Thursday, April 15, 2021
Home रिपोर्ट मीडिया विकीपीडिया vs ऑपइंडिया: वामपंथी नैरेटिव और गिरोह की साजिश, ऑपइंडिया के खिलाफ यूँ खेला...

विकीपीडिया vs ऑपइंडिया: वामपंथी नैरेटिव और गिरोह की साजिश, ऑपइंडिया के खिलाफ यूँ खेला जा रहा खेल

विकीपीडिया एक ऐसी जगह है जहाँ पर अधिकांश आमजन जानकारी लेने के लिए आते हैं। ऐसे में इसे विश्वसनीय स्रोत मानना, केवल भूल के अलावा कुछ भी नहीं है। क्योंकि इसको पूरा वामपंथ का एक धड़ा हैंडल करता है, जिनकी मर्जी और नैरिटिव के बिना यहाँ पर कोई जानकारी ज्यादा देर तक नहीं ठहरती।

नरेंद्र मोदी सरकार के लगातार दूसरी बार केंद्र में चुने जाने से आहत वामपंथी संस्थानों ने गैर-वामपंथी आवाजों को दबाने का पुरजोर प्रयास किया। इस बीच ऑपइंडिया एक ऐसा संस्थान बनकर उभरा जो लगातार वामपंथियों की मंशा को उजागर करता रहा और आज भी कर रहा है। मगर, इस दौरान ऑपइंडिया के उद्देश्यों को कई मायनों में न केवल हेट कैंपेन्स के द्वारा नकारात्मक दिखाने का प्रयास हुआ, अपितु विकीपीडिया पेज के जरिए भी ऑपइंडिया की छवि धूमिल करने की कोशिश हुई।

विकीपीडिया पर ऑपइंडिया का पेज इतना नेगेटिव क्यों है?

विकीपीडिया पर ऑपइंडिया का पेज इतना नेगेटिव क्यों है? ये वो सवाल है जिसके बारे में लोगों ने हमसे कई बार पूछा। लेकिन, इस सवाल जवाब बेहद सरल है। वो ये कि हमने एक बने-बनाए इकोसिस्टम को चुनौती दी।

वो चुनौती जिसमें हमने वामपंथियों के झूठ का हमेशा पर्दाफाश किया, एजेंडे व प्रोपगेंडे की पोल खोली, कॉन्ग्रेस के भ्रष्टाचार पर मुखर रिपोर्टिंग की… इसलिए हमें मालूम था कि जो हमारी विश्वनीयता पर हमले हुए वो सब एक आम बात थी।

विकीपीडिया को वास्तविकता में वामपंथियों के एक धड़े द्वारा ही संचालित किया जाता है। इसलिए इस पर ऑपइंडिया की ऐसी छवि का दिखना बेहद सामान्य है।

दरअसल, जो पेज आप लोगों को विकीपीडिया पर दिखता है उसमें ऑपइंडिया के बारे में हमारी ओर से कुछ नहीं लिखा गया। इस जानकारी को उसी गिरोह के लोग संपादित करते हैं, जिन्हें ऑपइंडिया तथ्यों को पेश करके बेनकाब करता है।

संक्षिप्त में बताएँ तो विकीपीडिया पर ऐसी जानकारी के लिए ये बिंदु ही उत्तरदायी हैं;

  1. विकीपीडिया के पेजों पर ब्रांडो का स्वामित्व नहीं है।
  2. वामपंथियों ने ही इस बात को विकीपीडिया पर सुनिश्चित किया है कि ऑपइंडिया पक्षपाती है।
  3. अगर, इस पेज पर कोई आकर निष्पक्ष नजरिया दिखाता है, तो अन्य सहभागी उसे धमकाते हैं और बाद में ब्लॉक कर देते हैं।
  4. एडिटर्स ने हिंदुत्व और हिदुवाद के ख़िलाफ़ कई बार अपनी कुत्सित सोच का प्रमाण दिया है।
  5. हमने इनसे, इन सब बातों पर लड़ने की बजाय हमेशा अपने काम पर ध्यान दिया।

ऑपइंडिया और विकीपीडिया की लड़ाई कहाँ से शुरू हुई

कुछ 2-3 साल पहले ऑपइंडिया का विकीपीडिया पेज था। जिस पर ऑपइंडिया से संबधी सभी जानकारी मौजूद थी और वो ये भी बताता था कि हमारा उद्देश्य आखिर है क्या? लेकिन कुछ समय पहले हमारे पेज को डिलीट कर दिया गया। हमें लगा कि ये उसी इकोसिस्टम का काम है, जिसे हमसे परेशानी होती है और जो समझता है कि हम विकीपीडिया पर बतौर पोर्टल पहचाने जाने के अधिकारी नहीं हैं।

हालाँकि, ये मालूम चलने के बाद हमें इस बात का कोई गम नहीं हुआ। हम बिना विकीपीडिया पेज के आगे बढ़ते रहे, आपके बीच अपनी पहचान बनाते रहे। मगर, कुछ समय बाद हमने देखा कि ऑपइंडिया का पेज विकी पर वापस आ चुका है। पर इस पोर्टल से संबंधित सूचनाएँ बेहद बरगलाने वाली है। जो न केवल ऑपइंडिया के कंटेंट को पक्षपाती बताती हैं, बल्कि अपमानजनक भी हैं।

यहाँ साफ कर दें कि ऑपइंडिया का विकी पेज ऑपइंडिया द्वारा नहीं बनाया गया। बल्कि इसे तैयार करने वाला खुद को ‘Winged Blades of Godric’ बताता है।

ऑपइंडिया पेज से संबंधित जानकारी

सबसे दिलचस्प बात देखिए कि साल 2018 में डिलीट होने वाले हमारे असली पेज का जिक्र भी विकी के आर्टिकल में किया गया है। इसे डिलीट करवाने के लिए Wings Blade of Godric ने खुद अपना मत रखा था और कहा था कि ऑपइंडिया विकीपीडिया पर होने के लायक नहीं है।

2018 का पेज, जहाँ ऑपइंडिया को डिलीट करने के लिए डिस्कशन हुआ

अब हालाँकि, Wings Blade of Godric ने जो हाल में पेज बनाया है। उसे 10 नवंबर 2019 को क्रिएट किया गया था। आप चाहें तो ये सब एडिट हिस्ट्री में साफ दिखेगा।

अब इसके बाद पेज में मौजूद जानकारी यदि पढ़े तो ये मालूम चलेगा कि पहले वाक्य से ही ऑपइंडिया की छवि को नकारात्मक पेश करने का प्रयास किया गया और बिना किसी रिसर्च के उसे फेक न्यूज वेबसाइट कह दिया गया।

इसके बाद उन सभी पोर्टल्स जैसे ऑल्टन्यूज व बूम का हवाला दिया गया जिन्होंने ऑपइंडिया के ख़िलाफ़ लिखा और खुद ऑपइंडिया ने उनके झूठ को पकड़ा।

कौन है Wings Blade of Godric 

Wings Blade of Godric का असली नाम अनुरीक बिस्वास है। वह कोलकाता का रहने वाला है और उसका राजनैतिक झुकाव उसके द्वारा एडिट किए लेखों को देखकर मालूम होता है।

बता दें अनुरीक बिस्वास लगातार उन लोगों के बारे में विकीपीडिया पर जानकारी को अपनी विचारधारा मुताबिक एडिट करता रहता है जो वामपंथियों के ख़िलाफ़ खुलेआम आवाज बुलंद करते हैं। मसलन-रिपब्लिक टीवी, जग्गी वासुदेव, अर्नब गोस्वामी और यहाँ तक स्वराज भी।

इस संपादक का खुद मानना है कि असल में सच्चाई वामपंथियों के विरोध में होती है, इसलिए जाहिर है वह तो उसे फेक न्यूज ही मानेगा।

इसके अलावा ये वामपंथी विकीपीडिया पर हिंदुओं के ख़िलाफ़ भी कई बार एडिटिंग कर चुका है। जैसे इसने जय श्री राम को ‘वार क्राई’ कहकर संबोधित किया था। 

‘DBXray and Newslinger’.

अब इतने के बाद ऑपइंडिया से नफरत करने वालों में केवल WBG के नाम का खुलासा नहीं होता। बल्कि उसके अजीज दोस्त DBXray का नाम भी पड़ताल में सामने आता है।

DBXray वो व्यक्ति है जो विकीपीडिया पर इस बात को सुनिश्चित करता है कि कोई भूल से भी ऑपइंडिया के लिए निष्पक्ष होकर अपनी राय न लिख दे।

वे इस बात पर गौर करता रहता है और जैसे ही कोई निष्पक्ष लिखता है, वे तुरंत उसे बदलकर फेक न्यूज वेबसाइट लिख देता है।

DBXray का असली नाम दीपेश राज है। ये वही विकीपीडिया का एडिटर है जिसने दिल्ली दंगों में इस्लामिक कट्टरपंथियों की भूमिका को खारिज कर दिया था। अंकित शर्मा की हत्या पर ताहिर हुसैन को मास्टरमाइंड मानने से इनकार किया था और बाद में लिख दिया था कि जब तक कोर्ट उसे दोषी नहीं मानता तब तक उसका नाम नहीं मेंशन हो सकता।

इसके अलावा जब उससे हेटस्पीच में वारिस पठान का नाम लिखने को कहा गया तो उसने कपिल मिश्रा का नाम लिख दिया था। वास्तविकता में वारिस पठान ने ऐसा बयान दिया था जिससे दंगों की आग में घी का काम किया। 

इन्हीं सब हरकतों के कारण हमने इस विकीपीडिया के एडिटर का खुलासा भी किया। लेकिन इससे जुड़ी रिपोर्ट सामने आने के बाद ऑपइंडिया पर हमले और बढ़ गए। जिससे विकीपीडिया पर ऑपइंडिया को ब्लैकलिस्ट करने की माँग उठने लगी।

इस ब्लैकलिस्ट की माँग ने मुख्यत: उस समय जोर पकड़ा जब हमने दिल्ली दंगों पर अपनी रिपोर्ट की और पक्षपाती मीडिया रिपोर्ट्स का खुलासा किया। जिसे हम टॉक पेज के स्क्रीनशॉट में देख सकते हैं।

बता दें, DBXRAY, जिसने दिल्ली दंगों पर हिंदू घृणा से सना आर्टिकल लिखा था, हमारे खुलासे के बाद वामपंथी उसे बचाने के लिए उसके पक्ष में लेख लिखने लगे और ऑपइंडिया को ब्लैकलिस्ट करने की माँग इसलिए कि क्योंकि इसके बाद उसके लिंक को प्लेटफॉर्म पर सोर्स की तरह इस्तेमाल करना प्रतिबंधित हो जाता।

ऑपइंडिया को ब्लैकलिस्ट करने की माँग में शामिल न्यूजलिंगर कौन है?

WBG द्वारा ऑपइंडिया पेज बनाने के बाद विकीपीडिया पर इसे अब न्यूजलिंगर नाम के यूजर द्वारा संचालित किया जाता था। ऑपइंडिया पर हमले बोलने वाला न्यूजलिंगर कौन है?

ऑपइंडिया को ब्लैकलिस्ट कराने की कोशिशों में जुटे न्यूजलिंगर के बारे में अभी हाल में एक पत्रकार सौम्यादित्य ने बताया कि पिछले दिनों ऑफलाइन हैरेसेंट के मामले में उसे विकीपीडिया से ब्लॉक कर दिया गया। इसकी सूचना उन्होंने कुछ दिन पहले ट्विटर पर दी।

उन्होंने बताया कि कैसे उसने फर्जी पहचान बनाकर उसने एक एजेंसी को पीआर बनकर संपर्क किया और प्लैटफॉर्म पर एडिटिंग को लेकर पैसों से जुड़ी जानकारी साझा की। उन्होंने बताया कि न्यूलिंगर अपने उपद्रव के कारण खूब पहचाना जाता है।

सौम्यादित्य ने इस दौरान इस बात का भी खुलासा किया कि विकीपीडिया पर आप मनमुताबिक एडिट नहीं कर सकते। उन्होंने कहा, “50 भारतीय एडिटर्स की गैंग है, जो विकीपीडिया को कंट्रोल करते हैं।” वे कहते है कि आप भले ही पीएचडी हैं और उसपर एडिट करते हैं, लेकिन अगर उनके गिरोह के लोगों में कोई प्रथम वर्ष का छात्र है तो वो आपका एडिट दोबारा रिवर्स कर सकता है। यहाँ सौम्यादित्य गूगल के एल्गोरिदम के बारे में बात करते हैं और बताते हैं कि ये एक ओपन सोर्स है, जहाँ लोग अपनी जानकारी अनुसार एडिट कर सकते हैं।

हालाँकि, वह यह भी कहते हैं, विकीपीडिया में अपने एडिट को हटाए जाने पर एडिटर्स से सवाल पूछने की आजादी भी होती है। मगर, जैसे ही आप यहाँ एडिटर्स पर सवाल उठाएँगे, वो आपके संपादन को बोगस या निराधार करार देेंगे। जब आप उन्हें ज्यादा परेशान करेंगे या सवाल पूछना बंद नहीं करेंगे तो मुमकिन है आपको ब्लॉक कर दिया जाए।

उल्लेखनीय है कि विकीपीडिया एक ऐसी जगह है जहाँ पर अधिकांश आमजन जानकारी लेने के लिए आते हैं। ऐसे में इसे विश्वसनीय स्रोत मानना, केवल भूल के अलावा कुछ भी नहीं है। क्योंकि इसको पूरा वामपंथ का एक धड़ा हैंडल करता है, जिनकी मर्जी और नैरिटिव के बिना यहाँ पर कोई जानकारी ज्यादा देर तक नहीं ठहरती। मगर, बावजूद इसके गूगल की गणित के मुताबिक हर मुद्दे पर इसका सर्च सबसे पहले दिखता है।

ऐसे में ऑपइंडिया से जुड़ी जानकारी जो ये विकी पेज मुहैया करता है, उससे ऑपइंडिया के पाठकों पर इसका कोई असर नहीं पड़ता, क्योंकि सच को हमेशा बोला जाना चाहिए। ऑपइंडिया हमेशा अपनी सोच के अनुरूप हमेशा तटस्थ होकर खड़ा है और अनेकों हमलों के बाद अपना काम कर रहा है। लेकिन, हमारे सशक्त होने के बावजूद, हम ऐसी दुरात्माओं को अपने पीछे हमारे लिए अपमानजनक शब्द बोलने नहीं दे सकते। इसलिए सच उजागर होना चाहिए।

(मूल रूप से अंग्रेजी में लिखे गए ऑपइंडिया अंग्रेजी की एडिटर नुपूर शर्मा का लेख यहॉं विस्तार से पढ़ सकते हैं)

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Nupur J Sharma
Editor, OpIndia.com since October 2017

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

द प्रिंट की ‘ज्योति’ में केमिकल लोचा ही नहीं, हिसाब-किताब में भी कमजोर: अल्पज्ञान पर पहले भी करा चुकी हैं फजीहत

रेमेडिसविर पर 'ज्ञान' बघार फजीहत कराने वाली ज्योति मल्होत्रा मिलियन के फेर में भी पड़ चुकी हैं। उनके इस 'ज्ञान' के बचाव में द प्रिंट हास्यास्पद सफाई भी दे चुका है।

सुशांत सिंह राजपूत पर फेक न्यूज के लिए AajTak को ऑन एयर माँगनी पड़ेगी माफी, ₹1 लाख जुर्माना भी: NBSA ने खारिज की समीक्षा...

AajTak से 23 अप्रैल को शाम के 8 बजे बड़े-बड़े अक्षरों में लिख कर और बोल कर Live माफी माँगने को कहा गया है।

‘आरोग्य सेतु’ डाउनलोड करने की शर्त पर उमर खालिद को जमानत, पर जेल से बाहर ​नहीं निकल पाएगा दिल्ली के हिंदू विरोधी दंगों का...

दिल्ली दंगों से जुड़े एक मामले में उमर खालिद को जमानत मिल गई है। लेकिन फिलहाल वह जेल से बाहर नहीं निकल पाएगा। जाने क्यों?

कोरोना से जंग में मुकेश अंबानी ने गुजरात की रिफाइनरी का खोला दरवाजा, फ्री में महाराष्ट्र को दे रहे ऑक्सीजन

मुकेश अंबानी ने अपनी रिफाइनरी की ऑक्सीजन की सप्लाई अस्पतालों को मुफ्त में शुरू की है। महाराष्ट्र को 100 टन ऑक्सीजन की सप्लाई की जाएगी।

‘अब या तो गुस्ताख रहेंगे या हम, क्योंकि ये गर्दन नबी की अजमत के लिए है’: तहरीक फरोग-ए-इस्लाम की लिस्ट, नरसिंहानंद को बताया ‘वहशी’

मौलवियों ने कहा कि 'जेल भरो आंदोलन' के दौरान लाठी-गोलियाँ चलेंगी, लेकिन हिंदुस्तान की जेलें भर जाएंगी, क्योंकि सवाल नबी की अजमत का है।

चीन के लिए बैटिंग या 4200 करोड़ रुपए पर ध्यान: CM ठाकरे क्यों चाहते हैं कोरोना घोषित हो प्राकृतिक आपदा?

COVID19 यदि प्राकृतिक आपदा घोषित हो जाए तो स्टेट डिज़ैस्टर रिलीफ़ फंड में इकट्ठा हुए क़रीब 4200 करोड़ रुपए को खर्च करने का रास्ता खुल जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

बेटी के साथ रेप का बदला? पीड़ित पिता ने एक ही परिवार के 6 लोगों की लाश बिछा दी, 6 महीने के बच्चे को...

मृतकों के परिवार के जिस व्यक्ति पर रेप का आरोप है वह फरार है। पुलिस ने हत्या के आरोपित को हिरासत में ले लिया है।

छबड़ा में मुस्लिम भीड़ के सामने पुलिस भी थी बेबस: अब चारों ओर तबाही का मंजर, बिजली-पानी भी ठप

हिन्दुओं की दुकानों को निशाना बनाया गया। आँसू गैस के गोले दागे जाने पर हिंसक भीड़ ने पुलिस को ही दौड़ा-दौड़ा कर पीटा।

‘कल के कायर आज के मुस्लिम’: यति नरसिंहानंद को गाली देती भीड़ को हिन्दुओं ने ऐसे दिया जवाब

यमुनानगर में माइक लेकर भड़काऊ बयानबाजी करती भीड़ को पीछे हटना पड़ा। जानिए हिन्दू कार्यकर्ताओं ने कैसे किया प्रतिकार?

‘अब या तो गुस्ताख रहेंगे या हम, क्योंकि ये गर्दन नबी की अजमत के लिए है’: तहरीक फरोग-ए-इस्लाम की लिस्ट, नरसिंहानंद को बताया ‘वहशी’

मौलवियों ने कहा कि 'जेल भरो आंदोलन' के दौरान लाठी-गोलियाँ चलेंगी, लेकिन हिंदुस्तान की जेलें भर जाएंगी, क्योंकि सवाल नबी की अजमत का है।

जानी-मानी सिंगर की नाबालिग बेटी का 8 सालों तक यौन उत्पीड़न, 4 आरोपितों में से एक पादरी

हैदराबाद की एक नामी प्लेबैक सिंगर ने अपनी बेटी के यौन उत्पीड़न को लेकर चेन्नई में शिकायत दर्ज कराई है। चार आरोपितों में एक पादरी है।

थूको और उसी को चाटो… बिहार में दलित के साथ सवर्ण का अत्याचार: NDTV पत्रकार और साक्षी जोशी ने ऐसे फैलाई फेक न्यूज

सोशल मीडिया पर इस वीडियो के बारे में कहा जा रहा है कि बिहार में नीतीश कुमार के राज में एक दलित के साथ सवर्ण अत्याचार कर रहे।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,218FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe