Thursday, July 25, 2024
Homeसोशल ट्रेंडलोग शादी क्यों करते हैं? - निकाह पर मलाला के विचार पढ़कर भड़के पाकिस्तानी,...

लोग शादी क्यों करते हैं? – निकाह पर मलाला के विचार पढ़कर भड़के पाकिस्तानी, जमकर किया ट्रोल

''मैं अभी भी नहीं समझ पाई हूँ कि लोग क्यों शादी करते हैं। यदि आप किसी को अपनी जिंदगी में चाहते हैं, तो आपको निकाह के पेपरों पर साइन करने की क्या जरूरत है, यह सिर्फ एक पार्टनरशिप क्यों नहीं हो सकती है?"

हाल में पाकिस्तानी एक्टिविस्ट और नोबेल पुरस्कार विजेता मलाला यूसुफजई ब्रिटिश फैशन मैग्जीन वोग के कवर पेज पर नजर आने के बाद चर्चा का कारण बनीं। मैग्जीन को दिए इंटरव्यू में मलाला ने कई विषयों पर अपनी बात रखी। राजनीति, शिक्षा, संस्कृति सब पर बात रखते हुए मलाला ने निकाह को लेकर भी अपनी राय दी। लेकिन पाकिस्तानी कट्टरपंथियों को उनकी ये राय हजम नहीं हुई।

दरअसल मलाला का शादी जैसे विषय पर कहना था, ”मैं अभी भी नहीं समझ पाई हूँ कि लोग क्यों शादी करते हैं। यदि आप किसी को अपनी जिंदगी में चाहते हैं, तो आपको निकाह के पेपरों पर साइन करने की क्या जरूरत है, यह सिर्फ एक पार्टनरशिप क्यों नहीं हो सकती है?”

मलाला के इस बयान पर पाकिस्तानियों ने ट्विटर पर हंगामा मचा दिया। लोग खुलकर उनकी आलोचना करने लगे। साथ ही उन पर युवाओं का दिमाग खराब करने के आरोप भी लगे। इसके साथ हुए पश्चिमी सभ्यता को बढ़ावा देने वाला भी बताया गया। यूजर्स कोट शेयर कर करके बताने लगे कि कैसे अल्लाह के संदेशवाहक पैगम्बर ने बताया है कि दो प्यार करने वालों के लिए निकाह जितना कुछ पाक नहीं है।

जोहेब अहमद ने लिखा कि एक पश्चिमी महिला ने पश्चिमी बयान दिया है। इसमें कोई बड़ी बात नहीं है।

कोमल हनीफ लिखती हैं, “हमेशा याद रखो हमारे प्रिय पैगंबर मोहम्मद ने क्या कहा है। मैं मलाला के कथन की निंदा करती हूँ।”

मिशान फातिमा  कहती हैं, “मुझे गर्व है कि मैंने कभी इसे सपोर्ट नहीं किया।”

पाकिस्तानी सोशल मीडिया स्टार और मॉडल मथरिरा ने भी मलाला की आलोचना की। अपने इंस्टा पर मॉडल ने लिखा, “मलाला, कृपया हमें इस पीढ़ी को सिखाना चाहिए कि निकाह सुन्नत है, यह सिर्फ एक कागज पर हस्ताक्षर करने के बारे में नहीं है – आप कोई जमीन नहीं खरीद रहे हैं।”

बिस्मा सज्जाद लिखती हैं, “निकाह एक पाक रिश्ता है जिसे हमारे पैगंबर ने हलाल बताया है। मलाला हमें लगता है तुम भूल गई हो कि तुम मुसलमान हो। ये तुम्हारी सोच है ये नजरिया है पाकिस्तानी लड़कियों के लिए?”

इसके बाद कई लिबरल ऐसे भी सामने आए जिन्होंने मलाला का समर्थन किया। सोहनी नाम की यूजर ने कहा कि ये कहना कि मलाला पाकिस्तान को बुरा दिखा रही हैं। क्या एक 15 साल की लड़की के मुँह पर गोली मारना सिर्फ इसलिए क्योंकि वह शिक्षा चाहती हैं पाकिस्तान को अच्छा दिखाता है।

एक अन्य यूजर कहती हैं, “ मलाला अगर पाकिस्तान को गंदा दिखा रही हैं तो बाल विवाह, ऑनर किलिंग और अल्पसंख्यकों से बर्ताव उसे अच्छा दिखाता है क्या। कल्पना करो एक बार गोली खाने के बाद अपनी पूरी जिंदगी उस मंच का उपयोग करने के लिए समर्पित कर दो ताकि केवल अपने लोगों को शिक्षा दी जा सके।”

गौरतलब है कि वोग के ऑफिशियल इंस्टा अकॉउंट ने मलाला के कवर वाली तस्वीर को शेयर किया गया था। इसके अलावा मलाला ने भी इसे अपने ट्विटर पर शेयर किया था। इन तस्वीरों के सामने आने के बाद ही सारा बवाल शुरू हुआ। लोगों ने मलाला पर आरोप मढ़े कि वह अपने वतन के ही लोगों के दिमाग में गंद भर रही हैं ।

बता दें कि साल 2012 में इन्हीं मलाला को तालिबान के एक आतंकी ने सिर में गोली मारी थी। उस समय मलाला महिला शिक्षा के ख़िलाफ़ तालिबानी नीति का विरोध कर रही थीं। बाद में मलाला यूके चली गईं और 2020 में ऑक्सफॉर्ड यूनिवर्सिटी से अपनी ग्रैजुएशन की डिग्री हासिल की।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘वन्दे मातरम’ न कहने वालों को सेना के जवान और डॉक्टर ने Whatsapp ग्रुप में कहा – पाकिस्तान जाओ: सिद्दीकी ने करवा दी थी...

शिकायतकर्ता शबाज़ सिद्दीकी का कहना है कि सेना के जवान और डॉक्टर ने मुस्लिमों की भावनाओ को ठेस पहुँचाई है, उनके भीतर दुर्भावना थी।

कमलेश तिवारी हत्याकांड के साजिशकर्ता को सुप्रीम कोर्ट ने दी जमानत, घटना से पहले हत्यारों से लगातार बात कर रहा था सैयद आसिम अली:...

सैयद आसिम अली पर हत्यारों के संपर्क में रहने और उन्हें कानूनी सहायता उपलब्ध कराने का आरोप है। सर्वोच्च न्यायालय का मानना है कि उसका कोई आपराधिक इतिहास नहीं है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -