Saturday, May 15, 2021
Home सोशल ट्रेंड नाइट गार्ड की नौकरी से IIM में असिस्टेंट प्रोफेसर... जिनका झोपड़ी में हुआ जन्म,...

नाइट गार्ड की नौकरी से IIM में असिस्टेंट प्रोफेसर… जिनका झोपड़ी में हुआ जन्म, फिर भी आरक्षण को कहा ना

एक झोपड़ी, छत पर पॉलिथीन, बारिश में टपकता पानी... जनजाति समुदाय के 5 लोगों का परिवार... और यहीं से निकलता है रंजीत, जो IIM में असिस्टेंट प्रोफेसर बनता है, बिना आरक्षण लिए!

IIM राँची में बीते दिनों केरल के रहने वाले रंजीत रामचंद्रन का असिस्टेंट प्रोफेसर के तौर पर चयन हुआ है। 28 वर्षीय रामचंद्रन कभी नाइट गार्ड की नौकरी करते थे। उन्होंने संघर्ष का लंबा सफर तय किया है। ​शनिवार को उन्होंने केरल के अपने घर की एक तस्वीर फेसबुक पर शेयर की। उन्होंने लिखा, ”IIM के प्रोफेसर का जन्म इसी घर में हुआ है।” उनका यह पोस्ट सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है। लोग इस पोस्ट को खासा पसंद कर रहे हैं।

इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत के दौरान रंजीत कहते हैं, ”मैं चाहता था कि मेरा जीवन उन युवाओं के लिए प्रेरणा बने, जो सफलता पाने के लिए संघर्ष करते हैं। मेरी 12वीं तक की पढ़ाई पूरी होने के बाद एक समय ऐसा भी था, जब मैंने आगे की पढ़ाई छोड़कर कोई छोटी-मोटी नौकरी करके परिवार को मदद करने के बारे में सोचा था।” 28 वर्षीय रामचंद्रन इससे पहले बेंगलुरु के क्राइस्ट यूनिवर्सिटी में बीते दो महीने से असिस्टेंट प्रोफेसर के तौर पर काम कर रहे थे।

परिवार के लिए नाइट गार्ड की नौकरी

रंजीत रामचंद्रन ने अपनी मंजिल तक पहुँचने के लिए एक लंबा और संघर्ष से भरा सफर तय किया। यही कारण है कि आज वह खासा चर्चा में हैं। रिपोर्ट्स के मुतबिक, एक समय ऐसा भी था जब रंजीत ने अपने परिवार का पेट पालने के लिए नाइट गार्ड की नौकरी तक की थी। उन्होंने बताया कि वो दिन में कॉलेज जाते थे और रात में टेलीफोन एक्सचेंज में नाइट गार्ड की नौकरी करते थे। 5 साल तक उन्होंने वहाँ काम किया था।

कासरगोड में कॉलेज के दिनों को याद करते हुए उन्होंने कहा:

”12वीं के बाद मैंने अपने माता-पिता को आर्थिक मदद करने के लिए नौकरी करने की ठानी। मुझे एक स्थानीय बीएसएनएल टेलीफोन एक्सचेंज में नाइट गार्ड की नौकरी मिल गई। इसके लिए मुझे 4,000 रुपए महीने मिलते थे। इसमें से कुछ पैसे में अपने छोटे भाई और बहन की पढ़ाई पर खर्च करता था।”

रंजीत का वो घर, जहाँ वो पले-बढ़े

एक साल पहले ही इकोनॉमिक्स में पीएचडी

रंजीत ने एक साल पहले ही इकोनॉमिक्स में पीएचडी की है। हालाँकि, एक समय वह इसे छोड़ना चाहते थे। उन्होंने बताया कि जब उन्होंने आईआईटी मद्रास में दाखिला लिया, तब उन्हें अंग्रेजी तक बोलनी नहीं आती थी। लेकिन उस दौरान मार्गदर्शक प्रोफेसर सुभाष ने उनकी काफी मदद की।

प्रोफेसर सुभाष ने ही रंजीत को समझाया कि पीएचडी बीच में छोड़ना गलत होगा। फिर वहीं से रंजीत आईआईएम में प्रोफेसर बनने का न सिर्फ सपना देखे बल्कि उसे साकार करने की ठान ली। आईआईटी मद्रास में स्टाइपेंड के तौर पर मिलने वाले पैसों से रंजीत अपना खर्च तो चलाते ही थे, साथ में इसमें से एक हिस्सा बचाकर अपने भाई-बहनों की पढ़ाई पर खर्च करते थे।

करियर में आरक्षण की आवश्यकता नहीं

रंजीत रामचंद्रन के पिता रवींद्रन पेशे से एक टेलर हैं और उनकी माँ मनरेगा में मजदूर हैं। वह तीन भाई-बहन में सबसे बड़े हैं। उनका पूरा परिवार एक छोटी सी झोपड़ी में रहता है, जिसकी छत पर पॉलिथीन लगी हुई है और बारिश में इसमें पानी तक टपकता है। रंजीत केरल के कासरगोड जिले में रहने वाले मराठी भाषी पिछड़ी जनजाति समुदाय से हैं, लेकिन रंजीत का कहना है कि उन्हें अपने करियर में आरक्षण की आवश्यकता नहीं है।

केरल सरकार पर उठे सवाल

बता दें कि फेसबुक पर रंजीत की पोस्ट वायरल होने के बाद कई लोग इसे अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर शेयर कर रहे हैं। उनके संघर्ष की कहानी वायरल होने के बाद एक सामाजिक कार्यकर्ता संतोष कुमार ने केरल सरकार पर सवाल उठाया है। उन्होंने कहा कि भाई-भतीजावाद के बीच रंजीत की नियुक्ति पर सरकार ने आँखें मूंद लीं। एक फेसबुक पोस्ट में उन्होंने सवाल किया कि रंजीत को कालीकट विश्वविद्यालय में नियुक्त क्यों नहीं किया गया? जबकि उन्होंने कालीकट विश्वविद्यालय में शिक्षक पद के लिए चौथा स्थान प्राप्त किया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

वीर सावरकर पर अपमानजनक लेख के लिए THE WEEK ने 5 साल बाद माँगी माफी: जानें क्या है मामला

'द वीक' पत्रिका ने शुक्रवार को स्वतंत्रता सेनानी वीर सावरकर के बारे में पहले प्रकाशित एक अपमानजनक लेख के लिए माफी माँगी। यह विवादास्पद लेख 24 जनवरी, 2016 को प्रकाशित किया गया था जिसे 'पत्रकार' निरंजन टाकले द्वारा लिखा गया था।

ईद पर 1 पुलिस वाले को जलाया जिंदा, 46 को किया घायल: 24 घंटे के भीतर 30 कट्टरपंथी मुस्लिमों को फाँसी

ईद के दिन मुस्लिम कट्टरपंथियों ने 1 पुलिसकर्मी के साथ मारपीट की, उन्हें जिंदा जला दिया। त्वरित कार्रवाई करते हुए 30 को मौत की सजा।

ईद के अगले दिन बंगाल में कंप्लिट लॉकडाउन का आदेश: 20000+ मामले, 30 मई तक लागू रहेंगे प्रतिबंध

पश्चिम बंगाल में कोरोना वायरस संक्रमण लगातार बढ़ता जा रहा है। संक्रमण के चलते ममता बनर्जी के छोटे भाई का निधन हो गया। लॉकडाउन...

लॉकडाउन पर Confuse राहुल गाँधी: पहले जिनके लिए दी PM मोदी को ‘गाली’ अब उन्हीं पर बजा रहे ‘ताली’

ऐसा क्या है जिसने कॉन्ग्रेस को राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन की वकालत करने के लिए मजबूर कर दिया है? किस कारण कॉन्ग्रेस और उसके युवराज राहुल गाँधी लगातार मोदी सरकार पर राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन लगाने का दबाव बना रहे हैं?

जहाँ अभी अल-अक्शा मस्जिद, वहाँ पहले था यहूदियों का मंदिर: जानिए कहाँ से शुरू हुआ येरुशलम विवाद

येरुशलम में जहाँ अल अक्सा मस्जिद है उसी स्थान पर टेंपल माउंट पर ही यहूदियों का सेकेंड टेंपल हुआ करता था। सेकंड टेम्पल को यहूदी विद्रोह की सजा के रूप में 70 ईस्वी में रोमन साम्राज्य ने नष्ट कर दिया था।

इजरायल के विरोध में पूर्व पोर्न स्टार मिया खलीफा: ट्वीट कर बुरी तरह फँसीं, ‘किसान’ प्रदर्शन वाला ‘टूलकिट’ मामला

इजरायल और फिलिस्तीनी आंतकियों के बीच संघर्ष लगातार बढ़ता ही जा रहा है। पूर्व पोर्न-स्टार मिया खलीफा ने गलती से इजरायल के विरोध में...

प्रचलित ख़बरें

दिल्ली में ऑक्सीजन सिलेंडर के बदले पड़ोसी ने रखी सेक्स की डिमांड, केरल पुलिस से सेक्स के लिए ई-पास की डिमांड

दिल्ली में पड़ोसी ने ऑक्सीजन सिलेंडर के बदले एक लड़की से साथ सोने को कहा। केरल में सेक्स के लिए ई-पास की माँग की।

हिरोइन है, फलस्तीन के समर्थन में नारे लगा रही थीं… इजरायली पुलिस ने टाँग में मारी गोली

इजरायल और फलस्तीन के बीच चल रहे संघर्ष में एक हिरोइन जख्मी हो गईं। उनका नाम है मैसा अब्द इलाहदी।

1971 में भारतीय नौसेना, 2021 में इजरायली सेना: ट्रिक वही-नतीजे भी वैसे, हमास ने ‘Metro’ में खुद भेज दिए शिकार

इजरायल ने एक ऐसी रणनीतिक युद्धकला का प्रदर्शन किया है, जिसने 1971 में भारत और पाकिस्तान के बीच हुए युद्ध की ताजा कर दी है।

इजरायल के विरोध में पूर्व पोर्न स्टार मिया खलीफा: ट्वीट कर बुरी तरह फँसीं, ‘किसान’ प्रदर्शन वाला ‘टूलकिट’ मामला

इजरायल और फिलिस्तीनी आंतकियों के बीच संघर्ष लगातार बढ़ता ही जा रहा है। पूर्व पोर्न-स्टार मिया खलीफा ने गलती से इजरायल के विरोध में...

इजरायली रॉकेट से मरीं केरल की सौम्या… NDTV फिर खेला शब्दों से, Video में कुछ और, शीर्षक में जिहादियों का बचाव

केरल की सौम्या इजरायल में थीं, जब उनकी मौत हुई। वह अपने पति से बात कर रही थीं, तभी फिलिस्तीनी रॉकेट उनके पास आकर गिरा। लेकिन NDTV ने...

गाजा पर गिराए 1000 बम, 160 विमानों ने 150 टारगेट पर दागे 450 मिसाइल: बोले नेतन्याहू- हमास को बहुत भारी कीमत चुकानी पड़ेगी

फलस्तीन के साथ हवाई संघर्ष के बीच इजरायल जमीनी लड़ाई की भी तैयारी कर रहा है। हथियारबंद टुकड़ियों के साथ 9000 रिजर्व सैनिकों की तैनाती।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,351FansLike
94,220FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe