला कि उन्होंने पिछले कुछ महीनों में केंद्र सरकार से टकराव वाली राजनीति छोड़ दी थी और साथ ही कहा कि वो वर्षों बाद जंतर-मंतर लौटे हैं।

इस दौरान वो राज्यसभा में अक्सर हंगामा के कारण विवादों में रहने वाले सांसद संजय सिंह का भी गुणगान करना नहीं भूले। रवीश कुमार ने दावा कर डाला कि AAP सरकार के काम को पहचान मिली और सराहना भी हुई।

देशभक्ति और राम मंदिर पर दिल्ली सरकार के ऐलानों के लिए उसकी पीठ थपथपाते हुए संभावना जताई कि केंद्र के साथ सामंजस्य के लिए ऐसा किया जा रहा है। उन्होंने दावा कर डाला कि केंद्र सरकार चुनी हुई दिल्ली सरकार के अधिकारों पर अंकुश लगा रही है। अपनी बातों को सही साबित करने के लिए उन्होंने उमर अब्दुल्लाह जैसों के बयान का समर्थन किया।

सबसे बड़ी बात तो ये कि रवीश कुमार ने तृणमूल कॉन्ग्रेस के इस बार के चुनावी स्लोगन ‘खेला होबे’ का इस्तेमाल किया। आखिर वो एक ‘न्यूट्रल’ पत्रकार जो हैं।

अरविंद केजरीवाल के लंबे-चौड़े भाषण भी इस प्राइम टाइम खबर में दिखाए गए, जिसमें वो कहते दिख रहे हैं कि फिर चुनावों का क्या मतलब रह गया? तो क्या अब AAP ये मान कर अगला चुनाव नहीं लड़ेगी? क्योंकि उसका ही कहना है कि अब दिल्ली सरकार के पास कोई अधिकार ही नहीं है।

असली बात तो ये है कि ‘नेशनल कैपिटल टेरिटरी एक्ट’ में संशोधन कर के उसमें सिर्फ एक चीज जोड़ी गई है, कुछ भी हटाया नहीं गया है। बस 1991 एक्ट में इतना जोड़ा गया है कि दिल्ली में सरकार का तात्पर्य उप-राज्यपाल से होगा।

सेक्शन 24 में लिखा है कि विधानसभा द्वारा पास किए गए कानून उप-राज्यपाल के पास हस्ताक्षर के लिए जाएँगे। साथ ही प्रशासनिक जाँच बिठाने जैसे अधिकारों में कटौती की गई है। बता दें कि दिल्ली पुलिस पहले से ही वहाँ की सरकार के अधीन न होकर केंद्रीय गृह मंत्रालय के अंतर्गत काम करती है, ऐसे में चीजों को लिखित में और स्पष्ट किया गया है।

सरकार के फैसलों के लिए उप-राज्यपाल का मत लिए जाने की बात भी कही गई है। बता दें कि नई दिल्ली देश की राजधानी है, ऐसे में वहाँ हर घटना का सम्बन्ध देश की सुरक्षा से जुड़ता है। इसीलिए, राजनीति होने से बचने के लिए दोनों सरकारों के अधिकारों की स्पष्ट व्याख्या ज़रूरी है।

पूरे प्राइम टाइम में अरविंद केजरीवाल पर रवीश कुमार ने यही दोष लगाया कि उन्होंने जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद-370 को निरस्त किए जाने का विरोध नहीं किया। एक ‘संविधान विशेषज्ञ’ को बुला कर भी यही कहलवाया गया।

रवीश कुमार ने इस दौरान अपनी पुरानी भविष्यवाणी भी दिखाई, जो उन्होंने तब किया था, जब सुप्रीम कोर्ट ने एक जजमेंट में उप-राज्यपाल के अधिकारों को लेकर फैसला दिया था। रवीश ने तब कहा था कि खिलाड़ी अब नया खेल लेकर आएँगे। उन्होंने पूछ डाला कि केंद्र सरकार यही सारे अधिकार राष्ट्रपति को क्यों नहीं दे देती है?

  • रवीश कुमार को पता होना चाहिए कि राष्ट्रपति के हस्ताक्षर के बिना पूर्ण बहुमत से संसद के दोनों सदनों में पारित बिल भी कानून का रूप नहीं ले पाता।
  • रवीश कुमार को पता होना चाहिए कि राष्ट्रपति ही देश की तीनों सेनाओं का सर्वोच्च कमांडर है।
  • रवीश कुमार को पता होना चाहिए कि संसद में अभिभाषण के समय राष्ट्रपति द्वारा ‘मेरी सरकार’ शब्द का प्रयोग किया जाता है।
  • रवीश कुमार को पता तो होना चाहिए… लेकिन वो एक ‘न्यूट्रल’ पत्रकार हैं… इसलिए नहीं पता है!

रवीश कुमार ने अपने इस प्राइम टाइम में विपक्षी नेताओं के बयानों के हवाले से भाजपा पर निशाना साधा है। साथ ही सीएम केजरीवाल को अप्रत्यक्ष रूप से सलाह दी है कि वो जम्मू कश्मीर के मुद्दे पर भी इस्लामी कट्टरपंथी नेताओं का साथ दें, तो वो उनके और लाडले हो जाएँगे। रवीश कुमार ने दिल्ली-बिल्ली करते-करते प्रोपेगेंडा वाली गिल्ली को अपने कुतर्कों के डंडे से दूर मारना तो चाहा, लेकिन वो उनके कमरे में ही गिर गया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

13 कोरोना मरीजों की ICU में जल कर मौत: महाराष्ट्र के विजय वल्लभ अस्पताल में लगी भीषण आग

कोरोना संकट के बीच महाराष्ट्र के अस्पतालों में आग लगने का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा। मुंबई के विरार में विजय वल्लभ अस्पताल में...

Remdesivir के नाम पर अकाउंट में पैसे मँगवा गायब हो रहे धोखेबाज, सिप्ला ने चेतायाः जानें ठगी से कैसे बचें

सिप्ला ने 'रेमडेसिविर' के नाम पर लोगों के साथ की जा रही धोखाधड़ी को लेकर सावधान किया है।

बंगाल में रैली नहीं, कोरोना पर हाई लेवल मीटिंग करेंगे PM मोदी; पर क्या आप जानते हैं रिव्यू मीटिंग में कितनी बार शामिल हुईं...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 23 अप्रैल की बंगाल की रैली कैंसिल कर दी है, जबकि इसी दिन ममता बनर्जी चार रैलियों को संबोधित करेंगी।

बॉर्डर पर इफ्तार पार्टी और किसान संक्रमित हुए तो केंद्र जिम्मेदार: वैक्सीन ले दोहरा ‘खेला’ कर रहे राकेश टिकैत

कोरोना की भयानक आपदा के बीच BKU के प्रवक्ता और स्वयंभू किसान नेता राकेश टिकैत का इफ्तार पार्टी करते वीडियो सामने आया है।

आप मरिए-जिन्दा रहे प्रोपेगेंडा: NDTV की गार्गी अंसारी ऑक्सीजन उत्पादन के लिए प्लांट खोलने की बात से क्यों बिलबिलाई

वामपंथियों को देखकर लगता है कि उनके लिए प्रोपेगेंडा मानव जीवन से ज्यादा ऊपर है। तभी NGT की क्लीयरेंस पाने वाले प्लांट के खुलने का विरोध कर रहे।

4 घंटे का ऑक्सीजन बचा है, 44 घंटों का क्यों नहीं? क्यों अंत में ही जागता है अस्पताल और राज्य सरकारों का तंत्र?

"केंद्र सरकार ने कोरोना की दूसरी लहर को लेकर राज्यों को आगाह नहीं किया। यदि आगाह कर देते तो हम तैयार रहते।" - बेचारे CM साब...

प्रचलित ख़बरें

सीताराम येचुरी के बेटे का कोरोना से निधन, प्रियंका ने सीताराम केसरी के लिए जता दिया दुःख… 3 बार में दी श्रद्धांजलि

प्रियंका गाँधी ने इस घटना पर श्रद्धांजलि जताने हेतु ट्वीट किया। ट्वीट को डिलीट किया। दूसरे ट्वीट को भी डिलीट किया। 3 बार में श्रद्धांजलि दी।

‘प्लाज्मा के लिए नंबर डाला, बदले में भेजी गुप्तांग की तस्वीरें; हर मिनट 3-4 फोन कॉल्स’: मुंबई की महिला ने बयाँ किया दर्द

कुछ ने कॉल कर पूछा क्या तुम सिंगल हो, तो किसी ने फोन पर किस करते हुए आवाजें निकाली। जानिए किस प्रताड़ना से गुजरी शास्वती सिवा।

पाकिस्तान के जिस होटल में थे चीनी राजदूत उसे उड़ाया, बीजिंग के ‘बेल्ट एंड रोड’ प्रोजेक्ट से ऑस्ट्रेलिया ने किया किनारा

पाकिस्तान के क्वेटा में उस होटल को उड़ा दिया, जिसमें चीन के राजदूत ठहरे थे। ऑस्ट्रेलिया ने बीआरआई से संबंधित समझौतों को रद्द कर दिया है।

रेप में नाकाम रहने पर शकील ने बेटी को कर दिया गंजा, जैसे ही बीवी पढ़ने लगती नमाज शुरू कर देता था गंदी हरकतें

मेरठ पुलिस ने शकील को गिरफ्तार किया है। उस पर अपनी ही बेटी ने रेप करने की कोशिश का आरोप लगाया है।

मधुबनी: धरोहर नाथ मंदिर में सोए दो साधुओं का गला कुदाल से काटा, ‘लव जिहाद’ का विरोध करने वाले महंत के आश्रम पर हमला

बिहार के मधुबनी जिला स्थित खिरहर गाँव में 2 साधुओं की गला काट हत्या कर दी गई है। इससे पहले पास के ही बिसौली कुटी के महंत के आश्रम पर रात के वक्त हमला हुआ था।

जयपुर में जामा मस्जिद पर जमा थी भीड़, समझाने गई पुलिस पर किया गया पथराव: पुलिस की गाड़ी के टूटे शीशे

कर्फ्यू के बाद भी जयपुर की जामा मस्जिद में लोगों की आवाजाही रुक नहीं रही थी। इस पर सांगानेर पुलिस मस्जिद प्रशासन से बात करने पहुँची। इसी दौरान मस्जिद में उपस्थित भीड़ ने पुलिसकर्मियों पर पथराव कर दिया।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

293,837FansLike
83,338FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe