Monday, July 22, 2024
Homeसोशल ट्रेंड'झंडा सँभल नहीं रहा, देश सँभालेंगे ये': पोल से गिर गया कॉन्ग्रेस का झंडा,...

‘झंडा सँभल नहीं रहा, देश सँभालेंगे ये’: पोल से गिर गया कॉन्ग्रेस का झंडा, स्थापना दिवस पर फहराने पहुँची थीं सोनिया गाँधी, Video वायरल

इस वीडियो को देख लोग तरह-तरह की प्रतिक्रिया दे रहे हैं। अंकुर दुबे कॉन्ग्रेस का मजाक उड़ाते हुए कहते हैं, “झंडा संभल नहीं रहा देश संभालेंगे ये।”

कॉन्ग्रेस पार्टी के स्थापना दिवस (28 दिसंबर 1885) पर पार्टी की अध्यक्ष सोनिया गाँधी झंडा लहराने चलीं, तो झंडा गिरकर उनके हाथ पर आ गया। अब इस वाकये की वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। वीडियो में देख सकते है कि सोनिया गाँधी रस्सी खींच कर झंडा लहराने की कोशिश करती हैं लेकिन शुरू में रस्सी अटकती है और फिर झंडा नीचे गिर जाता है। 

वहाँ खड़ी भीड़ हैरानी से इस पूरी घटना को देखती रहती है। इसके बाद झंडा लहराने की जगह सिर्फ उसे पकड़कर फैलाया जाता है और कॉन्ग्रेस समर्थक जिंदाबाद के नारे लगाने लगते हैं। अब इस वीडियो को देख लोग तरह-तरह की प्रतिक्रिया दे रहे हैं। अंकुर दुबे कॉन्ग्रेस का मजाक उड़ाते हुए कहते हैं, “झंडा सँभल नहीं रहा देश संभालेंगे ये।”

द स्किन डॉक्टर तंज कसते हुए लिखते हैं, “जरूर इस झंडे के गिरने के पीछे पूंजीपतियों का हाथ है।”

गोपाल रावत लिखते हैं, “भगवान भी नहीं चाहते हैं कि ये लोग कभी झंडा फहराएँ। जय श्री राम।”

सेकुलर लिबरल के ट्विटर आईडी से कहा जाता है, “झंडा भी गवाही दे रहा है कि अब कॉन्ग्रेस गिर चुकी है। पहले वाली कॉन्ग्रेस नहीं रही।”

दीप कुशवाहा इस वाकये पर और इस पर आने वाली नेटीजन्स की प्रतिक्रिया पर कहते हैं, “पूरी की पूरी पार्टी गिर गई है उसके बारे में कोई नहीं सोच रहा। एक पार्टी के झंडे के लिए इतनी चिंता।”

बता दें कॉन्ग्रेस पार्टी द्वारा लगातार चुनावों में हार झेलने के बाद अब पार्टी नेतृत्व अपने दल को मजबूत करने में लगा है। खबरों के मुताबिक, समिति सदस्यों ने बताया कि पार्टी देशभर में एक ट्रेनिंग अभियान शुरू कर चुकी है। इस अभियान के तहत जिला और ब्लॉक स्तर तक करीब 5500 ट्रेनर तैयार हो रहे हैं जो नुक्कड़ प्रवक्ता की भूमिका में सार्वजनिक जगहों पर होने वाली बहसों में पार्टी का पक्ष रखेंगे।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

काँवड़िए नहीं जान पाएँगे दुकान ‘अब्दुल’ या ‘अभिषेक’ की, सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक: कहा- बताना होगा सिर्फ मांसाहार/शाकाहार के बारे में,

सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के कांवड़ रूट पर दुकानदारों के नाम दर्शाने वाले आदेश पर अंतरिम रोक लगा दी है।

AAP विधायक की वकीलगिरी का हाई कोर्ट ने उतारा भूत: गलत-सलत लिख कर ले गया था याचिका, लग चुका है बीवी को कुत्ते से...

दिल्ली हाईकोर्ट के जज ने सोमनाथ भारती की याचिका पर कहा कि वो नोटिस जारी नहीं कर सकते, उन्हें ये समझ ही नहीं आ रहा है, वो मामला स्थगित करते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -