Tuesday, July 23, 2024
Homeसोशल ट्रेंड'हिंदुत्ववादियों की राजनीति यानि गुंडागर्दी': राहुल गाँधी ने सोशल मीडिया पर कानपुरिया चाचा-भतीजे की...

‘हिंदुत्ववादियों की राजनीति यानि गुंडागर्दी’: राहुल गाँधी ने सोशल मीडिया पर कानपुरिया चाचा-भतीजे की ठिठोली शेयर कर फिर कराई अपनी फजीहत

''चाचा-भतीजे की ठिठोली को धमकी बताकर झूठ फैलाना, गाँधी खानदान इसी के बल पर 70 साल से अपनी दुकान चलाते आया है। पर ये भूल गए कि काठ की हांडी बार-बार भले चढ़ जाए, पर हर बार तो नहीं ही चढ़ती!''

कॉन्ग्रेस नेता राहुल गाँधी ने सोशल मीडिया पर कानपुरिया चाचा-भतीजे की एक वीडियो शेयर कर एक बार फिर अपनी फजीहत करा ली है। शायद ही किसी ने सोचा होगा कि देश की सबसे पुरानी राजनीतिक पार्टी के मजबूत स्तंभ माने जाने वाले राहुल गाँधी इस तरह से सोशल मीडिया पर अपनी किरकिरी कराएँगे। दरअसल, राहुल गाँधी ने सोशल मीडिया पर BJP और उसके नेताओं के बारे में आलोचना करने वालों से इस कदर प्रभावित हो जाते हैं कि उन पर आँख मूँदकर उन विश्वास कर लेते हैं। इस बार भी कुछ ऐसा ही हुआ है।

दरअसल, टाईम्स आफ इंडिया के पत्रकार अरविंद चौहान ने मंगलवार (1 फरवरी 2022) को अपने ट्विटर हैंडल पर चाचा भतीजे का एक वीडियो शेयर किया था, जिसमें भतीजा अपने चाचा को कह रहा था, “कहो कि आप भाजपाई हो।” इस पर चाचा इनकार कर देते हैं। दोनों कानपुर के रहने वाले हैं और अपने मजाकिया अंदाज में एक दूसरे से बहस कर रहे हैं। इस वीडियो को शेयर करते हुए अरविंद चौहान ने लिखा, “गोविंद नगर विधानसभा (कानपुर) से वार्ड 91 के पार्षद राघवेंद्र मिश्रा भगवा पार्टी के खिलाफ वोट वाले एक वरिष्ठ नागरिक को कथित तौर पर धमकी देते हुए कैमरे में कैद हुए।” फिर क्या था। राहुल गाँधी ने वीडियो की जाँच किए बिना ही इसे शेयर कर दिया और लिखा, “हिंदुत्ववादियों की राजनीति यानि गुंडागर्दी।”

हालाँकि, मामला तूल पकड़ने के बाद राहुल कौशिक ने इस वीडियो को शेयर किया है। उन्होंने लिखा, ”चाचा-भतीजे की ठिठोली को धमकी बताकर झूठ फैलाना, गाँधी खानदान इसी के बल पर 70 साल से अपनी दुकान चलाते आया है। पर ये भूल गए कि काठ की हांडी बार-बार भले चढ़ जाए, पर हर बार तो नहीं ही चढ़ती!” वहीं बुजुर्ग भी इस वीडियो में कह रहे हैं कि हम दोनों हंसी ठिठोली कर रहे थे। वो मुझे भाजपा में आने को कह रहे थे, मैंने उनसे कहा मैं नहीं आऊँगा।

वहीं अरविन्द चौहान ने भी खेद जताते हुए, एक दूसरा अपडेट ट्वीट में लोगों को सही जानकारी दी है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नारी शक्ति को मोदी सरकार ने समर्पित किए ₹3 लाख करोड़: नौकरी कर रहीं महिलाओं और उनके बच्चों के लिए भी रहने की सुविधा,...

बजट में महिलाओं की हिस्सेदारी कार्यबल में बढ़ाने पर काम किया गया है। इसके अलावा कामकाजी महिलाओं के लिए छात्रावास स्थापित करने का भी ऐलान हुआ।

25000 ग्रामीण बसावटों के लिए सड़क, कोसी-मेची के जुड़ने से किसानों को फायदा: बजट 2024 में इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए ₹1111111 करोड़, राज्यों को भी...

बजट 2024-25 में इंफ्रास्ट्रक्चर पर जोर है। इसके साथ ही पहाड़ी राज्यों में बादल फटने और लैंड स्लाइड से हुई हानि के लिए भी प्रावधान है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -