Thursday, July 25, 2024
Homeसोशल ट्रेंडकश्मीरी हिंदू और गौ तस्करों में अंतर क्या, दोनों की मौत एक जैसी: साउथ...

कश्मीरी हिंदू और गौ तस्करों में अंतर क्या, दोनों की मौत एक जैसी: साउथ की हिरोइन साई पल्लवी के विवादित बोल, नक्सली बनकर आ रही पर्दे पर

साई पल्लवी के इस बयान को सुनने के बाद अब नेटीजन्स उनके ऊपर भड़के हुए हैं। लोगों का कहना है कि पूरी बातचीत को संभालते-संभालते, खुद को निष्पक्ष दिखाते हुए इन्होंने कश्मीरी पंडितों की तुलना गौतस्करों से कर ही दी। आखिर कौन इन्हें बताएगा कि कश्मीरी पंडित क्यों मारे गए।

साउथ की मशहूर अदाकारा साई पल्लवी की एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही है। इस वीडियो को लेकर दावा है कि उन्होंने कश्मीर में हुए हिंदुओं के नरसंहार की तुलना गौतस्करों पर होते हमलों से की। उन्होंने कहा कि ये दोनों ही चीजें नहीं होनी चाहिए। उनके इस बयान के बाद अब सोशल मीडिया पर लोग उनकी आलोचना कर रहे हैं।

पल्लवी ने तेलुगु में दिए अपने इंटरव्यू में वामपंथ और दक्षिणपंथ से लेकर कश्मीरी हिंदुओं और गौतस्करों पर अपनी बात की। इस इंटरव्यू में जब उनसे विवेक अग्निहोत्री की ‘द कश्मीर फाइल्स’ को लेकर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि फिल्म में दिखाया गया है कि कैसे कश्मीरी पंडित मारे गए। उन्होंने अपनी बात रखते रखते आतंकवादियों द्वारा की गई हिंदुओं की हुई उन निर्मम हत्याओं को, स्थानीयों द्वारा गौतस्करों पर किए गए हमलों से जोड़ा।

उन्होंने कहा, “हाल में कोविड के समय में कुछ मुस्लिम लोग गाय को गाड़ी में ले जा रहे थे तो उन हमला हुआ और जय श्रीराम के नारे लगे। तो अगर आप मजहबी विवाद पर बात करते हैं तो फिर इन दोनों घटनाओं में अंतर क्या गहै? वो तब हुआ। ये अब हुआ। क्या फर्क है? जो बात है वो ये कि हमें हमेशा सही रहना चाहिए बस। अगर हम अच्छे इंसान नहीं हैं। तो ऐसा नहीं हो सकता। अगर आप हैं तो आप न्याय के साथ खड़े होंगे और निष्पक्ष रहेंगे।”

साई पल्लवी के इस बयान को सुनने के बाद अब नेटीजन्स उनके ऊपर भड़के हुए हैं। लोगों का कहना है कि पूरी बातचीत को संभालते-संभालते, खुद को निष्पक्ष दिखाते हुए इन्होंने कश्मीरी पंडितों की तुलना गौतस्करों से कर ही दी। आखिर कौन इन्हें बताएगा कि कश्मीरी पंडित क्यों मारे गए।

कश्मीरी हिंदू नाम के यूजर ने साई को कहा, “पल्लवी, किसी रैंडम मुस्लिम के पीटे जाने में और पूरे समुदाय को जड़ से उखाड़ फेंक देने में फर्क होता है। हमारे दर्द को और गहरा मत करो। आओ और देशो हमारे टूटे घर और दिल। हमने नरसंहार देख लिया पर न्याय का अब भी इंतजार हैं। हर चीज प्रोपेगेंडा नहीं होती।”

बता दें कि साई पल्लवी की आने वाली विराटा परवम है। इस फिल्म में वह नक्सली का रोल निभाएँगे। फिल्म में बाहुबली फेम राणा दग्गूपति भी हैं। उन्होंने नक्सल लीडर का रोल निभाया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

देशद्रोही, पंजाब का सबसे भ्रष्ट आदमी, MeToo का केस… खालिस्तानी अमृतपाल का समर्थन करने वाले चन्नी की रवनीत बिट्टू ने उड़ाई धज्जियाँ, गिरिराज बोले...

रवनीत सिंह बिट्टू ने कहा कि एक पूर्व मुख्यमंत्री देशद्रोही की तरह व्यवहार कर रहा है, देश को गुमराह कर रहा है। गिरिराज सिंह बोले - ये देश की संप्रभुता पर हमला।

‘दरबार हॉल’ अब कहलाएगा ‘गणतंत्र मंडप’, ‘अशोक हॉल’ बना ‘अशोक मंडप’: महामहिम द्रौपदी मुर्मू का निर्णय, राष्ट्रपति भवन ने बताया क्यों बदला गया नाम

राष्ट्रपति भवन ने बताया है कि 'दरबार' का अर्थ हुआ कोर्ट, जैसे भारतीय शासकों या अंग्रेजों के दरबार। बताया गया है कि अब जब भारत गणतंत्र बन गया है तो ये शब्द अपनी प्रासंगिकता खो चुका है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -